myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

क्या आप जानते हैं कि आप अपनी जीवन शैली में कुछ बदलाव करके प्रदूषण को कम कर सकते हैं और हमारे प्राकृतिक संसाधनों की रक्षा कर सकते हैं? आपको ऐसा क्यों करना चाहिए? क्योंकि आपका स्वास्थ्य पृथ्वी से जुड़ा हुआ है। उदाहरण के लिए यदि आप शौचालय में अपनी दवाओं को फ्लश करते हैं तो पीने योग्य जल स्रोत दूषित होने की संभावना अधिक होती है। इसी तरह आप अनजाने में पृथ्वी को प्रदूषित कर सकते हैं। लेकिन अगर आप अपनी जीवन शैली में कुछ परिवर्तन करेंगे और प्रदूषण को दूर करने का निर्णय लेंगे तो आपकी पृथ्वी प्रदूषित होने से बच सकती है। तो चलिए जानते हैं आप कैसे अपने स्वास्थ्य और पृथ्वी की रक्षा कर सकते हैं - (और पढ़ें – प्रदूषण से त्वचा को सुरक्षित रखने के लिए अपनाएं ये आसान तरीके)

  1. प्रदूषण कम करने के उपाय के लिए न करने प्लास्टिक का उपयोग - Effects of plastic pollution on human beings in hindi
  2. प्रदूषण को कम करने के तरीके के अपनाएं सौर ऊर्जा - Use of solar energy to reduce pollution in hindi
  3. पर्यावरण प्रदूषण रोकने के उपाय न करें कागज को बर्बाद - Save paper and save earth in hindi
  4. पृथ्वी को बचाने के लिए न करें जल बर्बाद - Save water and save earth in hindi
  5. प्रदूषण की रोकथाम के लिए न करें सिंथेटिक कपड़ों का उपयोग - Pollution se bachne ke upay don't use synthetic clothes in hindi
  6. वायु प्रदूषण रोकने के उपाय उपयोग करें सार्वजनिक परिवहन का - Use of public transport to avoid pollution in hindi
  7. प्रदूषण कम करने का उपाय है कचरा अलग - अलग रखना
  8. प्रदूषण से बचने के उपाय के लिए घर के अंदर लगाएं पौधे - Advantages of kitchen garden in hindi
  9. प्रदूषण नियंत्रण के उपाय के लिए लगाए पेड़ - Plant more trees to save earth in hindi
  10. सांसों पर भारी पड़ रहा यह विजिबल किलर, गंभीर हुई दिल्ली की हवा
  11. वायु प्रदूषण का हर स्तर है हृदय के लिए घातक: अध्ययन
  12. बढ़ते प्रदूषण से परेशान हैं तो घर में ये पौधे लगाएं और चैन की सांस लें
  13. गंभीर बीमारियों का वजह बन सकता है प्रदूषण, ऐसे करें बचाव
  14. जानलेवा हुआ प्रदूषण, डिप्रेशन और आत्महत्या की बन रहा वजह
  15. लॉकडाउन से प्रदूषण के स्तर में आई कमी, देश के 90 से अधिक शहरों की हवा में हुआ सुधार
  16. विश्व पर्यावरण दिवस का महत्व और मायने

आप अपने पर्यावरण को बचाने के लिए प्लास्टिक की वस्तुओं का उपयोग न करें। प्लास्टिक की थैलियां, पानी की बोतलें या उपयोग करके फेकने वाले पेन इन सभी उत्पादों पर हम पूरी तरह निर्भर हैं। प्लास्टिक गैर-बायोडिग्रैडबल है और हमेशा के लिए पर्यावरण में रहता है। प्लास्टिक की जगह स्वस्थ विकल्प जैसे कि कागज या कपड़े का बैग और धातु के कंटेनरों का उपयोग करें। (और पढ़ें – डार्क सर्कल्स हटाने के लिए क्या है सेहतमंद आहार)

पर्यावरण को बचाने के लिए सौर ऊर्जा का उपयोग करें। सौर ऊर्जा का नवीकरणीय (renewable) स्रोत है और यह पर्यावरण के अनुकूल भी है। पृथ्वी को और अपने पैसे को बचाने के लिए सौर पैनल या सौर वॉटर हीटर का उपयोग करें। (और पढ़ें – इस तरह अगर मसूर दाल का फेस पैक बनाएँगे तो मुहांसे, पिगमेंटेशन, एजिंग को रोक चेहरे पर अनोखा ग्लो पाएंगे)

