शरीर के सभी कार्यों के लिए पोषक तत्वों की आवश्यकता होती है। इससे शरीर की चयापचय (मेटाबॉलिज्म) प्रक्रिया सही होने के साथ ही अनेकों लाभ मिलते हैं। विटामिन और खनिजों के रूप में मिलने वाले पोषक तत्व शरीर को आहार के माध्यम से मिलते हैं। आहार के द्वारा प्राप्त पोषक तत्वों से शरीर को ऊर्जा मिलती है और आप अपने रोजमर्रा के काम कर पाते हैं।

पोषक तत्वों की कमी होने से व्यक्ति कई रोगों की चपेट में आ जाता है। पोषक तत्वों के इसी महत्व के कारण आपको पोषक तत्वों के बारे में विस्तार से बताया जा रहा है। साथ ही आगे आपको बताया जा रहा है कि पोषक तत्व क्या है, इनके नाम, पोषक तत्वों के प्रकार, पोषक तत्वों के फायदे, पोषक तत्वों की अधिकता और पोषक तत्वों के स्त्रोत क्या हैं।

(और पढ़ें - पौष्टिक आहार के गुण और फायदे)

  1. पोषक तत्व क्या है, चार्ट और नाम - Poshak tatva kya hai, chart aur naam
  2. पोषक तत्वों के प्रकार - Poshak tatvo ke prakar
  3. पोषक तत्वों के फायदे - Poshak tatvo ke fayde
  4. पोषक तत्वों की अधिकता - Poshak tatvo ki adhikta
  5. पोषक तत्वों के स्त्रोत - Poshak tatvo ke srot
  6. पोषक तत्व के नाम, प्रकार, लाभ, स्रोत के डॉक्टर

शरीर के पोषण के लिए पोषक तत्वों की आवश्यकता होती है। संतुलित आहार से शरीर को सभी प्रकार के पोषक तत्व मिलते हैं। पोषक तत्वों से शरीर के सभी अंग सही तरह से कार्य कर पाते हैं। विभिन्न विटामिन और खनिजों के रूप में मिलने वाले पोषक तत्व शरीर के लिए बेहद आवश्यक होते हैं। इनकी कमी होने से आप कई तरह के रोगों की चपेट में आ सकते हैं। कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, फैट, विटामिन, खनिज और जल कुछ ऐसे पोषक तत्व है जिनकी आवश्यकता शरीर को सबसे ज्यादा होती है।

विटामिन के प्रकार में विटामिन बी 2 (राइबोफ्लेविन), विटामिन बी 3 (नियासिन), विटामिन बी 5 (पैंटोथीनिक एसिड), विटामिन बी 6 (पाइरोडौक्ज़ामिन), विटामिन बी 7 (बायोटिन), विटामिन बी 9 (फोलिक एसिड), विटामिन बी 12 (साइनोकोबालमिन), विटामिन सी (एस्कोर्बिक एसिड), विटामिन डी, विटामिन ई (टोकोफेरोल) और विटामिन K शामिल होते हैं।

खनिज के प्रकार में बोरान, कैल्शियम, क्रोमियम, आयरन, मैग्नीशियम, आयोडीन, फास्फोरस, मैगनीज, कॉपर, पोटेशियम, सेलेनियम, सिलिकॉन, सोडियम और जिंक को शामिल किया जाता है।

(और पढ़ें - विटामिन की कमी के लक्षण)

पोषक तत्वों को सूक्ष्म पोषक तत्व (माइक्रोन्यूट्रिएंट) और मैक्रोन्यूट्रिएंट् (बृहत और बड़े पोषक तत्व) दो प्रकार में विभाजित किया जाता है। कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन और वसा को मैक्रोन्यूट्रिएंट कहा जाता है, क्योंकि वे बड़े होते हैं, और इनको ऊर्जा का स्त्रोत माना जाता है। विटामिन और खनिजों को सूक्ष्म पोषक तत्व कहा जाता है क्योंकि अन्य पोषक तत्वों की तुलना में यह बहुत छोटे होते हैं। इसका मतलब यह बिलकुल भी नहीं है कि वह शरीर के लिए कम महत्वपूर्ण होते हैं। शरीर को बेहद कम मात्रा में इनकी भी आवश्यक होती है।

(और पढ़ें - प्रोटीन युक्त भारतीय आहार)

सूक्ष्म पोषक तत्वों को पानी और वसा में घुलने के आधार पर बाटा जाता है। विटामिन ए, डी, ई, और विटामिन के वसा में घुलनशील होते हैं, जबकि विटामिन बी कॉम्प्लेक्स और विटामिन सी पानी में घुलनशील होते हैं। इसके अलावा खनिज व्यक्ति के शरीर की आवश्यकता के आधार पर वर्गीकृत किये जाते हैं।

(और पढ़ें - प्रोटीन शेक के फायदे)

पोषक तत्वों के अनेक फायदे होते हैं। प्रत्येक विटामिन और खनिज के अलावा अन्य पोषक तत्व शरीर में अपनी अलग-अलग प्रतिक्रियाएं दिखाते हैं। फिलहाल पोषक तत्वों के कुछ मुख्य फायदो के बारे में नीचे विस्तार से समझाया जा रहा है।

  1. ऊर्जा प्रदान करते हैं पोषक तत्व -
    कार्बोहाइड्रेट, वसा और प्रोटीन मिलकर आपको ऊर्जा प्रदान करते हैं, जिससे आपके शरीर में होने वाली सभी जैव रासायनिक प्रतिक्रियाओं को पूरा करने में मदद मिलती है। शारीरिक ऊर्जा को कैलोरी कहा जाता है। वसा में कार्बोहाइड्रेट और प्रोटीन की तुलना में अधिक कैलोरी होती है, एक ग्राम वसा से शरीर को 9 कैलोरी मिलती है, जबकि कार्बोहाइड्रेट और प्रोटीन के दो ग्राम से चार कैलोरी प्राप्त होती है।
    (और पढ़ें - जानें एक्सरसाइज किए बिना कैलोरी बर्न करने के तरीके)
     
  2. शरीर की बनावट के लिए जरूरी हैं पोषक तत्व –
    वसा, प्रोटीन और मिनिरल्स साथ में मिलकर आपके शरीर के ऊतकों, अंगों, हड्डियों और दांतों के लिए आवश्यक होती है। कार्बोहाइड्रेट को इसमें शामिल नहीं किया जाता है, लेकिन आपके शरीर की अतिरिक्त कार्बोहाइड्रेट वसा में बदलकर एडिपोज ऊतक में एकत्रित हो जाता है।
    (और पढ़े - हड्डियों को मजबूत बनाने के लिए जूस रेसिपी)
     
  3. शारीरिक कार्यों के लिए महत्वपूर्ण हैं पोषक तत्व –
    सभी तरह के पोषक तत्व आपके शरीर के सभी कार्य जैसे पसीना आना, तापमान, मेटाबॉलिज्म, ब्लड प्रेशर, थायराइड आदि को नियमित करने में सहायक होते हैं, जब आपके शरीर के सभी कार्य नियंत्रण में होते हैं तो उस स्थिति को हिमियोस्टेसिस कहा जाता है। (और पढ़ें - हाई ब्लड प्रेशर में क्या खाएं)

पोषक तत्वों की अधिकता से आपके शरीर में कई तरह के हानिकारक प्रभाव पड़ते हैं। पोषक तत्वों का एक निश्चित स्तर होता है, उससे कम या ज्यादा होने से इसके कई दुष्प्रभाव होते हैं। पोषक तत्वों की अधिकता के प्रभावों को निम्न प्रकार से बताया गया है।

(और पढ़ें - पथरी के घरेलू उपाय)

आपके द्वारा लिए जाने वाले आहार से आपको सभी तरह के पोषक तत्व मिलते हैं। कुछ खाद्य पदार्थों में किसी एक पोषक तत्व की अधिकता हो सकती है। आपको अपने आहार में अपनी एक ही खाद्य सामग्री रखने की अपेक्षा सभी तरह के खाद्य पदार्थों को शामिल करना चाहिए, इससे आपको पूर्ण पोषण मिल पाता है। पोषक तत्वों के स्त्रोतों को नीचे विस्तार से बताया जा रहा हैं।

Dt. Akanksha Mishra

Dt. Akanksha Mishra

पोषणविद्‍
8 वर्षों का अनुभव

Surbhi Singh

Surbhi Singh

पोषणविद्‍
22 वर्षों का अनुभव

Dr. Avtar Singh Kochar

Dr. Avtar Singh Kochar

पोषणविद्‍
20 वर्षों का अनुभव

Dr. priyamwada

Dr. priyamwada

पोषणविद्‍
7 वर्षों का अनुभव

और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