myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

भारतीय उपमहाद्वीप के उप-हिमालयी मैदानों में उगाए जाने वाले फलों में आम सबसे पौष्टिक फलों में से एक है। पूरे भारत में आम के स्‍वाद और खुशबू को पसंद किया जाता है। गर्मी के मासैम में तो आम की जैसे बहार सी आ जाती है। यहां तक कि भारत में तो आम को ‘फलों का राजा’ कहा जाता है। प्राचीन समय से आम की खेती की जा रही है। प्रसिद्ध कवि कालिदास ने भी आम की प्रशंसा में गीत गाया है। माना जाता है कि मुगल बादशाह अकबर ने दरभंगा यानि की बिहार में आम के 1,00,000 से भी ज्‍यादा पेड़ लगवाए थे।

आम विटामिन, पॉली-फेनोलिक फ्लेवेनोएड एंटीऑक्‍सीडेंट्स, प्री-बायोटिक डाइट्री फाइबर्स और मिनरल्‍स से भरपूर है। इसमें कई तरह के विटामिंस जैसे कि विटामिन ए, सी और डी भरपूर मात्रा में पाया जाता है जो कि शरीर की संपूर्ण सेहत में सुधार लाने में उपयोगी है। आम का सेवन फल, जूस या शेक के रूप में किया जाता है।

आम ज्यादातर उष्णकटिबंधीय देशों में उगाया जाता है लेकिन विश्‍व में भारत आम का सबसे बड़ा उत्पादक है। आम भारत का राष्‍ट्रीय फल है। पहाड़ी क्षेत्रों को छोड़कर लगभग भारत के सभी हिस्सों में इसकी खेती की जाती है। आपको जानकर हैरानी होगी कि भारत में आम की 100 से भी ज्‍यादा किस्‍में मौजूद हैं जिनका आकार, रंग और आकृति अलग-अलग है। आम की कुछ लोकप्रिय किस्‍मों में लंगड़ा आम, बंगनापल्‍ली, चौसा, तोता, सफेदा, अल्‍फांसो आम आदि का शामिल हैं।

आम का ताजा फल या इसकी चटनी बनाकर भी खाई जा सकती है। आम का अचार और रस भी खूब पसंद किया जाता है। कच्‍चे आम से बना आम पन्‍ना और मैंगो मिल्‍कशेक एवं आम रस भी पिया जाता है। बच्‍चों के लिए आम की जैम भी बना सकते हैं। कच्‍चे या अधपके आम पर नमक और मिर्च पाउडर बुरक कर भी खा सकते हैं।

क्‍या आप जानते हैं?

पूरी तरह से पके आम को समृद्धि का प्रतीक माना जाता है। वास्तव में विश्‍व को आम का उपहार भारत ने दिया है।

आम के बारे में तथ्‍य:

  • वानस्‍पतिक नाम: मेंगीफेरा इंडिका
  • कुल: एनाकार्डियासीए
  • सामान्‍य नाम: मैंगो, आम
  • संस्‍कृत नाम: आम्र
  • उपयोगी भाग: डायबिटीज के इलाज में आम की पत्तियां बहुत उपयोगी होती हैं। त्‍योहार या शुभ अवसरों पर घर के मुख्‍य द्वार पर आम की पत्तियां लगाई जाती हैं। आम के बीजों से तेल तैयार किया जाता है। हर उम्र के व्‍यक्‍ति को आम बहुत पसंद आता है।
  • भौगोलिक विवरण: दक्षिण एशिया को आम का मूल स्‍थान माना जाता है। प्राचीन समय से ही आम की खेती की जा रही है। कहा जाता है कि 10वीं शताब्‍दी में फारसी आम को पूर्वी अफ्रीका लेकर गए थे। सन् 1862 या 1863 में डॉ. फ्लेचर द्वारा आम के बीज को वेस्ट इंडीज से मियामी में आयात किया गया था। ऐसा माना जाता है कि बौद्ध भिक्षु चौथी और पांचवी शताब्‍दी में अपनी यात्रा पर आम को मलय और पूर्वी एशिया लेकर गए थे। आम लगभग सन् 1782 में जमैका पहुंचा था और 19वीं शताब्‍दी की शुरुआत में ये फिलीपींस से मेक्सिको और वेस्‍ट इंडीज पहुंचा था।
  • रोचक तथ्‍य: कहते हैं कि किसी को आम देना दोस्‍ती के लिए हाथ बढ़ाना है। इसके अलावा विवाह में आम की पत्तियों का इस्‍तेमाल किया जाता है ताकि दंपत्ति को संतान की प्राप्ति हो। 
  1. आम के फायदे - Aam ke Fayde in Hindi
  2. आम के नुकसान - Aam ke Nuksan in Hindi

आम के फायदे करें कोलेस्ट्रॉल को कम - Mango for Lowering Cholesterol in Hindi

आम का नियमित रूप से सेवन करने से आप अपने कोलेस्ट्रॉल के स्तर को नियंत्रण में रख सकते हैं। आम में उच्च मात्रा में मौजूद विटामिन सी, पेक्टिन और फाइबर कोलेस्ट्रॉल, विशेष रूप से 'खराब' एल.डी.एल (LDL) कोलेस्ट्रॉल को कम करने में सहायक है। इसके अलावा यह रक्त में ट्राइग्लिसराइड्स को कम करने में भी मदद करता है। यही नहीं आम 'अच्छा' एच.डी.एल (HDL) कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाने में भी मददगार है।

इसके अतिरिक्त, आम पोटेशियम का एक समृद्ध स्रोत है, जो तंत्रिका तंत्र (नर्वस सिस्टम) में रक्त के प्रवाह को बढ़ाने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इससे ह्रदय की गति और रक्त-चाप नियंत्रण में रहता है और दिल के दौरे और स्ट्रोक का खतरा कम हो जाता है। 

(और पढ़ें – मकई के फायदे खराब कोलेस्ट्रॉल के लिए)

कच्चे आम के फायदे बचाएं हीट स्ट्रोक से - Mango ke Fayde for Heat Stroke in Hindi

भारत के कई क्षेत्रों में आज भी लू एवं उसके लक्षणों को जड़ से मिटाने के लिए लोग आम पन्ना के रसीले एवं खट्टे-मीठे स्वाद का आनंद लेते हैं। हीट स्ट्रोक होने का खतरा कम करने के लिए, यह अनिवार्य है कि आपके शरीर में तरल पदार्थ का स्तर उच्च हों। आम पोटेशियम का एक समृद्ध स्रोत है, जो शरीर में सोडियम के स्वस्थ स्तर को बनाये रखने में सहायक है। शरीर में स्वस्थ सोडियम का स्तर, शरीर के तरल पदार्थ के स्तर को नियंत्रित करता है और हीट स्ट्रोक से बचाव करता है।

गर्मी के दिनों के दौरान, आप पके हुए एवं कच्चे आम दोनों का ही सेवन कर सकते हैं, इससे आपके शरीर को ठंडक मिलेगी और वह पुनः हाइड्रेट भी हो जाएगा। यदि आप पके हुए आम का सेवन कर रहे हैं तो उसके शीतलन प्रभाव को बढ़ाने के लिए, खाने से पहले एक घंटे के लिए, आम को पानी में भीगने के लिए छोड़ दें। तापघात को मात देने में कच्चे आम का रस अधिक प्रभावशाली होता है। इसे तैयार करने के लिए, दो कच्चे आम को दो कप पानी में तब तक उबाल लें, जब तक वे नरम न हो जाएँ। ठंडा होने पर, आम के गूदे को बाहर निकाल लें और उसमें एक गिलास ठंडा पानी मिलाएं। आप इसमें स्वाद के लिए सेंधा नमक और चीनी भी मिला सकते हैं। इसे रोजाना दिन में एक से दो बार पीएं।

(और पढ़ें – सिर्फ़ 5 दिन में चेहरे और शरीर से सन टैन को हटायें)

आम खाने के फायदे लाएं दृष्टि में सुधार - Mango for Eye Health in Hindi

आम हमारी आँखों के लिए भी उत्तम आहार में से एक है। आम में उच्च मात्रा में मौजूद विटामिन ए नेत्र स्वास्थ्य के लिए एक महत्वपूर्ण पोषक तत्व है। विटामिन ए अच्छी दृष्टि को बढ़ावा देता है और रतौंधी, मोतियाबिंद, धब्बेदार अध: पतन, शुष्क आँखें, मुलायम कॉर्निया और सामान्य नेत्र असुविधा जैसे विभिन्न आंख से संबंधित विकारों से आँखों की रक्षा करता है।