पर्यावरण और पृथ्बी को बचाने के लिए कागज बर्बाद नहीं करें। अनावश्यक प्रिंटआउट लेने और अन्य कागज उत्पादों का उपयोग करने से बचें। हालांकि पेपर बायोडिग्रेडेबल और अत्यधिक पुनर्नवीनीकरण है लेकिन यह पेड़ों को काटकर बनाया जाता है, जिसके कारण हमारा पर्यावरण और पृथ्बी दोनों प्रदूषित होते हैं।

अपनी पृथ्वी को बचाने के लिए जल बर्बाद करना बंद करें भले ही हमारी धरती पर 71% पानी है लेकिन इसमें अधिकांश समुद्री पानी यानी नमकीन पानी है। हमारा ताजा जल स्रोत बहुत सीमित हैं। इसलिए आप पानी के उपयोग को सीमित करें। उपयोग के बाद नल को पूरी तरह बंद करके पानी को बचाएं। इसके अलावा लंबे समय तक नहाने से बचें। शौचालय फ्लश के लिए 15-20 लीटर पानी की आवश्यकता होती है। कचरे को बहाने और पानी को बचाने के लिए कम क्षमता वाला फ्लश टैंक स्थापित करें। (और पढ़ें – अगर वक्त से पहले उम्र बढ़ने के संकेतों को रोकना चाहते हैं तो इन आठ गलतियों को बिलकुल ना करें)

पृथ्वी को सुरक्षित रखने के लिए सिंथेटिक कपड़ों का उपयोग करने से बचें। नायलॉन और रेयान जैसे सिंथेटिक कपड़ों से बने कपड़े न केवल आपकी त्वचा के लिए हानिकारक हैं बल्कि पृथ्वी के लिए भी हानिकारक हैं। वे प्रकृति में बहुत दिनों तक स्थिर रहते हैं और पूरी तरह ख़त्म होने में बहुत लंबा समय लेते हैं। अपनी सभी आवश्यकताओं के लिए कपास और अन्य प्राकृतिक तत्वों से बने कपड़े का उपयोग करें। (और पढ़ें – त्वचा देखभाल के लिए ग्लिसरीन के फायदे)

आपके वाहन में जो ईंधन उपयोग होता है, वो ऊर्जा का एक गैर-नवीकरणीय (non-renewable) स्रोत है। इसका मतलब यह है कि आपके वाहन से निकलने वाला धुआँ न केवल प्रदूषण फैलता है, बल्कि आपके फेफड़ों को भी प्रभावित करता है और श्वसन सम्बंधित समस्याएं पैदा करता है। अपना वाहन कम उपयोग करें। इसकी जगह सार्वजनिक परिवहन या कारपूल का उपयोग करें जिसके कारण वातावरण से धुंध कम होगा और आपको स्वास्थ्य सम्बंधित समस्याओं से छुटकारा मिलेगा। (और पढ़ें – फेफड़ों को स्वस्थ रखने के लिए अच्छे हैं ये आहार)

आपके लिए यह सुनिश्चित करना बहुत आसान है की कौन से कचरे को पुनर्नवीनीकरण और पुन: उपयोग किया जा सकता है। इसलिए पर्यावरण और पृथ्वी को सुरक्षित रखने के लिए आपके घर के सूखे और गीले कचरे को अलग-अलग रखें। गीला कचरा रसोई में पाया जाता है जो कि खाद में कुशलता से पुनर्नवीनीकरण किया जा सकता है और पौधों के लिए उर्वरक के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है। (और पढ़ें – मच्छरों से छुटकारा पाने के लिए कई प्राकृतिक तरीके घर पर ही हैं मौजूद)

हम सभी जानते हैं कि पौधों हमें ऑक्सीजन देते हैं और कार्बन डाइऑक्साइड को अवशोषित करते हैं। इसलिए अपने घर के अंदर पौधे लगाएं। ये घर के अंदर के प्रदूषण जैसे कार्बन डाइऑक्साइड और वाष्पशील कार्बनिक यौगिकों (वीओसी) को अवशोषित करने के लिए अच्छे होते हैं। आप घर के अंदर गीले कचरे से बना खाद का उपयोग करके सब्जियां भी ऊगा सकते हैं जो स्वस्थ और कीटनाशक मुक्त हो सकते हैं।

अपने वातावरण को प्रदूषण मुक्त रखना बहुत जरूरी है। जंगलों को काटने से हमारा वातावरण प्रदूषित हो रहा है। अतः प्रदूषण से बचने के लिए छोटे उद्यान जगाएं और साथ-साथ आम, बरगद और जामुन जैसे पेड़ जो कई वर्षों तक रहते हैं उन्हें लगाए।

और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें