बोसवेलिया पेड़ (Boswellia) एक बहुत ही लोकप्रिय जड़ी बूटी के रूप में जाना जाता रहा है। स्कॉटिश बॉटनिस्ट जॉन बोसवेल के नाम पर इस जड़ी बूटी का नाम है। यह पेड़ भारत, उत्तरी अफ्रीका और मध्य पूर्वी देशो के सूखे पहाड़ी इलाकों में पाया जाता है। लेकिन हर जगह बोसवेलिया की अलग अलग प्रजातियाँ पाई जाती हैं। बोसवेलिया की एक मुख्य प्रजाति बोसवेलिया सेरेटा (Boswellia Serrata) भारत में उगती है और यह ख़ासतौर से भारत और पाकिस्तान के पंजाब क्षेत्र में पाई जाती है। बोसवेलिया सेरेटा को संस्कृत में शल्लकी के नाम से भी जाना जाता है। इससे निकला गोंद राल भारतीय फ्रैंकिनस (indian frankincense) या लोबान, कुंदर, मकुंद कहलाता है जिसे औषधि के रूप में सदियों से आयुर्वेद चिकित्सा में जोड़ों के दर्द और सूजन के इलाज के लिए प्रयोग किया जाता रहा है।

शल्लकी एक मध्यम आकार का पेड़ है जिसकी राख के रंग जैसी छाल होती है। इसके पत्ते नीम के पौधे की तरह होते हैं जिन पर छोटे सफेद फूल लगे होते हैं। यह दो हज़ार वर्षों से भी अधिक एक गठिया विरोधी जड़ी बूटी के रूप में इस्तेमाल किया गया है।

  1. शल्लकी (लोबान) के फायदे - Shallaki Benefits in Hindi
  2. शल्लकी के नुकसान - Shallaki Side Effects in Hindi

लोबान को आयुर्वेदिक औषधी के रूप में सदियों से इस्तेमाल किया जा रहा है। लोबान, बोसवेलिया सेरेटा पेड़ का एक सुगंधित गोंद है। धार्मिक रूप से लोबान को जलाने की परंपरा सदियों से चलती आ रही है। लोबान का स्वास्थ्य पर भी सकारात्मक प्रभाव पड़ता है। इससे निकलने वाले धुएं से दिमाग को शांति मिलती है और थकान भी कम होती है। myUpchar के डॉ. लक्ष्मीदत्ता शुक्ला का कहना है कि आयुर्वेदिक चिकित्सा में इसे औषधि के रूप में जोड़ों के दर्द और सूजन के इलाज के लिए प्रयोग किया जाता रहा है। लोबान में एंटीसेप्टिक, एनाल्जेसिक, एस्ट्रिन्जेंट, एक्सपेक्टोरेंट, एंटी-इंफ्लेमेटरी, एंटी-डिप्रेसेंट, स्टीमुलेंट गुण होते हैं जो कई स्वास्थ्य लाभ देते हैं।

शल्लकी का फायदा गठिया के लिए - Shallaki for Arthritis in Hindi

शल्लकी एक आयुर्वेदिक जड़ी बूटी है जिसमें बोसोवेलिक एसिड नामक सूजन को कम करने वाला ट्राइटपेनॉयड शामिल है। बोसोवेलिक एसिड ऑस्टियोार्थराइटिस और रुमेटीइड अर्थराइटिस और पीठ दर्द के लिए प्रभावी होता है। बोसवेलिया ऊतको की सूजन और संयोजी ऊतक के टूटने को रोकने में लाभकारी होता है। शल्लकी से निकला गोंद राल यानी भारतीय लोबान दर्द और जकड़न को कम करने में मदद कर सकता है। अनुसंधान से यह भी पता चलता है कि बोसवेलिया दर्द और सूजन के लिए मौखिक रूप से लिया जा सकता है। इसके अलावा इससे बनी क्रीम भी गठिया में आराम दे सकती है।

शोधकर्ताओं का मानना है कि लोबान से ल्यूकोट्रिएनेस के स्राव को रोकने में मदद मिलती है। यह एक ऐसा कम्पाउंड है जो सूजन पैदा करता है। टेर्पेन्स और बोसवेलिक एसिड लोबान में सबसे मजबूत एंटी-इंफ्लेमेटरी कम्पाउंड होते हैं। इसलिए लोबान का अर्क ऑस्टियोआर्थराइटिस और रुमेटाइड गठिया के लक्षणों को कम करने में मदद कर सकता है।

बोसवेलिया के फायदे करें तनाव को कम - Boswellia Extract For Stress in Hindi

लोबान की खुशबू में तनाव को कम करने वाले गुण होते हैं। बोसवेलिया सेराटा रेजिन का धुआँ सूंघने से आपका तनाव कम हो जाता है। उपयोग करने के लिए, एक बर्नर में गर्म कोयले को डालें और उस पर लोबान को छिड़क दें। उसके बाद इसके धुएँ को सूँघे।

लोबान के फायदे दिलाएँ सिरदर्द से राहत - Boswellia Gum Resin For Headaches in Hindi

लोबान एक शक्तिशाली एनाल्जेसिक है और यह पुराने सिरदर्द से राहत पाने में मदद करती है। क्लस्टर सिरदर्द जो हाइपोथेलेमस ग्रंथियों (hypothalamus glands) में असामान्यताओं के कारण होता है, जिसमें बहुत अधिक दर्द होता है। इसलिए आप किसी भी प्रकार के सिर दर्द से राहत पाने के लिए बोसवेलिया सेराटा के अर्क का उपयोग कर सकते हैं।

(और पढ़ें - सिर दर्द का इलाज)

लोबान का तेल बंद नाक के लिए - Indian Frankincense Benefits For Congestion in Hindi

श्वसन नली, फेफड़े इत्यादि में सूजन आने से सांस लेने में दिक्कत होती है और इसकी वजह से सांस फूलने, सीने में दर्द की शिकायत या खांसी की तकलीफ हो सकती है। लोबान ऐसी ही श्वसन तंत्र की परेशानियों में राहत देने में मदद करता है। इसके एंटी-इंफ्लेमेटरी व एंटी-डिप्रेसेंट गुण श्वसन तंत्र की सूजन को कम करते हैं। यही नहीं बंद नाक को खोलने में भी मदद करता है।

इस उपाय के लिए पानी को हल्दी पाउडर के साथ एक पैन में उबाल लें, आग से उतारने के बाद इसमें बोसवेलिया सेराटा तेल की कुछ बूंदें मिलाएँ और इसे भाप लेने के लिए उपयोग करें।

(और पढ़ें – बंद नाक खोलने का उपाय है नमक)

बोसवेलिया का गोंद (राल) करे कोलेस्ट्रॉल को कम - Boswellia For Cholesterol in Hindi

बोसवेलिया सेराटा में कोलेस्ट्रॉल को कम करने वाले गुण भी पाए जाते हैं। जब दोनों लिंगों के 60 टाइप-2 मधुमेह रोगियों को 900 मिलीग्राम बोसवेलिया सेराटा अर्क 6 सप्ताह की अवधि के लिए दिया गया, तब उनके एचडीएल (HDL) स्तर में बहुत वृद्धि और एलडीएल (LDL) में कमी हुई। 

(और पढ़ें – अधिक कोलेस्ट्रॉल वाले खाने के बाद आयुर्वेद के अनुसार ज़रूर करें इन पाँच बातों का ध्यान)

अल्सरेटिव कोलाइटिस में उपयोगी है शल्लकी - Boswellia for Ulcerative Colitis Treatment in Hindi

क्रोहन डिजीज और अल्सरेटिव कोलाइटिस दोनों आंत्र की सूजन के प्रकार है जिनका लोबान के साथ इलाज किया जा सकता है। एक शोध में बोसवेलिया सेराटा को क्रोहन डिजीज के उपचार के लिए इस्तेमाल की गई दवा के बराबर प्रभावी पाया गया लेकिन कुछ साइड इफेक्ट्स के साथ। बोसवेलिया पेट में दर्ददस्त और मल में रक्त आदि अल्सरेटिव कोलाइटिस के लक्षणों में सुधार कर सकता है। 

(और पढ़ें – एलोवेरा का रस सूजन और दर्द से देता है राहत)

लोबान के उपाय करें कैंसर के उपचार में - Indian Frankincense for Cancer in Hindi

लोबान को जिगर और मलाशय के कैंसर के उपचार में प्रभावी पाया गया है जो कि वैज्ञानिक शोध में मृत्यु के प्रमुख कारण हैं।

(और पढ़ें – कैंसर से लड़ने वाले दस बेहतरीन आहार)

लोबान का उपयोग करे मधुमेह के लिए - Boswellia Serrata Extract For Diabetes in Hindi

बोसवेलिया सेराटा के अर्क में रक्त शर्करा को कम करने वाले गुण होते हैं। फाइबर से भरपूर खाद्य पदार्थ टाइप 2 डायबिटीज के रोगियों में रक्त शर्करा के स्तर को कंट्रोल करने में मदद करते हैं। लोबान में बहुत अधिक मात्रा में फाइबर होते हैं जो रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने की अपनी क्षमता के लिए पहचाना जाता है। ऐसे अध्ययन हैं जिन्होंने लोबान में पाए जाने वाले डाइटरी फाइबर की क्षमताओं को साबित किया है। प्रयोगशालाओं में वैज्ञानिकों द्वारा किए गए एक अध्ययन ने स्थापित किया कि इसका उपयोग रक्तचाप को कम करने के लिए किया जा सकता है। इसलिए वैज्ञानिकों ने निष्कर्ष निकाला कि डायबिटीज के रोगियों की सुरक्षा के लिए लोबान फाइबर का उपयोग किया जा सकता है। लेकिन अपने डाक्टर से सलाह करने के बाद ही लोबान का सेवन करें।

त्वचा के लिए करे बोसवेलिया तेल का इस्तेमाल - Boswellia Oil Skin Benefits in Hindi

बोसवेलिया सेराटा में एंटीसेप्टिक गुण होते हैं, इसलिए यह त्वचा पर छोटे घाव, स्क्रेप्स, कीट के काटने, खुजली, मुंहासे के निशान और धब्बे मुक्त त्वचा के उपचार के लिए उपयोग किया जा सकता है।

लोबान डर्मल बैक्टीरिया को मारने में मदद करता है। यह त्वचा की लोच को बढ़ावा देता है और उसे कोमल बनाता है। साथ ही झुर्रियों और स्ट्रेच के निशान को कम करता है। इसमें एंटीसेप्टिक गुण होते हैं जो त्वचा के मुंहासों के निशान, धब्बे, छोटे घाव, खुजली आदि के इलाज में भी काम आते हैं। लोबान के तेल को क्रीम या लोशन में मिलाकर लगाया जा सकता है।

(और पढ़ें – मुल्तानी मिट्टी के फायदे बालों और त्वचा के लिए)

बोसवेलिया के गुण घरेलू पशुओं के लिए फायदेमंद - Boswellia Serrata Extract for Cats in Hindi

बोसवेलिया सेराटा के सूजन कम करने और दर्द से राहत वाले गुणों को घरेलू पशुओं के लिए भी इस्तेमाल किया जा सकता है।

ओरल हेल्थ बनाए रखता है - Loban for Oral Health in Hindi

लोबान सांसों की बदबू, दांत के दर्द, कैविटीज और मुंह के घावों को रोकने में मदद करता है। यह जो बोसवेलिक एसिड प्रदान करता है, उसमें एंटी-बैक्टीरियल गुण होते हैं, जो मुंह के संक्रमण को रोकने और इलाज में मदद करते हैं।

पाचन समस्याओं का इलाज - Loban for Digestion problems in Hindi

लोबान अपने फाइबर, प्राकृतिक शर्करा और कार्बोहाइड्रेट के कारण पाचन समस्याओं का इलाज करने के लिए जाना जाता है। यह पाचन में योगदान देता है और उन बैक्टीरिया के स्तर में मदद करता है जो पेट और आंतों के लिए फायदेमंद होते हैं। वैज्ञानिकों ने पाया है कि यह घुलनशील फाइबर की आवश्यक मात्रा प्रदान करता है जो शरीर द्वारा अच्छी तरह से कार्य करने के लिए जरूरी है।

शल्लकी कैप्सूल गैस्ट्रिक जलन का कारण हो सकता है। इसलिए संवेदनशील पेट या गैस्ट्राइटिस वाले लोगों को कैप्सूल लेने से बचना चाहिए।

कुछ लोग गैस्ट्रिक जलन को कम करने के लिए भोजन के 5 मिनट बाद इसे ले सकते हैं।

शल्लकी कैप्सूल स्तनपान के दौरान लिया जा सकता है। गर्भावस्था के दौरान इसके प्रयोग के लिए अपने चिकित्सक से सलाह लें।

(और पढ़ें - गर्भावस्था में पेट में दर्द और गर्भवती महिला के लिए भोजन)

फ़्रैंकिनसेन तेल को मौखिक रूप से लिया जा सकता है, लेकिन सुनिश्चित करें कि तेल असली हो।

बाहरी रूप से लगाते समय, त्वचा पर एक बूंद डालें और रगडें और अगर आप कोई भी एलर्जी प्रतिक्रिया देखते हैं तो तुरंत अपने चिकित्सक से परामर्श करें।


उत्पाद या दवाइयाँ जिनमें शल्लकी है

cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