इसके अलावा, आम में बीटा कैरोटीन, अल्फा-कैरोटीन और बीटा करयप्टोसानथीन जैसे फ्लावोनोइड्स भी अच्छी मात्रा में निहित हैं, जो अच्छा दृष्टि के लिए आवश्यक हैं।
तो रोजाना स्वादिष्ट आम खाएं और दृषि में सुधार लाएं। सिर्फ एक कप कटे हुए आम का सेवन करने से आपके शरीर की विटामिन ए की दैनिक आवश्यकता 25 प्रतिशत तक पूरी हो जाती है। 

(और पढ़ें – आँखों के सूखेपन (ड्राई आईज) के घरेलू उपाय)

आम के पेड़ के लाभ करें पाचन शक्ति में सुधार - Mango for Digestion in Hindi

आम में मौजूद उच्च फाइबर सामग्री पाचन और मल-त्याग प्रक्रिया को उत्तेजित एवं नियमित करने में अत्यंत सहायक है। 2013 में गैस्ट्रोएंटरोलॉजी में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार, यह क्रोहन रोग जैसे गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल विकारों को रोकने में मददगार साबित हो सकता है।

(और पढ़ें - कब्ज के कारण)

इसके अलावा, यह फल कब्ज और पेट के अल्सर से राहत प्रदान करने में भी सक्षम है। आम में ऐसे एंजाइम उपस्थित है जो कार्बोहाइड्रेट और प्रोटीन के पाचन को बढ़ावा देते हैं, जिससे भोजन को उर्जा में बदलने को बढ़ावा मिलता है। नियमित आधार पर दोनों ही कच्चे व पके हुए आम खाने से पाचन-शक्ति में सुधार आता है और विभिन्न प्रकार के गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल विकारों का खतरा कम हो जाता है। 

(और पढ़ें – इमली खाने के लाभ हैं पाचन समस्याओं में)

आम फल के फायदे रखें स्मरण-शक्ति को तीव्र - Mango for Memory in Hindi

दिमाग के विकास और स्मरण-शक्ति को बढ़ावा देने के लिए ना जाने लोग कितने सामग्रियों का उपभोग करते हैं, परंतु क्या आप इस बात से परिचित हैं कि स्मरण-शक्ति को बढ़ाने का एक बहुत ही सरल और स्वादिष्ट उपाय है ? जी हाँ, आप आराम से घर बैठे आम के मीठे रस का स्वाद लेते हुए अपनी स्मरण-शक्ति को बढ़ा सकते हैं और एकाग्रता के स्तर में सुधार ला सकते हैं।

आम में उपस्थित ग्लुटामिन एसिड स्मृति को बढ़ावा देने और मानसिक सतर्कता को बढ़ावा देने के लिए जाना जाता है। इसके अलावा, आम विटामिन बी -6 से भी भरपूर है जो मस्तिष्क की कार्यशीलता को बनाये रखता है और उसमें सुधार के लिए एक महत्वपूर्ण तत्व है।

अतः यदि आपको पढ़ाई पर ध्यान केंद्रित करने में मुश्किलों का सामना करना पड़ता है या फिर आप अपनी कमज़ोर याददाश्त से परेशान हैं तो, अपने आहार योजना में आम को शामिल अवश्य करें।

(और पढ़ें – जायफल के उपयोग दिमाग़ के लिए)

आम रस के फायदे कैंसर से लड़ने के लिए - Mango for Cancer in Hindi

आम के स्वास्थय लाभों में से एक है कैंसर से लड़ने की इसकी क्षमता। इसकी यह क्षमता इसमें मौजूद उत्तम विरोधी कैंसर गुण, उच्च फाइबर, विटामिन सी, कई फिनोल और एंजाइमों से आती है।

कई अध्ययनों से पता चला है कि आम में उपस्थित एंटी-कैंसर और एंटीऑक्सीडेंट यौगिक पेट, स्तन, फेफड़े, त्वचा, ल्यूकेमिया और प्रोस्टेट कैंसर के खिलाफ रक्षा प्रदान कर सकते हैं।
आम में कैंसर रोधी यौगिक प्रभावी ढंग से बिना स्वस्थ एवं सामान्य कोशिकाओं को नुकसान पहुंचाये, कैंसर की कोशिकाओं की शरीर से निकासी में मदद करते हैं।
"ड डेना-फारबर कैंसर संस्थान", बोस्टन में आधारित एक अध्य्यन में कैंसर रोगियों को उनके दैनिक आहार में आम का एक-दो गिलास जूस शामिल करने की सलाह दी गई।

(और पढ़ें – कैंसर से लड़ने वाले दस बेहतरीन आहार)

आम के गुण रखें इम्यून सिस्टम को मजबूत - Mango ke Fayde for Boosting Immune System in Hindi

आम में समाविष्ट विटामिन सी और ए की उच्च एवं अच्छी मात्रा आपके प्रतिरक्षा प्रणाली को स्वस्थ और मजबूत रखने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। इसमें निहित विटामिन ए भी इम्यून सिस्टम की कार्यशीलता को उत्तेजित करने के लिए आवश्यक है।

यह त्वचा और मेम्ब्रेन के स्वास्थ्य को बनाये रखता है जिससे विभिन्न हानिकारक बैक्टीरिया और कवक के प्रवेश के खतरे को कम किया जा सकता है। विटामिन सी त्वचा को स्वस्थ रखती है और संक्रामक कणों के प्रवेश पर प्रतिबंध लगा देती है। यह सफेद रक्त कोशिकाओं के उत्पादन को भी बढ़ावा देती है जिससे हमारी प्रतिरक्षा और भी मजबूत बन जाती है।

इसके अलावा, आम 25 विभिन्न प्रकार के कैरोटेनॉयड्स से भी भरपूर है जो प्रतिरक्षा प्रणाली के स्वास्थ्य पर सकरात्मक प्रभाव डालते हैं। एक मजबूत प्रतिरक्षा प्रणाली आसानी से सर्दी, फ्लू और संक्रमण से लड़ आपके शरीर को स्वस्थ रखने में मदद करती है।

(और पढ़ें – प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाले खाद्य पदार्थ)

आम खाने के लाभ हैं यौन जीवन में सुखदायक - Aam ke Fayde for Sexual life in Hindi

आम फलों का राजा तो है ही परंतु क्या आप जानते हैं कि आम एक उत्तम कामोद्दीपक फल भी है। इसलिए आम को कई लोग "प्यार का फल" कहकर भी संबोधित करते हैं। आम विटामिन ई का एक समृद्ध स्रोत है जो सेक्स हार्मोन को विनियमित करने और कामेच्छा को बढ़ावा देने में मददगार है।

(और पढ़ें - sex kaise kare)

इसके अलावा, आम में मैग्नीशियम और पोटेशियम भी उच्च मात्रा में निहित है जो सेक्स हार्मोन के उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए आवश्यक तत्वों में से एक हैं। आम पुरुषों में हिस्टामिन उत्पादन को बढ़ावा देता है, जो संभोग सुख तक पहुँचने के लिए आवश्यक है। 

(और पढ़ें – यौन-शक्ति को बढ़ाने वाले आहार)

यदि आप कम कामेच्छा स्तर (low libido level) से परेशान हैं या फिर अपने घर में आप प्यार के नए फूल खिलाना चाहते हैं तो इस प्यार के फल का सेवन अवश्य करें।

वैसे तो आम के सेवन के स्वास्थ्य पर दुष्प्रभाव बहुत ही दुर्लभ है परंतु यदि आप इसका सेवन अधिक मात्रा में करेंगे तो आपको इसके कुछ नुकसानों का सामना करना पड़ सकता है। इसके कुछ नुकसान निम्नलिखित हैं -

