स्पाइडर वेंस - Spider Veins in Hindi

Dr. Nabi Darya Vali (AIIMS)MBBS

March 24, 2022

March 24, 2022

स्पाइडर वेंस
स्पाइडर वेंस

शरीर के सभी अंगों के तरह नसों का सही रहना भी जरूरी है. अगर इन नसों में असमान्यता नजर आने लगे, तो इससे कुछ शारीरिक समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं. ऐसे ही एक परेशानी स्पाइडर वेंस भी है. यह शरीर की छोटी नस होती है, जिसका रंग सामान्य से अलग नजर आने लगता है.

इसके पीछे की वजह एल्कोहोलिज्म, एजिंग, स्क्लेरोडर्मा व सिस्टमिक ल्यूपस एरिथेमेटोसस माने जाते हैं. इस स्थिति में दर्द महसूस होना, त्वचा पर लाल निशान दिखना और मल में रक्त आना जैसे कई लक्षण दिखाई देते हैं. स्पाइडर वेंस के इलाज के लिए लेजर थेरेपी, माइक्रोफ्लेबेक्टोमी और थर्मोकोएग्यूलेशन को अपना सकते हैं.

आज इस लेख में स्पाइडर वेंस क्या है, इसके कारण, लक्षण व इलाज के बारे में विस्तार से जानेंगे -

(और पढ़ें - वैरिकोज वेन्स)

स्पाइडर वेंस क्या है? - What is Spider Veins in Hindi

यह नसों से संबंधित परेशानी है. यह दिक्कत नस के क्षतिग्रस्त होने पर होती है. इसके कारण नस नीली, बैंगनी या लाल रंग की नजर आने लगती है. ये पतली रेखा या जाल की तरह दिखाई देती है. इन वेंन्स को थ्रेड वेन्स भी कहते हैं. यह होंठ, नाक, आंख, उंगलियों व गाल वाले भाग पर ज्यादा दिखाई देती हैं, जो व्यक्ति को असहज महसूस करवा सकती हैं. इसे ठीक करने के लिए इलाज के कुछ तरीके को अपनाया जा सकता है, जिसके बारे में आप आगे विस्तार से जानेंगे.

स्पाइडर वेंस के लक्षण - Spider Veins Symptoms in Hindi

स्पाइडर वेंस खतरनाक नहीं होती हैं, लेकिन ये दिखने में अच्छी नहीं लगती हैं. ऐसे में इनके लक्षण पहचानकर इलाज करवाना जरूरी है. स्पाइडर वेंस होने पर जो लक्षण नजर आते हैं, वो निम्न प्रकार से हैं -

(और पढ़ें - वैरिकोज वेन्स के घरेलू नुस्खे)

स्पाइडर वेंस के कारण - Spider Veins Causes in Hindi

स्पाइडर वेंस के सटीक कारण की स्पष्ट रूप से जानकारी नहीं है. फिर भी शोधकर्ताओं का मानना ​​है कि गर्भावस्था, रोसैसिया और डर्माटोमोसिटिस के कारण ये समस्या हो सकती हैं. ऐसा माना जाता है कि लंबे समय तक धूप में रहने पर भी स्पाइडर वेंस दिखाई दे सकती हैं. आइए, स्पाइडर वेंस के कारणों के बारे में विस्तार से जानते हैं -

एल्कोहोलिज्म

शराब पीने से वेसेल्स में रक्त का प्रवाह प्रभावित हो सकता है, जो लिवर से जुड़ी बीमारी का कारण बन सकता है. लिवर की समस्या होने पर भी स्पाइडर वेंस दिखाई दे सकती हैं.

प्रेगनेंसी

गर्भावस्था के दौरान वेन्यूल्स पर तेज दबाव पड़ता है, जिससे स्पाइडर वेंस नजर आने लगते हैं.

(और पढ़ें - प्रेगनेंसी में वैरिकोज वेन्स)

एजिंग

स्पाइडर वेंस का एक कारण उम्र बढ़ना भी है. दरअसल, ​उम्र बढ़ने पर रक्त वाहिकाएं कमजोर होने लगती हैं. इससे त्वचा पर स्पाइडर वेंस दिखाई दे सकते हैं.

रोसैसिया

यह त्वचा से जुड़ी समस्या है, जो चेहरे पर वेन्यूल को बढ़ाती है. इससे गालों और नाक वाले भाग में स्पाइडर वेंस दिखाई दे सकते हैं.

(और पढ़ें - वैरिकोज वेन्स की होम्योपैथिक दवा)

कॉर्टिकोस्टेरॉइड

यह एक तरह का स्टेरॉयड हार्मोन होता है. इस स्टेरॉयड के अधिक इस्तेमाल से त्वचा पतली व कमजोर हो सकती है. इसके चलते त्वचा पर स्पाइडर वेंस नजर आ सकते हैं.

स्क्लेरोडर्मा

स्क्लेरोडर्मा होने पर त्वचा सख्त हो जाती है और सिकुड़ने लगती है, जिससे ब्लड वेसल्स में समस्या बढ़ सकती है. इससे त्वचा पर स्पाइडर वेंस उभर सकते हैं.

(और पढ़ें - वैरिकोज वेन्स रिमूवल सर्जरी)

डर्माटोमोसिटिस

स्पाइडर वेंस के दिखाई देने का एक कारण डर्माटोमोसिटिस भी है. इस स्थिति में स्किन और मसल्स टिश्यू में सूजन हो जाती है, जो स्पाइडर वेंस के उभरने का कारण बनती हैं.

सिस्टमिक ल्यूपस एरिथेमेटोसस

यह एक ऑटोइम्यून समस्या है. जब शरीर का इम्यूस सिस्टम खुद के टिश्यू को खराब करने लगता है, तो यह समस्या होती है. इससे सूरज के प्रकाश और अधिक तापमान के प्रति त्वचा की संवेदनशीलता बढ़ जाती है. इससे स्पाइडर वेंस दिखाई देने लग सकते हैं.

(और पढ़ें - नसों की कमजोरी)

स्पाइडर वेंस का इलाज - Spider Veins Treatment in Hindi

स्पाइडर वेंस आमतौर पर हानिकारक नहीं होते हैं. फिर भी इससे राहत पाने के लिए कुछ इलाज की प्रक्रिया को अपना सकते हैं. इनमें स्क्लेरोथेरेपी, थर्मोकोएग्यूलेशन और माइक्रोफ्लेबेक्टोमी शामिल हैं. आइए, विस्तार से जानें स्पाइडर वेंस के इलाज के बारे में -

स्क्लेरोथेरेपी

स्क्लेरोथेरेपी को रक्त वाहिका की विकृतियों के इलाज के इस्तेमाल किया जाता है. इसके लिए नस में एक केमिकल सॉल्यूशन युक्त दवाई इंजेक्ट की जाती है.

(और पढ़ें - नसों में सूजन का इलाज)

लेजर थेरेपी

स्पाइडर वेंस के इलाज में लेजर थेरेपी की भी मदद ली जा सकती है. लेजर थेरेपी हाथ से पकड़े जाने वाले डिवाइस के माध्यम से की जाती है. यह डिवाइस लेजर में फोटॉन से एनर्जी को एब्जॉर्व करके स्पाइडर वेंस को गर्म करता है. इससे स्पाइडर वेंस की स्थिति में सुधार हो सकता है. इस इलाज के दौरान हल्का दर्द महसूस हो सकता है, लेकिन इससे रिकवरी जल्दी हो जाती है.

माइक्रोफ्लेबेक्टोमी

इस इलाज की प्रक्रिया के दौरान त्वचा में चीरा या सुई से पंक्चर करके स्पाइडर वेंस को हटाया जाता है. इस इलाज के माध्यम से त्वचा पर निशान आने और हाइपरपिग्मेंटेशन की जटिलताओं से भी बचा जा सकता है.

(और पढ़ें - नसों की कमजोरी के घरेलू उपाय)

थर्मोकोएग्यूलेशन

स्पाइडर वेंस के इलाज में थर्मोकोएग्यूलेशन मेथड को भी अपनाया जा सकता है. इस दौरान हाई फ्रीक्वेंसी पल्स ट्रांसमिटेड से उत्पन्न हीट को छोटी सुई के माध्यम से नस में डाला जाता है. इससे स्पाइडर वेंस की स्थिति में सुधार हो सकता है.

सारांश – Summary

स्पाइडर वेंस का दिखाई देना कोई गंभीर समस्या नहीं है. लेकिन इससे त्वचा खराब दिखाई दे सकती है. स्पाइडर वेंस अल्कोहोलिज्म, प्रेगनेंसी और एजिंग के कारण दिखाई देती है. साथ ही इसके लक्षण में प्रभावित भाग में दर्द होना, खुजली होना और लाल निशान दिखना शामिल है. इसके अलावा, स्पाइडर वेंस के इलाज के लिए डॉक्टर स्क्लेरियोथेरेपी और माइक्रोफ्लेबेक्टोमी की प्रक्रिया अपना सकते हैं. वहीं, स्पाइडर वेंस की स्थिति में इलाज के बाद किसी तरह की परेशानी होती है, तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं.