• हिं

टिटनेस एक गंभीर इंफेक्शन है जो कि क्लोस्ट्रीडियम टेटनी नामक बैक्टीरिया के कारण होता है। इसे लॉकजॉ या ट्रिज्मस के रूप में भी जाना जाता है। यह बैक्टीरिया मिट्टी और धूल में मौजूद होते हैं। वे खुले घावों, कट और दूषित सुइयों के माध्यम से शरीर में प्रवेश करते हैं और मांसपेशियों में ऐंठन व मरोड़ के अलावा बुखार, सिरदर्द, दौरे, जबड़े में ऐंठन, नाड़ी की दर में बदलाव, ब्लड प्रेशर और अपच जैसे लक्षण पैदा कर सकते हैं।

बीजाणु ऐसी निष्क्रिय संरचनाएं होती हैं जो बैक्टीरिया को कठोर पर्यावरणीय परिस्थितियों से बचने में मदद करती हैं। टिटनेस गैर-संचारी है, जिसका अर्थ है कि यह एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में नहीं फैलता है। यह समस्या आमतौर पर उन लोगों में होती है, जिन्होंने टीका नहीं लगवाया होता है या ऐसे बूढ़े लोगों में होता है, जिनकी प्रतिरक्षा प्रणाली मजबूत नहीं है।

हालांकि, इन बैक्टीरिया की ऊष्मायन अवधि 3 से 21 दिनों के बीच हो सकती है। ऊष्मायन अवधि का मतलब बैक्टीरिया के शरीर में पहुंचने के बाद से लेकर लक्षण दिखने तक का समय होता है। अधिकांश लक्षण 14 दिनों के भीतर देखे जा सकते हैं। कुछ मामलों में और भी जल्दी लक्षण दिखाई देने लगते हैं। टिटनेस में तत्काल चिकित्सा की जरूरत पड़ती है। डॉक्टर ऐसे में मरीज को तुरंत एंटी टिटनेस शॉट देते हैं।

गंभीर मामलों में वेंटिलेटरी सपोर्ट की भी जरूरत हो सकती है। हालांकि, उपचार आमतौर पर रोगी के प्रतिरक्षण इतिहास (टीकाकरण की संक्षिप्त जानकारी) पर निर्भर करता है और इसमें घाव का सड़ना, एंटीबायोटिक ट्रीटमेंट और जटिलताओं का प्रबंधन शामिल हो सकता है।

टिटनेस पर होम्योपैथिक उपचार के प्रभावों का बहुत अधिक प्रमाण तो नहीं है। हालांकि, एकोनाइट, एनाकार्डियम, अर्निका, बेलाडोना, क्यूप्रम मेट, क्यूरैरे, जेल्सीमियम, हायोसायमस, लैकेसिस, मॉर्फिन, नक्स वोमिका, स्ट्रैमोनियम और अपस टिकट जैसे उपायों को लॉकजा और मांसपेशियों में ऐंठन के प्रबंधन में मददगार कहा जाता है।

  1. टिटनेस के लिए होम्योपैथिक दवाएं - Tetanus ki homeopathic medicine
  2. होम्योपैथी के अनुसार टिटनस रोगी के लिए आहार और जीवन शैली में बदलाव - Tetanus ke liye khan pan aur jeevan shaili me badlav
  3. टिटनस के लिए होम्योपैथिक दवाएं और उपचार कितने प्रभावी हैं - Tetanus ki homeopathic medicine kitni effective hai
  4. टिटनस के लिए होम्योपैथिक दवा के नुकसान और जोखिम - Tetanus ki homeopathic medicine ke nuksan
  5. टिटनस के होम्योपैथिक उपचार से संबंधित टिप्स - Tetanus ki homeopathic treatment se jude tips

एकोनिटम नेपेलस
सामान्य नाम :
मौंकशूद
लक्षण : मौंकशूद एक तीव्र उपाय है, जिसका उपयोग आमतौर पर लक्षणों के अचानक विकास के इलाज के लिए किया जाता है। इस उपाय द्वारा निम्नलिखित लक्षणों को भी ठीक किया जा सकता है

  • अंगों में सुन्नता और झुनझुनी
  • हाथ, पैर और चेहरे पर ठंड महसूस करना
  • जबड़े में दर्द
  • जीभ में सूजन
  • ठंडे संवेदनशील दांत
  • कंठ का सूखा होना व सिकुड़ना
  • धड़कनें तेज होना, इसमें व्यक्ति को लगता है कि उनका दिल सामान्य से अधिक धड़क रहा है
  • तेज प्यास लगना, भय, बेचैनी और चिंता

ठंडी हवाओं के संपर्क में आने, शाम, रात और प्रभावित हिस्से के बल लेटने पर लक्षण बिगड़ जाते हैं जबकि खुली हवा में इन लक्षणों में सुधार होता है।

