myUpchar Call

स्पर्म यानी शुक्राणु पुरुषों में प्रजनन (फर्टिलिटी) सेल्स होते हैं. आपको बता दें कि अंडकोष शुक्राणु पैदा करते हैं. जब कोई पुरुष चरम सुख के दौरान स्खलन करता है, तो वीर्य निकलता है. इस वीर्य में लगभग 300 मिलियन शुक्राणु कोशिकाएं (स्पर्म सेल्स) होती हैं. लिंग से वीर्य तब निकलता है, जब आप संभोग या फिर हस्तमैथुन करते हैं.

यहां दिए लिंक पर क्लिक करें और शुक्राणु की कमी का इलाज विस्तार से जानें.

महिला को गर्भवती करने के लिए पुरुषों में शुक्राणुओं की गुणवत्ता का बेहतर होना जरूरी होता है, लेकिन कई बार कुछ मेडिकल कंडीशन या फिर बढ़ती उम्र की वजह से शुक्राणुओं की गुणवत्ता कम होने लगती है. इसकी वजह से पुरुष अपनी महिला साथी को गर्भवती करने में सक्षम नहीं हो पाते हैं. ऐसे में आजकल कई पुरुष बायोलॉजिकल बच्चा पैदा करने का विकल्प चुन रहे हैं. इसके लिए पुरुषों को अपने स्पर्म को बैंक में स्टोर करवाने की जरूरत पड़ती है. फिर जब कोई पुरुष पिता बनना चाहता है, तो इन स्पर्म का उपयोग किया जाता है. इस पूरी प्रक्रिया को स्पर्म बैंकिंग के रूप में जाना जाता है. 

आज इस लेख में आप स्पर्म बैंकिंग की प्रक्रिया, फायदे और रिस्क के बारे में विस्तार से जानेंगे -

(और पढ़ें - स्पर्म और सीमेन में अंतर)

  1. स्पर्म बैंकिंग क्या है?
  2. स्पर्म बैंकिंग कब करें?
  3. स्पर्म बैंकिंग की प्रक्रिया
  4. स्पर्म बैंकिंग के फायदे
  5. स्पर्म बैंकिंग के रिस्क
  6. स्पर्म बैंकिंग की कीमत
  7. सारांश
यौन रोग के डॉक्टर

स्पर्म बैंकिंग एक प्रोसेस है. इसमें स्पर्म यानी शुक्राणु कोशिकाओं को शुक्राणु बैंक में जमा, फ्रिज और फिर स्टोर किया जाता है. आपको आसान भाषा में बताए, तो स्पर्म बैंकिंग वह होता है, जिसमें आपके स्पर्म सेल को जमा, फ्रिज और स्टोर करना होता है. आजकल बहुत से लोग भविष्य में बायोलॉजिकल शिशु को पैदा करने के लिए अपने शुक्राणुओं को सुरक्षित रखते हैं. स्पर्म बैंकिंग सुरक्षित है और आपकी प्रजनन क्षमता को सालों तक बनाए रखने में मदद करता है.

(और पढ़ें - स्पर्म बनने में कितना समय लगता है)

myUpchar के डॉक्टरों ने अपने कई वर्षों की शोध के बाद आयुर्वेद की 100% असली और शुद्ध जड़ी-बूटियों का उपयोग करके myUpchar Ayurveda Urjas T-Boost Capsule बनाया है। इस आयुर्वेदिक दवा को हमारे डॉक्टरों ने कई लाख लोगों को शुक्राणु की कमी, मांसपेशियों की कमजोरी व टेस्टोस्टेरोन की कमी जैसी समस्या के लिए सुझाया है, जिससे उनको अच्छे प्रभाव देखने को मिले हैं।
testosterone booster
₹719  ₹799  10% छूट
खरीदें

अगर किसी को कोई गंभीर बीमारी है, तो इलाज शुरू करने से पहले अपने स्पर्म को जल्दी से जमा करा लेना सही रहता है.

अगर किसी को कैंसर जैसी गंभीर बीमारी है, तो उसे कीमोथेरेपी या रेडिएशन ट्रीटमेंट लेना पड़ सकता है. ऐसे में कीमोथेरेपी या रेडिएशन ट्रीटमेंट लेने से 1 सप्ताह पहले अपने स्पर्म को सुरक्षित कर लेना चाहिए यानी 1 सप्ताह पहले स्पर्म बैंक में जमा करवा सकते हैं. दरअसल, कीमोथेरेपी और रेडिएशन थेरेपी विकासशील शुक्राणुओं को नुकसान पहुंचा सकती है.

