myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

क्या होती है आंखों में जलन?

आंखों में जलन का मतलब आंखों में कुछ जलने या उत्तेजना का एहसास होने से हैं। इस स्थिति में पीड़ित को आंखों में खुजली, आंसू या कीचड़ आने और ऐसे अन्य डिस्चार्ज होने की समस्या हो सकती है।

ज्यादातर यह स्थिति हानिरहित होती है और इसका सामाधान आसानी से किया जा सकता है। हालांकि कुछ ऐसी परिस्थियां भी होती हैं, जो किसी गंभीर समस्या का संकेत देती है। कुछ लोगों में सिर्फ आंखों में जलन की ही समस्या होती है, जबकि अन्य लोगों को काफी सारे लक्षण महसूस होते हैं, जैसे आंखों से डिसचार्ज या पानी बहना, आंखों में दर्द या खुजली आदि।

ज्यादातर मामलों में पर्यावरणीय (वातावरण) कारक ही आंखों में जलन पैदा करते हैं। लगभग सभी मामलों में जलती हुई आंखें एक अलग ही समस्या के लक्षण के तौर पर सामने आती हैं। 

(और पढ़ें - आंखों की सूजन का इलाज)

  1. आंखो में जलन के लक्षण - Burning Eyes Symptoms in Hindi
  2. आंखो में जलन के कारण - Burning Eyes Causes in Hindi
  3. आंखो में जलन से बचाव - Prevention of Burning Eyes in Hindi
  4. आंखो में जलन का परीक्षण - Diagnosis of Burning Eyes in Hindi
  5. आंखो में जलन का इलाज - Burning Eyes Treatment in Hindi
  6. आंखों में जलन की दवा - Medicines for Burning Eyes in Hindi
  7. आंखों में जलन की ओटीसी दवा - OTC Medicines for Burning Eyes in Hindi
  8. आंखों में जलन के डॉक्टर

आंखो में जलन के लक्षण - Burning Eyes Symptoms in Hindi

आंखों में जलन के लक्षण व संकेत क्या हो सकते हैं?

आंखों में जलन पीड़ित के शरीर में मौजूद किसी समस्या या बीमारी का लक्षण हो सकता है।आम तौर पर अपने आप में केवल आंखों की जलन किसी को भी अकेले नहीं होती है। ऐसे में इसके साथ और भी कई लक्षण नजर आते हैं, जो इस प्रकार है: 

ये लक्षण जीवन की गुणवत्ता में कमी कर देते हैं। अगर आप देर रात तक जागते हैं और घंटों तक लगातार काम करते हैं, तो समस्या और बिगड़ सकती है। पर्याप्त नींद लेने से आपकी आंखों को भरपूर पोषण मिलता है। इसके ठीक विपरीत नींद में कमी होने से आंखों से संबंधी तकलीफें बार-बार होने लगती है।

(और पढ़ें - कम सोने के नुक्सान)

डॉक्टर को कब दिखाना चाहिए?

यदि आंखो में जलन के साथ-साथ रोशनी के प्रति अत्याधिक संवेदनशीलता महसूस हो रही है या अगर आपकी आंखों से पानी, कीचड़ या ऐसा ही कोई तरल पदार्थ निकल रहा है, धुंधला दिखाई दे रहा है, फ्लोटर्स या चमकती हुई रोशनी दिखाई दें या कोई अजीब लक्षण महसूस हो, तो तुरंत डॉक्टर को दिखाएं।

एक बात का खास ध्यान रखें, यदि आपको पिछले कुछ दिनों से लगातार आंखों में जलन हो रही हो लेकिन उसके साथ कोई अन्य लक्षण न हो तब भी अपने डॉक्टर से तुरंत संपर्क करें।  

(और पढ़ें - पलकों के फड़कने के कारण)

यदि समस्या नहीं दूर हो रही हो, तो आंखों के संपूर्ण परीक्षण के लिए डॉक्टर से अपॉइंटमेंट लें। परीक्षण में डॉक्टर सुनिश्चित करते हैं कि कहीं ये लक्षण आंखों की मांसपेशियों में कमजोरी से जुड़े हुए तो नहीं हैं। इसके अलावा डॉक्टर यह भी देखते है कि पीड़ित के चश्मों और कॉन्टेक्ट लैंस का नंबर कहीं पुराना या आवश्यकता से कम या अधिक तो नहीं है। साथ ही जिन लोगों को कम्प्यूटर पर बहुत अधिक काम करना पड़ता है, उन्हें विकिरणों से बचने के लिए विशेष नंबर के चश्मों और कॉन्टेक्ट लैंस का सुझाव दिया जाता है।

(और पढ़ें - आंखों के काले घेरे हटाने के उपाय)

आंखो में जलन के कारण - Burning Eyes Causes in Hindi

आंखों में जलन क्यों होती है​?

आंखों में जलन होना एक लक्षण होता है, जो ज्यादातर निम्न स्थितियों में देखा जाता है:

  • आंख पर जोर देना - यह आंख में जलन पैदा करने का सबसे सामान्य कारण माना जाता है, क्योंकि किसी ना किसी वक्त पर लगभग हर व्यक्ति की आंखों पर जोर पड़ता है। गौरतलब है कि घंटों मोबाइल की स्क्रीन देखने, पढ़ने या टीवी देखते रहने से आंखों पर जोर पड़ता है। (और पढ़ें - आँख में फुंसी का इलाज)
  • चोट - रोजाना धूल, गर्मी, तेज हवा और सूर्य की सीधी रोशनी के संपर्क में आने से आंखों को एक प्रकार की चोट लग सकती है या कह सकते हैं कि वे घायल हो जाती है। इसके अलावा सीधे तौर पर रसायनों के संपर्क में आने से भी आंखों को नुकसान पहुंचता है। ध्यान देने वाली बात यह है कि रसायनों से यहां आशय साबुन और शैम्पू के झाग, परफ्यूम, डियोड्रेंट, कीटनाशक, स्विमिंग पूल के क्लोरीन युक्त पानी और सिगरेट पीने के कारण फैले धुएं से है। 
  • एलर्जी - आंखों में एलर्जी हो जाने की सबसे आसान पहचान आंखों में खुजली होना है और यह खुजली नाक, गले, फेफड़े या त्वचा आदि में भी हो सकती है। छींक आना और आंखों में जलन होना अक्सर एक साथ होता हैं। आंखों में एलर्जिक प्रतिक्रिया को कंजक्टिवाइटिस (Conjunctivitis) कहा जाता है। (और पढ़ें - एलर्जी का इलाज)
  • आंखों में संक्रमण और आंखों के रोग - आंखों में किसी प्रकार की तकलीफ होना बेचैनी उत्पन्न करता है, जो शरीर या आंखों में संक्रमण का एक संकेत होता है। बैक्टीरिया या वायरस से सीधा संपर्क आंख में तकलीफें पैदा कर सकता है। हालांकि कई बार शरीर के किसी अन्य हिस्से में संक्रमण होने के चलते भी आंखों में जलन हो सकती है। यहां तक यौन संचारित बीमारियों के चलते भी आंखों में जलन हो सकती है। (और पढ़ें - आँखों के संक्रमण का इलाज)

आंखों में जलन के अन्य कारण इस प्रकार हैं: 

  • कॉन्टेक्ट लेंस – आंख की ठीक से सफाई ना कर पाना या लंबी अवधि के लिए कॉन्टेक्ट लेंस पहने रहना आंखों में तकलीफ उत्पन्न कर सकता है।
  • दवाएं – कुछ दवाएं आंखों में साइड इफेक्ट करती हैं और तकलीफें पैदा करती हैं। (और पढ़ें - दवाइयों की जानकारी)
  • उम्र - आंसुओं के उत्पादन में कमी होने के कारण। (और पढ़ें - ड्राई आईज के घरेलू उपाय)
  • तेज रौशनी – अधिक तेज रौशनी को काफी देर तक लगातार देखना, आंखों को अधिक शुष्क बना देता है। (और पढ़ें - आँखों का टैस्ट)

आंखो में जलन से बचाव - Prevention of Burning Eyes in Hindi

आंखों में जलन की रोकथाम कैसे की जाती है?

आंखों में जलन की रोकथाम के लिए कुछ सरल बदलाव करें,

काम की आदतें और कंप्यूटर स्क्रीन:

  • कंप्यूटर स्क्रीन को आंखों से 20-26 इंच की दूरी पर रखें और आंखों के स्तर से थोड़ा नीचे रखें।
  • कुछ - कुछ मिनटों में कम से कम 20 सेकेंड के लिए किसी दूर की वस्तु को देखें।
  • कंप्यूटर के काम से नियमित रूप से ब्रेक लेते रहें।
  • कंप्यूटर स्क्रीन से धूल और फिंगर प्रिंट्स को नियमित रूप से साफ करते रहें, क्योंकि इससे आपको चमक और प्रतिबिंब जैसी समस्याएं हो सकती है।
  • ऐसी स्क्रीन का चयन करें, जो झुक सके और चमक रोकने के लिए जिसमें बदलाव किए जा सकें।
  • अपनी स्क्रीन के लिए एक चमक फिल्टर (Glare filter) यानी रोशनी कम करने वाले फिल्टर का उपयोग करें।
  • ऐसी लाइट्स का प्रयोग न करें, जिनसे बहुत तेज रोशनी, चमक या प्रतिबिंब निकलता हो।
  • अपने अनुकूल कुर्सी (Adjustable chair) का इस्तेमाल करें, जिससे आप स्क्रीन के हिसाब से अपना बैठना एडजस्ट कर सकें।
  • यदि आंखों में जलन के लक्षण महसूस होते हैं, तो मोबाइल फोन का इस्तेमाल कम करें।

(और पढ़ें - आंखों की सूजन के उपाय)

आंखों की देखभाल किस तरह से की जाएं? 

  • खीसा (Washcloth) को गुनगुने पानी में गीला करके, उसे सूखी और थकी आंखों पर रखें (इस दौरान अपनी आंखें बंद रखें)।
  • जब आंखों में सूखापन महसूस हो तो आंखों में नमी लाने के लिए कृत्रिम आंसू का उपयोग करें। कृत्रिम आंसू से तात्पर्य आंखों में नमी लाने वाली विशेष आई ड्रॉप्स से हैं। 

(और पढ़ें - आँखों की थकान को दूर करने के उपाय)

जलती आंखों के लक्षणों को कम करने के लिए कुछ अन्य उपाय:

  • धूप के प्रति संवेदनशीलता और अन्य प्रकार की चोटों से बचाने वाली चीजें, जैसे चश्में, धूप के चश्में और फेस मास्क आदि पहनकर अपनी आंखों को सुरक्षित रखने की कोशिश करें।
  • अच्छे संतुलित आहार का सेवन करें।
  • अधिक प्रदूषित या इस तरह के माहौल से दूर रहें, जिसके चलते आंखों में जलन होती हो।
  • अगर आप कॉन्टेक्ट लेंस पहनते हैं, तो अपने महसूस किए गए लक्षणों के बारे में डॉक्टर को बताएं।

(और पढ़ें - संतुलित आहार किसे कहते है)

आंखो में जलन का परीक्षण - Diagnosis of Burning Eyes in Hindi

आंखों में जलन का निदान कैसे किया जाता है?

आंखों के डॉक्टर (Ophthalmologist) मरीज की पिछली मेडिकल स्थिति के बारे में जानकर तथा आंखों का परीक्षण करके, आंखो की जलन का इलाज करते हैं। इसके तहत आंखों के डॉक्टर निम्न की जांच कर सकते हैं  -

  • कॉर्नियल ऐब्रासेशन (Corneal abrasions - दो से तीन दिनों में तकलीफ खत्म न होने पर ऐसा एंटीबायोटिक मलहम लगाना जो लंबे समय तक आंखों पर रहे और जलन को कम कर दें, साथ ही दर्द और रोशनी के प्रति रोगी में मौजूद अतिसंवेदनशीलता को कम कर दें। 
  • बाहरी पदार्थ
  • संक्रमण के संकेत (और पढ़ें - संक्रमण का इलाज)
  • रक्तस्राव के लक्षण आदि।

आमतौर पर इसके लिए किसी विशेष जांच या टेस्ट की आवश्यकता नहीं होती है।

(और पढ़ें - लैब टेस्ट क्या है)

आंखो में जलन का इलाज - Burning Eyes Treatment in Hindi

आंखों में जलन का इलाज कैसे किया जाता है?

आंखों में जलन के कारणों पर ही इसका उपचार निर्भर करता है -

  • अगर घर में मौजूद किसी वस्तु के चलते आंखों में जलन हो तो उस उत्पाद के दिशा निर्देश तुरंत जांचे। साथ ही, यह समझने को कोशिश करें कि जलन का इस उत्पाद से क्या संबंध है और इस परिस्थिति में क्या किया जाना चाहिए। लगभग हर ऐसी स्थिति में आंखों को हल्के गर्म पानी से धो लें, इससे समस्या कम हो जाएगी। अगर ऐसा न हो तो इसका आशय है कि आपको चिकित्स्कीय सहायता की आवश्यकता है।
  • गर्मियों के महीनों के दौरान, बच्चों और वयस्कों सभी के लिए सनस्क्रीन लगाना काफी आम बात होती है। जब सनस्क्रीन पहली बार लगाई जाती है, तो यह आंखों में जलन व चुभन जैसे अनुभव का कारण बन सकती है। हालांकि, अगर आंखों को पानी से धो लिया जाता है, तो उससे अक्सर तुरंत राहत मिल जाती है। (और पढ़ें - अच्छी सनस्क्रीन कैसे चुनें)
  • अगर जलन किसी एलर्जी के कारण हो रही है, तो चिकित्सक के पास जाना चाहिए। डॉक्टर एलर्जी के लिए कुछ एंटी-एलर्जिक दवाएं लिख सकते हैं। डॉक्टर आपको यह भी सलाह दे सकते हैं कि एलर्जी और उससे होने वाली जलन को कम करने के लिए किस आई ड्रॉप, जेल या लूब्रीकैंट्स का इस्तेमाल करना चाहिए। (और पढ़ें - एलर्जी टेस्ट कैसे होता है)
  •  आंखों में डालने वाली दवाएं (Eye drops), खाने वाली दवाओं से काफी अलग होती हैं और उनसे ज्यादा प्रासंगिक भी होती हैं। क्योंकि, खाने वाली कई एलर्जी की दवाएं अक्सर आंखों को सूखा देती हैं, जिससे अधिक जलन पैदा होती है।
  • यदि आपको लगता है कि आंखों में जलन किसी प्रकार की दवा के सेवन के चलते हो रही है, तो आपको अपने डॉक्टर से बात करनी चाहिए। जब डॉक्टर दवा लिखते हैं, तो उन्हें दवाओं से होने वाले संभावित साइड इफेक्ट्स का पता होता है। डॉक्टर पहले इस बात को तय करते हैं कि इससे होने वाले साइड इफेक्ट्स को रोकने की बजाए जलन के लक्षणों को रोकना जरूरी है या नहीं। (और पढ़ें - आँखों में दर्द का घरेलू इलाज)
  • ठंडा सेक (Cold compress) कुछ हद तक जलन को शांत करने में मदद करता है। अपने इस कोल्ड कंप्रेस को हमेशा साफ और स्वच्छ रखें। संभव हो तो इसे कीटाणु रहित पानी में ही भिगोएं। यह ध्यान रखें कि इसे लगाते वक्त आपकी आंखें बंद रहे। 

(और पढ़ें - आंखों की रोशनी बढ़ाने के घरेलू उपाय)

आम तौर पर डॉक्टर दवाएं लिखते हैं, उनमें से कुछ सामान्य दवाएं निम्न हैं:

  • अगर मरीज बैक्टीरियल संक्रमण से पीड़ित है, तो एंटीबायोटिक आई ड्रॉप (Antibiotic eye drops) दवाएं लिखी जाती हैं।
  • अगर आंखों में सूखापन है, तो लूब्रीकेटिंग आई ड्रॉप (Lubricating eye drops) लिखी जाती हैं। 
  • वायरल संक्रमण होने की स्थिति में एंटीवायरल मरहम या आई ड्रॉप लिखी जाती हैं। 
  • अगर आंखों में जलन किसी एलर्जी के कारण हो रही हैं, तो एंटीहिस्टामिन आई ड्रॉप (Antihistamine eye drops) लिखी जाती हैं।

(और पढ़ें - दवाइयों की जानकारी)

Dr. Surbhi Thakare

Dr. Surbhi Thakare

ऑपथैल्मोलॉजी

Shikha Gupta

Shikha Gupta

ऑपथैल्मोलॉजी

Dr. Vishakha Kapoor

Dr. Vishakha Kapoor

ऑपथैल्मोलॉजी

आंखों में जलन की दवा - Medicines for Burning Eyes in Hindi

आंखों में जलन के लिए बहुत दवाइयां उपलब्ध हैं। नीचे यह सारी दवाइयां दी गयी हैं। लेकिन ध्यान रहे कि डॉक्टर से सलाह किये बिना आप कृपया कोई भी दवाई न लें। बिना डॉक्टर की सलाह से दवाई लेने से आपकी सेहत को गंभीर नुक्सान हो सकता है।

Medicine Name
Diclogesic Rr खरीदें
Divon खरीदें
Voveran खरीदें
Dexoren S खरीदें
Dolser खरीदें
Renac Sp खरीदें
Unofen K खरीदें
Exflam खरीदें
Rid S खरीदें
Diclonova P खरीदें
Valfen खरीदें
Fegan खरीदें
Rolosol खरीदें
Diclopal खरीदें
Vivian खरीदें
I Gesic खरीदें
Rolosol E खरीदें
Diclopara खरीदें
Vivian Plus खरीदें
Instanac TPM खरीदें
Rolosol Rb खरीदें
Diclopil Plus खरीदें
Vivogesic खरीदें
Lofen खरीदें
Saral D खरीदें

आंखों में जलन की ओटीसी दवा - OTC medicines for Burning Eyes in Hindi

आंखों में जलन के लिए बहुत दवाइयां उपलब्ध हैं। नीचे यह सारी दवाइयां दी गयी हैं। लेकिन ध्यान रहे कि डॉक्टर से सलाह किये बिना आप कृपया कोई भी दवाई न लें। बिना डॉक्टर की सलाह से दवाई लेने से आपकी सेहत को गंभीर नुक्सान हो सकता है।

OTC Medicine Name
Baidyanath Saptamrit Lauh खरीदें

References

  1. American academy of ophthalmology. Burning Eyes. California, United States. [internet].
  2. Nicklaus Children's Hospital. Eye burning - itching and discharge. South Florida; U.S. state
  3. American Academy of Allergy, Asthma and Immunology [Internet]. Milwaukee (WI); Eye Allergy
  4. American academy of ophthalmology. What Is Dry Eye?. California, United States. [internet].
  5. American academy of ophthalmology. What Are Eye Allergies?. California, United States. [internet].
  6. American academy of ophthalmology. What Is Blepharitis?. California, United States. [internet].
और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें