myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

एनीमिया (खून की कमी) तब होता है जब शरीर की लाल रक्त कोशिकाओं की संख्यां कम होने लगती हैं। लाल रक्त कोशिकाओं का काम हीमोग्लोबिन बनाना होता है। लोहा रक्त कोशिकाओं को ऑक्सीजन पहुंचाने में मदद करता है। जब आप एनीमिया से पीड़ित होते हैं तब रक्त आपके अंगों और ऊतकों को उचित ऑक्सीजन की आपूर्ति नहीं दे पाता। विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक, जिन पुरुषों में 13 ग्राम प्रति डेसीलीटर से शरीर में हीमोग्लोबिन है उनमे रक्त की कमी है। महिलाओं के लिए 12 ग्राम से कम हीमोग्लोबिन होना रक्त की कमी माना जाता है। 

एनीमिया कई प्रकार का होता है लेकिन निर्भर करता है उसके क्या कारण है और किस तरह के लक्षण हैं। महिलायें और जो लोग पुरानी बिमारियों से झूझ रहें होते हैं उनको एनीमिया का खतरा सबसे ज़्यादा होता है। मासिक धर्म, गर्भावस्था, अल्सर, कैंसर, खून बहने की परेशानी, अन्य पुरानी बीमारियां, लोहे की कमी, फोलिक एसिड, विटामिन बी 12 जैसी कमी के दौरान एनीमिया हो सकता है। कुछ प्रकार के एनीमिया अनुवांशिक भी होते हैं।

(और पढ़ें - प्रेगनेंसी में पेट दर्द हो तो क्या करे)          

एनीमिया के आम लक्षण थकान, पीली त्वचा, तेज या अनियमित दिल की धड़कन, ऊर्जा की कमी, बालों का झड़ना और हाई ब्लड प्रेशर या लो ब्लड प्रेशर। आप आसानी से कुछ प्रकार के एनीमिया का इलाज घरेलु उपचारों से रोक सकते हैं। जब तक आपके हीमोग्लोबिन का स्तर सामान्य न हो जाए तब तक इन उपायों का पालन करें। 

(और पढ़ें – थकान दूर करने के घरेलू उपाय)

एनीमिया के लिए हम आपको घरेलू उपचारों के बारे में बताएंगे -

  1. खून की कमी दूर करने का उपाय है चुकंदर - Khoon ki kami ke upay me kare Beetroot ka upyog
  2. खून की कमी दूर करने के घरेलू उपाय करें शीरा से - Khoon ki kami ka nuskha hai blackstrap molasses
  3. खून की कमी को दूर करें पालक से - Khoon ki kami ko dur karne ke nuskhe me kare spinach ka upyog
  4. खून की कमी का उपाय है अनार - Khoon ki kami dur karne ka tarika hai pomegranate
  5. खून बढ़ाने का आसान तरीका है काला तिल - Khun ki kami dur karne ke upay me kare kale til ka upyog
  6. एनीमिया से बचने का उपाय है खजूर - Anemia se bachne ka upay hai dates
  7. एनीमिया (खून की कमी) को दूर करे सेब - Khoon ki kami dur kare apples se
  8. एनीमिया दूर करने के उपाय में करें केला का उपयोग - Blood badhane ka gharelu upay hai banana
  9. खून बढ़ाने का तरीका है मुनक्का - Khoon badhane ka trika hai raisins
  10. ब्लड बढ़ाने का उपाय है मेथी - Khoon badhane ka desi nuskha hai methi
  11. एनीमिया (खून की कमी) से बचने के लिए कुछ टिप्स - Khoon badhane ke tips in hindi

चुकंदर उन लोगो के लिए बेहद फायदेमंद है जो लोहे की कमी के कारण एनीमिया से पीड़ित होते हैं। यह सभी प्रकार के एनीमिया के लिए बहुत आम है। इसमें लोहे की मात्रा के साथ-साथ फाइबर, कैल्शियम, पोटासियम, सल्फर और विटामिन भी होता है खून की कमी से जिससे शरीर में खून की कमी पूरी होती है। पोषण प्रदान करने के अतिरिक्त चुकंदर शरीर को शुद्ध करने और पूरे शरीर में ऑक्सीजन की आपूर्ति करने में मदद करता है। इससे शरीर की लाल रक्त कोशिकाओं की संख्या में वृद्धि करने में मदद मिलती है।     

एनीमिया के लिए चुकंदर का इस्तेमाल घर पर कैसे करें 

  1. एक मध्यम आकार का चुकंदर, तीन गाजर और आधा शकरकंद एक जूसर डाल कर जूस निकाल लें और इस जूस को रोज़ाना एक बार ज़रूर पियें।
  2. आप चुकंदर को सलाद में या पकाकर खा सकते हैं। अधिकतम पोषण के लिए आप चुकंदर को बिना छीलें खाएं।

(और पढ़ें - चुकंदर के जूस के फायदे)

शीरा को शरीर के लिए एक पोषक तत्व माना जाता है खासकर उन लोगों के लिए जो खून की कमी से पीड़ित होते हैं। शीरा एनीमिया के लिए बहुत फायदेमंद है। इसे पीने से गर्भवती महिलाओं को ज़्यादा फायदा पहुँचता है।

एनीमिया ​के लिए शीरा का इस्तेमाल घर पर कैसे करें 

  1. सबसे पहले गरम पानी या दूध लें।
  2. अब इनमे एक चम्मच शीरा मिला दें।
  3. इसे दिन में एक बार या दो बार ज़रूर लें।

एक और विकल्प आप ले सकते हैं

  1. एक कप पानी में दो चम्मच शीरा और सेब का सिरका मिलाकर पीलें।
  2. इसे दिन में एक बार ज़रूर पियें।

यह लोहे, विटामिन बी और अन्य आवश्यक खनिजों का एक अच्छा स्रोत है जो लाल रक्त कोशिकाओं का उत्पादन बढ़ाने में मदद करता है। शीरा की एक बड़ी चम्मच भी आपके शरीर में लगभग 15 प्रतिशत लोहे की कमी को पूरा करती है।

(और पढ़ें - गर्भवती महिलाओं को क्या खाना चाहिए)

हरी पत्तेदार सब्ज़ियों में सबसे ज़्यादा लोहा पाया जाता है और पालक खून की कमी के लिए सबसे अच्छा घरेलु उपचार है। पालक में लोहा होने के साथ-साथ विटामिन बी 12, फोलिक एसिड और ऊर्जा बढ़ाने वाले पोषक तत्व पाएं जातें हैं जिससे आपका शरीर एनीमिया से उबर सके। पालक का आधा कप लगभग 35 प्रतिशत लोहा और 33 प्रतिशत फोलिक एसिड आपके शरीर के लिए बहुत उपयोगी है।

एनीमिया के लिए पालक का इस्तेमाल घर पर कैसे करें

  1. सूप तैयार करने के लिए, एक कप कच्चा पालक लें और इसमें थोड़ा पानी डालकर प्यूरी बनाएं।
  2. अब एक तवे पर ओलिव आयल को गरम कर लें और उसमे कटा हुआ लहसुन और प्याज डाल दें।
  3. तब तक भूनें जब तक प्याज और लहसुन ब्राउन न हो जाएँ।
  4. अब उसमे पालक की प्यूरी डालें और थोड़ा नमक के साथ उसे 5 से 10 मिनट तक पकने दें।
  5. दिन मे दो बार पालक का सूप पियें।

(और पढ़ें - प्याज का रस बालों के लिए)

एक और विकल्प आप ले सकते हैं

  1. ताजा पालक के रस के गिलास में दो चम्मच शहद मिलाएं।
  2. इसे दिन में एक बार ज़रूर पियें।

कम से कम एक महीने के लिए इनमें से किसी भी उपचार का पालन करते रहें।

(और पढ़ें - खाली पेट लहसुन खाने के फायदे)

अनार में लोहा और अन्य ज़रूरी खनिज पाए जातें हैं जैसे कि कैल्शियम और मैग्नीशियम जिससे कि शरीर में खून की कमी पैदा नहीं होती। इसमें विटामिन सी भी होता है जो लोहे को शरीर में अवशोषित होने में मदद करता है। इससे लाल रक्त कोशिकाएं बनने में मदद मिलती है साथ ही हीमोग्लोबिन स्तर में भी वृद्धि होती है। 

एनीमिया के लिए अनार का इस्तेमाल घर पर कैसे करें

  1. एक कप अनार का रस, दालचीनी पाउडर का एक चौथाई चम्मच और शहद के दो चम्मच मिक्स करें।
  2. अपने नाश्ते के साथ रोजाना इस मिश्रण को पियें। 

एक और विकल्प आप ले सकते हैं

  1. दिन में एक या दो बार एक गर्म दूध के ग्लास के साथ सूखे अनार बीज के पाउडर के दो चम्मच मिक्स करें।
  2. आप हर रोज खाली पेट अनार भी खा सकते हैं।

(और पढ़ें - अनार के बीज के तेल के फायदे)

काले तिल के बीज में लोहा होने की वजह से खून की कमी का इलाज करने में काफी मदद होती है। काले तिल के एक-चौथाई कप में लगभग 30 प्रतिशत लोहे का हिस्सा होता है।

एनीमिया के लिए काले तिल का इस्तेमाल घर पर कैसे करें

  1. पानी में काले तिल के बीज के दो बड़े चम्मच दो-तीन घंटे तक भिगोये रखें।
  2. अब इन बीजों को निकालें और पेस्ट बना लें।
  3. इस पेस्ट में शहद का एक बड़ा चम्मच जोड़ें और दोनों को मिला दें।
  4. इस मिश्रण को दिन में दो बार पियें।

एक और विकल्प आप ले सकते हैं

  1. दो घंटे के लिए गर्म पानी में काले तिल का एक बड़ा चम्मच भिगो दें।
  2. मिश्रण का एक तरल पेस्ट बना लें।
  3. अब इस मिश्रण को गरम दूध में मिला लें और उसमे शहद या गुड़ डालकर रोज़ाना एक बार ज़रूर पियें।

(और पढ़ें - तिल के तेल के फायदे)

खजूर लोहे का समृद्ध स्रोत हैं साथ ही इसमें विटामिन सी भी होता है जो शरीर में लोहे को अवशोषित करने में मदद करता है। खजूर खाने से शरीर में खून की कमी नहीं होती। 

एनीमिया के लिए खजूर का इस्तेमाल घर पर कैसे करें

  1. रात भर के लिए एक कप दूध में दो खजूर दाल कर रखें।
  2. अगली सुबह, भिगोये हुए खजूर को खाएं और खाली पेट दूध पी लें।

एक और विकल्प आप ले सकते हैं

  1. सुबह खाली गर्म दूध के साथ सूखे खजूर खा सकते हैं।
  2. इस तरह दिन में दो बार ज़रूर खाएं।

(और पढ़ें - गर्भावस्था में खून की कमी का इलाज)

सेब में लोहा सहित कई पोषक तत्व होते हैं और सेब खाने से खून की कमी को दूर करने में मदद मिलती है।

एनीमिया के लिए सेब का इस्तेमाल घर पर कैसे करें

  1. कम से कम एक सेब रोजाना ज़रूर खाएं यदि संभव हो तो हरे सेब का भी विकल्प चुनें और उन्हें छिलकों के साथ खाएं।
  2. आप ताजे सेब का रस और चुकंदर का रस और थोड़ा सा शहद बराबर मात्रा में मिलाकर पिएँ। इस रस को दिन में दो बार ज़रूर पियें।

(और पढ़ें - सेब के सिरके के फायदे)

केले में लोहा उच्च मात्रा में पाया जाता है जिससे शरीर में खून की कमी पूरी होती है। केला हीमोग्लोबिन और कई अन्य एंजाइमों के उत्पादन को बढ़ावा देता है जो लाल रक्त कोशिकाओं को बढ़ाने के लिए बहुत आवश्यक हैं। इसके अलावा यह मैग्नीशियम का एक अच्छा स्रोत है जो हीमोग्लोबिन को बढ़ाने में मदद करता है।

एनीमिया के लिए केले का इस्तेमाल घर पर कैसे करें

  1. केले के साथ एक चम्मच शहद को खाएं।
  2. दिन में दो बार इसे ज़रूर लें। 

एक और विकल्प आप ले सकते हैं

  1. केले का पेस्ट बनाएं और उसमे आंवले का रस मिलाकर पियें।
  2. इसे रोज़ दिन में दो या तीन बार ज़रूर पियें।

(और पढ़ें - केले के छिलके के फायदे)

मुनक्का में लोहे और विटामिन सी की उच्च मात्रा पायी जाती है। इनकी मदद से खून की कमी का उपचार किया जाता है। विटामिन सी शरीर में लोहे की अवशोषित करने की क्षमता को बढ़ाता है साथ ही लाल रक्त कोशिकाओं और हीमोग्लोबिन को बढ़ाने में मदद करता है।

एनीमिया के लिए किशमिश का इस्तेमाल घर पर कैसे करें

  1. रात में 10 से 12 सूखे काले किशमिश पानी में भिगोकर रख दें।
  2. अगली सुबह, उन्हें पानी से निकाल लें और बीज को भी किशमिश से अलग कर दें।
  3. अपने नाश्ता से पहले रोजाना उन्हें खाएं।
  4. कुछ हफ्तों के लिए इस उपाय का पालन करें।

(और पढ़ें - मुनक्का खाने के फायदे)

मेथी में उच्च मात्रा में लोहा पाया जाता है। ये आपके रक्त में लोहे को बनाए रखने में मदद करती है। यह नए लाल रक्त कोशिका को बढ़ाने में भी सहायता करती है। मेथी के दोनों पत्ते और बीज का उपयोग खून की कमी के उपचार के लिए किया जाता है।

एनीमिया के लिए मेथी का इस्तेमाल घर पर कैसे करें

  1. एक कप पके चावलों में दो चम्मच मेथी के बीज डाल लें।
  2. उसमे कुछ नमक मिलाएं और कम से कम दो से तीन सप्ताह तक रोजाना इसे खाएं।

एक और विकल्प आप ले सकते हैं

  1. आप अपना खाना पकाते समय मेथी के पत्तों का भी उपयोग कर सकते हैं।
  2. खासकर सूप या सलाद में।

जिन्हें एनीमिया है खासकर ये घरेलु उपचार लाल रक्त कोशिकाओं की संख्या में बढ़ोतरी करने के लिए बहुत ही लाभदायक है।

(और पढ़ें - मेथी के तेल के फायदे)

एनीमिया (खून की कमी) से बचने के लिए टिप्स कुछ इस प्रकार हैं - 

  1. लोहा और विटामिन सी और बी 12 के खाद्य पदार्थों को खाएं।
  2. रक्त परिसंचरण में सुधार के लिए रोजाना दो बार ठंडे पानी से नहाएं।
  3. खाना हमेशा लोहे के बर्तन में बनाएं।
  4. इससे आपके शरीर में लोहे की मात्रा बढ़ेगी।
  5. रोज़ सुबह 10 मिनट धूप के सामने खड़े हो।
  6. अपने आहार में मसूर और साबुत अनाज शामिल करें।
  7. अपने आहार में अधिक ताजे फल और सब्जियां शामिल करें।
  8. भोजन के साथ चाय, कॉफी या कोक न पिएँ।
  9. नियमित रूप से व्यायाम करें।

(और पढ़ें - व्यायाम करने का सही समय)

और पढ़ें ...