myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

माइलोडिस्प्लास्टिक सिंड्रोम क्या है?

माइलोडिस्प्लास्टिक सिंड्रोम दुर्लभ विकारों का एक समूह है, जिसमें आपका शरीर पर्याप्त स्वस्थ रक्त कोशिकाओं को नहीं बना पाता। कभी-कभी इसे "बोन मेरो फेलियर डिसऑर्डर" भी कहते हैं। कई लोगों को यह समस्या 65 की उम्र या उससे ज्यादा उम्र में होने लगती है, लेकिन यह व्यस्क लोगों को भी हो सकती है। माइलोडिस्प्लास्टिक सिंड्रोम महिलाओं से ज्यादा पुरुषों में बेहद आम है। ये सिंड्रोम एक प्रकार के कैंसर होते हैं। 

(और पढ़ें - ब्लीडिंग कैसे रोकें)

माइलोडिस्प्लास्टिक सिंड्रोम के लक्षण क्या हैं?

माइलोडिस्प्लास्टिक सिंड्रोम के लक्षण जैसे थकान, सांस लेने में दिक्कत, शरीर पीला पड़ना (क्योंकि लाल रक्त कोशिकाएं कम होने लगती हैं), असामान्य फफोले पड़ना या रक्त बहना आदि। 

(और पढ़ें - खून बहना बंद कैसे करें)

माइलोडिस्प्लास्टिक सिंड्रोम क्यों होता है?

स्वस्थ व्यक्ति में, बोन मेरो नई रक्त कोशिकाओं को बनाता है, जो धीरे-धीरे बढ़ी होने लगती हैं। माइलोडिस्प्लास्टिक सिंड्रोम तब होते हैं जब इस प्रक्रिया में कुछ रुकावटे पैदा होने लगती हैं, जिससे रक्त कोशिकाएं अच्छे से बढ़ नहीं पाती।

सामान्य तरीके से बढ़ने के बजाए, रक्त कोशिकाएं बोन मेरो में या खून में पहुंचने के बाद खत्म होने लगती हैं। धीरे-धीरे ऐसी रक्त कोशिकाएं बढ़ती जाती हैं, जिनकी वजह से समस्या बढ़ने लगती है जैसे थकान, खून की कमी, ब्लड कैंसरसंक्रमण आदि।

कुछ माइलोडिस्प्लास्टिक सिंड्रोम के कारण पता नहीं चल पाते। अन्य सिंड्रोम कैंसर के उपचार, जैसे कि कीमो और रेडिएशन थैरेपी के कारण या विषाक्त केमिकल जैसे तंबाकू तथा कीटनाशक जैसे जहरीले केमिकल के संपर्क में आने के कारण होते हैं।

(और पढ़ें - हीमोग्लोबिन की कमी का इलाज​)

माइलोडिस्प्लास्टिक सिंड्रोम का इलाज कैसे होता है?

माइलोडिस्प्लास्टिक सिंड्रोम के इलाज में लक्षणों को ठीक किया जाता है जैसे थकान, ब्लीडिंग व इन्फेक्शन को ठीक किया जाता है। अगर आपको कोई लक्षण नहीं दिखते हैं तो डॉक्टर रोजाना समय-समय पर टेस्ट करेंगे और आपकी हालत पर नजर रखेंगे। अगर हालत ज्यादा गंभीर है तो डॉक्टर लाल रक्त कोशिकाओं, सफेद रक्त कोशिकाओं या प्लेटलेट्स को बदलने के लिए खून चढ़ा सकते हैं। 

(और पढ़ें - एनीमिया के घरेलू उपाय)

  1. माइलोडिस्प्लास्टिक सिंड्रोम की दवा - Medicines for Myelodysplastic Syndrome in Hindi

माइलोडिस्प्लास्टिक सिंड्रोम की दवा - Medicines for Myelodysplastic Syndrome in Hindi

माइलोडिस्प्लास्टिक सिंड्रोम के लिए बहुत दवाइयां उपलब्ध हैं। नीचे यह सारी दवाइयां दी गयी हैं। लेकिन ध्यान रहे कि डॉक्टर से सलाह किये बिना आप कृपया कोई भी दवाई न लें। बिना डॉक्टर की सलाह से दवाई लेने से आपकी सेहत को गंभीर नुक्सान हो सकता है।

Medicine Name
Veenat खरीदें
Glivec खरीदें
Dacogen खरीदें
Decitas खरीदें
Decitax खरीदें
Decitex खरीदें
Deczuba खरीदें
Xalibo खरीदें
Azalive खरीदें
Decima खरीदें
Mesylonib खरीदें
Myaza खरीदें
Mydolen खरीदें
Myelomide खरीदें
Lenalid खरीदें
Lenalid Mf खरीदें
Lenangio खरीदें
Lenid खरीदें
Lenmid खरीदें
Lenome खरीदें
Lenomust खरीदें

References

  1. National Health Service [Internet]. UK; Myelodysplastic syndrome (myelodysplasia).
  2. MedlinePlus Medical Encyclopedia: US National Library of Medicine; Myelodysplastic Syndromes.
  3. American Cancer Society [Internet] Atlanta, Georgia, U.S; Signs and Symptoms of Myelodysplastic Syndromes.
  4. Leukaemia Foundation. MDS diagnosis. Australia; [Internet]
  5. Leukaemia Foundation. MDS treatment. Australia; [Internet]
और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें