myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

शंखपुष्पी का वैज्ञानिक नाम कोनोवुल्लूस प्लूरिकालिस (Convolvulus Pluricaulis) है। इसके चिकित्सीय लाभों के कारण शंखपुष्पी आयुर्वेद में बहुत महत्वपूर्ण जड़ी बूटी है। यह मस्तिष्क की शक्ति, स्मृति में सुधार और एकाग्रता और याद करने की क्षमता में वृद्धि करती है। शंखपुष्पी मुख्य रूप से दिमागी ताकत और याददाश्त को बढ़ाने के लिए उपयोग की जाती है। शंखपुष्पी के पुष्प, पत्ते, स्टेम, रूट्स सभी औषधीय प्रयोजनों के लिए उपयोगी होते हैं। शंखपुष्पी के पौधे की ऊंचाई लगभग 1 फुट होती है और इसकी पत्तियां 1-4 cm तक लंबी होती है। शंखपुष्पी तीन रंग के पौधे में आता है - लाल, नीला और सफेद। सफेद फूलों वाली शंखपुष्पी का पौधा सबसे अच्छा माना जाता है। शंखपुष्पी के पौधे के फल छोटे, गोल, चिकने, चमकदार और भूरे रंग के होते है। शंख के आकार के फूल होने की वजह से इसे शंखपुष्पी कहा जाता है।

  1. शंखपुष्पी के फायदे - Shankhpushpi ke Fayde in Hindi
  2. शंखपुष्पी के नुकसान - Shankhpushpi ke Nuksan in Hindi
  3. शंखपुष्पी खुराक - Shankhpushpi Dosage in Hindi

शंखपुष्पी के फायदे हैं मानसिक थकान के लिए - Shankhpushpi Powder ke Fayde for Mental Fatigue in Hindi

जब व्यक्ति ध्यान केंद्रित करने में असमर्थ और सुस्ती महसूस करता है तब इसका उपयोग बहुत ही लाभकारी होता है। हालांकि, मानसिक थकान में कई कारण होते हैं, लेकिन सबसे सामान्य कारण अधिक काम, कंप्यूटर पर काम, अध्ययन, सीखने या याद रखना और मानसिक तनाव होते हैं। यदि सभी कारण मन या मस्तिष्क से संबंधित होते हैं, तो शंखपुष्पी मानसिक थकान के सभी मूल कारणों पर अच्छी तरह से काम करती है। मानसिक थकान को कम करने और काम के लिए अधिक उत्साह प्रदान करने में यह अत्यधिक सहायक है। मानसिक थकान को कम करने के लिए 1 चम्मच शंखपुषपी पाउडर को पानी के साथ दिन में दो बार लें।

(और पढ़ें - थकान दूर करने और ताकत के लिए क्या खाएं)

शंखपुष्पी के लाभ बचाएँ मेमोरी लॉस से - Shankhpushpi Benefits for Memory Loss in Hindi

शंखपुष्पी संज्ञानात्मक कार्यों में सुधार और मेमोरी बूस्टर के रूप में कार्य करती है। यह याद करने की शक्ति में सुधार करती है। यद्यपि, डिमेंशिया (मनोभ्रंश) के कई कारण होते हैं, लेकिन जब सभी कारण मस्तिष्क कोशिकाओं को क्षति की ओर ले जाते हैं। शंखपुष्पी मस्तिष्क कोशिका क्षति को रोकने के द्वारा प्रगतिशील डिमेंशिया में मदद करती है। यह मनोभ्रंश और स्मृति हानि के लक्षणों को सुधारने के लिए शेष तंत्रिका कोशिकाओं के कार्यों में सुधार भी करती है।

(और पढ़ें – सौंफ का पानी पीने के फायदे हैं मस्तिष्क के लिए उपयोगी)

शंखपुष्पी सिरप है सिरदर्द में लाभकारी - Shankhpushpi ke Fayde for Headache in Hindi

अध्ययन करते समय कई छात्रों ने सिरदर्द की सूचना दी है। यदि आँखों की रोशनी सही है, तो शंखपुष्पी उनके लिए एक अच्छा विकल्प है। आम तौर पर, इस प्रकार के सिरदर्द मानसिक कमजोरी, मानसिक कार्यभार, दीर्घकालिक अध्ययन या मानसिक तनाव के कारण होते हैं। शंकपुष्पी मस्तिष्क को शक्ति प्रदान करती है। इस प्रकार, यह परेशान नसों को शांत करने और सिरदर्द का इलाज करने में मदद करती है। इस मामले में शंखपुष्पी सिरप को अधिक लाभकारी माना जाता है। 

(और पढ़ें - सिर दर्द के घरेलु उपाय

शंखपुष्पी बेनिफिट्स करें ध्यान की कमी दूर - Shankhpushpi for ADHD in Hindi

शंखपुष्पी में मानसिक चिड़चिड़ापन और आवेग को कम करने के गुण होते हैं। ध्यान की कमी (ADHD - Attention Deficit Hyperactivity Disorder (ध्यानाभाव एवं अतिसक्रियता विकार)) के लिए 250mg शंखपुष्पी पाउडर, 500mg ब्राह्मी, 125mg मुक्ता (मोती) भस्म और 30mg अभ्रक भस्म को मिक्स करके सेवन करें। यदि ADHD वाले बच्चे सबसे चिड़चिड़ा, आक्रामक, अभिभूत महसूस कर रहे हैं और गर्मी से सनसनी, अत्यधिक पसीना, बेचैनी हो रही है तो 250 मिलीग्राम शंखपुष्पी पाउडर, 250 मिलीग्राम मुक्ता (मोती) भस्म, 250 मिलीग्राम प्रवाल पिष्टी, 250 मिलीग्राम गिलोय सत्व और 500 मिलीग्राम मुलेठी को अच्छे से मिक्स कर लें। दिन में दो बार पानी, दूध या शहद के साथ लें। 

(और पढ़ें - ध्यान या मेडिटेशन कैसे करें?)

शंखपुष्पी के गुण करें आत्मकेंद्रित समस्या का इलाज - Shankhpushpi for Autism in Hindi

शंखपुष्पी का अन्य जड़ी बूटियों के साथ संयोजन आत्मकेंद्रित की समस्या से पीड़ित बच्चों की मदद कर सकता है। 250 मिलीग्राम शंखपुष्पी पाउडर, 100 मिलीग्राम ब्राह्मी, 100 मिलीग्राम अश्वगंधा, 100 मिलीग्राम मण्डूकपर्णी, 50 मिलीग्राम जटामांसी, 50 मिलीग्राम मुक्ता (मोती) भस्म और 25 मिलीग्राम अभ्रक भस्म को मिक्स करके दिन में 2 बार पानी के साथ सेवन करें।

शंखपुष्पी पाउडर है अतिसंवेदनशीलता का हल - Shankhpushpi ke Labh for Mental Hypersensitivity in Hindi

जो व्यक्ति जोर से आवाज़, उज्ज्वल प्रकाश, मजबूत गंध को सहन नहीं कर सकता, उसे अत्यधिक संवेदनशील व्यक्ति कहा जाता है। इस समस्या का मूल कारण तंत्रिकाओं की अतिसंवेदनशीलता होता है। हालांकि इस विकार के लिए शंखपुष्पी अकेले ही पूरी तरह से प्रभावी नहीं है, लेकिन 250 मिलीग्राम शंखपुष्पी पाउडर के साथ 125 मिलीग्राम मुक्ता (मोती) भस्म, 125 मिलीग्राम प्रवाल पिष्टी, 125 मिलीग्राम अभ्रक भस्म और 50 मिलीग्राम रजत भस्म का आयुर्वेदिक संयोजन ऐसे लक्षणों का उपचार करने में प्रभावी है।

शंखपुष्पी का उपयोग बचाएँ अवसाद से - Shankhpushpi for Depression in Hindi

जो भी मानसिक तनाव या अवसाद का कारण हों, लेकिन तनाव या अवसाद मस्तिष्क में शारीरिक परिवर्तन, न्यूरोट्रांसमीटर असंतुलन और हार्मोन में परिवर्तन को प्रभावित कर सकता है। मस्तिष्क और हार्मोन परिवर्तनों में शारीरिक परिवर्तन पर शंखपुष्पी की कार्रवाई अज्ञात है। हालांकि, यह मस्तिष्क रासायनिक असंतुलन (न्यूरोट्रांसमीटर असंतुलन) के मामले में प्रभावी है। यह डोपामाइन के स्राव को बढ़ाता है जिससे व्यक्ति को अच्छा और सतर्क महसूस होता है।

शंखपुष्पी का सेवन बढ़ाएँ भूख - Shankhpushpi Syrup for Anorexia Nervosa in Hindi

शंखपुष्पी अधिक प्रभावी होती है जब भावनात्मक विशेषताओं से एनोरेक्‍सिया नर्वोसा या भूख की हानि होती है। शंखपुष्पी में भूख और पाचन उत्तेजक के गुण भी होते हैं, जिससे भूख में सुधार करने में मदद मिलती है। 

(और पढ़ें - बच्चों में भूख ना लगने के कारण, लक्षण और उनका आयुर्वेदिक समाधान)

शंखपुष्पी चूर्ण रोके बार बार होने वाले गर्भपात को - Shankhpushpi Powder for Habitual Miscarriages in Hindi

आयुर्वेद के अनुसार, गर्भाशय या इसकी संरचनाओं की कमजोरी के कारण बार बार गर्भपात होते हैं। इस प्रयोजन के लिए, गर्भाशय को मजबूत करने और गर्भपात को रोकने के लिए, 1.5 ग्राम शंखपुष्पी को 1.5 ग्राम अश्वगंधा पाउडर के साथ दिया जाता है। बार बार गर्भपात से पीड़ित महिला को उपरोक्त उपाय के साथ 3 महीने का कोर्स पूरा करने के बाद गर्भधारण करना चाहिए। 

(और पढ़ें - पुत्रजीवक बीज पाउडर है गर्भपात में उपयोगी)

शंकपुष्पी के उपयोग के साथ कोई दुष्प्रभाव नहीं देखा गया है। कुछ लोगों को ताजा हर्बल पेस्ट लेने के दौरान परेशानी महसूस हो सकती है। यह हर्बल पेस्ट के स्वाद के कारण हो सकता है। गर्भावस्था के दौरान इस जड़ी बूटी से बचें या कम से कम इस जड़ी बूटी का उपयोग करें। इस जड़ी बूटी को केवल डॉक्टर से सलाह लेने के बाद लिया जाना चाहिए। यह स्तनपान कराने वाली मां के उपयोग के लिए काफी सुरक्षित है। यह 3 वर्ष से ऊपर के बच्चों में छोटी मात्रा में उपयोग करने के लिए सुरक्षित है। क्योंकि यह रक्तचाप को कम करता है तो कम बीपी वाले लोगों को इसका उपयोग करते समय सावधानी बरतनी चाहिए। उच्च रक्तचाप के इलाज के लिए लोगों को इस औषधि को लेने से पहले अपने डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए।

(और पढ़ें - गर्भावस्था में पेट दर्द और लड़का पैदा करने के उपाय)

शंकपुष्पी पेस्ट 1-2 ग्राम शंकपुष्पी का काढ़ा - प्रति दिन विभाजित मात्रा में 50-100 मिलीलीटर शंकपुष्पी अर्क 250 मिलीग्राम - 2 ग्राम प्रति दिन विभाजित मात्रा में। शंकपुष्पी कैप्सूल - एक दिन में एक या दो बार, डॉक्टर द्वारा सलाह के अनुसार भोजन से पहले या बाद में।

Medicine NamePack SizePrice (Rs.)
Divya Medha VatiPatanjali Divya Medha Vati-Extra Power179.0
Hem PushpaHem Pushpa Syrup486.9
Baidyanath Brahmi Bati BuddhivardhakBaidyanath Brahmi Bati99.0
Himalaya AbanaABANA TABLET 50S110.0
Zandu Sona Chandi Chyavanprash PlusZANDU SONA CHANDI CHYAVANPRASH 450GM152.0
Baidyanath Agastya Haritaki Combo Pack of 3 By BaidyanathAgastya Haritaki Combo Pack of 3 By Baidyanath117.0
Zandu BrentoBRENTO TABLET 30S44.0
Zandu Brento SyrupZandu Brento Syrup130.5
Baidyanath ShankhpushpiBaidyanath Shankhpushpi Syrup86.0
Baidyanath Brain TabletsBaidyanath Brain Tab.166.5
Dabur Lal TailDABUR BABY MASSAGE OIL WITH OLIVE & ALMOND 100ML110.0
Banyan Botanicals Mental ClarityBanyan Botanicals Mental Clarity0.0
Dabur Brahmi Vati GoldDabur Brahmi Vati with Gold & Pearl285.0
Baidyanath Brahmi GhritaBaidyanath Brahmi Ghrit234.0
Baidyanath Dimag Poushtik RasayanBaidyanath Dimag Poushtik Rasayan Tablet179.0
और पढ़ें ...

References

  1. Asma'a Al-Rifai et al. Antibacterial, Antioxidant Activity of Ethanolic Plant Extracts of Some Convolvulus Species and Their DART-ToF-MS Profiling. Evid Based Complement Alternat Med. 2017; 2017: 5694305. PMID: 29317894
  2. Parul Agarwa, Bhawna Sharma, Amreen Fatima, Sanjay Kumar Jain. An update on Ayurvedic herb Convolvulus pluricaulis Choisy. Asian Pac J Trop Biomed. 2014 Mar; 4(3): 245–252. PMID: 25182446
  3. Verma S et al. Study of Convolvulus pluricaulis for antioxidant and anticonvulsant activity. Cent Nerv Syst Agents Med Chem. 2012 Mar;12(1):55-9. PMID: 22280406
  4. Nasir A Siddiqui et al. Neuropharmacological Profile of Extracts of Aerial Parts of Convolvulus pluricaulis Choisy in Mice Model. Open Neurol J. 2014; 8: 11–14. PMID: 25110532
  5. Dhingra D, Valecha R. Evaluation of the antidepressant-like activity of Convolvulus pluricaulis choisy in the mouse forced swim and tail suspension tests. Med Sci Monit. 2007 Jul;13(7):BR155-61. PMID: 17599020
  6. Debjit Bhowmik. Traditional Indian Herbs Convolvulus pluricaulis and Its Medicinal Importance . Journal of Pharmacognosy and Phytochemistry
ऐप पर पढ़ें