एनाकार्डियम ओरिएंटल
सामान्य नाम :
मार्किंग नट
लक्षण : एनाकार्डियम ओरिएंटल का उपयोग मुख्य रूप से लकवा, कमजोरी और ऐंठन के इलाज के लिए किया जाता है। यह निम्नलिखित लक्षणों को प्रबंधित करने में भी मदद करता है :

  • लकवा से होने वाली कमजोरी
  • मांसपेशियों में ऐंठन
  • छाती में दबाव महसूस होना
  • जीभ में सूजन जिस कारण बोलने में दिक्कत आ सकती है
  • आंतों का निष्क्रिय या शक्तिहीन होना
  • पैल्पिटेशन (किसी गतिविधि, अधिक थकान या बीमारी की वजह से अनियमित दिल की धड़कन होना)
  • गर्दन में अकड़न

गर्म पानी से सिकाई करने पर यह लक्षण बिगड़ जाते हैं। जबकि प्रभावित हिस्से के बल लेटने या प्रभावित हिस्से को रगड़ने पर बेहतर महसूस होता है।

अर्निका मोंटाना
सामान्य नाम :
लीपर्ड बेन
लक्षण : चोट लगने और गिरने की स्थिति के बाद टिटनेस के लक्षणों के लिए लीपर्ड बेन अच्छा उपाय माना जाता है। यह निम्नलिखित लक्षणों का इलाज करने में भी मदद करता है :

  • शरीर व अंगों में ऐसा दर्द होना जैसे किसी ने मारा हो
  • चलने में परेशानी
  • आंखों की मांसपेशियों में लकवा
  • सिर में गर्माहट व शरीर में ठंडा लगना
  • ऐसा महसूस करना मानो खोपड़ी सिकुड़ रही हो
  • पूरे शरीर पर संवेदनशीलता
  • पसलियों के नीचे चुभन वाला दर्द होना

सभी लक्षण नम और ठंडे मौसम में, प्रभावित हिस्से को छूने और गतिविधि करने से खराब हो जाते हैं लेकिन जब मरीज अपने सिर को नीचा रखता या झुकाए रहता है या लेटा रहता है तो इन लक्षणों में सुधार होता है।

बेलाडोना
सामान्य नाम :
डेडली नाइटशेड
लक्षण : बेलाडोना मुख्य रूप से तंत्रिका तंत्र पर कार्य करता है। इसका उपयोग शरीर में ऐंठन, दर्द और मरोड़ के इलाज के लिए किया जाता है। इस उपाय से उपचारित अन्य लक्षण हैं :

  • नसों में दर्द (तंत्रिका दर्द) जो अचानक आता है और चला जाता है
  • ऊपरी होंठ की सूजन
  • न्यूराल्जिया के साथ-साथ चेहरे की मांसपेशियां असामान्य होना
  • जीभ में सूजन और दर्द
  • पलक में ऐंठन
  • अंगों में मरोड़ और ऐंठन
  • लंगड़ाकर चलना

सभी शिकायतें दोपहर के बाद, प्रभावित हिस्से को छूने या प्रभावित हिस्से के बल लेटने के बाद खराब हो जाती हैं। सेमी इरेक्ट पोजिशन (लेटने व बैठने के बीच वाली स्थिति) में आराम मिलता है।

क्यूप्रम मेटालिकम
सामान्य नाम :
कॉपर
लक्षण : ऐंठन, मांसपेशियों में अचानक और लयबद्ध संकुचन के उपचार में कॉपर उपयोगी है। इस उपाय द्वारा निम्नलिखित लक्षणों का भी प्रबंधन किया जाता है :

  • मुंह में झाग आने के साथ जबड़े का सिकुड़ना
  • श्वासद्वार में ऐंठन, जिसके कारण हकलेपन की समस्या हो सकती है
  • छाती में ऐंठन और कसाव
  • अंगों में मरोड़
  • जीभ में लकवा, जिसमें जीभ सांप की तरह घूमती और पीछे होती है
  • हथेलियों, पिंडलियों और तलवों में ऐंठन
  • हाथ ठंडे होना व अंगूठे में जकड़न
  • ऐंठन जिसकी शुरुआत हाथ और पैर की उंगलियों में शुरू होती है और फिर धीरे-धीरे बाकी धड़ में फैल जाती है

यह लक्षण प्रभावित हिस्से को छूने और उल्टी के बाद खराब हो जाते हैं। हालांकि, ठंडा पानी पीने और पसीना आने के बाद इन लक्षणों में सुधार होता है।

क्यूरैरे
सामान्य नाम :
एरो पॉइजन
लक्षण : इस उपाय द्वारा प्रबंधित किए जा सकने वाले लक्षणों में शामिल हैं :

