myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

कैफीन शब्द से आप सभी परिचित होंगे, यह कॉफी का एक रासायनिक यौगिक है। इसका उपयोग आज दुनियाभर में किया जा रहा है। गौरतलब है कि कैफीन का सकारात्मक या नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। अगर आप भी बहुत ज्यादा कैफीन का सेवन करते हैं या आपको कैफीनयुक्त चीज़ें बहुत पसंद हैं तो आपको ये बात जरूर जान लेनी चाहिए कि कैफीन का शरीर पर क्या असर पड़ता है।

मस्तिष्क पर प्रभाव 

कैफीन केंद्रीय तंत्रिका तंत्र को कई तरह से प्रभावित कर सकता है। आपने एडेनोसाइन के बारे में सुना होगा, यह मस्तिष्क में एक न्यूरोट्रांसमीटर का काम करता है, जो नींद को बढ़ावा देता है। मस्तिष्क में न्यूरॉन्स में विशिष्ट रिसेप्टर्स होते हैं, जो एडेनोसाइन से जुड़े हो सकते हैं। इन रिसेप्टर्स से जुड़ने पर यह न्यूरॉन्स की उत्तेजित होने की प्रवृत्ति को रोकता है। यह मस्तिष्क में नसों से संबंधित गतिविधि (न्यूरल एक्टिविटी) को धीमा कर देता है। एडेनोसाइन सामान्य रूप से दिन के दौरान बनता है और आखिरकार जब सोने का समय हो जाता है तो यह आपको सुस्त बना देता है।

कैफीन और एडेनोसाइन की एक समान आणविक संरचना होती है। इसलिए जब कैफीन मस्तिष्क में मौजूद होता है, तो यह उसी रिसेप्टर्स के साथ जुड़े रहने के लिए एडेनोसाइन के साथ प्रतिस्पर्धा करता है। हालांकि, कैफीन आपके न्यूरॉन्स के उत्तेजित होने की प्रवृत्ति को धीमा नहीं करता है, जैसे कि एडेनोसिन करता है। कैफीन केंद्रीय तंत्रिका तंत्र उत्तेजना को बढ़ावा देता है, जिससे आप सतर्क महसूस करते हैं।

याददाश्त से जुड़ाव

कॉफी और कैफीन आपकी याददाश्त को भी प्रभावित कर सकते हैं। लेकिन इस विषय पर जो भी शोध किए गए हैं, वे काफी मिले-जुले परिणाम देते हैं। कुछ अध्ययनों में पाया गया है कि कैफीन उनके लिए सहायक साबित हो सकती है, जिन्हें भूलने की बीमारी है। जबकि कुछ शोध में पाया गया है कि याददाश्त पर इसका कोई प्रभाव नहीं पड़ता है। बहरहाल, शोधकर्ता लंबे समय से याददाश्त पर कैफीन के प्रभाव पर बहस करते आ रहे हैं।

(और पढ़ें - याददाश्त बढ़ाने के घरेलू उपाय)

हालांकि, एक छोटे से अध्ययन में यह भी पाया गया कि कैफीन लंबे समय तक चीजों को याद रखने की क्षमता में सुधार कर सकती है। इस अध्ययन में लोगों को दो समूह में बांट दिया गया था और दोनों समूह को एक समान छवियां दिखाई गईं। एक समूह में कैफीन का प्रयोग किया गया, जबकि दूसरे समूह के लोगों को प्लेसीबो दिया गया था। नतीजा ये रहा कि जिस समूह ने कैफीन टैबलेट का सेवन किया, उनमें 24 घंटे तक छवियों को पहचानने की क्षमता मजबूत हुई जबकि दूसरे समूह (प्लेसीबो) को इन्हें याद रखने में ज्यादा मशक्कत करनी पड़ी। 

थकान पर असर 

लोगों के कॉफी पीने का मुख्य कारण अधिक ऊर्जावान और सचेत महसूस करना है, इसलिए यह कोई आश्चर्य की बात नहीं है कि कैफीन थकान की भावनाओं को दबा सकता है। हालांकि, कैफीन से केवल कुछ समय के लिए ही शरीर को ऊर्जा मिलती है और जैसे ही इसका असर खत्म होता है आपका मन एक और कप कॉफी पीने का कर सकता है। शाम को अधिक मात्रा में कैफीन का सेवन करने से रात में नींद आने में दिक्‍कत हो सकती है। कॉफी पीने से गहरी नींद आने में परेशानी हो सकती है जिसका सीधा असर आपके मस्तिष्‍क की क्रिया पर पड़ता है।

(और पढ़ें - गहरी नींद आने के घरेलू उपाय)

कैफीन मस्तिष्क के कार्यों को देता है गति 

अध्ययनों से पता चला है कि कैफीन कम समय में मस्तिष्क के कार्य को बढ़ावा दे सकता है। यह एडेनोसाइन को अपने रिसेप्टर्स के लिए बाध्य करने से रोकता है। लेकिन कैफीन नॉरएड्रेनालाईन, डोपामाइन और सेरोटोनिन सहित अन्य न्यूरोट्रांसमीटरों को बढ़ावा देकर केंद्रीय तंत्रिका तंत्र को उत्तेजित करता है।

(और पढ़ें - सेरोटोनिन की कमी के लक्षण)

कैफीन मस्तिष्क के कार्यों के विभिन्न पहलुओं में सुधार कर सकता है, जैसे :

क्या आपको कैफीन लेना चाहिए? 

अगर कैफीन में थोड़ा बदलाव कर के इसका सेवन किया जाए तो ये आपके मस्तिष्क के लिए बहुत अच्छा साबित हो सकता है। कम समय में यह आपके मूड, सीखने और प्रतिक्रिया करने के समय में सुधार कर सकता है। इसके अतिरिक्त यह अल्जाइमर (बौद्धिक क्षमता कम होना) और पार्किंसन रोग (केन्द्रीय तंत्रिका तंत्र की एक बीमारी  है, जिसमें रोगी के शरीर के अंग कंपन करते रहते हैं) जैसी मस्तिष्क की बीमारियों से बचा सकता है।

शरीर के सभी ऊतक और अंग 99 प्रतिशत कैफीन को सोख लेते हैं। कैफीन का प्रभाव इस बात पर निर्भर करता है कि इसका प्रयोग कितनी मात्रा में किया जा रहा है।

और पढ़ें ...