अधिक उम्र में शुक्राणुओं की गुणवत्ता और गतिशीलता कम होने लगती है. ऐसे में अक्सर पुरुषों के लिए अपनी महिला साथी को गर्भवती कर पाना काफी मुश्किल हो जाता है. अगर आप अभी पिता बनने के लिए तैयार नहीं हैं और अधिक उम्र में सोचना चाहते हैं, तो इसके लिए अपने शुक्राणुओं को अभी से स्पर्म बैंक में स्टोर करवा सकते हैं.

हेल्थ एक्सपर्ट्स की मानें तो युवावस्था के बाद शुक्राणुओं को स्टोर करना सबसे अच्छा विकल्प हो सकता है. खासकर, अगर कोई मेडिकल कंडीशन है या फिर कोई जल्दी बच्चा नहीं चाहता है.

यहां दिए लिंक पर क्लिक करें और नपुंसकता का इलाज विस्तार से जानें.

स्पर्म बैंकिंग का लंबा प्रोसेस भी हो सकता है. स्पर्म बैंकिंग के लिए सबसे पहले फर्टिलिटी क्लिनिक में जाने की जरूरत होती है. यहां डॉक्टर एक निजी कमरे में ले जाते हैं. इसके बाद व्यक्ति को विशेष प्रकार का कंटेनर दिया जाता है.

कंटेनर के अलावा कुछ फर्टिलिटी क्लीनिक कलेक्शन कंडोम दे सकते हैं. यह कंडोम ओटीसी कंडोम से बिल्कुल अलग होता है, क्योंकि ओटीसी कंडोम शुक्राणु को नुकसान पहुंचा सकता है.

जब स्वास्थ्य प्रदाता कंटेनर दे देंगे, तो इसके बाद एक कमरे में जाना होता है. फिर हस्तमैथुन के जरिए कंटेनर में वीर्य को इकट्ठा करना होता है.

कई लोग क्लीनिक में हस्तमैथुन करना पसंद नहीं करते हैं. ऐसे में वे डॉक्टर की सलाह पर घर में शुक्राणु बैंकिंग किट का उपयोग कर सकते हैं. इसमें घर में स्पर्म का नमूना लेना होता है और कुछ घंटों के अंदर ही अपने स्पर्म को फर्टिलिटी क्लिनिक में देना होता है.

(और पढ़ें - शुक्राणु की कमी)

myUpchar के डॉक्टरों ने अपने कई वर्षों की शोध के बाद आयुर्वेद की 100% असली और शुद्ध जड़ी-बूटियों का उपयोग करके myUpchar Ayurveda Urjas Capsule बनाया है। इस आयुर्वेदिक दवा को हमारे डॉक्टरों ने कई लाख लोगों को सेक्स समस्याओं के लिए सुझाया है, जिससे उनको अच्छे प्रभाव देखने को मिले हैं।
Long time capsule
₹719  ₹799  10% छूट
खरीदें

शुक्राणु या स्पर्म को बैंकिंग के कई फायदे हो सकते हैं -

प्रजनन क्षमता का बढ़ना

महिलाओं के साथ ही पुरुषों को भी इनफर्टिलिटी का सामना करना पड़ सकता है. मेडिकल कंडीशन, तनाव, अनहेल्दी डाइट और पर्यावरणीय कारक पुरुष बांझपन का कारण बन सकते हैं. ऐसे में अपने शुक्राणुओं को स्वस्थ और सुरक्षित रखने के लिए आप स्पर्म बैंकिंग कर सकते हैं. शुक्राणुओं को सुरक्षित रखने से पुरुष प्रजनन क्षमता को बनाए रखने में काफी मदद मिलती है. इससे आप अधिक उम्र और किसी भी परिस्थिति में बायोलॉजिकल बच्चे को पैदा करने का विकल्प ले सकते हैं.

यहां दिए लिंक पर क्लिक करके शीघ्रपनत का इलाज विस्तार से जानें.

