myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

यूरीन माइक्रोएल्बुमिन टेस्ट यूरीन में प्रोटीन (एल्बुमिन) के स्तर को मापने के लिए किया जाता है। इस टेस्ट से किडनी में किसी तरह की बीमारी या फिर बीमारी की संभावनाओं की जांच की जाती है। यह टेस्ट उन लोगों में भी किया जाता है, जनमें किडनी संबंधी बीमारी होने का खतरा होता है। 

स्वस्थ किडनी हमारे खून से खराब पदार्थों को फिल्टर करने और एल्बुमिन जैसे प्रोटीन्स जैसे स्वस्थ कॉम्पोनेन्ट्स को रोकने का काम करती है। किडनी के डैमेज होने पर ये प्रोटीन्स आपकी किडनी में लीक हो सकते हैं। जिसके कारण शरीर के जरूरी तत्व यूरीन के रास्ते बाहर निकल जाते हैं। एल्बुमिन उन प्रोटीन्स में से एक है, जो किडनी खराब होने की स्थिति में सबसे पहले लीक होती हैं।

माइक्रोएल्बुमिन टेस्ट उन लोगों को कराने की सलाह दी जाती है, जिनमें टाइप 1 डायबिटीजटाइप 2 डायबिटीज या उच्च रक्तचाप जैसी किडनी की बीमारियां होने की संभावना अधिक होती है।

  1. माइक्रोएल्बूमिन टेस्ट क्या होता है? - What is Microalbumin Test in Hindi?
  2. माइक्रोएल्बूमिन टेस्ट क्यों किया जाता है? - What is the purpose of Microalbumin Test in Hindi?
  3. माइक्रोएल्बूमिन टेस्ट से पहले - Before Microalbumin Test in Hindi
  4. माइक्रोएल्बूमिन टेस्ट के दौरान - During Microalbumin Test in Hindi Test in Hindi
  5. माइक्रोएल्बूमिन टेस्ट के बाद - After Microalbumin Test in Hindi
  6. माइक्रोएल्बूमिन टेस्ट के क्या जोखिम होते हैं? - What are the risks of Microalbumin Test in Hindi?
  7. माइक्रोएल्बूमिन टेस्ट के परिणाम का क्या मतलब होता है? - What do the results of Microalbumin Test mean in Hindi?

यह टेस्ट आपके यूरीन में एल्बुमिन की मात्रा की जांच करने के लिए किया जाता है। इस टेस्ट से इस बात का पता लगाया जाता है कि कई डाटबिटीज ने आपकी किडनी को खराब तो नहीं कर दिया है। एल्बुमिन एक तरह का प्रोटीन होता है। यह हमारे शरीर में टीश्यूज के ग्रोथ और उनके उपचार के लिए जरूरी होती है। कई बार यह हमारे यूरीन में लीक हो जाती है जिसके कारण किडनी उतने अच्छे से काम नहीं कर पाती हैं, जिस तरह से उन्हें काम करना चाहिए। इस तरह की थोड़े मात्रा में एल्बुमिन हमारी दैनिक यूरीन टेस्ट में पकड़ में नहीं आती हैं इसलिए डॉक्टर इस टेस्ट की मदद से एल्बुमिन के स्तर में बदलाव को मांपते हैं। इस तरह से डॉक्टर हमारे शरीर में डायबिटीज और अन्य तरह की बीमारियों की जांच करते हैं। अगर किडनी में किसी तरह की बीमारी को शुरूआत में ही पता चल जाता है तो इसका इलाज आसानी से किया जा सकता है। अमेरिका में डायबिटीज किडनी को खराब करने के सबसे प्रमुख वजहों में से एक है। शुरूआती दौर में अगर किडनी डैमेज का पता चल जाए तो इसे जटील बनने की बजाय आसानी से ठीक किया जा सकता है। 12 साल से लेकर 70 साल के बीच के शुगर के मरीजों को साल में कम से कम एक बार माइक्रोएल्बुमिन टेस्ट करवा लेनी चाहिए। टाइप 1 के मरीजों को शुगर होने के 5 सालों के बाद इस जांच को करवाना शुरू कर देना चाहिए। टाइप 2 के मरीजों को इलाज पूरा हो जाने के बाद हर साल इस जांच को करवाना चाहिए। अगर आपको उच्च रक्तचाप यानी हाई ब्लड प्रेशर है तो अपने डॉक्टर से इस बारे में बात करें कि आपको कब-कब जांच करवानी चाहिए।

डॉक्टर आपकी किडनी संबंधी बीमारियों और समस्याओं को जानने के लिए यूरीन माइक्रोएल्बुमिन टेस्ट की सलाह दे सकते हैं। किडनी संबंधी बीमारियों का सही उपचार से रोकथाम किया जा सकता है। आपको माइक्रोएल्बुमिन टेस्ट कराने की जरूरत निम्न स्थितियों में पड़ सकती है: पहले तरह की डायबिटीज: अगर आपको टाइप 1 डायबिटीज है तो आपके डॉक्टर आपको माइक्रोएल्बुमिन टेस्ट कराने की सलाह दे सकते हैं। डॉक्टर आपको यह जांच बीमारी के पता लगने के बाद पांच सालों तक साल में एक बार कराने की सलाह दे सकते हैं। दूसरे तरह की डायबिटीज: अगर आपको टाइप 2 डायबिटीज है तो आपके डॉक्टर आपको माइक्रोएल्बुमिन टेस्ट कराने की सलाह दे सकते हैं। डॉक्टर आपको यह जांच बीमारी का पता लगने के तुरंत बाद साल में एक बार कराने की सलाह दे सकते हैं। उच्च रक्तचाप: अगर आपको उच्च रक्तचाप की जरूरत है तो आपके डॉक्टर आपसे नियमित तौर पर माइक्रोएल्बुनिन टेस्ट करवा सकते हैं। अपने डॉक्टर से इस बारे में बात करें कि आपको कब-कब जांच की जरूरत है। अगर आपके यूरीनरी माइक्रोएल्बुमिन का स्तर बढ़ा है तो डॉक्टर आपसे आपसे इलाज कराने और जल्दी-जल्दी जांच करवा सकते हैं।

यह एक तरह का साधारण सा यूरीन टेस्ट है। टेस्ट के पहले आप रोज की तरह खानो-पीने का काम कर सकते हैं। टेस्ट के लिए डॉक्टर आपसे अलग-अलग मात्रा में सैंपल मांग सकते हैं। यानी वो आपसे किसी भी समय का सैंपल मांग सकते हैं या फिर डॉक्टर आपसे 24 घंटे के तक के यूरीन सैंपल मांग सकते हैं। 

(और पढ़ें: बच्चों में यूरिन इन्फेक्शन के लक्षण)

इस टेस्ट को यूरीन के सैंपल से किया जाता है। इसके लिए डॉक्टर आपको एक विशेष तरह का पात्र देंगे। इस पात्र में आपसे आपका यूरीन मांगा जाएगा। आपको अपने यूरीन सैंपल को विशेष समय पर देना होगा। 

माइक्रोएल्बुमिन टेस्ट में किसी तरह के कोई जोखिम नहीं होते हैं। 

माइक्रोएल्बुमिन टेस्ट का परिणाम 24 घंटों के भीतर लीक की गई प्रोटीन की मात्रा पर निर्भर करती है। इसे मिली ग्राम (एमजी) में मापते हैं। 

सामान्यत: 

  • यह 30 मिलीग्राम से कम होता है।
  • 30 से 300 मीलीग्राम के बीच पाए जाने का मतलब है कि आपकी किडनी में कोई शुरूआती बीमारी है। 
  • 300 मीली ग्राम से अधिक मात्रा में पाए जाने का मतलब है कि आपकी किडनी में एडवांस स्तर की कोई बीमारी है। 
  • जांच के बाद रेजल्ट आने पर खुद ही निष्कर्ष मत निकालें। जांच रिपोर्ट को किसी अच्छे डॉक्टर को दिखाकर सलाह लें। डॉक्टर रेजल्ट देखकर बताएंगे कि आपको कौन सी समस्या है। अगर आपकी यूरीनरी माइक्रोएल्बुमिन का स्तर सामान्य से अधिक है तो हो सकता है कि आपको डॉक्टर आपसे दोबारा उस टेस्ट को करवाने की सलाह दें। 

यूरीनरी माइक्रोएल्बुमिन रेजल्ट के अधिक होने की कई वजहें हो सकती हैं।

माइक्रोएल्बूमिन टेस्ट की जांच का लैब टेस्ट करवाएं

MICROALBUMIN : CREATININE RATIO

20% छूट + 10% कैशबैक

MICROALBUMIN, 24 HRS URINE

20% छूट + 10% कैशबैक

MICROALBUMIN, RANDOM URINE

20% छूट + 10% कैशबैक
और पढ़ें ...

References

  1. Wilson DD. McGraw-Hill’s Manual of Laboratory & Diagnostic Tests. Microalbumin (MA, Microalbumin/Creatinine Ratio). 2008 pp 397-399.
  2. American Diabetes Association [internet]; Kidney Disease (Nephropathy)
  3. American Diabetes Association [internet]; Diabetes Symptoms
  4. University of Rochester Medical Center [Internet]. Rochester (NY): University of Rochester Medical Center; Microalbumin (Urine)
  5. Fischbach FT. A Manual of Laboratory and Diagnostic Tests. Chapter on Microalbuminuria/Albumin (24-Hour Urine). 7th Edition. 2003.