myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

गर्भावस्था के दौरान और बाद में आपके शरीर में कई सारे बदलाव आते हैं। प्रसव के बाद आपका शरीर स्वयं को फिट और सक्रिय करने की कोशिश करने लगता है, और आपको इस दौरान बच्चे को सँभालने के साथ साथ थोड़ी शारीरिक परेशानियों का भी अनुभव हो सकता है।

(और पढ़ें - गर्भावस्था में पेट दर्द)

डिलीवरी के बाद पीठ के निचले हिस्से या कमर में दर्द होना एक आम शिकायत है। इस दौरान पीठ में दर्द होने के लिए कई कारक ज़िम्मेदार होते हैं, जिनका वर्णन इस लेख में किया गया है।

(और पढ़ें - डिलीवरी के बाद की समस्याओं के उपाय)

  1. डिलीवरी के बाद पीठ दर्द कितने समय तक रहता है - Postpartum backache duration in Hindi
  2. डिलीवरी के बाद पीठ दर्द होने के कारण - Postpartum back pain cause in Hindi
  3. प्रसव के बाद पीठ दर्द से निजात पाने के उपाय - Tips to get rid of back pain after delivery in Hindi
  4. डिलीवरी के बाद पीठ और कमर दर्द के डॉक्टर

डिलीवरी के बाद पीठ में थोड़ा दर्द होना आम बात है और यह भी आमतौर पर बाकी समस्याओं की तरह कुछ महीनों में ठीक हो जाता है। हालांकि कुछ महिलाओं को काफी अधिक समय तक इस दर्द का अनुभव होता है।

(और पढ़ें - कमर दर्द के घरेलू उपाय और गर्भावस्था में दर्द)

गर्भावस्था से पहले या गर्भावस्था के दौरान जिन महिलाओं को पीठ दर्द की शिकायत होती है उनमें गर्भावस्था के बाद भी लगातार पीठ में दर्द होने की संभावना होती है। खासकर यदि उनके लगातार गंभीर दर्द होता हो या गर्भावस्था के दौरान होना शुरू हुआ हो। अधिक वजन होने से भी पीठ दर्द होता है।

(और पढ़ें - लड़का पैदा करने के उपाय और गोरा बच्चा पैदा करने के उपाय)

गर्भावस्था के दौरान, आपका बढ़ता हुआ गर्भाशय खिंचाव के कारण आपके पेट की मांसपेशियों को कमज़ोर बनाता है जिस वजह से आपके उठने बैठने की मुद्राओं में बदलाव आ जाता है। इसके अलावा, अतिरिक्त वजन का अर्थ है आपकी मांसपेशियों के लिए अधिक काम और आपके जोड़ों पर तनाव बढ़ना।

(और पढ़ें - गर्भावस्था में कमर दर्द)

गर्भावस्था में हार्मोनल परिवर्तन, जोड़ों और लिगामेंट्स (Ligaments - रेशेदार और लचीले ऊतक जो दो हड्डियों को आपस में जोड़ते हैं) जो रीढ़ की हड्डी को पैल्विक हड्डियों से जोड़ते हैं, को कमज़ोर कर सकते हैं। जिससे आप कम स्थिर महसूस करती हैं और जब आप चलती हैं, खड़ी होती हैं या लंबे समय तक बैठती हैं या फिर बिस्तर पर करवट लेते समय, चीजों को उठाते समय आपकी पीठ में दर्द होता है।

(और पढ़ें - डिलीवरी के बाद सेक्स और sex kaise kare)

ये परिवर्तन रातोंरात दूर नहीं होते हैं। इसलिए जब तक आपकी मांसपेशियों को उनकी ताकत और टोन नहीं मिल जाती तब तक आपकी पीठ में दर्द हो सकता है और आपके जोड़ सुस्त हो सकते हैं।

लंबे समय तक प्रसव क्रिया होने के कारण भी पीठ में दर्द हो सकता है। असल में प्रसव के दौरान आप उन मांसपेशियों का इस्तेमाल करती हैं जिनका आमतौर पर कोई उपयोग नहीं किया जाता है। यदि आपका एपिड्यूरल हुआ है, तो आपको डिलीवरी के कुछ दिनों बाद असहजता हो सकती  है, लेकिन इससे पीठ दर्द नहीं होता है।

(और पढ़ें - प्रसव के लक्षण और नॉर्मल डिलीवरी कैसे होती है)

इसके अलावा नई माताएं, स्तनपान के समय सही मुद्रा के प्रति जागरूक न होकर, अनजाने में अपनी पीठ की समस्याओं को बदतर बनती हैं। उदाहरण के लिए, जब आप स्तनपान करना सीख रही होती हैं तो आप अपने बच्चे को सही तरीके से गोद में लेने पर ध्यान केंद्रित करती हैं बजाय इसके कि आप अपनी गर्दन और ऊपरी पीठ की मासपेशियां सही स्थिति में हैं या नहीं।

एक नवजात शिशु की 24/7 ध्यान रखने की प्रक्रिया पूरी तरह से थकावट और तनाव भरी हो सकती है, जिस कारण पीठ दर्द सहित अन्य दर्दों से भी उबरना मुश्किल हो सकता है।

(और पढ़ें - कमर दर्द के लिए योगासन)

डिलीवरी के बाद पीठ दर्द की गंभीरता और तेज़ी हर व्यक्ति में अलग होती है, और किसी में हल्का तो किसी में गंभीर हो सकता है। हल्के से मध्यम पीठ दर्द को ठीक करने का सबसे अच्छा तरीका यह है कि जब तक दर्द बेहतर न हो जाएं तब तक प्रतीक्षा करें। अपने शरीर को कुछ व्यायाम और अन्य गतिविधियों द्वारा खुद ठीक होने दें। इस प्रकार बहुत जल्द, आप फिट और ठीक हो जाएंगी। आप निचले पीठ दर्द में राहत के लिए निम्न सरल उपायों का भी प्रयास कर सकती हैं:

  1. अपने वजन की जांच करती रहें क्योंकि प्रसव के पहले और बाद में पीठ दर्द पैदा करने में मोटापे की बहुत बड़ी भूमिका होती है। (और पढ़ें - डिलीवरी के बाद वजन कम करने के उपाय)
  2. प्रसव के बाद एक्सरसाइज ज़रूर करें। मध्यम शारीरिक गतिविधियां, तनावपूर्ण मांसपेशियों और लिगामेंट्स के स्वास्थ्य में सुधार करती हैं और उनमें लचीलापन वापस लाने में मदद करती हैं। (और पढ़ें - डिलीवरी के बाद के लिए योगासन)
  3. प्रसव के बाद पर्याप्त आराम करें। इस समय परिवारीजनों या दोस्तों की अतिरिक्त सहायता लें।
  4. गर्भावस्था के दौरान और बाद में भारी चीजों को न उठाएं। अपने शरीर को ठीक होने के लिए समय दें। (और पढ़ें - प्रसव के बाद मां का आहार)
  5. बैठते समय एक उचित मुद्रा में बैठें। विशेष रूप से स्तनपान कराते समय, जहां महिलाएं अपने बच्चे की और स्वयं झुक जाती हैं बजाय इसके कि वे बच्चे को अपने पास ले आएं और स्तनपान के दौरान सीधे बैठें।
  6. आरामदायक जूते पहनें। डिलीवरी के बाद कम से कम कुछ महीनों के लिए हाई हील्स की जगह फ्लैट चप्पलों का उपयोग करें।
  7. बच्चे को एक कूल्हे पर गोद लेने की कोशिश न करें। यात्रा करते समय, अपने बच्चे को ले जाने के लिए फ्रंट पैकेट (बैग जिसमें बच्चे को आगे उसमें फिट कर लिया जाता है) का उपयोग करें।
  8. बच्चे को लेने के लिए अपनी बाहों में खिंचाव न होने दें। इसके बजाय, बच्चे के लिए जितनी करीब हो सके धीरे से उठाएं।
  9. हमेशा आरामदायक स्थिति में सोएं। सपोर्ट के लिए तकिए का उपयोग करें। (और पढ़ें - प्रसव के बाद पेट कम करने के उपाय)
  10. योग और अन्य एक्सरसाइज करें और पीठ के निचले हिस्से को ठीक करने पर ध्यान दें।

उपरोक्त सरल उपायों का पालन करने से आपको प्रसव के बाद पीठ दर्द से आसानी से निपटने में मदद मिलेगी।

(और पढ़ें - स्तनपान के लाभ)

Dr. Giri Prasath

Dr. Giri Prasath

सामान्य चिकित्सा

Dr. Piyush Gupta

Dr. Piyush Gupta

सामान्य चिकित्सा

Dr. Sumesh Nair

Dr. Sumesh Nair

सामान्य चिकित्सा

और पढ़ें ...