myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

त्वचा के अंदरूनी हिस्से में आई चोट को गुम चोट कहा जाता है। इस स्थिति में सिर्फ प्रभावित जगह पर दर्द होता है, इसके अलावा किसी प्रकार का निशान या घाव दिखाई नहीं देता है। गुम चोट कई बार गंभीर भी हो सकती है, जिसे तुरंत डॉक्टर को दिखाने की आवश्यकता होती है। हालांकि, यदि गुम चोट किसी गंभीर स्थिति के कारण नहीं है, तो घरेलू उपायों की मदद से भी इस स्थिति का इलाज किया जा सकता है।

  1. हल्दी और अनानास है गुम चोट का घरेलू नुस्खा - Haldi aur ananas hai gum chot ka gharelu nuskha
  2. गोल्डन मिल्क है गुम चोट का घरेलू इलाज - Golden milk hai gum chot ka gharelu ilaj
  3. अदरक से करें गुम चोट का इलाज - Ginger se karein gum chot ka ilaj
  4. अरंडी का तेल है गुम चोट का घरेलू उपचार - Arandi ka tel hai gum chot ka gharelu upchar
  5. सेंधा नमक है गुम चोट का आयुर्वेदिक इलाज - Sendha namak hai gum chot ka ayurvedic ilaj
  6. ठंडी और गर्म सिकाई है गुम चोट का देसी नुस्खा - Thandi aur garam sikai hai gum ka desi nuskha
  7. हॉट बाथ है गुम चोट का रामबाण इलाज - Hot bath hai gum chot ka rambaan ilaj

हल्दी और अनानास, इन दोनों के मिश्रण से इलाज की प्रक्रिया में तेजी आती है और इस मिश्रण को खासतौर से खून पतला करने और दर्द निवारक गुणों के लिए जाना जाता है। इसके एंटी इंफ्लामेटरी प्रभाव जोड़ो में दर्द, सूजन व लालिमा की समस्या को कम करने में मदद करते हैं।

आवश्यक सामग्री

  • 1 चम्मच हल्दी पाउडर
  • 2-3 चम्मच अनानास का रस
  • 1 कपड़ा/गर्म पट्टी

इस्तेमाल का तरीका

  • अनानास के रस को हल्दी के साथ मिलाकर इसका पेस्ट बना लें
  • अब पेस्ट को अपने प्रभावित हिस्से पर लगाएं और गर्म पट्टी या किसी कपड़े से ढक लें

आप चाहें तो हल्दी को अपने आहार में भी शामिल करके इसका सेवन भी कर सकते हैं, जैसे कि चाय, गर्म दूध और पानी आदि।

कब इस्तेमाल करें
इस उपाय को दिन में दो से तीन बार इस्तेमाल करने की सलाह दी जाती है।

गुम चोट का एक बेहतरीन इलाज है दूध, हल्दी, शक्कर और अदरक। इन सभी के मिश्रण से चोट के इलाज और दर्द को कम करने में मदद मिलती है। इस मिश्रण में वो सभी गुण होते हैं, जो चोट के लक्षणों को ठीक करते हैं, जिसमें एंटी-इंफ्लामेटरी (सूजन को कम करने वाले), एंटीसेप्टिक (रोगाणुरोधक), एंटीवायरल (वायरल को खत्म करने वाले) और एंटीबैक्टीरियल (बैक्टीरिया को नष्ट करने वाले) गुण शामिल हैं।

आवश्यक सामग्री

  • 1 चम्मच शक्कर
  • 1 चम्मच अदरक का रस
  • 1 कप पानी
  • ½ कप दूध

इस्तेमाल का तरीका

  • शक्कर को पानी में डाल कर उबाल लें, जब तक वह पिघल न जाए
  • अब इसमें अदरक का रस, हल्दी और आधा कप दूध मिलाएं और फिर से उबाल लें 
  • गुनगुना होने पर पिएं

कब इस्तेमाल करें
इस उपाय को दिन में 2 बार इस्तेमाल करें, जब तक गुम चोट ठीक न हो जाए।

अदरक में मौजूद एंटी-इंफ्लामेटरी गुण त्वचा में चोट संबधी लगभग सभी स्थितियों के लिए बेहतर रहता है। अपने रोजाना के आहर में अदरक के सेवन को बढ़ाने से उपचार में मदद मिलती है।

आवश्यक सामग्री

इस्तेमाल का तरीका

  • पानी में अदरक डाल कर इसे गर्म कर लें
  • अब पानी में ग्रीन टी बैग मिलाएं
  • इसके बाद टेस्ट के लिए इसमें शहद और नींबू का रस मिला लें
  • गुनगुना होने पर इसका सेवन करें

इसके अलावा आप अदरक व सेंधा नमक को अपने नहाने के पानी में मिलाकर स्नान भी सकते हैं।

कब इस्तेमाल करें
इस प्रक्रिया को दिन में दो से तीन बार इस्तेमाल करें।

अरंडी का तेल दर्द निवारक औषधि है, जो चोट का जल्दी इलाज करके दर्द को खत्म करने में मदद करती है। इसमें एंटी इंफ्लेमेटरी गुणों के साथ एंटी-बैक्टीरियल प्रभाव भी होते हैं जो चोट के इन्फेक्शन को फैलने से रोकते हैं।

आवश्यक सामग्री

इस्तेमाल का तरीका

  • अरंडी के तेल को हल्का गर्म कर लें
  • अब इसे अपने हाथों में लेकर अपने प्रभावित हिस्से की मालिश करें
  • इसके बाद इसे किसी कपड़े या गर्म पट्टी से ढक लें
  • अब इसके ऊपर गर्म बोतल या हीटिंग ब्लैंकेट रखें और 20 से 30 मिनट के लिए छोड़ दें

कब इस्तेमाल करें
इस उपाय को दिन में दो बार करें जब तक दर्द के लक्षण चले न जाएं।

सेंधा नमक इलाज की प्रक्रिया को बढ़ाने का एक प्रभावी नुस्खा है। सेंधा नमक पर किए गए अध्ययनों में यह पाया गया कि यह दर्द से आराम दिलाता है और मांसपेशियों की ऐठन को ठीक करता है। इसके अलावा यह मस्तिष्क को शांत करने, रक्त संचार को बढ़ाने और मांसपेशियों व नसों को ठीक से काम करने में मदद करता है।

आवश्यक सामग्री

  • ½ कप सेंधा नमक
  • 1 बाल्टी गर्म पानी

इस्तेमाल का तरीका

  • सेंधा नमक को अपने नहाने के पानी में मिलाएं
  • अब इस पानी से स्नान करें

इसके अलावा आप चाहें तो अपने प्रभावित हिस्से को सेंधा नमक के पानी में कुछ समय के लिए डाल कर भी बैठ सकते हैं।

कब इस्तेमाल करें

इस उपाय को चोट या दर्द महसूस होते ही इस्तेमाल करने की सलाह दी जाती है।

गर्म या ठंडे पानी की सिकाई से कई बार दर्द में आराम मिलता है। गर्म सिकाई प्रभावित मांसपेशियों को मुलायम बनाती है और सूजन, जलन व मोच को ठीक करती है। वहीं दूसरी ओर ठंडी सिकाई नसों को सुन्न करके दर्द से आराम दिलाती है, साथ ही इससे रक्त वाहिकाएं संकुचित हो जाती हैं, जिससे मांसपेशियों की सूजन से आराम मिलता है।

आवश्यक सामग्री

  • 1 बर्तन ठंडा पानी
  • 1 बर्तन गर्म पानी
  • 1 कपड़ा/पट्टी

इस्तेमाल का तरीका

  • कपड़े को ठंडे पानी में भिगोकर सिकाई करना ज्यादा कारगर माना जाता है
  • इसके लिए चाहें तो बर्फ का भी इस्तेमाल कर सकते हैं
  • अगर चोट ज्यादा गंभीर ना हो तो गर्म पानी से सिकाई की सलाह दी जाती है
  • इसके लिए कपड़े को गर्म पानी में भिगोकर अपने प्रभावित हिस्से पर लगाएं
  • इस उपाय के साथ अपने प्रभावित हिस्से को आराम भी दें, क्योंकि इससे इलाज की प्रक्रिया बढ़ जाती है। 

कब इस्तेमाल करें
इस प्रक्रिया को 30 मिनट तक करें जब तक आपकी अंदरूनी चोट ठीक न हो जाए।

यह हर प्रकार की स्थिति के लिए अच्छा हो सकता है, क्योंकि इससे आपकी मांसपेशियों, नसों और हड्डियों पर अच्छा प्रभाव पड़ता है जैसे कि पीठ का दर्द और जोड़ो में दर्द। गर्मी हमारी मांसपेशियों और नसों में नमी और मुलायम बनाती है, जिससे चोट के कारण होने वाले दर्द से आराम मिलता है। यह उपाय इसलिए भी कारगर है, क्योंकि यह आपके पूरे शरीर की मांसपेशियों, नसों और हड्डियों के दर्द को एक साथ ठीक करता है।

आवश्यक सामग्री

  • 1 बाल्टी गर्म पानी

इस्तेमाल का तरीका

  • नहाने के लिए पानी गर्म करें 
  • ध्यान रहे कि पानी ज्यादा गर्म न हो क्योंकि इससे आपकी त्वचा भी जल सकती है 
  • ज्यादा से ज्यादा पानी अपने गुम चोट से प्रभावित हिस्से पर डालने की कोशिश करें
  • नहाने के बाद कुछ समय तक प्रभावित जगह पर सूखा तौलिया लपेट कर रखें।

कब इस्तेमाल करें 
इस उपाय को दिन में 1 से 2 बार करें। 

अगर दो से तीन दिन के अंदर गुम चोट के लक्षण कम न हों तो डॉक्टर से सलाह लें। ऐसा इसलिए क्योंकि कई दिनों तक गुम चोट रहना किसी गंभीर स्थिति का संकेत भी हो सकता है।

और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें
कोरोना मामले - भारतx

कोरोना मामले - भारत

CoronaVirus
1205 भारत
1पुडुचेरी
1मणिपुर
3हिमाचल प्रदेश
1मिजोरम
38पंजाब
3ओडिशा
13लद्दाख
8चंडीगढ़
7उत्तराखंड
9अंडमान निकोबार
7छत्तीसगढ़
5गोवा
198महाराष्ट्र
202केरल
22पश्चिम बंगाल
82उत्तर प्रदेश
71तेलंगाना
67तमिलनाडु
59राजस्थान
47मध्य प्रदेश
83कर्नाटक
87दिल्ली
36हरियाणा
48जम्मू-कश्मीर
69गुजरात
23आंध्र प्रदेश
15बिहार

मैप देखें