myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

हेयर ट्रांसप्लांट (बालों का प्रत्यारोपण करवाना) एक शल्य चिकित्सा यानि सर्जिकल तकनीक है जिसमें आपके सिर या शरीर के एक हिस्से से बाल लेकर सिर के बिना बाल वाले भाग पर ट्रांसप्लांट किये जाते हैं।

इस लेख में हम आपको विस्तार से बताएँगे की हेयर ट्रांसप्लांट क्या होता है। हेयर ट्रांसप्लांट करवाने की क्या प्रक्रिया है और इसके क्या फायदे और नुकसान हो सकते हैं। साथ ही साथ हम आपको यह भी बताएँगे कि हेयर ट्रांप्लांट करवाने में कितना ख़र्च आता है।

(और पढ़े - बाल झड़ने से रोकने के घरेलू उपाय)

  1. हेयर ट्रांसप्लांट क्या है - Hair transplant kya hai in hindi
  2. हेयर ट्रांसप्लांट कैसे किया जाता है - Hair transplant kaise kiya jata hai in hindi
  3. हेयर ट्रांसप्लांट के फायदे - Hair transplant ke fayde in hindi
  4. हेयर ट्रांसप्लांट के नुकसान - Hair transplant ke nuksan in hindi
  5. हेयर ट्रांसप्लांट का खर्च - Hair transplant ka kharch in hindi

हेयर ट्रांसप्लांट एक सर्जिकल प्रक्रिया है जिसमे त्वचा का विशेषज्ञ सर्जन यानी "डर्मटोलॉजिकल सर्जन" बालों को सिर के गंजे भाग पर ट्रांसप्लांट करते है। सामान्यतः सर्जन आपके सिर के पीछे के भाग से बाल लेकर उनको सामने या सिर के बीच वाले गंजे भाग में ट्रांसप्लांट करते हैं। सर्जन बालों का प्रत्यारोपण आमतौर पर लोकल एनेस्थेसिया के तहत अपने क्लिनिक में ही करते हैं।

विशेषज्ञों के अनुसार, अधिंकाश गंजेपन के मामलों का कारण अनुवांशिक होता है। बाकि बचे मामलों के अलग-अलग कारण हो सकते हैं जैसे कि आपका भोजन, तनाव, बीमारी, या आपके द्वारा ली जाने वाली दवाएँ।

(और पढ़ें - बाल झड़ने के कारण)

ट्रांसप्लांट प्रक्रिया के दो प्रकार होते हैं -

  • “स्लिट ग्राफ्ट्स” (slit grafts: स्लिट ग्राफ्ट्स में प्रति ग्राफ्ट् 4 से 10 बाल होते हैं)
  • “माइक्रो-ग्राफ्ट्स” (micro-grafts: माइक्रो ग्राफ्ट्स में प्रति ग्राफ्ट मात्र एक या दो बाल होते हैं)

"ग्राफ्ट" वास्तव में बालों की जड़ के जीवित ऊतक होते हैं जिनका ट्रांसप्लांट किया जाता है ताकि सिर के गंजे भाग में भी बाल उग सकें।

दोनों में से किस प्रक्रिया को उपयोग किया जाए, यह इस बात पर निर्भर करेगा कि आपको कितने घने बाल चाहिए।

हेयर ट्रांसप्लांट आपके लुक और आत्मविश्वास को बेहतर कर सकता है। निम्न लोगों के लिए हेयर ट्रांप्लांट करवाना एक अच्छा विकल्प हो सकता है - 

  • जिन पुरुषों के सिर में गंजेपन की समस्या है।
  • जिन महिलाओं को बालों के झड़ने की समस्या है।
  • अगर किसी के बाल जल गए या खोपड़ी में चोट लगने के कारण बाल नहीं हैं।
  • निम्न लोगों के लिए हेयर ट्रांसप्लांट एक अच्छा विकल्प नहीं हैं।
  • ऐसी महिलाएं जिनके पूरे सिर में बाल उड़ रहे हो।
  • ऐसे लोग जिनके पास ट्रांसप्लांट के लिए बाल लेने के लिए पर्याप्त बाल नहीं हैं।
  • ऐसे लोग जिनके सिर पर किसी चोट या सर्जरी के कारण केलॉइड (मोटे, रेशेदार निशान) निशान बन जाते हैं।
  • ऐसे लोग जिनके बाल कीमोथेरेपी जैसे इलाज के कारण झड़े हैं।

(और पढ़ें - बाल झड़ने से रोकने के उपाय)

आपके सिर पर स्वस्थ बाल उगाने के लिए बालों को निकलने की दो तकनीक उपलब्ध हैं। दोनों ही तकनीकों का उद्देश्य एक ही है। दोनों के लिए “लोकल एनेस्थेसिया” (local anesthesia) देने की जरुरत होती है।

जब आपका सिर सुन्न हो जाता है तो सिर के पीछे वाले भाग से स्वस्थ बालों के “फॉलिकल्स” (follicles) निकाले जाते हैं। “फॉलिकल्स” बालों के रोम होते हैं जिनके अंदर से नये बाल उगते हैं।

“फॉलिकल्स” निकालने की दो तकनीक हैं: 

  • “फॉलिक्युलर यूनिट ट्रांसप्लांटेशन” या एफयूटी (follicular unit transplantation (FUT)) -
    इस तकनीक में सिर के बाल वाले भाग से त्वचा ले कर उस स्थान पर टांके लगा दिए जाते हैं। एफयूटी तकनीक से जो बाल लिए जा रहे हैं उनमें किसी परिवर्तन की आवश्यकता नहीं पड़ती है। इस तकनीक के कारण सिर पर हमेशा के लिए एक निशान रह जाता है किन्तु यह बालों से ढ़क जाता है और दिखाई नहीं देता।
     
  • “फॉलिक्युलर यूनिट एक्सट्रैक्शन” या एफयूई (Follicular Unit Extraction (FUE)) -
    इस तकनीक में एक-एक हेयर फॉलिकल को “मोटोराइज्ड पंच” (motorized punch) तकनीक से अलग-अलग निकला जाता हैं। 

आप किस तकनीक से हेयर ट्रांसप्लांट करवाना चाहते हैं यह निर्धारित करने से पहले एक अच्छे हेयर ट्रांसप्लांट सर्जन से परामर्श ले। 

(और पढ़ें - बाल लंबे करने के उपाय)

हेयर ट्रांसप्लांट के दौरान क्या होता है?

हेयर ट्रांसप्लांट के लिए सबसे पहले आपके सिर की त्वचा को अच्छे से साफ किया जाता हैं, इसके बाद आपके सिर के उस भाग को लोकल एनेस्थेसिया देकर सुन्न कर दिया जाता हैं। अब दोनों में से किसी एक तकनीक के द्वारा बालों वाली जगह से एक हिस्सा निकला जाता हैं और वह पर टांके लगा दिए जाते हैं।

सर्जन अलग निकाले हुए भाग को मैग्नीफाइंग लेंस की मदद लेकर सर्जिकल नाइफ से छोटे-छोटे हिस्से करते हैं। जब इम्प्लांट कर दिया जाता हैं तो ये हिस्से नए बालों को प्राकृतिक रूप प्रदान करते हैं।

आपके सिर के जिस भाग में हेयर ट्रांसप्लांट किया जाना हैं वहाँ आपके सर्जन सुई से छोटे-छोटे छेद कर देते हैं। और फिर इन छेद में अलग किये हुए हिस्से वाले बालों को रखते हैं। एक उपचार सत्र में आपके सर्जन सैंकड़ो-हजारों बाल ट्रांसप्लांट कर सकते हैं।

ग्राफ्ट के बाद कुछ दिनों के लिए इस पर पट्टी कर दी जाती है। एक हेयर ट्रांसप्लांट सत्र में 4 घंटे या इससे अधिक समय लगता हैं। 

आपके सिर के टांके सर्जरी के लगभग 10 दिन बाद हटा दिए जाते हैं। आपको अपनी इच्छा अनुसार बाल पाने के लिए 3 से 4 सत्र की जरुरत हो सकती हैं। हर सत्र में कुछ महीनों का अंतर रखा जाता है ताकि पुराना इम्प्लांट पूरी तरह ठीक हो जाएं।

(और पढ़ें - बाल मजबूत करने के उपाय)

हेयर ट्रांसप्लांट के बाद क्या होता है?

आपके सिर की त्वचा थोड़ी खराब हो सकती हैं, इसलिए आपको हेयर ट्रांसप्लांट सर्जरी के बाद दवा लेने की आवश्यकता हो सकती है, जैसे कि -

  • दर्द की दवा 
  • संक्रमण के जोखीम को कम करने के लिए एंटीबायोटिक्स
  • सूजन को रोकने के लिए सूजन ठीक करने वाली दवा
  • सर्जरी के कुछ दिनों बाद ज्यादातर लोग अपने सामान्य जीवन में लौट आते हैं।

प्रत्यारोपित बालों का सर्जरी प्रक्रिया पूरी होने के दो से तीन सप्ताह बाद गिरना कोई चिंता की बात नहीं है। इनकी जगह पर नए बाल आ जाते हैं। अधिकांश लोगों को सर्जरी के छह से नौ महीने के बाद 60 प्रतिशत नए बालों का विकास दिखाई देने लगता हैं।

(और पढ़ें - गंजेपन के घरेलू उपाय)

जिन लोगों का हेयर ट्रांसप्लांट किया जाता हैं उनमें से अधिकांश लोगों के सिर में नए बाल आते रहते हैं। हालाँकि, ये घने होंगे या नहीं यह निम्न बातों पर निर्भर करता हैं - 

  • सिर की त्वचा कितनी ढीली है।
  • जहा ट्रांसप्लांट किया गया है वहाँ “फॉलिकल्स” कितने घने हैं।
  • जिन बालों का ट्रांसप्लांट किया गया हैं उनकी गुणवत्ता कैसी है।
  • घुँघराले बाल।
  • अगर आप इलाज नहीं करवाते हैं या हल्के स्तर का लेज़र उपचार नहीं करवाते हैं तो आप के सिर के उस भाग में बाल झड़ते रह सकते हैं, जहाँ उपचार नहीं किया गया है।

आपको अपने सर्जन के साथ चर्चा कर लेनी चाहिए ताकि बाद में आप परिणाम से निराशा न हों।

(और पढ़े - बाल झड़ने से रोकने के लिए तेल)

हेयर ट्रांसप्लांट के कारण होने वाले साइड इफेक्ट आमतौर पर बहुत मामूली होते हैं और कुछ हफ्तों के भीतर ख़त्म हो जाते हैं। इसमें निम्न प्रभाव शामिल हैं -

  • खून बहना
  • संक्रमण
  • सिर की त्वचा में सूजन
  • आंखों के चारों ओर नील पड़ जाना
  • सिर के जिस भाग से बाल हटा दिए जाते हैं उस भाग पर या जहाँ पर इम्प्लांट किये जाते हैं उस भाग पर एक परत का बन जाना
  • सिर की त्वचा में इलाज किये गए भाग में संवेदना की कमी
  • खुजली
  • बालों के “फॉलिकल्स” में सूजन या संक्रमण
  • अस्थायी रूप से बालों का अचानक झड़ जाना। चिकित्सीय भाषा में इसे "शॉक लॉस" (shock loss) कहा जाता है
  • बालों के अजीब से दिखने वाले गुच्छे

(और पढ़ें - बालों को मजबूत करने के उपाय)

हेयर ट्रांसप्लांट कॉस्ट

भारत में हेयर ट्रांसप्लांट की कीमत आम तौर पर 30,000 से 1,00,000 रुपए तक होती है। लेकिन आपके लिए लागत क्या होगी, यह कई बातों पर निर्भर करता है। सबसे प्रमुख कारक हेयर ट्रांसप्लांट की तकनीक है। सबसे पहले आप यह निर्धारित करते हैं कि आपको उपचार किस तकनीक से करवाना है।

हमने ऊपर दो तकनीकों की चर्चा की है जिनमें से पहली एफयूटी तकनीक से उपचार करवाने पर प्रति ग्राफ्ट आपको लगभग 20-40 रुपये का खर्च आता हैं। यदि आप एफयूइ तकनीक से इलाज करवाते हैं तो आपको 35-75 रुपये प्रति “फॉलिकल्स” का खर्च आता हैं।

डीएचआई एक सबसे आधुनिक और एडवांस तकनीक है। इसमें माइक्रो सर्जिकल टूल्स का उपयोग किया जाता है जिस कारण सर्जरी में दर्द नहीं होता है। इस तकनीक से उपचार करवाने की लागत लगभग 2-3 लाख रुपये आती है।

कुछ अन्य कारक निम्न हैं -

  • कीमत निर्धारण के लिए यह भी महत्वपूर्ण है की सिर में गंजेपन की समस्या कितनी अधिक या कम हैं। (और पढ़े - गंजापन दूर करने के घरेलू उपाय)
  • कितने क्षेत्र में ट्रांसप्लांट करना है, क्योंकि यदि अधिक क्षेत्र होगा या सिर के अलावा जैसे की छाती पर हेयर ट्रांसप्लांट करवाना है तो अधिक खर्चा होगा।
  • ग्राफ्ट्स की संख्या जितनी अधिक होगी खर्चा उतना ही अधिक होगा।
  • आप बालों में कितनी सघनता चाहते हैं इसका भी कीमत पर असर होता है। 
  • अगर आप हर सत्र के अनुसार फीस दे रहे हैं तो जितने अधिक सत्र लेंगे उतनी ही फीस अधिक होगी।
  • अगर आपको इलाज में शामिल चीजों और सत्र के अलावा एक्स्ट्रा सत्र या सेवाएं चाहिए तो उसका अधिक खर्च हो सकता है। हालाँकि, कुछ क्लिनिक उपचार के बाद भी एक-दो मुफ्त सत्र देते हैं। 

(और पढ़ें - बाल झड़ने से रोकने के शैम्पू)

हेयर ट्रांसप्लांट का निर्णय आपके लिए कठिन हो सकता है और उससे भी कठिन निर्णय है क्लिनिक का चुनाव। अगर हेयर ट्रांसप्लांट की कीमत एक महत्वपूर्ण मुद्दा है तो भी सबसे सस्ते क्लिनिक ढूंढने की गलती न करें, क्योंकि हो सकता है कि उनके पास सबसे आधुनिक तकनीक न हो।

इसलिए पहले अच्छी तरह जानकारी लें और सोच-विचार करके निर्णय लें। सबसे अच्छे क्लिनिक्स की एक सूची बनाए और फिर इन क्लिनिक्स में बहुत सारे डिस्काउंट ऑफर्स चलते रहते हैं उनका पता करें। इससे वही उपचार थोड़े कम खर्च में मिल सकता है।

नोट - ये लेख केवल जानकारी के लिए है। myUpchar किसी भी सूरत में किसी भी तरह की चिकित्सा की सलाह नहीं दे रहा है। आपके लिए कौन सी चिकित्सा सही है, इसके बारे में अपने डॉक्टर से बात करके ही निर्णय लें।

और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें