myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

कुछ लोगों के लिए मसालेदार खाना स्वाद के लिए तो अच्छा होता ही है लेकिन उनके पेट के लिए नुकसानदेह होता है। मसालेदार भोजन के बाद पेट दर्द से निपटने के लिए आप असहजता महसूस करने लगते हैं। इस बेचैनी के पीछे का कारण जानने की कोशिश करें जिससे कि आपको पेट के दर्द को कम करने में मदद मिले और आप अपना पसंदीदा खाना फिर से खा पाएं। (और पढ़ें - पेट दर्द के लक्षण, कारण, उपचार, दवा)

आईये आज हम आपको बताते हैं मसालेदार भोजन को खाने से पेट में होने वाले दर्द के कारण, उपचार और निवारण। (और पढ़ें - मसालेदार खाने के फायदे और नुकसान)

  1. मसालेदार भोजन बनता है बदहजमी का कारण - Eating spicy food causes indigestion in Hindi
  2. अधिक लाल मिर्च का सेवन होता है पेट दर्द का कारण - Eating too much Cayenne Pepper bad for stomach in Hindi
  3. मसालेदार खाना खाने से होती है अल्सर की समस्या - Eating spicy food causes ulcers in Hindi
  4. अधिक मिर्च के कारण पेट दर्द का इलाज है पुदीने की चाय - Peppermint Tea for stomach discomfort after eating spicy food in Hindi
  5. मसालेदार खाना खाने से होने वाले पेट दर्द का उपचार है अदरक - Ginger for stomach discomfort after eating spicy food in Hindi
  6. मसालेदार खाना खाने के बाद पेट में होने वाले दर्द के अन्य उपचार - Other treatments for stomach discomfort after eating spicy food in Hindi
  7. मसालेदार खाना खाने के बाद पेट में होने वाले दर्द की रोकथाम - Prevention of stomach discomfort after eating spicy food in Hindi

कुछ मसालेदार खाद्य पदार्थ खाने के बाद पेट में दर्द के कई कारण हमेशा सामान्य और कई तरह के होते हैं। अगर आपको दर्द के साथ भारीपन, गैस, खट्टी ढ़कार या बदहजमी महसूस होती हैं तो आपका पेट इन सब चीज़ों से पीड़ित है। (और पढ़ें - पेट में गैस दूर करने के घरेलू उपाय)

मसालेदार भोजन बनाने के लिए आप जो सामग्रियों का इस्तेमाल करते है उनमे मौजूद रासायनिक लाल मिर्च पेट दर्द का कारण हो सकता है। स्वाभाविक रूप से ये मिर्च में पाया जाता है जैसे हैबनेरो, जलपिनोज, पोबलनोस। कैप्साइसिन का उपयोग कीड़ों और जानवरों को भगाने के लिए भी इस्तेमाल किया जाता है। जब आप मिर्च खाते हैं और उनमे मौजूद कैप्साइसिन का सेवन करते हैं तो पेट की परतों में यह दर्द से जुडी परेशानी पैदा कर सकता है। (और पढ़ें - लाल मिर्च के फायदे और नुकसान)

यह एक आम धारणा है कि मसालेदार भोजन खाने से अल्सर होता है। वास्तव में अल्सर मसालेदार भोजन की वजह से नहीं होता लेकिन नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ डायबिटीज़ एंड डाइजेस्टिव एंड किडनी डिसीज के मुताबिक आप मसालेदार भोजन को खाकर उसके प्रभाव को शायद और ज़्यादा महसूस कर सकते हैं। मसालेदार भोजन में रसायन मौजूद होने से अल्सर उत्तेजित हो सकता है जिससे सूजन या रक्तस्राव की परेशानी बढ़ सकती है। (और पढ़ें - पेट में अलसर के लक्षण, कारण, उपचार, दवा)

पुदीने की चाय से ऐंठन, उल्टी, गैस और अन्य पेट की परेशानी को दूर करने में मदद मिलती है। (और पढ़ें - पुदीने की चाय के फायदे और नुकसान)

पेट की समस्याओं के लिए पुदीने की चाय पर कुछ अध्ययन किये गए है। पुदीने के सप्लीमेंट्स से कुछ लक्षणों को कम किया जा सकता है जैसे सीने की जलन, उल्टी, तनाव, सिर दर्द आदि। एक हर्बल चाय बनाने के लिए, 1 बड़ा चम्मच सूखे पुदीने के पत्तों को एक कप उबलते पानी में डालें। अब उसे छान लें और पी लें। इसके सेवन से आपको पेट से संबंधित कोई परेशानी नहीं होगी। (और पढ़ें - पेट दर्द के घरेलू उपाय)

अदरक पेट की समस्या जैसे उल्टी, जी मचलाना, सीने की जलन, बीमारी के इलाज में बेहद प्रभावी है। अदरक ज़्यादातर लोगो के लिए सुरक्षित माना जाता है, लेकिन गर्भवती महिलाओं को सलाह दी जाती है कि वे अपने सेवन में अदरक को दिन में सिर्फ 1 ग्राम ही लें। जबकि 2 वर्ष से कम उम्र के शिशुओं को आम तौर पर अदरक देना मना है। अदरक को कई रूप में लिया जाता है जैसे चबाने के लिए, जड़ी बूटी कैप्सूल में, चाय और उत्पादों जैसे अदरक की शराब और अदरक की रोटी। (और पढ़ें - शराब की लत से छुटकारा पाने के असरदार तरीके)

अगर आपके पास इनमे से कुछ नहीं है तो आप सिर्फ ताज़ा अदरक को छील के कच्चा खा सकते हैं। (और पढ़ें - अदरक के फायदे और नुकसान)

जिन भी व्यक्तियों को अल्सर होता है वे ज़्यादातर मसालेदार खाना खाने के बाद पेट के दर्द से दुखी रहते हैं। अगर आपके दर्द को तीन घंटे से ज़्यादा हो जाएँ तो जल्द से जल्द डॉक्टर को दिखाने की कोशिश करें। पेट दर्द की समस्या में हर्बल चाय पिए और दर्द के समय लेट जाएँ जिससे आपकी पाचन क्रिया को मसालेदार भोजन को पचाने में मदद मिले। 

पेट के दर्द को रोकने का सबसे आसान और सबसे स्पष्ट तरीका है कि आप मसालेदार भोजन को पूरी तरह से एक साथ त्याग दें। लेकिन अगर आप एकदम से ये चीज़े नहीं छोड़ सकते तो अन्य तरीके भी हैं जिनसे आप अपने पेट के दर्द को कम कर सकते हैं। आइसक्रीम या ठंडा दूध पीने से कैप्साइसिन के प्रभाव को कम किया जा सकता है। इनके अलावा अगर आप बदहजमी से सम्बंधित कोई भी परेशानी महसूस करते हैं तो कुछ बातों का ध्यान रखें जैसे खाना धीरे धीरे खाएं, खाते समय तनाव से दूर रहें और खाने से पहले या बाद में अम्लतत्वनाशक (antacid) लेना न भूलें। अपने रोज़ाना लेने वाले भोजन की एक सूची बनाएं और देखें कि किस पदार्थ से मुझे ये परेशानी हो रही है।

और पढ़ें ...