myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

इन्हिबिन ए टेस्ट क्या है?

इन्हिबिन ए एक ग्लाइकोप्रोटीन हार्मोन है, जो मासिक धर्म के दौरान ओवरी द्वारा स्रावित किया जाता है। यह महिला के शरीर में ओवरियन फॉलिकल्स विकसित होने की प्रक्रिया को नियंत्रित करता है। इन्हिबिन ए गर्भावस्था के दौरान गर्भनाल में भी बनता है और शिशु के विकास में मदद करता है।

इन्हिबिन ए टेस्ट की सलाह गर्भावस्था के शुरुआत में जन्मजात और अनुवांशिक विकारों की पहचान करने के लिए दी जाती है। यह आमतौर पर ह्यूमन कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन, अल्फा-फेटोप्रोटीन और एस्ट्रियल (एस्ट्रोजन का एक प्रकार) मार्कर टेस्ट के साथ किया जाता है, इन टेस्ट को एक साथ क्वाड्रपल टेस्ट कहा जाता है।

जिन महिलाओं का एबॉर्शन होता है उनके अनुसार सामान्य गर्भावस्था वाली महिलाओं में इन्हिबिन ए के स्तर कम होते हैं। 15वें से 18वें हफ्ते में इस हार्मोन का जमाव व उसकी स्थिरता बढ़ सकती है या फिर कम हो सकती है।

इन्हिबिन ए के बार-बार कम या ज्यादा होते स्तर ओवरी के जर्म सेल ट्यूमर की तरफ भी संकेत कर सकते हैं, यह ओवेरियन कैंसर का एक प्रकार है।

  1. इन्हिबिन ए टेस्ट क्यों किया जाता है - Inhibin A Test Kyu Kiya Jata Hai
  2. इन्हिबिन ए टेस्ट से पहले - Inhibin A Test Se Pahle
  3. इन्हिबिन ए टेस्ट के दौरान - Inhibin A Test Ke Dauran
  4. इन्हिबिन ए टेस्ट के परिणाम का क्या मतलब है - Inhibin A Test Ke Parinam Ka Kya Matlab Hai

इन्हिबिन ए टेस्ट किसलिए किया जाता है?

इन्हिबिन ए की सलाह डॉक्टर दूसरे तिमाही में क्वाड्रपल टेस्ट के एक भाग के रूप में दे सकते हैं। यह एक स्क्रीनिंग टेस्ट है, जो गर्भवती महिलाओं में इन्हिबिन ए की मात्रा की जांच करता है। इसकी मदद से शिशु में किसी भी प्रकार के जन्मजात विकार या अनुवांशिक असामान्यताओं जैसे डाउन सिंड्रोम आदि का पता लगाया जा सकता है।

यदि आपके परिवार में किसी व्यक्ति को जन्मजात विकार है, आपकी उम्र 35 से अधिक है या आपको डायबिटीज है जिसके लिए आप इंसुलिन ले रहे हैं तो आपके शिशु को जन्मजात विकार होने का अधिक खतरा हो सकता है।

यदि भ्रूण को जन्मजात विकार है तो आपके इन्हिबिन ए के स्तर सामान्य गर्भवस्था से दो गुना अधिक होंगे।

इन्हिबिन ए टेस्ट की तैयारी कैसे करें?

इस टेस्ट के लिए भूखे रहने की जरूरत नहीं होती है। यदि आपको किसी प्रकार के विशेष निर्देशों की जरूरत है तो इसके बारे में डॉक्टर आपको जानकारी दे देंगे। इसके अलावा यदि आपको कोई दवा नहीं लेनी होगी तो भी डॉक्टर आपको बता देंगे।

इन्हिबिन ए टेस्ट कैसे किया जाता है?

इस टेस्ट के लिए आपकी बांह की नस से ब्लड सैंपल ले लिया जाएगा। ब्लड सैंपल लेने के लिए निम्न प्रक्रिया का इस्तेमाल किया जाता है:

  • लैब टेक्नीशियन आपकी ऊपरी बांह पर टूनिकेट (एक इलास्टिक बैंड) बांधेंगे और आपसे मुट्ठी बनाने के लिए कहेंगे। इससे आपकी नस से रक्त के सैंपल लेने में आसानी हो जाएगी। 
  • आपकी बांह के निचले हिस्से को साफ करने के लिए वे एक एंटीसेप्टिक सोल्यूशन का प्रयोग करेंगे, जिसके बाद नस में सुई लगाकर ब्लड सैंपल ले लिया जाएगा। आपको सुई लगने पर थोड़ा चुभन जैसा दर्द हो सकता है।
  • एक बार पर्याप्त सैंपल मिल जाने पर टेक्नीशियन हाथ पर बांधी गई पट्टी को हटा देंगे और हल्का सा दबाव लगाकर ब्लीडिंग को रोक देंगे।

इस प्रक्रिया के बाद आपको सुई लगी जगह पर हल्का सा नील भी पड़ सकता है लेकिन यह जल्दी ही ठीक हो जाएगा। यदि आपको ब्लड सैंपल देने के बाद चक्कर आते हैं या बेहोशी होती है या फिर आपको सुई से डर लगता है तो इसके बारे में डॉक्टर को बता दें, ताकि डॉक्टर इन परेशानियों से राहत पाने में आपकी मदद कर सकें।

इन्हिबिन ए टेस्ट के परिणाम क्या बताते हैं?

इन्हिबिन ए की सामान्य संदर्भ वैल्यू निम्न है:

  1. मासिक धर्म का शुरुआती से अंत का फॉलिक्युलर फेज: 1.8-90.3 pg/mL
  2. चक्र के बीच में (दिन 0): 16.9-91.8 pg/mL
  3. मासिक धर्म का शुरुआती से अंत का ल्यूटल फेज: 16.1-97.5 pg/mL[8]
  4. गर्भवस्था के 15-19 हफ़्तों के बीच में: 41.4-690 pg/mL
  5. गर्भवस्था के 21-25 हफ़्तों के बीच में: 47.6-1719 pg/mL
  6. गर्भावस्था के बाद: <2-42 pg/mL[9]
  7. मेनोपॉज के बाद: <6.9 pg/mL
  8. सामान्य पुरुषों में: <2.1 pg/mL[8]

असामान्य परिणाम:

इन्हिबिन ए की बढ़ी हुई मात्रा निम्न स्थितियों के कारण हो सकती है:

इन्हिबिन ए के कम स्तर निम्न स्थितियों के कारण हो सकते हैं:

  • प्री मेच्योर या फिजियोलॉजिक ओवरियन फेलियर 
  • मेनोपॉज

इन टेस्टों के परिणाम और महिलाओं की उम्र जैसे कारकों से भी डॉक्टर को परीक्षण करने में मदद मिलती है।

यदि परिणाम पॉजिटिव आए हैं तो डॉक्टर परीक्षण की पुष्टि के लिए अन्य टेस्ट जैसे एम्नियोसेंटेसिस को करवाने के लिए कह सकते हैं। एम्नियोसेंटेसिस एक ऐसी प्रक्रिया है, जिसकी मदद से भ्रूण में किसी भी दोष की जांच करने के लिए एम्नियोटिक द्रव के सैंपल लिए जाते हैं।

और पढ़ें ...

References

  1. HealthlinkBC [internet] British Columbia; Hormone Inhibin A
  2. Wallace EM, Crossley JA, Groome NP, Aitken DA. Amniotic fluid inhibin-A in chromosomally normal and Down's syndrome pregnancies. J Endocrinol. 1997 Jan;152(1):109-12. PMID: 9014845
  3. Cancer tumor markers, Maternal screen testing. In: Pagana KD, Pagana TJ, Pagana TN. Mosby’s Laboratory And Diagnostic Tests Reference. 14th Ed. 2019. Pp:195, 612-614
  4. Wapner RJ, Dugoff L. Prental diagnosis of congenital disorders. In: Resnik R, Lockwood CJ, Moore TR, Greene MF, Copel JA, Silver RM, eds. Creasy and Resnik's Maternal-Fetal Medicine: Principles and Practice. 8th ed. Philadelphia, PA: Elsevier; 2019: chap 32.
  5. Cheng EY. Prenatal diagnosis. In: Gleason CA, Juul SE, eds. Avery's Diseases of the Newborn. 10th ed. Philadelphia, PA: Elsevier; 2018: chap 18.
  6. Driscoll DA, Simpson JL, Holzgreve W, Otano L. Genetic screening and prenatal genetic diagnosis. In: Gabbe SG, Niebyl JR, Simpson JL, et al, eds. Obstetrics: Normal and Problem Pregnancies. 7th ed. Philadelphia, PA: Elsevier; 2017:chap 10.
  7. ARUP Labs [Internet]. University of Utah. Inhibin A (Dimer)
  8. Muttukrishna S, North RA, Morris J, Schellenberg JC, Taylor RS, Asselin J, Ledger W, Groome N, Redman CW. Serum inhibin A and activin A are elevated prior to the onset of pre-eclampsia. Hum Reprod. 2000 Jul;15(7):1640-5. PMID: 10875882.
  9. Luisi S, Florio P, Reis FM and Petraglia F. Inhibins in female and male reproductive physiology: Role in gametogenesis, conception, implantation and early pregnancy. Hum Reprod Update. 2005 Mar-Apr;11(2):123-35. PMID: 15618291
  10. Petraglia F, Hartmann B, Luisi S, Florio P, Kirchengast S, Santuz M, Genazzani AD, Genazzani AR. Low levels of serum inhibin A and inhibin B in women with hypergonadotropic amenorrhea and evidence of high levels of activin A in women with hypothalamic amenorrhea. Fertil Steril. 1998 Nov;70(5):907-12. PMID: 9806574.
ऐप पर पढ़ें