हर कोई स्वस्थ रहना चाहता है, फिर भी कभी-न-कभी डॉक्टर के पास जाना ही पड़ता है. ऐसे में कुछ लोग आयुर्वेदिक डॉक्टर से मिलते हैं, तो कोई होम्योपैथिक. वहीं, अधिकतर लोग एलोपैथिक डॉक्टर से अपना इलाज करवाते हैं. यह एक मॉर्डन चिकित्सा है, इसमें ज्यादातर बीमारियों का इलाज संभव है. एलोपैथिक में दवा, सर्जरी, रेडिएशन और थेरेपी के माध्यम से इलाज किया जाता है. इसे बायोमेडिसिन और मॉर्डन मेडिसिन के नाम से भी जाना जाता है. जहां इसके फायदे हैं, वहीं इसकी कुछ नुकसान भी नजर आते हैं.

आज इस लेख में आप एलोपैथिक दवा के फायदों और नुकसान के बारे में विस्तार से जानेंगे -

(और पढ़ें - खर्राटे की एलोपैथिक दवा)

  1. एलोपैथिक दवा क्या है?
  2. एलोपैथिक दवा के फायदे
  3. एलोपैथिक दवा के नुकसान
  4. सारांश
एलोपैथिक इलाज व दवा के फायदे व नुकसान के डॉक्टर

एलोपैथिक ऐसा शब्द है, जिसे मॉर्डन दवा के लिए प्रयोग किया जाता है. किसी भी बीमारी का इलाज करते समय डॉक्टर एलोपैथिक दवा का उपयोग एविडेंस के आधार पर करते हैं. एलोपैथिक दवा से इलाज करने से पहले डॉक्टर लक्षणों को नोटिस करते हैं. इसके बाद क्लीनिकल टेस्ट और स्क्रीनिंग की जाती है. फिर रिपोर्ट के आधार डॉक्टर दवा लिखते हैं.

(और पढ़ें - बाल झड़ने की एलापैथिक दवा)

एलोपैथिक दवाइयों का सबसे बड़ा लाभ यह है कि ये एविडेंस बेस्ड होती हैं. इसका मतलब है कि हर दवा का क्लीनिकल टेस्ट हुआ होता है. उसके बाद ही डॉक्टर किसी बीमारी का इलाज करने के लिए दवा लिखते हैं. आइए, इसके फायदों के बारे में विस्तार से जानते हैं -

दवाइयों का असर जल्दी

जब किसी बीमारी के लक्षण नजर आने पर एलोपैथिक दवाइयां ली जाती हैं, तो इससे तुरंत राहत मिल सकती है. एलोपैथी दवाइयां बीमारी को शीघ्र ठीक करने में मदद कर सकती हैं. इसके लिए आप बीमार होने पर एलोपैथिक डॉक्टर के पास जा सकते हैं.

(और पढ़ें - आंतों में सूजन की एलोपैथिक दवा)

अधिकतर बीमारियों का इलाज संभव

हर चिकित्सा पद्धति में सभी बीमारियों का इलाज संभव नहीं होता है, लेकिन एलोपैथी में अधिकतर बीमारियों की दवाइयां मौजूद हैं. एलोपैथी में ब्लड प्रेशर, डायबिटीजमाइग्रेन व कैंसर आदि बीमारियों का इलाज संभव है. इसके अलावा, एलोपैथिक दवाइयां थायराइड, एस्ट्रोजन और टेस्टोस्टेरोन जैसे हार्मोन को भी नियंत्रित रख सकती हैं.

(और पढ़ें - सिर दर्द की एलोपैथिक दवा)

लेना आसान

एलोपैथिक में ओवर-द-काउंटर दवाइयां भी होती हैं. इसमें पेन किलर, मांसपेशियों को आराम देने वाली, गले में खराश को ठीक करने वाली एंटीबायोटिक व मलहम आदि शामिल होती हैं. इस कारण से इन्हें लेना आसान होता है. अधिकतर खाने वाली दवाइयां पानी के साथ ली जाती हैं.

(और पढ़ें - सांस फूलने की एलोपैथिक दवा)

जहां एक तरफ एलोपैथिक दवाइयां तरह-तरह की बीमारियों को दूर करने में सहायक होती हैं. वहीं, इनके सेवन से कुछ नुकसान भी हो सकते हैं. एलोपैथिक दवाइयां खाने से एलर्जी हो सकती है. ये दवाइयां कुछ खास खाद्य पदार्थों के साथ रिएक्शन कर सकती हैं. एलोपैथी दवा डॉक्टर की सलाह पर ही लेनी चाहिए. साथ ही किसी भी दवा को लंबे समय तक या अधिक डोज में लेने से बचना चाहिए. कुछ अन्य नुकसान इस प्रकार हैं -

  • हानिकारक प्रतिक्रिया - ऐसा तब हो सकता है, जब दवा मरीज द्वारा खाए जाने वाले भोजन या सप्लीमेंट के साथ रिएक्ट करती है.
  • एलर्जिक रिएक्शन - यह बताना मुश्किल होता है कि दवा में मौजूद विभिन्न प्रकार के घटक मरीज के शरीर में किस प्रकार रिएक्ट करेंगे. ऐसे में कुछ लोगों को एलर्जी हो सकती है.
  • विपरीत प्रभाव - डॉक्टर जिस बीमारी को ठीक करने के लिए दवा देते हैं, कुछ मरीजों में ये दवा उल्टा असर दिखा सकती है.

(और पढ़ें - लो ब्लड प्रेशर की अंग्रेजी दवा)

एलोपैथिक दवा को लोग मॉर्डन चिकित्सा के नाम से जानते हैं. इन दवाइयों को टेस्टिंग और रिसर्च के आधार पर ही तैयार किया जाता है. वैज्ञानिकों का दावा है कि एलोपैथिक में अधिकतर बीमारियों का इलाज संभव है. वर्तमान समय में दवा व सर्जरी के जरिए कैंसर जैसी बीमारी को भी ठीक किया जा सकता है. बेशक, एलोपैथी कई मायनों में फायदेमंद है, लेकिन इन दवाइयों के कुछ साइड इफेक्ट भी हैं. इसलिए, इन दवाओं का सेवन डॉक्टर की सलाह पर ही करना चाहिए.

(और पढ़ें - अस्थमा के लिए एलोपैथिक दवा)

Dr. Abhishek Ranga

Dr. Abhishek Ranga

सामान्य चिकित्सा
1 वर्षों का अनुभव

Dr. Manish Jain

Dr. Manish Jain

सामान्य चिकित्सा
4 वर्षों का अनुभव

Dr. Navneet Chattha

Dr. Navneet Chattha

सामान्य चिकित्सा
1 वर्षों का अनुभव

Dr Srija V Raman

Dr Srija V Raman

सामान्य चिकित्सा
3 वर्षों का अनुभव

ऐप पर पढ़ें
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