myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

सीडीबी (कैडमियम ब्लड) टेस्ट क्या है?

कैडमियम एक भारी धातु है जो कि आमतौर पर अन्य धातुओं जैसे जस्ता और सीसा को पिघलाने से बनता है। यह फोन की बैटरी, फर्टिलाइजर, पेंट, प्लास्टिक और सिगरेट आदि में भी पाया जाता है।

कैडमियम के संपर्क में आने पर कुछ ही समय में जठरांत्र तंत्र संबंधी समस्याओंं और फ्लू जैसे लक्षण दिखने लगते हैं। लंबे समय तक इस घातक धातु के संपर्क में रहने से किडनी, फेफड़ों और हड्डियों को गंभीर क्षति हो सकती है। हालांकि ये लक्षण तुरंत दिखाई नहीं देते। रक्त में कैडमियम के स्तर उम्र के साथ बढ़ते हैं।

ऐसे व्यवसाय जिनमें कैडमियम से संपर्क होने का खतरा अधिक होता हैं उनमें निम्न शामिल हैं:

  • बैटरी बनाने वाली फैक्ट्रियों में
  • जहां धातुएं पिघलाई जाती हैं
  • खनिज के कार्यों में
  • कपड़ों से संबंधित कार्यों में
  • आभूषण बनाने वाली फैक्ट्रियों में 
  • अपशिष्ट पदार्थों की सफाई में (सफाई कर्मचारी)
  • वेल्डिंग व सोल्डिंग आदि कार्यों में 
  • कैडमियम के मिश्रण बनाने हो
  • ऐसे पेंट या प्लास्टिक बनाना जिनमें कैडमियम हो

कैडमियम कुछ मात्रा में सिगरेट में भी होता है। हर बार जब आप धूम्रपान करते हैं, तो इस मेटल की कुछ मात्रा आपके शरीर में जाती है। जो लोग धूम्रपान करना छोड़ चुके हैं, उन्हें भी इस बीमारी का खतरा होता है क्योंकि उनका भी कैडमियम के साथ संपर्क हो चुका है।

ऐसी जगहें जहां कैडमियम युक्त फर्टिलाइजर डाले जाते हैं, वहां की संक्रमित मिट्टी में उगी सब्जियों से भी आपके शरीर का इस मेटल से संपर्क हो सकता है। कैडमियम ब्लड टेस्ट रक्त में कैडमियम की मात्रा की जांच करता है।

  1. सीडीबी (कैडमियम ब्लड) टेस्ट क्यों किया जाता है - CDB (Cadmium blood) Test Kyu Kiya Jata Hai
  2. सीडीबी टेस्ट से पहले - CDB (Cadmium blood) Test Se Pahle
  3. सीडीबी टेस्ट के दौरान - CDB (Cadmium blood) Test Ke Dauran
  4. सीडीबी टेस्ट के परिणाम का क्या मतलब है - CDB (Cadmium blood) Test Ke Parinam Ka Kya Matlab Hai

सीडीबी टेस्ट किसलिए किया जाता है?

सीडीबी टेस्ट का इस्तेमाल मुख्य रूप से कैडमियम से संपर्क की जांच करने के लिए किया जाता है।

डॉक्टर सीडीबी टेस्ट करवाने की सलाह आमतौर पर तब देते हैं, जब उन्हें व्यक्ति में कैडमियम की विषाक्तता से जुड़े लक्षण दिखाई देते हैं।

कैडमियम की विषाक्तता से होने वाले शुरुआती लक्षणों में निम्न शामिल हो सकते हैं:

बाद में निम्न लक्षण दिखाई दे सकते हैं:

कैडमियम की विषाक्तता से जठरांत्र पथ भी प्रभावित होता है जिसमें निम्न लक्षण दिखाई देते हैं:

स्तन पान कराने वाली महिला जो कि कैडमियम के संपर्क में आई हैं उनके दूध में से बच्चे में भी ये मेटल जा सकता है।

सीडीबी टेस्ट की तैयारी कैसे करें?

इस टेस्ट के लिए किसी खास तैयारी की जरूरत नहीं होती। हालांकि, लक्षणों का सही कारण जानने के लिए डॉक्टर आपसे आपकी दिनचर्या संबंधित आदतों और आपके स्वास्थ्य संबंधी पिछली स्थितियों से जुड़े सवाल पूछ सकते हैं। यदि आप किसी भी प्रकार की दवा, सप्लीमेंट्स या हर्बल उत्पाद ले रहे हैं तो इनके बारे में डॉक्टर को बताएं।

यदि आपको गैडोलीनियम या आयोडीन युक्त कंट्रास्ट पदार्थ दिया गया है, तो ये टेस्ट इसके चार दिन बाद किया जाएगा क्योंकि इन कंट्रास्ट मीडिया से टेस्ट के परिणाम प्रभावित हो सकते हैं। 

सीडीबी टेस्ट कैसे किया जाता है?
टेस्ट के लिए ब्लड सैंपल लेने की जरूरत है। ब्लड सैंपल निम्न तरीकों से लिया जाता है:

  • डॉक्टर रक्त के प्रवाह को रोकने के लिए आपकी बांह में एक इलास्टिक बैंड बांधेंगे। इससे बैंड के नीचे की नसें साफ और बड़ी नजर आएंगी, जिससे सुई लगाने में आसानी होगी। 
  • इंजेक्शन लगी जगह को अल्कोहॉल युक्त दवा से साफ किया जाएगा और नस में सुई लगाई जाएगी। कभी-कभी एक से ज्यादा सुईओं की भी जरूरत पड़ सकती है।
  • एक बार पर्याप्त रक्त मिल जाने पर बैंड हटा दिया जाता है।

टेस्ट के बाद चक्कर आना एक सामान्य स्थिति है। कुछ लोगों को इंजेक्शन लगी जगह पर हल्का नील भी पड़ सकता है। हालांकि ये सभी लक्षण जल्दी ही ठीक हो जाएंगे। यदि सुई लगने के कारण अधिक तकलीफ हो रही है या फिर इसके लक्षण कम नहीं हो रहे हैं, तो डॉक्टर से बात कर लेनी चाहिए।

सीडीबी टेस्ट के परिणाम क्या बताते हैं?

सामान्य परिणाम:
इस टेस्ट के लिए सामान्य वैल्यू 0.0-4.9 ng/mL (नैनोग्राम प्रति मिलीलीटर) है। ये वैल्यू सभी उम्र के लोगों के लिए एक जैसी ही होती हैं। जिन लोगों का कैडमियम से संपर्क व्यावसायिक कारणों से होता है उनके रक्त में कैडमियम का जमाव अक्सर सामान्य से अधिक होता है।

लेकिन फिर भी कैडमियम का रक्त में सामान्य स्तर 5.0 ng/mL से अधिक नहीं होना चाहिए।

असामान्य परिणाम:
कैडमियम के सामान्य से अधिक स्तर को असामान्य रिजल्ट माना जाता है। यदि कैडमियम का स्तर रक्त में 50 ng/mL से अधिक होता है, तो इसे कैडमियम की एक्यूट टॉक्सिसिटी कहते हैं। स्थिति की गंभीरता और अंगों को पहुंची क्षति की जांच करने के लिए डॉक्टर अन्य टेस्ट करेंगे। रिजल्ट के आधार पर डॉक्टर आपको उपाये बताएंगे, जिससे आप कैडमियम से संपर्क में आने से बच सकते हैं या उसके संपर्क को कम कर सकते हैं।

और पढ़ें ...

References

  1. National Pollutant Inventory. Department of the Environment and Energy. Australia. Cadmium and compounds
  2. Queensland Health. Government of Queensland, Australia; Environmental health
  3. Public Health England [internet]. Department of Health and Social Care. London. U.K. Cadmium, General information
  4. Agency for Toxic Substances and Disease Registry [internet]. Center for Disease Control. Atlanta. GA. U.S. Cadmium Toxicity Clinical Assessment - Laboratory Tests
  5. Moreau T, Lellouch J, Juguet B, et al. Blood cadmium levels in a general male population with special reference to smoking. Arch Environ Health.1983 May-Jun;38(3):163-7. PMID: 6870353
  6. Agency for Toxic Substances and Disease Registry [internet]. Center for Disease Control. Atlanta. GA. U.S. Cadmium Toxicity What Health Effects Are Associated With Acute High-Dose Cadmium Exposure?
ऐप पर पढ़ें