myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत
कोई भी भारतीय भोजन चावल या चपाती या इन दोनों के बिना पूरा नहीं होता है। भारतीय व्यंजनों के ये मुख्य तत्व नाश्ते, दोपहर के भोजन या रात्रिभोज का हिस्सा हैं। लेकिन फिटनेस के बढ़ते जुनून के कारण सेहत के लिए चिंतित लोग जानना चाहते हैं कि दैनिक रूप से चावल या रोटी को अपने भोजन में शामिल करने से कितना पोषण मिलता है।
दोनों खाद्य पदार्थों में समान कार्बोहाइड्रेट स्तर और कैलोरी होती है, लेकिन दोनों के अलग-अलग पौष्टिक महत्व हैं। पोषक तत्‍वों के मामले में चपाती आगे है। चपाती में चावल की तुलना में अधिक प्रोटीन और फाइबर होता है। एक तिहाई चावल कप में 80 कैलोरी, 1 ग्राम प्रोटीन, 0.1 फैट और 18 ग्राम कार्बोहाइड्रेट होता है। जबकि एक छोटी रोटी में 71 कैलोरी, 3 ग्राम प्रोटीन, 0.3 ग्राम फैट और 15 ग्राम कार्बोहाइड्रेट होता है।
  1. फोलेट का बेहतर स्रोत है चावल या चपाती - Rice or Chapati Rich in Folate in Hindi
  2. मिनरल्स के लिए चावल या चपाती है फायदेमंद - Rice or Chapati Rich in Minerals in Hindi
  3. चपाती या चावल के फायदे पोषण के लिए - Rice vs Chapati Nutrition in Hindi
  4. चावल या चपाती वजन कम करने में लाभकारी - Rice or Chapati for Weight Loss in Hindi
  5. मधुमेह के लिए चपाती या चावल - Rice vs Chapati for Diabetes in Hindi

चावल और चपाती दोनों फोलेट (पानी में घुलनशील बी-विटामिन) प्रदान करते हैं। चपाती की बजाए चावल फोलेट का बेहतर स्रोत है।

चपाती की प्रत्येक सर्विंग आपको कैल्शियम, फास्फोरस, लोहा और पोटेशियम प्रदान करती है। चावल में हमें चपाती जितना ही आयरन मिलता है लेकिन चावल में फास्फोरस, पोटेशियम और मैग्नीशियम की मात्रा कम होती है। चावल में कोई कैल्शियम नहीं होता है।

चपाती में अधिक फाइबर, प्रोटीन, माइक्रोन्‍यूट्र‍िएंट्स और सोडियम होते हैं। चावल में कोई सोडियम नहीं होता है इसलिए आप यदि अपने खाने में सोडियम के लेवल को लेकर चिंतित हैं तो आपके लिए चावल बेहतर है।

स्टार्च सामग्री के कारण चावल पचाना आसान होता है, जबकि रोटी धीरे-धीरे पचती है। हालांकि, स्लो डाइजेशन के कारण रोटी की वजह से लंबे समय तक आपका पेट भरा हुआ रहता है, जिसका आपके वजन पर भी असर पड़ता है। वजन कम करने के लिए साबुत गेहूं और मल्टी-ग्रेन चपाती सबसे पसंदीदा होते हैं, जबकि चावल में ब्राउन चावल सबसे पसंदीदा है। 

(और पढ़ें - वजन घटाने के लिए क्या खाएं और वेट कम करने के लिए डाइट चार्ट)

गेहूं और चावल दोनों में एक समान ग्लाइसेमिक इंडेक्स हैं, जिसका अर्थ है कि दोनों को खाने से ब्‍लड शुगर का लेवल एक जितना ही बढ़ता है। यानी अगर आप खाने की मात्रा पर नियंत्रण रखते हैं तो इससे ज्‍यादा फर्क नहीं पड़ता कि आप क्‍या खाते हैं। यदि आप 1 चपाती और 1 छोटा कटोरा चावल का करते हैं तो यह पूरी तरह से ठीक है।

इसलिए चावल छोड़ने की बजाए चावल का सेवन नियंत्रित मात्रा में करें।

और पढ़ें ...