सुरक्षित स्वास्थ्य

अगर स्टोर किए हुए स्पर्म के विकल्प से कोई बच्चा जन्म लेता है, तो उसे जन्म के समय मौजूद स्थितियों का जोखिम कम हो सकता है. आपको बता दें कि क्रायोप्रिजर्वड स्पर्म से पैदा होने वाले बच्चे उतने ही स्वस्थ होते हैं, जितने की संभोग के माध्यम से गर्भधारण करने वाले बच्चे. 

(और पढ़ें - शुक्राणु बढ़ाने के लिए क्या खाएं)

लंबी उम्र

एक उम्र के बाद स्पर्म की गुणवत्ता कम होने लगती है. वहीं, अगर कम उम्र में स्पर्म बैंकिंग सही तरीके से की जाए, तो स्पर्म के नमूनों की गुणवत्ता कई वर्षों तक खराब नहीं होती है. स्पर्म की क्वालिटी को सही बनाए रखने के लिए डीप फ्रीजिंग जरूरी होती है. 

(और पढ़ें - शुक्राणु बढ़ाने के घरेलू उपाय)

एक तरफ स्पर्म बैंकिंग के कई लाभ होते हैं. वहीं, दूसरी तरफ स्पर्म बैंकिंग के कुछ रिस्क या जटिलताएं भी हो सकती हैं. इसमें इजेकुलेशन फेलियर शामिल है. दरअसल, कई बार जब कोई व्यक्ति स्पर्म बैंकिंग करने के बारे में सोचता है, तो उसके लिए स्पर्म की सही गुणवत्ता का नमूना एकत्र करना मुश्किल या असंभव हो सकता है. जब किसी व्यक्ति को स्तंभन दोष यानी ईडी, स्खलन में देरी और शीघ्रपतन जैसी समस्याएं होती है, तो उसे हस्तमैथुन के माध्यम से गुणवत्ता वाले वीर्य का नमूना एकत्र करना मुश्किल हो सकता है.

(और पढ़ें - स्पर्म डोनेशन क्या है)

एक स्पर्म के नमूने को क्रायोप्रिजर्व करने की कीमत काफी अधिक होती है. यह कीमत आमतौर पर लगभग 81 हजार रुपये हो सकती है. साथ ही एक स्पर्म के नमूने को हर साल स्टोर करने में लगभग 25 हजार रुपये लग सकते हैं. इसके अलावा, प्रत्येक देश और शहर के अनुसार स्पर्म बैंकिंग की कीमत अलग-अलग हो सकती है.

कामेच्छा में कमी का इलाज जानने के लिए कृपया यहां दिए लिंक पर क्लिक करें.

myUpchar के डॉक्टरों ने अपने कई वर्षों की शोध के बाद आयुर्वेद की 100% असली और शुद्ध जड़ी-बूटियों का उपयोग करके myUpchar Ayurveda Urjas Energy & Power Capsule बनाया है। इस आयुर्वेदिक दवा को हमारे डॉक्टरों ने कई लाख लोगों को शारीरिक व यौन कमजोरी और थकान जैसी समस्या के लिए सुझाया है, जिससे उनको अच्छे प्रभाव देखने को मिले हैं।
Power capsule for men
₹719  ₹799  10% छूट
खरीदें

शुक्राणु बैंकिंग एक कंप्लीट प्रक्रिया है, जिसमें पुरुष अपने शुक्राणुओं को जमा, फ्रिज और स्टोर कर सकते हैं. शुक्राणु बैंकिंग की मदद से कोई पुरुष भविष्य में बायोलॉजिकल पिता बन सकता है, लेकिन यह प्रोसेस काफी महंगा होता है. वहीं, शुक्राणुओं को स्वस्थ रखने के लिए हर साल अलग से खर्चा आता है. अगर आप भी शुक्राणु बैंकिंग करना चाहते हैं, तो पहले डॉक्टर से कंसल्ट कर सकते हैं.

(और पढ़ें - पुरुष किस उम्र तक संतान पैदा कर सकता है)

Dr. Zeeshan Khan

Dr. Zeeshan Khan

सेक्सोलोजी
9 वर्षों का अनुभव

Dr. Nizamuddin

Dr. Nizamuddin

सेक्सोलोजी
5 वर्षों का अनुभव

Dr. Tahir

Dr. Tahir

सेक्सोलोजी
20 वर्षों का अनुभव

Dr. Ajaz  Khan

Dr. Ajaz Khan

सेक्सोलोजी
13 वर्षों का अनुभव

ऐप पर पढ़ें