• हिं

कुत्तों में हॉट स्पॉट या एक्यूट मॉइस्ट डर्मेटाइटिस क्या होता है?

कुत्तों में 'एक्यूट मॉइस्ट डर्मेटाइटिस' की समस्या कभी भी विकसित हो सकती है। यह समस्या तब होती है जब कुत्ते एक ही जगह पर अधिक मात्रा में खरोचते या खुजली करते हैं, जिससे वहां निशान पड़ जाता है। त्वचा के ऐसे हिस्सों को हॉट स्पॉट या प्योट्रॉमैटिक डर्मेटाइटिस के नाम से परिभाषित किया जाता है। आमतौर पर वे उस हिस्से को बार-बार चाटने और चबाने की कोशिश करते हैं, जिस वजह से उस हिस्से के बाल निकल जाते हैं।

कुत्तों में खुजली अक्सर किसी पिस्सू, टिक, कीड़े के काटने, खाने के समान से एलर्जिक रिएक्शन होने, किसी विशेष वातावरण में रहने, कान का संक्रमण, गुदा थैली रोग और अच्छी साफ सफाई न होने के कारण हो सकती है। हड्डियों की समस्याओं की वजह से भी हॉट स्पॉट हो सकता है। इसके अलावा, प्योडर्मा या प्राइमरी स्किन इंफेक्शन भी मॉइस्ट डर्मेटाइटिस का कारण बन सकती है।

(और पढ़ें - कुत्तों के कीड़े मारना)

जब कोई कुत्ता किसी घाव को चाटता या काटता है, तो कुत्ते की लार उस जगह पर इकट्ठा हो सकती है। ऐसे में वह हिस्सा ज्यादातर नम रहता है और बैक्टीरिया का जोखिम बढ़ जाता है, जिससे संक्रमण का खतरा हो सकता है। इन हॉट स्पॉट का पता जल्दी नहीं लगाने पर इनका आकार तेजी से बढ़ सकता है। यदि इनका इलाज नहीं किया गया तो मवाद बनना शुरू हो सकता है और इससे संक्रमण की स्थिति बदतर हो सकती है।

आमतौर पर यह हॉट स्पॉट लाल, सूजा हुआ और नम होता है। हालांकि, कुछ कुत्तों में घाव छाले की तरह भी दिख सकते हैं। हॉट स्पॉट की समस्या बिल्लियों की तुलना में कुत्तों में अधिक सामान्य है और यह ज्यादातर गर्मियों के मौसम में प्रभावित करता है। यहां तक कि मोटी त्वचा वाले कुत्तों में भी हॉट स्पॉट की आशंका अधिक होती है।

'ब्रॉड बेस्ड एंटीबायोटिक्स' (रोग पैदा करने वाले बैक्टीरिया के खिलाफ लड़ने वाली दवाई) हॉट स्पॉट पर अच्छा असर करती हैं। यदि समय पर उपचार शुरू कर दिया जाए, तो संक्रमण को आगे बढ़ने से आसानी से रोका जा सकता है।

हालांकि, हॉट स्पॉट की रोकथाम को लेकर सचेत रहना बेहतर तरीका है। इसके लिए आप साफ सफाई का विशेष ध्यान रखें और नियमित रूप से कुत्ते की देखरेख करें। अगर कुत्ते की त्वचा पर कोई घाव या सूजन है तो उस हिस्से को सूखा रखें, क्योंकि त्वचा पर नमी की वजह से बैक्टीरिया का जोखिम रहता है।

(और पढ़ें - कुत्ते का स्वास्थ्य और देखभाल)

  1. कुत्ते की खुजली (हॉट स्पॉट) के संकेत और लक्षण क्या हैं - Kutte ki khujli (Hot Spots) ke sanket aur lakshan kya hain
  2. कुत्ते की खुजली (हॉट स्पॉट) के कारण क्या हैं - Kutte ki khujli (Hot Spots) ke karan kya hain
  3. कुत्ते की खुजली (हॉट स्पॉट) का निदान कैसे होता है - Kutte ki khujli (Hot Spots) ka parikshan kaise hota hai
  4. कुत्ते की खुजली (हॉट स्पॉट) का उपचार कैसे होता है - Kutte ki khujli (Hot Spots) ka upchar kaise hota hai
  5. कुत्ते की खुजली (हॉट स्पॉट) से संबंधित टिप्स - Kutte ki khujli (Hot Spots) se sambandhit tips

संक्रमण बढ़ने पर प्रभावित त्वचा लाल हो सकती है और इस हिस्से के आसपास के बाल गिर सकते हैं। हॉट स्पॉट की स्थिति काफी दर्दनाक हो सकती है और ऐसे में निम्नलिखित लक्षण या संकेत दिखाई दे सकते हैं :

  • प्रभावित हिस्से में लगातार चाटना या खरोंचना
  • प्रभावित हिस्से को छूने पर दर्द होना
  • दर्द बढ़ने पर चिड़चिड़ा व आक्रामक होना
  • यदि उन्हें हिलने में दर्द होता है तो वे सुस्त​ दिखाई दे सकते हैं
  • बैक्टीरियल इंफेक्शन की वजह से भूख न लगना 

यदि संक्रमण गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल स्थितियों के कारण बनता है तो ऐसे में बैक्टीरियल इंफेक्शन की वजह से भूख में कमी हो सकती है।

एक्यूट मॉइस्ट डर्मेटाइटिस त्वचा की सतह पर होने वाली सूजन के रूप में शुरू होती है और बैक्टीरिया इंफेक्शन की वजह से यह स्थिति बदतर हो जाती है। इसके अंतर्निहित सूजन के कई कारण हो सकते हैं : 

