myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

चूहों का इंसानों के रहने के स्थान के आस-पास पाया जाना बहुत आम है। चूहों के दांत बहुत बड़े होते हैं जिनसे वे दर्दनाक तरीके से काट लेते हैं। इनके दांत इतने मजबूत होते हैं कि ये लकड़ी और कॉन्क्रीट जैसे ठोस पदार्थों को भी काट सकते हैं। अधिकतर चूहे लोगों के आस-पास आना पसंद नहीं करते और खाली व शांत जगहों पर रहते हैं। हालांकि, खुद को बचाने के लिए ये लोगों को काट भी सकते हैं। कभी-कभी चूहे सोते हुए लोगों या छोटे बच्चों को भी काट लेते हैं।

(और पढ़ें - सांप के काटने पर क्या करें)

चूहे के काटने पर घाव हो जाता है जो कम या ज्यादा गहरा हो सकता है। घाव एक या एक से अधिक भी हो सकते हैं। चूहों की कुछ प्रजातियों के थूक से भी हानिकारक बीमारियां फैल सकती हैं।

(और पढ़ें - घाव भरने के घरेलू उपाय)

इस लेख में चूहे के काटने पर क्या होता है, क्या करना चाहिए और चूहों के काटने से कौनसे रोग होते हैं के बारे में बताया गया है।

  1. चूहे के काटने से क्या होता है - Chuhe ke katne par kya hota hai
  2. चूहे के काटने पर क्या करना चाहिए - Chuhe ke katne par kya kare
  3. चूहे के काटने से होने वाला रोग - Chuhe ke katne se hone wali bimariyan

चूहे के काटने पर निम्नलिखित मुख्य समस्याएं होती हैं -

  • चूहे के काटने पर लाली होना सबसे आम समस्या है। त्वचा को नुक्सान होने के कारण जिस जगह पर चूहे ने काटा है वः जगह लाल हो जाती है।
  • चूहे की काटी गई जगह पर चकत्ते भी हो सकते हैं।
  • त्वचा की सतहों और अन्य ऊतकों को नुक्सान होने के कारण चूहे की काटी गई जगह पर दर्द होना एक बहुत आम समस्या है।
  • चूहे के काटने से प्रभावित क्षेत्र में सूजन भी हो सकती है।

(और पढ़ें - हाथ में दर्द के कारण)

चूहे के काटने पर होने वाली बीमारियों या समस्याओं के कारण अन्य समस्याएं भी हो सकती हैं, जैसे -

चूहे के काटने पर आप घायल व्यक्ति को निम्नलिखित तरीके से प्राथमिक उपचार दे सकते हैं -

  • घाव के आस-पास मौजूद मिट्टी, ज्वेलरी या कपड़े को हटा दें, क्योंकि सूजन होने पर टाइट ज्वेलरी या कपड़े से खून का प्रवाह रुक सकता है।
  • घाव को छूने से पहले अपने हाथ अच्छी तरह से साबुन से धो लें।
  • इसके बाद अगर घाव से खून बह रहा है, तो खून बहना रोकना सबसे महत्वपूर्ण है। (और पढ़ें - खून बहना बंद कैसे करें)
  • एक पट्टी या साफ कपडा लें और घाव पर रखकर दबाव बनाएं।
  • खून के रुकने के बाद घाव को अच्छी तरह से देख लें और घाव को हल्के हाथों से पानी व सबुन से धोएं।
  • इसके लिए आप गर्म पानी का इस्तेमाल भी कर सकते हैं।
  • घाव के अंदर मौजूद मिट्टी और अन्य पदार्थों को भी अच्छे से साफ करें।
  • इसके बाद घाव को निसंक्रमित करने के लिए उसे डेटॉल या सेवलॉन जैसी निसंक्रामक दवाओं से साफ करें।
  • दर्द से राहत के लिए मेडिकल स्टोर पर मिलने वाली दवाओं, जैसे आइबुप्रोफेन का उपयोग किया जा सकता है। (और पढ़ें - पैर में दर्द के घरेलू उपाय)
  • इसके बाद घाव पर कोई एंटीबायोटिक दवा या क्रीम लगाएं।
  • अब घाव को पट्टी या बैंडेज से ढक दें। याद रहे कि पट्टी ज्यादा टाइट न हो।
  • घाव के ठीक होने तक दिन में एक बार पट्टी जरूर बदलें और एंटीबायोटिक दवा भी लगाएं।

(और पढ़ें - कुत्ते के काटने पर क्या करें)

चूहों के काटने पर सबसे ज्यादा इन्फेक्शन होने का खतरा होता है। चूहे के काटने से होने वाली मुख्य संक्रामक बीमारी है “रैट-बाइट फीवर” (Rat-bite fever)। इस बीमारी से त्वचा की सूजन, बुखार और उल्टी जैसे लक्षण होते हैं। रैट-बाइट फीवर इससे संक्रमित चूहे के काटने या खंरोच मारने से फैलता है। ये संक्रमित चूहे के मल वाला खाना खाने से भी फ़ैल सकता है।

(और पढ़ें - बुखार में क्या खाएं)

अन्य जानवरों की तरह चूहों के काटने से रेबीज फैलने का खतरा नहीं होता है, इसीलिए आपको इसका टीका लगवाने की आवश्यकता भी नहीं होगी। हालांकि, लक्षण गंभीर होने या बढ़ने पर अपने डॉक्टर के पास अवश्य जाएं।
 

नोट: प्राथमिक चिकित्सा या फर्स्ट ऐड देने से पहले आपको इसकी ट्रेनिंग लेनी चाहिए। अगर आपको या आपके आस-पास किसी व्यक्ति को किसी भी प्रकार की आपातकालीन स्वास्थ्य समस्या है, तो डॉक्टर या अस्पताल​ से तुरंत संपर्क करें। यह लेख केवल जानकारी के लिए है। 

और पढ़ें ...