  • चेहरे पर लकवा
  • जीभ और मुंह में दाईं ओर खिंचाव आ जाना
  • स्वसन तंत्र की मांसपेशियों में लकवा
  • भुजाओं में कमजोरी और भारीपन, उंगलियां उठाने में असमर्थता
  • पैरों में झुनझुनाहट, चलते समय पैर मुड़ जाना

यह लक्षण 2 बजे, नम मौसम, ठंड के मौसम और हवाओं में और दाहिनी ओर लेटने पर खराब हो जाते हैं।

जेल्सेमियम सेंपरविरेंस
सामान्य नाम :
येलो जैसमिन
लक्षण : यह होम्योपैथिक दवा विशेष रूप से तंत्रिका तंत्र पर कार्य करती है और इसका उपयोग विभिन्न प्रकार के लकवा के इलाज के लिए किया जाता है। इसके अलावा निम्नलिखित लक्षणों को ठीक करने में यह मददगार है :

  • आंख, छाती व गले के आसपास की मांसपेशियों में लकवा
  • मांसपेशियों में समन्वय की कमी
  • न्यूराल्जिया दर्द के साथ पलकों पर भारीपन और फड़कन होना और आंख खोलने में दिक्कत
  • चेहरे की नसों में दर्द
  • चेहरे की मांसपेशियों में सिकुड़न
  • निचले जबड़े का लटकना
  • भोजन निगलने में कठिनाई, विशेष रूप से गर्म खाद्य पदार्थ को
  • ग्लोटिस और डायाफ्राम में ऐंठन
  • बाहों और पैरों में अत्यधिक कमजोरी और कंपकंपी
  • मांसपेशियों पर नियंत्रण कम होना

सभी लक्षण धूमिल या नम मौसम में बिगड़ते हैं, इसके अलावा बीमारी के बारे में सोचने पर भी यह लक्षण बदतर होते हैं। रोगी को खुली हवा में, आगे की ओर झुकने पर और पेशाब करने के बाद बेहतर महसूस होता है।

हायोसायमस नाइजर
सामान्य नाम :
हेनबेन
लक्षण : यह उपाय तंत्रिका तंत्र पर सबसे ज्यादा असर करती है। इसके अलावा यह निम्नलिखित शिकायतों के इलाज में मदद कर सकती है :

  • टेंडन में कमजोरी
  • पलक में ऐंठन, जिसकी वजह से पलकें बंद होने लगती हैं
  • जीभ निकालने में कठिनाई जिसके कारण बोलने में दिक्कत आना
  • मुंह में झाग आने के साथ निचला जबड़ा लटक जाना

यह लक्षण रात में, खाने के बाद और लेटने के बाद खराब हो जाते हैं, लेकिन आगे की तरफ झुकने पर मरीज में सुधार होता है।

लैकेसिस म्यूटस
सामान्य नाम :
बुशमास्टर या सुरुकुकु स्नेक
लक्षण : यह उपाय दर्द और अत्यधिक नींद के उपचार में उपयोगी है। यह निम्नलिखित लक्षणों का इलाज करने में भी मदद कर सकता है जैसे :

  • आंखों की मांसपेशियों में कमजोरी, जिस कारण मरीज फोकस नहीं कर पाता
  • जबड़े में दर्द होना
  • डिप्थीरिया (एक बैक्टीरियल संक्रमण) जिसकी वजह से गले की सूजन, लकवा और तरल पदार्थ को निगलने में दिक्कत आती है
  • लेटने पर घुटन महसूस होना

यह लक्षण गर्म स्नान करने या गर्म पेय का सेवन करने, नींद के बाद, बाईं ओर लेटने और प्रभावित हिस्से पर दबाव डालने के बाद बढ़ जाता है। हालांकि, रोगी गर्म सिकाई के साथ बेहतर महसूस होता है।

होम्योपैथिक चिकित्सक दवाइयों के साथ-साथ जीवन शैली और आहार में जरूरी बदलाव करने की भी सलाह देते हैं। इसके अलावा यह भी सुनिश्चित करने की जरूरत होती है कि इन दवाइयों के सेवन के दौरान किसी ऐसी चीज का खानपान न करें, जिसकी वजह से दवाइयों का असर प्रभावित हो सकता है।

वास्तव में होम्योपैथिक उपचार को घुलनशील रूप में तैयार किया जाता है, ऐसे में मजबूत गंध और औषधीय गुण युक्त खाद्य पदार्थों के सेवन से दवाइयों के असर पर फर्क आ सकता है। इसके अलावा डॉक्टर ने कुछ निम्नलिखित सुझाव भी दिए हैं।

क्या करना चाहिए

  • पौष्टिक और स्वस्थ खाद्य पदार्थ खाएं जो उपचार के अनुकूल हों।
  • स्वच्छ रहें और आसपास के वातावरण को साफ रखें।
  • अपनी दिनचर्या में शारीरिक व्यायाम को शामिल करें।
  • व्यक्तिगत स्वच्छता को बनाए रखें।

क्या नहीं करना चाहिए

  • उन खाद्य पदार्थों और पेय पदार्थों का सेवन न करें जो अपने औषधीय गुणों के लिए जाने जाते हैं।
  • कैफीनयुक्त पेय न पिएं।
  • ऐसे इत्र का प्रयोग न करें, जिनमें तेज गंध हो।
  • क्रोध और शोक जैसी अत्यधिक भावनाओं से बचें।
  • नम और अशुद्ध कमरों में रहने से बचें।
  • अधिक नमक, चीनी और मसालों सहित सभी खाद्य पदार्थों से बचें

अब तक कोई ऐसा वैज्ञानिक अध्ययन नहीं हुआ है, जिससे यह पता चले कि होम्योपैथिक उपचार टिटनस के उपचार में कितने प्रभावी हैं।

होम्योपैथी उपचार एक ऐसा ट्रीटमेंट है, जिसमें किसी व्यक्ति के शारीरिक, मानसिक और बीमारी के लक्षणों के आधार पर दवाइयां निर्धारित की जाती हैं। यह न सिर्फ बीमारी के लक्षणों में सुधार करता है बल्कि समग्र स्वास्थ को भी अच्छा करता है।

होम्योपैथी में ऐसे कई तरह के उपचार मौजूद हैं जो अनैच्छिक मांसपेशियों के ऐंठन और टिटनेस रोगियों में इंफेक्शन फैलाने वाले बैक्टीरिया को ठीक करने में सहायक हैं।

हालांकि, टिटनस एक गंभीर संक्रमण है, जिसे तत्काल चिकित्सा की आवश्यकता होती है। ध्यान रहे, होम्योपैथी इलाज करने से पहले डॉक्टर से सलाह लेना न भूलें।

होम्योपैथिक उपचार मूल रूप से प्राकृतिक उत्पादों (जड़ी-बूटियों, खनिजों और पशु उत्पादों) से बनाए जाते हैं। चूंकि, यह घुलनशील रूप में होते हैं, इसलिए इनका कोई साइड इफेक्ट नहीं होता है लेकिन औषधीय गुणों वाले खाद्य पदार्थों के सेवन से इनका असर कम हो सकता है।

होम्योपैथिक उपचार को ज्यादातर सुरक्षित और प्रभावी माना जाता है, लेकिन उन्हें लेने से पहले एक पंजीकृत होम्योपैथिक चिकित्सक से परामर्श करना सबसे अच्छा है।

टिटनस एक गैर-संचारी संक्रमण है जो क्लोस्ट्रीडियम टेटानी नामक बैक्टीरिया के कारण होता है। इन जीवाणुओं के बीजाणु हर जगह मौजूद हैं, जिनमें धूल, मिट्टी और खाद शामिल हैं। ये बीजाणु चोट के माध्यम से शरीर में प्रवेश करते हैं और बैक्टीरिया का निर्माण करते हैं। इस समस्या में मांसपेशियों की ऐंठन और मरोड़ जैसे लक्षण दिखाई देते हैं।

टिटनस एक आपातकालीन स्थिति है, जिसके लिए एंटी टेटनस शॉट की तत्काल आवश्यकता होती है। होम्योपैथिक दवाएं मांसपेशियों की ऐंठन को कम करने और मांसपेशियों के मूवमेंट को बहाल करने में प्रभावी हैं। हालांकि, विश्वसनीय वैज्ञानिक सबूतों की कमी है, इसलिए टिटनस के लिए होम्योपैथिक दवाओं की दक्षता के बारे में अधिक जानने के लिए डॉक्टर से बात करना सबसे अच्छा है।

संदर्भ

  1. Bae C, Bourget D. Tetanus. [Updated 2019 Feb 20]. In: StatPearls [Internet]. Treasure Island (FL): StatPearls Publishing; 2019 Jan-.
  2. Center for Disease Control and Prevention [internet], Atlanta (GA): US Department of Health and Human Services; About Tetanus
  3. The European Comittee for Homeopathy. Benefits of Homeopathy. Belgium; [Internet]
  4. Wenda Brewster O’Reilly. Organon of the Medical art by Wenda Brewster O’Reilly . B jain; New Delhi
  5. Catherine Gaucher. The role of homoeopathy in the treatment of tetanus. Volume 84, Issue 3, July 1995, Pages 149-155
  6. William Boericke. Homoeopathic Materia Medica. Kessinger Publishing: Médi-T 1999, Volume 1

सम्बंधित लेख

cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