  • टिक या पिस्सू के काटना : टिक इंफेक्शन बहुत खुजलीदार हो सकते हैं और यह संक्रमण का प्रसार कर सकते हैं।
  • खुले घाव : आपका कुत्ता खेलते समय घायल हो सकता है, इस दौरान उसे नुकीली चीज से कट या खरोंच लग सकती है या उसे कांटा लग सकता है। यदि घाव का पता नहीं लगाया गया, तो यह हॉट स्पॉट का कारण बन सकता है।
  • कान का संक्रमण : यह समस्या ज्यादातर उन कुत्तों में होती है जिनके कान फ्लॉपी यानी लंबे व लटके हुए होते हैं। ऐसे कुत्तों की कान की नलिका अंग्रेजी अक्षर 'L' के आकार की होती है, यदि इनके कान में पानी गया, तो वहां हल्की नमी बनी रहेगी जिस वजह से संक्रमण का जोखिम हो सकता है।
  • गुदा ग्रंथि रोग : यह तब होता है जब गुदा थैली पर दबाव पड़ता है। इस दवाब की वजह से बैक्टीरिया को पनपने में मदद मिलती है और यह स्थिति कुत्ते के लिए असहज हो जाती है।
  • व्यवहार संबंधी समस्याएं : अधिक उम्र के कुत्तों में आर्थोपेडिक की समस्या से जोड़ों में दर्द हो सकता है, जिससे कुत्ते इस हिस्से को चाटने या खरोंचने लगते हैं और यह मॉइस्ट डर्मेटाइटिस का कारण बन सकता है।

यदि आप नोटिस करते हैं कि आपका पालतू जानवर परेशान है और उसकी त्वचा पर किसी हिस्से में सूजन है, तो ऐसे में पशु चिकित्सक के पास जाना एक अच्छा विचार हो सकता है क्योंकि वे अंतर्निहित कारणों का पता लगाने के लिए जरूरी जांच कर सकते हैं।

ऐसी स्थिति में व्यापक रूप से ब्रॉड बेस्ड एंटीबायोटिक्स दवाओं का उपयोग किया जाता है, क्योंकि यह बैक्टीरिया से लड़ने में असरदार होती हैं। इसके अलावा पशु चिकित्सक प्रभावित हिस्से की बायोप्सी कर सकते हैं ताकि इस बात का पता चल सके कि किस प्रकार के बैक्टीरिया के कारण यह समस्या हुई है। जब तक संक्रमण बहुत अधिक नहीं फैला है, तब तक इस स्थिति का इलाज घर पर ही किया जा सकता है।

हॉट स्पॉट की समस्या बहुत सामान्य है, खासकर गर्मी के मौसम में यह अधिक प्रभावित करती है। अच्छी बात यह है कि कुत्ते को जल्दी ठीक करने के लिए कुछ सरल टिप्स और ट्रिक्स मौजूद हैं जिन्हें आप अपना सकते हैं :

खुली चोट या घाव को अक्सर कुत्ते चाटने की कोशिश करते हैं इससे कई बार स्थिति और खराब हो जाती है, ऐसे में पशुचिकित्सक घाव पर जरूरी दवाइयां लगाकर उसे कवर कर सकते हैं। हालांकि, घाव में हवा लगने देना बेहतर होता है क्योंकि हवा के संपर्क में आने से घाव प्राकृतिक रूप से सूख सकता है। इसलिए कुत्ते को घाव को चाटने से रोकने के लिए एलिजाबेथन कॉलर का भी इस्तेमाल किया जा सकता है।

जरूरत पड़ने पर पशु चिकित्सक घाव के चारों तरफ के बाल काटते हैं और इसके बाद प्रभावित स्थान को साफ करते हैं। यह दर्दनाक हो सकता है, इसलिए कुत्ते के साथ बहुत अच्छा व्यवहार करने की जरूरत होती है। इससे उन्हें ट्रीटमेंट को लेकर डर कम होता है और डॉक्टर भी अच्छे से अपना काम कर पाते हैं। इस दौरान अंतर्निहित कारणों की जांच की जाती है। हालांकि, उपचार इस बात पर निर्भर करता है कि इसका कारण क्या है।

कुछ मामलों में, यह समस्या एक बार ठीक हो जाने के बाद दोबारा से ट्रिगर नहीं होती है, लेकिन दुर्लभ मामलों में ऐसा दोबारा से हो सकता है और आपके पालतू जानवर को परेशानी हो सकती है। ऐसे में फिर से एंटीबायोटिक दवाओं के साथ ट्रीटमेंट शुरू किया जाता है। सामान्य तौर पर, पशु चिकित्सक आपको अपने कुत्ते की स्वच्छता बनाए रखने की सलाह देते हैं। यदि साफ सफाई रहेगी तो हॉट स्पॉट जैसी तमाम बीमारियों की रोकथाम की जा सकती है।

संदर्भ

  1. Veterinary Partner. [Internet]. Veterinary Information Network. Davis, California; Hot Spots in Dogs and Cats
  2. VCA. [Internet]. VCA Inc.; First Aid for Hot Spots in Dogs
  3. Pet MD. [Internet]. Pet MD, LLC; How to Treat Hot Spots on Dogs
  4. VCA. [Internet]. VCA Inc.; Hot Spots in Dogs
  5. Whole Dog Journal. [Internet]. Belvoir Media Group, LLC; Preventing Hot Spots
ऐप पर पढ़ें
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