myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

हमारे शरीर में सबसे महत्वपूर्ण और निरंतर उपयोग किए जाने वाले अंगों में से एक हैं फेफड़े। इसलिए इनकी सुरक्षा करना हमारे लिए बहुत महत्वपूर्ण है। फेफड़े लगातार हमारे शरीर को ऑक्सीजन प्रदान करते हैं। लेकिन इस जीवन देने वाले अंग के महत्व के बावजूद, कई लोग जानबूझकर या अनजाने में अपने फेफड़ों को हर दिन खतरे में डालते हैं, फिर चाहे धूम्रपान, औद्योगिक प्रदूषण, खराब आहार, अस्वस्थ जीवनशैली की आदतें, स्वास्थ्य संबंधी समस्या जैसे कोई भी कारण क्यों न हों। दुनिया भर में लाखों लोग किसी न किसी प्रकार के फेफड़ों की बीमारी से पीड़ित होते हैं और हर साल लाखों लोग फेफड़ों की बीमारी के कारण मरते हैं। अस्थमा, ब्रोंकाइटिस, फेफड़े का कैंसर, सिस्टिक फाइब्रोसिस, एलर्जी, सीओपीडी आदि बीमारियां फेफड़ों से जुडी हुई हैं। तो आइए जानते हैं फेफड़ों के स्वास्थ्य को बढ़ावा देने वाले कुछ खाद्य पदार्थों के बारे में -

  1. फेफड़ों को स्वस्थ रखने का उपाय है बीन्स - Beans Good for Lungs in Hindi
  2. लंग्स इन्फेक्शन करें सैल्मन से दूर - Salmon for Lungs in Hindi
  3. फेफड़े का कैंसर से बचाव करें ब्लूबेरी - Blueberries Good for Lungs in Hindi
  4. फेफड़ों के स्वास्थ्य को बनाएँ रखें अदरक - Ginger for Lung Health in Hindi
  5. फेफड़े मजबूत करने के उपाय करें केल से - Kale for lungs in Hindi
  6. लहसुन करें फेफड़ों की रक्षा - Garlic for Lung Infection in Hindi
  7. गाजर दिलाएँ लंग्स प्रॉब्लम से छुटकारा - Carrots Good for Lungs in Hindi
  8. फेफड़ों को रोगों से बचाएँ अमरूद - Guava for Lungs in Hindi
  9. फेफड़ों को स्वस्थ रखें कद्दू - Pumpkin for Lungs in Hindi
  10. फेफड़े के लिए अलसी का सेवन है उपयोगी - Flaxseed for Lungs in Hindi
  11. सेब का सेवन करें लंग्स प्रॉब्लम को दूर - Apples for Lung Health in Hindi
  12. फेफड़े में इन्फेक्शन को रखें हल्दी दूर - Turmeric Benefits for Lungs in Hindi
  13. फेफड़ों की सफाई के लिए पिएं खूब पानी - Water Benefits for Lungs in Hindi

बीन्स में कई पोषक तत्व होते हैं जो उन्हें हमारे आहार का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बनाते हैं। लेकिन इनमें मौजूद फोलेट सामग्री विशेष रूप से महत्वपूर्ण है। एक रिसर्च ने सीओपीडी (chronic obstructive pulmonary disease - क्रोनिक अवरोधक फुफ्फुसीय रोग) के साथ कम फोलेट स्तरों को जोड़ा है जो सबसे आम और खतरनाक फेफड़ों की स्थिति में से एक है। काले सेम, दाल और अन्य फलियां में फोलेट का स्तर बहुत ही अधिक होता है और बीन्स को अपने आहार में शामिल करना आसान है। 

(और पढ़ें – मसल्स बनाने के घरेलू उपाय हैं बीन्स)

ओमेगा -3 फैटी एसिड वैज्ञानिक रूप से पूरे शरीर में फेफड़ों सहित कई विशिष्ट अंगों की सूजन को कम करने वाली गतिविधि से जुड़ा हुआ। अस्थमा एक बहुत ही कमजोरी लाने वाली और खतरनाक फेफड़े की बीमारी हो सकती है, लेकिन ओमगा -3 फैटी एसिड के एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटीऑक्सिडेंट गुण सैल्मन, मैकेरल, नट्स और बीज में उच्च आपूर्ति में पाए जाते हैं जो अस्थमा के लक्षणों को कम करने और हमलों से बचाने में मदद कर सकते हैं। 

(और पढ़ें – मछली खाने के लाभ और नुकसान)

यह सुपरफूड एंटीऑक्सिडेंट, पॉलीफेनोल, एंथोकायनिन, विटामिन ई और अन्य शक्तिशाली कार्बनिक यौगिकों से परिपूर्ण होते हैं। ब्लूबेरी अच्छी तरह से एक एंटी कैंसर और एंटी इंफ्लेमेटरी स्नैक्स हैं जो आपके फेफड़ों की सुरक्षा में मदद कर सकते हैं और विभिन्न प्रकार के आम संक्रमणों को रोक सकते हैं जो आपकी सांस को खतरा पैदा कर सकते हैं। 

(और पढ़ें - कैंसर को रोकने के लिए उपयोगी है ब्लूबेरी)

यह शरीर को विसर्जित करने और वायुमार्ग को शुद्ध करने की क्षमता के कारण सबसे अधिक ज्ञात और फेफड़े के स्वास्थ्य को बढ़ावा देने वाले खाद्य पदार्थों में से एक है। अदरक का श्वसन तंत्र से विषाक्त पदार्थों को दूर करने के लिए लंबे समय तक इस्तेमाल किया जाता है। इससे भी महत्वपूर्ण बात यह है कि, में मजबूत एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटी कैंसर गुण होते हैं जो फेफड़ों को सुरक्षित रखते हैं।

अधिकांश अन्य क्रसफेरस (cruciferous - सलीबधारी) सब्जियों की तरह, केल (एक प्रकार की गोभी) हमारे शरीर के लिए फायदेमंद यौगिकों और पोषक तत्वों के साथ परिपूर्ण है। इसकी समृद्ध फाइबर सामग्री के अलावा, केल में विशेष फाइटोन्यूट्रीएंट्स शामिल हैं जो कैंसर कोशिकाओं के विकास के खिलाफ हमारे शरीर की रक्षा में मदद करते हैं। केल में सक्रिय जैविक यौगिक जैसे क्लेरेटिन और फेरिलिक एसिड कैंसर के जोखिम को कम करने, हमारे शरीर के कोशिकाओं और अंगों में ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करने में भी मदद करते हैं। अन्य लोकप्रिय क्रसफेरस वाली सब्जियों में पालक और कोलार्ड ग्रीन (collard greens) शामिल हैं।

लहसुन के कई स्वास्थ्य लाभ हैं, लेकिन सबसे महत्वपूर्ण में से एक निश्चित एंजाइम के उत्पादन से संबंधित है जो लहसुन में फ्लेवोनोइड को उत्तेजित करता है। यह एंजाइम शरीर और फेफड़ों की दक्षता में वृद्धि करने के लिए खुद को विषाक्त पदार्थों और कार्सिनोजेन्स से छुटकारा दिलाता है। इसलिए लहसुन फेफड़ों की रक्षा करने और बचाव करने के लिए बहुत ही लाभकारी है।

(और पढ़ें - लहसुन खाने का फायदा)

कई शोध अध्ययनों में फेफड़ों के कैंसर के कम होने के कारणों में कैरोटीनॉयड जुड़ा हुआ है और कैरोटीनोइड के लिए सर्वश्रेष्ठ स्रोतों में से एक है गाजर। पूर्ण लाभ प्राप्त करने का सबसे अच्छा तरीका यह है कि आप गाजर को कच्चा खाएं या इसे उबालकर या पकाकर खाएं। लेकिन गाजर फेफड़ों के कैंसर के खिलाफ रक्षा के लिए एक शक्तिशाली एंटीऑक्सिडेंट हो सकती है।

जो फल और सब्जियां विटामिन सी में उच्च होती हैं उनसे केवल एंटीऑक्सीडेंट गतिविधि में वृद्धि होती है बल्कि कैंसर को भी रोकती है। लेकिन अमरूद में कुछ एंटीवायरल गुण होते हैं जो फेफड़े को स्वस्थ रखता है, खासकर निमोनिया से जो एक आम फेफड़ों की बीमारी है। अमरूद की एक सर्विंग में विटामिन सी की एक बड़ी मात्रा होती है। इसलिए इस फल को आपको अपने आहार में सजमिल करना चाइये अगर आप अपने फेफड़ों को स्वस्थ रखना चाहते हैं। 

(और पढ़ें – निमोनिया का घरेलू उपचार)

कद्दू पोटेशियम, मैग्नीशियम, विटामिन सी और विभिन्न कैरोटीनॉड्स के बहुत ही अच्छे स्रोतों में से एक हैं। फेफड़ों के स्वास्थ्य की सुरक्षा के लिए ये मौसमी खाद्य पदार्थ आदर्श है। कद्दू में कई पोषक तत्वों की पहचान की गई है जो ऑक्सीडेटिव तनाव और फेफड़ों के कैंसर के निचले स्तर से जुड़े हैं। 

(और पढ़ें - कद्दू के बीज के फायदे और नुकसान)

यह नम्र भोजन कई फेफड़ों के फायदों से जुड़ा हुआ है। इसके सेवन से फेफड़े के ऊतक का पुनर्जनन और रिपेयर में वृद्धि हुई है और भविष्य की क्षति को रोकने के लिए इससे ताकत मिलती है। यह फेफड़ों के कैंसर के लिए विकिरण उपचार के बाद बहुत उपयोगी रहा है और इसने उपचार प्रक्रिया को बढ़ा दिया है। अपने आहार में अलसी जोड़ना आपके लिए बहुत ही स्वस्थ विकल्प हैं।

सभी फल अपनी उच्च विटामिन सी सामग्री के कारण फेफड़े के स्वास्थ्य के लिए सहायक होते हैं, जबकि सेब विशेष रूप से एंटीऑक्सिडेंट में समृद्ध होते हैं। ये फाइबर में भी परिपूर्ण होते हैं। सेब के सेवन की आवृत्ति के साथ अस्थमा और फेफड़ों के कैंसर की घटना के बीच प्रत्यक्ष अनुसंधान कनेक्शन चल रहे हैं।

हल्दी में सक्रिय संघटक कर्क्यूमिन है, जो कई बार कैंसर की रोकथाम और उपचार के लिए जोड़ा गया है। हल्दी में मौजूद एंटीऑक्सिडेंट क्षमता को हम सभी अच्छी तरह से जानते हैं, लेकिन इस मसाले की एंटी-इंफ्लेमेटरी क्षमता भी प्रभावशाली है और अस्थमा और अन्य आम फेफड़ों के संक्रमण को ठीक करने में मदद करती है।

समग्र स्वास्थ्य के लिए हाइड्रेशन रहना महत्वपूर्ण है और "आपके फेफड़ों में पानी" होना अच्छी बात नहीं है। इसलिए फेफड़े के स्वास्थ्य के लिए आपके शरीर में पर्याप्त पानी होना महत्वपूर्ण है। विषाक्त पदार्थों के उन्मूलन और फेफड़ों के कार्य की दक्षता फेफड़ों के कोशिकाओं और ऊतकों में पर्याप्त पानी होने पर आधारित होती है। 

(और पढ़ें - गर्मियों में ठंडा पानी पीकर कहीं कोई गलती तो नहीं कर रहे हैं आप?)

और पढ़ें ...