  • क्योंकि यह प्राकृतिक चीनी का एक समृद्ध स्रोत है, इसके अधिक सेवन से रक्त-शर्करा स्तर में बढ़ोतरी हो सकती है। इसलिए मधुमेह के रोगियों को ज़्यादा आम खाने की सलाह नहीं दी जाती है। हालांकि यह भी सच नहीं कि मधुमेह के रोगी को मीठे फलों से बचना चाहिए क्योंकि वे मधुमेह पर प्रतिकूल प्रभाव डाल सकते हैं। कुछ फलों में अन्य की तुलना में अधिक चीनी होती है, पर यह कार्बोहाइड्रेट की कुल राशि है जो किसी के रक्त शर्करा के स्तर को प्रभावित करती है, न कि कार्बोहाइड्रेट का स्रोत, फिर चाहे स्रोत स्टार्च है या चीनी। यह कहा जाता है कि मधुमेह के रोगी 83 ग्राम तक इस फल का सेवन कर सकते हैं।
  • इसमें फाइबर भी अच्छी मात्रा में निहित है जिसके अत्यधिक सेवन से आपको दस्त की शिकायत हो सकती है।
  • यह भी संभव है कि आपको आम से एलर्जी हो।
  • इसमें बहुत अधिक कैलोरीज होती है जो आपके शरीर के लिए बिलकुल भी हानिकारक नहीं है परंतु इससे आपके वजन में बढ़ोतरी हो सकती है।
  • बहुत अधिक आम खाना शरीर की गर्मी को बढ़ा सकता है इसलिए एक दिन में एक से अधिक आम न खाएं।

परंतु यदि आप इसका सेवन उचित मात्रा में करें तो आप इसके दुष्प्रभावों से बच सकते हैं। हमें पता है ये थोड़ा मुश्किल है क्योंकि आम होता ही इतना स्वादिष्ट है कि खुद को इसे खाने से रोकना असंभव सा प्रतीत होता है। परंतु आपको अपनी जीभ पर नियंत्रण तो रखना ही पड़ेगा। तो जल्दी से चटकारे ले लेकर आम खाएं, परंतु ज्यादा नहीं और सेहत बनाएं।

Medicine NamePack SizePrice (Rs.)
Divya PatrangasavaDivya Patrangasava68
Baidyanath Pushyanug ChurnaBaidyanath Pushyanug Churna (No2) Combo Pack Of 3120
Himalaya HiOra ToothpasteHimalaya Hi Ora Toothpaste44
Himalaya Oxitard CapsuleHimalaya Oxitard Capsule 10s56
Patanjali Pachak Hing GoliPatanjali Pachak Hing Goli40
और पढ़ें ...

References

  1. United States Department of Agriculture Agricultural Research Service. Basic Report: 09176, Mangos, raw . National Nutrient Database for Standard Reference Legacy Release [Internet]
  2. El-Sayyad SM, Soubh AA, Awad AS, El-Abhar HS. Mangiferin protects against ‭intestinal ischemia/reperfusion-induced ‭liver injury: ‬‬Involvement of PPAR-‭γ, GSK-3β and Wnt/β-catenin pathway‬‬‬‬‬‬‬‬‬‬‬‬‬‬‬‬‬‬‬‬‬‬‬‬‬‬‬‬‬‬‬‬‬‬‬‬‬‬‬‬‬‬‬‬‬‬‬‬. Eur J Pharmacol. 2017 Aug 15;809:80-86. PMID: 28506911
  3. Marianna Lauricella et al. Multifaceted Health Benefits of Mangifera indica L. (Mango): The Inestimable Value of Orchards Recently Planted in Sicilian Rural Areas. Nutrients. 2017 May; 9(5): 525. PMID: 28531110
  4. Helen M Rasmussen, Elizabeth J Johnson. Nutrients for the aging eye . Clin Interv Aging. 2013; 8: 741–748. PMID: 23818772
  5. So-Hyun Kim et al. Ameliorating effects of Mango (Mangifera indica L.) fruit on plasma ethanol level in a mouse model assessed with 1H-NMR based metabolic profiling. J Clin Biochem Nutr. 2011 May; 48(3): 214–221. PMID: 21562641
  6. Marc P. McRae. Vitamin C supplementation lowers serum low-density lipoprotein cholesterol and triglycerides: a meta-analysis of 13 randomized controlled trials J Chiropr Med. 2008 Jun; 7(2): 48–58. PMID: 19674720