myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

भूलने की बीमारी - Amnesia in Hindi

Dr. Nabi Darya Vali (AIIMS)MBBS

February 06, 2018

March 06, 2020

कई बार आवाज़ आने में कुछ क्षण का विलम्ब हो सकता है!
भूलने की बीमारी
सुनिए कई बार आवाज़ आने में कुछ क्षण का विलम्ब हो सकता है!

भूलने की बीमारी क्या है ?

भूलने की बीमारी तब होती है जब एक व्यक्ति उसकी याददाश्त में मौजूद जानकारी को याद नहीं रख पाता है।
थोड़े भुलक्कड़ होना भूलने की बीमारी होने से पूरी तरह से अलग है। भूलने की बीमारी जानकारी को एक बड़े पैमाने पर भूलने को संदर्भित करता है, जो भूलना नहीं चाहिए था।


इसमें जीवन के महत्वपूर्ण हिस्से, यादगार घटनाएं, जीवन में प्रमुख व्यक्ति और महत्वपूर्ण बातें शामिल हो सकती हैं।
अपनी पहचान को भूलना फिल्मों और टेलीविज़न में एक आम समस्या के रूप में दर्शाया जाता है, लेकिन यह आमतौर पर वास्तविक जीवन में नहीं होता। इसके बजाय, भूलने की बीमारी से ग्रस्त लोग आमतौर पर खुद को याद रखते हैं लेकिन, उन्हें कोई नई जानकारी सीखने और नई यादें बनाने में परेशानी हो सकती है।

(और पढ़ें - याददाश्त कमजोर होने का इलाज)

भूलने की बीमारी मस्तिष्क के उन क्षेत्रों को नुकसान पहुंचने से हो सकती है जो याददाश्त के लिए महत्वपूर्ण होते हैं। भूलने की बीमारी स्थायी हो सकती है।

भूलने की बीमारी का कोई विशेष उपचार नहीं है, लेकिन याददाश्त बढ़ाने और मनोवैज्ञानिक तकनीकों से भूलने की बीमारी से पीड़ित लोगों और उनके परिवारों को इससे निकलने में सहायता की जा सकती है।

(और पढ़ें - मानसिक रोग दूर करने के उपाय)

भूलने की बीमारी के प्रकार - Types of Amnesia in Hindi

भूलने की बीमारी के कितने प्रकार होते हैं ?

भूलने की बीमारी के बहुत प्रकार हो सकते हैं। यह प्रकार निम्नलिखित हैं -

रेट्रोग्रेड प्रकार-
भूलने की बीमारी के रेट्रोग्रेड प्रकार में आप मौजूदा, पहले की यादें खो देते हैं। इस प्रकार की भूलने की बीमारी पहले हाल ही की यादों को प्रभावित करती है। पुरानी यादें, जैसे बचपन की यादें, आमतौर पर धीमी गति से प्रभावित होती हैं। डिमेंशिया जैसे रोग भूलने की बीमारी के रेट्रोग्रेड प्रकार के कारण बनते हैं।

(और पढ़ें - याददाश्त बढ़ाने के उपाय)

एन्टेरोग्रेड प्रकार-
जब आपको भूलने के बीमारी का एन्टेरोग्रेड प्रकार होता है, तो आप नई यादें नहीं बना पाते हैं। यह प्रभाव अस्थायी हो सकता है। उदाहरण के लिए, बहुत अधिक शराब पीने से ब्लैकआउट के दौरान आप यह अनुभव कर सकते हैं। यह स्थायी भी हो सकता है।

(और पढ़ें - शराब के फायदे और नुकसान)

अस्थायी वैश्विक प्रकार-
यदि आप भूलने की बीमारी के इस प्रकार से ग्रस्त हैं, तो आप भ्रम या व्याकुलता अनुभव करेंगे जो कुछ घंटों के दौरान आते जाते रहते हैं। आपको इस अनुभव से पहले के घंटों में याददाश्त का नुकसान अनुभव हो सकता है और संभवत: आपको इस अनुभव की कोई याद नहीं रहेगी।

(और पढ़ें - आयु के संबंधी याददाश्त की कमी का इलाज)

शिशुओं में भूलने की बीमारी-
ज्यादातर लोगों को अपने जीवन के पहले तीन से पांच साल याद नहीं रहते हैं। इस सामान्य घटना को शिशुओं में भूलने की बीमारी कहा जाता है।

(और पढ़ें - कमजोर याददाश्त के लिए योग)

भूलने की बीमारी के लक्षण - Amnesia Symptoms in Hindi

याददाश्त खोने के क्या लक्षण होते हैं ?

याददाश्त खोने के सामान्य लक्षण निम्नलिखित हैं -

  1. एन्टेरोग्रेड (Anterograde) भूलने की बीमारी में नई जानकारी सीखने की क्षमता खराब हो जाती है। (और पढ़ें - डिस्लेक्सिया का इलाज)
  2. रेट्रोग्रेड (Retrograde) भूलने की बीमारी में पिछली घटनाओं और पहले की परिचित जानकारी को याद रखने की क्षमता में कमी आती है।
  3. अकल्पनीयता में झूठी यादें बन सकती हैं या वास्तविक यादों में गड़बड़ी हो सकती है।
  4. असंबद्ध गतिविधियां और झटके न्यूरोलॉजिकल समस्याओं का संकेत देते हैं। (और पढ़ें - पार्किंसन रोग का इलाज)
  5. भ्रम या भटकाव।
  6. अल्पकालीन भूलने की बीमारी, अपूर्ण या पूरी याददाश्त की हानि।
  7. व्यक्ति चेहरों या स्थानों को पहचानने में असमर्थ हो सकता है।

भूलने की बीमारी डिमेंशिया से अलग है। डिमेंशिया में भी याददाश्त की हानि होती है, लेकिन इसमें अन्य महत्वपूर्ण संज्ञानात्मक समस्याएं भी होती हैं, जो दैनिक गतिविधियों को संचालित करने के लिए रोगी की क्षमता को प्रभावित कर सकती हैं।

(और पढ़ें - डिमेंशिया का इलाज)

भूलने की बीमारी के कारण - Amnesia Causes in Hindi

भूलने की बीमारी के क्या कारण होते हैं ?

सामान्य याददाश्त के कार्य में मस्तिष्क के कई हिस्से शामिल होते हैं और मस्तिष्क को प्रभावित करने वाली कोई भी बीमारी या चोट याददाश्त की समस्याएं पैदा कर सकती हैं।
मस्तिष्क की चोट या क्षति के कारण होने वाली भूलने की बीमारी को न्यूरोलॉजिकल भूलने की बीमारी कहा जाता है। इसके निम्नलिखित कारण हो सकते हैं -

  • स्ट्रोक
  • हर्पीस सिम्प्लेक्स वायरस जैसे किसी वायरस से संक्रमित होने के कारण होने वाली सूजन, शरीर में कहीं और मौजूद कैंसर की प्रतिक्रिया के रूप में होने वाली मस्तिष्क की सूजन या कैंसर की अनुपस्थिति में एक ऑटोइम्यून प्रतिक्रिया में होने वाली सूजन। (और पढ़ें - सूजन कम करने के उपाय)
  • मस्तिष्क में अपर्याप्त ऑक्सीजन होना। उदाहरण के लिए, दिल का दौरा पड़ने से, साँस लेने में कठिनाई से या कार्बन मोनोऑक्साइड की विषाक्तता से। (और पढ़ें - हार्ट अटैक का इलाज)
  • दीर्घकालिक अल्कोहल के उपयोग से होने वाली विटामिन बी-1 की कमी।
  • मस्तिष्क के उन क्षेत्रों में ट्यूमर होना जो याददाश्त को नियंत्रित करते हैं। (और पढ़ें - ब्रेन ट्यूमर कैसे होता है)
  • मस्तिष्क रोग, जैसे अल्जाइमर रोग और अन्य प्रकार के मनोभ्रंश। (और पढ़ें - अल्जाइमर के इलाज)
  • दौरे पड़ना। (और पढ़ें - मिर्गी का इलाज)
  • कुछ दवाएं, जैसे कि बेंज़ोडायजेपाइन। (और पढ़ें - दवाइयों की जानकारी
  • सर पर चोट लगना। जैसे कार दुर्घटना या खेल से लगने वाली चोटें, लेकिन सिर की चोटें आम तौर पर गंभीर भूलने की बीमारी नहीं करती हैं।

(और पढ़ें - सिर की चोट का इलाज)


एक और दुर्लभ प्रकार की भूलने की बीमारी, जिसे मनोवैज्ञानिक भूलने की बीमारी कहा जाता है, भावनात्मक सदमे या मानसिक आघात से उत्पन्न होती है, जैसे कि एक हिंसक गतिविधि का अनुभव। इस विकार में, एक व्यक्ति अपनी व्यक्तिगत यादें और आत्मचरित जानकारी खो सकता है।


भूलने की बीमारी के जोखिम कारक क्या होते हैं?

आपके भूलने की बीमारी का जोखिम बढ़ सकता है यदि आपने निम्नलिखित का अनुभव किया है -

  • मस्तिष्क की सर्जरी, सिर की चोट या आघात। (और पढ़ें - बर होल सर्जरी)
  • स्ट्रोक।
  • शराब का अत्यधिक सेवन।
  • दौरे।

(और पढ़ें - शराब छुड़ाने के अचूक उपाय)

भूलने की बीमारी से बचाव के उपाय - Prevention of Amnesia in Hindi

भूलने की बीमारी से बचाव के क्या उपाय होते हैं ?

दिमाग की चोट भूलने की बीमारी का मुख्य कारण हो सकती है, इसीलिए दिमाग की चोट के जोखिम को कम करने के लिए बचाव करना महत्वपूर्ण है। उदाहरण के लिए -

  • अत्यधिक शराब का उपयोग न करें।
  • दो पहिया वाहन चलते समय हेलमेट पहनें और ड्राइविंग करते समय सीट बेल्ट पहनें।
  • किसी भी संक्रमण का इलाज जल्द करें ताकि वह दिमाग तक न फ़ैल पाए। (और पढ़ें - मस्तिष्क संक्रमण का इलाज)
  • यदि आपको स्ट्रोक, एक गंभीर सिरदर्द, एक तरफ की स्तब्धता या लकवा के लक्षण महसूस हो रहे हैं, तो तुरंत चिकित्सा लें।

(और पढ़ें - सिर दर्द के उपाय)

भूलने की बीमारी का परीक्षण - Diagnosis of Amnesia in Hindi

भूलने की बीमारी का परीक्षण/ निदान कैसे होता है ?

भूलने की बीमारी का निदान करने के लिए, डॉक्टर अन्य संभावित कारणों, जैसे अल्जाइमर रोग, अन्य प्रकार के मनोभ्रंश, डिप्रेशन या मस्तिष्क के ट्यूमर के बारे में जानने के लिए एक मूल्यांकन करेंगे।

(और पढ़ें - डिप्रेशन के घरेलू उपाय)

चिकित्सा का इतिहास-
मूल्यांकन के शुरुआत में डॉक्टर मरीज़ से उसके बारे में पूछते हैं, क्योंकि भूलने की बीमारी से ग्रस्त व्यक्ति पूरी तरह से अपनी जानकारी प्रदान नहीं कर पाता है। इस मूल्यांकन में एक परिवार का सदस्य, मित्र या कोई अन्य साथी भी हिस्सा लेते हैं।
डॉक्टर याददाश्त के नुकसान को समझने के लिए कई प्रश्न पूछेंगे।

शारीरिक परीक्षण-
शारीरिक परीक्षण में आपकी अनैच्छिक क्रियाओं, संवेदी कार्य, संतुलन और अन्य शारीरिक गतिविधिओं की जांच के लिए एक न्यूरोलोलॉजिकल परीक्षण कर सकते हैं।

(और पढ़ें - लैब परीक्षण

संज्ञानात्मक परीक्षण-
इस परीक्षण में चिकित्सक व्यक्ति की सोच, निर्णय और हाल ही की और दीर्घकालिक याददाश्त का परीक्षण करेंगे। वह व्यक्ति के सामान्य ज्ञान की जांच करेंगे - जैसे वर्तमान राष्ट्रपति का नाम, व्यक्तिगत जानकारी और पिछली घटनाएं। डॉक्टर व्यक्ति को शब्दों की एक सूची दोहराने के लिए कह सकते हैं।

नैदानिक ​​परीक्षण-

  • इमेजिंग टेस्ट - जिसमें एमआरआई और सीटी स्कैन का उपयोग मस्तिष्क क्षति या असामान्यताओं की जांच के लिए उपयोग किए जाते हैं।
  • संक्रमण, पोषण संबंधी कमियों या अन्य समस्याओं की जांच के लिए रक्त परीक्षण।
  • दौरों की गतिविधि की उपस्थिति की जांच के लिए एक इलेक्ट्रोएनसोफेलोलोग्राम (Electroencephalogram)।

(और पढ़ें - मानसिक रोग का इलाज)

भूलने की बीमारी का उपचार - Amnesia Treatment in Hindi

भूलने की बीमारी का उपचार कैसे होता है ?

भूलने की बीमारी का इलाज करने के लिए, आपके चिकित्सक आपकी स्थिति के मूल कारण पर ध्यान केंद्रित करेंगे।

रासायनिक रूप से प्रेरित भूलने की बीमारी (उदाहरण के लिए शराब से) विषहरण के माध्यम से ठीक किया जा सकती है। जैसे ही ड्रग आपके शरीर से बाहर जाता है, आपकी याददाश्त की समस्याएं कम हो जाएंगी।

(और पढ़ें - नशे की लत का इलाज)

सिर की चोट से भूलने की बीमारी आमतौर पर समय के साथ उपचार के बिना ठीक हो जाती है। गंभीर सिर की चोट से हुई भूलने की बीमारी ठीक नहीं होती। हालांकि, सुधार आमतौर पर छह से नौ महीने के भीतर होते हैं।

डेमेंशिया से हुई भूलने की बीमारी का अक्सर इलाज नहीं होता है। हालांकि, आपके डॉक्टर सिखने की क्षमता और याददाश्त का समर्थन करने के लिए दवाएं लिख सकते हैं।

(और पढ़ें - दिमाग तेज़ कैसे करें)

यदि आपको स्थायी याददाश्त की समस्या है, तो आपके चिकित्सक आपको व्यावसायिक चिकित्सा की सलाह दे सकते हैं। इस तरह की चिकित्सा आपको दैनिक जीवन के लिए नई जानकारी सीखने में मदद कर सकती है। आपके चिकित्सक आपको यह भी सिखा सकते हैं कि जानकारी को व्यवस्थित करने के लिए सहायक तकनीकों का उपयोग कैसे करना है ताकि इसे पुनः प्राप्त करना आसान हो।

(और पढ़ें - ब्रेन कैंसर का इलाज)

भूलने की बीमारी की जोखिम और जटिलताएं - Amnesia Risks & Complications in Hindi

भूलने की बीमारी की जोखिम और जटिलताएं क्या होती हैं?

भूलने की बीमारी गंभीरता और व्यापकता में भिन्न होती है, लेकिन हलकी भूलने की बीमारी दैनिक गतिविधियों और जीवन की गुणवत्ता को प्रभावित करती है।  (और पढ़ें - दिमाग के लिए योगासन)
भूलने की बीमारी काम पर, स्कूल में और सामाजिक गतिविधिओं में समस्याएं पैदा कर सकती है। (और पढ़ें - पढ़ने का सबसे अच्छा समय क्या है)
खोई यादों को वापस पाना संभव नहीं हो सकता है। 
गंभीर याददाश्त की समस्याओं से ग्रस्त कुछ लोगों को देखभाल में रखने की आवश्यकता होती है।

(और पढ़ें - दिमाग तेज करने के घरेलू उपाय)



संदर्भ

  1. American Occupational Therapy Association. Dementia and the Role of Occupational Therapy. [internet]
  2. D Owen et al. Postgrad Med J. 2007 Apr; 83(978): 236–239. PMID: 17403949
  3. Department of Health & Human Services, Amnesia. State Government of Victoria, Australia. [internet]
  4. Richard J. Allen. Classic and recent advances in understanding amnesia. Version 1. F1000Res. 2018; 7: 331. PMID: 29623196
  5. Health On The Ne. Amnesia. [internet]

भूलने की बीमारी के डॉक्टर

Dr. Hemanth Kumar Dr. Hemanth Kumar न्यूरोलॉजी
3 वर्षों का अनुभव
Dr. Deepak Chandra Prakash Dr. Deepak Chandra Prakash न्यूरोलॉजी
10 वर्षों का अनुभव
Dr. Virender K Sheorain Dr. Virender K Sheorain न्यूरोलॉजी
19 वर्षों का अनुभव
Dr. Vipul Rastogi Dr. Vipul Rastogi न्यूरोलॉजी
17 वर्षों का अनुभव
डॉक्टर से सलाह लें

भूलने की बीमारी की दवा - Medicines for Amnesia in Hindi

भूलने की बीमारी के लिए बहुत दवाइयां उपलब्ध हैं। नीचे यह सारी दवाइयां दी गयी हैं। लेकिन ध्यान रहे कि डॉक्टर से सलाह किये बिना आप कृपया कोई भी दवाई न लें। बिना डॉक्टर की सलाह से दवाई लेने से आपकी सेहत को गंभीर नुक्सान हो सकता है।

दवा का नाम

कीमत

₹184.63

20% छूट + 5% कैशबैक


₹3266.55

20% छूट + 5% कैशबैक


₹2982.0

20% छूट + 5% कैशबैक


₹45.5

20% छूट + 5% कैशबैक


₹93.1

20% छूट + 5% कैशबैक


₹207.9

20% छूट + 5% कैशबैक


₹32.2

20% छूट + 5% कैशबैक


₹31.36

20% छूट + 5% कैशबैक


₹123.09

20% छूट + 5% कैशबैक


Showing 1 to 10 of 41 entries

भूलने की बीमारी की ओटीसी दवा - OTC Medicines for Amnesia in Hindi

भूलने की बीमारी के लिए बहुत दवाइयां उपलब्ध हैं। नीचे यह सारी दवाइयां दी गयी हैं। लेकिन ध्यान रहे कि डॉक्टर से सलाह किये बिना आप कृपया कोई भी दवाई न लें। बिना डॉक्टर की सलाह से दवाई लेने से आपकी सेहत को गंभीर नुक्सान हो सकता है।

दवा का नाम

कीमत

₹132.3

20% छूट + 5% कैशबैक


Showing 1 to 0 of 1 entries