व्यस्त दिनचर्या के चलते लोग अपनी नींद पूरी नहीं कर पाते हैं. वहीं, कई लोगों को तनाव के कारण भी अनिद्रा की समस्या हो सकती है. ऐसे में नींद की कमी कई तरह की स्वास्थ्य समस्याओं का कारण बनती है. इन्हीं में से एक है हाई ब्लड प्रेशर. ऐसा नींद की कमी के चलते शरीर में हार्मोंस का असंतुलित होना माना जाता है.

आज इस लेख में आप विस्तार से जानेंगे कि नींद की कमी से हाई बीपी की समस्या किस प्रकार हो सकती है -

(और पढ़ें - हाई बीपी का आयुर्वेदिक इलाज)

  1. नींद की कमी व हाई बीपी के बीच संबंध
  2. अच्छी नींद के लिए कुछ उपयोगी टिप्स
  3. सारांश
क्या नींद की कमी से हाई बीपी हो सकता है? के डॉक्टर

यह सच है कि नींद की कमी हाई ब्लड प्रेशर का कारण बन सकती है. जो व्यक्ति जितना कम सोएगा, उसे हाई बीपी होने की आशंका उतनी ही ज्यादा होगी. वैज्ञानिकों के अनुसार, जो लोग 6 घंटे से कम सोते हैं, उनमें हाई बीपी का जोखिम अधिक होता है. वहीं, अगर हाई बीपी के मरीज कम सोते हैं या उनकी नींद पूरी नहीं होती है, तो उनकी स्थिति और गंभीर हो सकती है.

माना जाता है कि पर्याप्त नींद लेने से व्यक्ति के शरीर में स्ट्रेस और मेटाबॉलिज्म हार्मोन संतुलित रहते हैं. वहीं, नींद की कमी से ये हार्मोन संतुलन बिगड़ने लगता है. यही हार्मोनल बदलाव हाई ब्लड प्रेशर का कारण बनता है. ऐसे में पर्याप्त नींद हर किसी के लिए जरूरी है.

साथ ही ध्यान रखना भी जरूरी है कि अधिक सोना भी हानिकारक हो सकता है. अधिक सोने से हाई ब्लड शुगर और वजन बढ़ने का जोखिम बना रहता है. इसलिए, 7 से 8 घंटे की नींद पर्याप्त है.

(और पढ़ें - हाई ब्लड प्रेशर के लिए दवा)

यहां हम अच्छी नींद के लिए कुछ आसान और असरदार टिप्स दे रहे हैं. उम्मीद है कि इन्हें अपनाकर अच्छी नींद में मदद मिल सकेगी. ये टिप्स कुछ इस प्रकार हैं -

  • सोने के तय नियम का पालन करें. रोज रात सोने व सुबह उठने का समय तय कर लें. हर रोज उसी वक्त सोने जाएं व सुबह उठें. ये नियम वीकेंड में भी फॉलो करें.
  • सुबह उठने के बाद सैर के लिए जरूर जाएं. हो सके तो दोपहर में खाने के बाद भी टहलें.
  • रोज पोषक तत्वों से युक्त स्वस्थ डाइट लें.
  • दिन में ज्यादा से ज्यादा शारीरिक गतिविधि करें. 
  • योगव्यायाम व मेडिटेशन को अपने रूटीन में शामिल करें.
  • सोने से एक से दो घंटे पहले किसी तरह का व्यायाम न करें.
  • सोने से ठीक पहले कुछ न खाएं व पिएं. कैफीन या अल्कोहल का तो सेवन बिलकुल न करें.
  • ध्यान रहे कि आपका कमरा साफ हो और कमरे में किसी तरह की तेज लाइट न हो. साथ ही पूरी तरह से शांति बनी रहे.
  • सोने से पहले मोबाइल, टैब या लैप्टॉप का उपयोग बिल्कुल न करें.

(और पढ़ें - हाई बीपी में दूध पिएं या नहीं)

नींद में सुधार करने के लिए और रात को गहरी नींद लेने के लिए Sprowt Melatonin बाजार में उपलब्ध सभी विकल्पों में से सबसे बेहतरीन है -

नींद हर किसी के लिए आवश्यक है. ऐसे में अपने आप को सेहतमंद रखने के लिए न सिर्फ सही डाइट, बल्कि पर्याप्त नींद भी जरूरी है. याद रखें कम नींद की समस्या कई प्रकार के रोगों का कारण बन सकती है. इसमें हाई बीपी भी शामिल है. समय रहते इसे ठीक न करने पर यह समस्या बढ़ सकती है, जिसके चलते हृदय रोग का सामना करना पड़ सकता है. इसलिए, नींद कम आने की समस्या को अनदेखा नहीं करना चाहिए.

(और पढ़ें - हाई ब्लड प्रेशर को तुरंत कैसे कंट्रोल करें)

Dr. Amit Singh

Dr. Amit Singh

कार्डियोलॉजी
10 वर्षों का अनुभव

Dr. Shekar M G

Dr. Shekar M G

कार्डियोलॉजी
18 वर्षों का अनुभव

Dr. Janardhana Reddy D

Dr. Janardhana Reddy D

कार्डियोलॉजी
20 वर्षों का अनुभव

Dr. Abhishek Sharma

Dr. Abhishek Sharma

कार्डियोलॉजी
1 वर्षों का अनुभव

ऐप पर पढ़ें