myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

मशरूम स्वास्थ्यवर्धक और औषधीय गुणों से युक्त खाद्य पदार्थ है। इसमें अमीनो एसिड, खनिज लवण, विटामिन जैसे तत्व पाए जाते हैं।

शाकाहारी हो या फिर माँसाहारी, मशरूम की सब्जी हर किसी की पसंद होती है। डॉक्टर का कहना है कि इसका सेवन मानव सेहत के लिए रामबाण है। इसके सेवन से हाई ब्लड प्रेशर पर नियंत्रण होता है, इसके अलावा यह मोटापे को भी कम करता है।

चीन में तो इसे महा औषधि और रसायन माना जाता है। वहीं रोम के लोग मशरूम को भगवान का आहार मानते हैं। भारत में उगने वाले मशरूम की 2 सबसे प्रसिद्ध प्रजातियां वाइट बटन मशरूम और इस्टर मशरूम है।

  1. मशरूम के फायदे - Mushroom ke Fayde in Hindi
  2. मशरूम के नुकसान - Mushroom ke Nuksan in Hindi

मशरूम के फायदे बनाएँ प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत - Mushroom for Immunity in Hindi

मशरूम में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट हमें हानिकारक फ्री रैडिकल से बचाते हैं। मशरूम का सेवन करने से शरीर मई एंटीवाइरल और अन्य प्रोटीन की मात्रा बढ़ती है, जो शरीर की कोशिकाओं की मरम्मत करता है। यह एक प्राकृतिक एंटीबायोटिक है जो माइक्रोबियल और अन्य फंगल संक्रमण को भी ठीक करता है। 

(और पढ़े - पपीता से होने वाले लाभ उठाएं प्रतिरक्षा प्रणाली के लिए)

कुकुरमुत्ता के लाभ करें हृदय रोगों से बचाव - Mushroom Benefits for Heart in Hindi

मशरूम मे हाई न्यूट्रिएंट्स पाए जाते हैं, इसलिए यह दिल के लिए भी अच्छे होते हैं। साथ ही इसमें कुछ तरह के एन्जाइम और रेशे पाए जाते हैं जो कि कोलेस्ट्रॉल लेवल को कम करते हैं।

(और पढ़ें – आलूबुखारा के स्वास्थ्य लाभ हृदय के लिए)

मशरूम के गुण हैं कैंसर के लिए फायदेमंद - Mushroom for Cancer Prevention in Hindi

मशरूम का सेवन करने से प्रोस्टेट और ब्रेस्ट कैंसर से बचाव होता है। क्योंकि इसमें बीटा ग्लाइसीन और लिनॉलिक एसिड होते हैं। कई शोध भी इस बात का समर्थन करते हैं कि मशरूम में मौजूद तत्व कैंसर के प्रभाव को कम करते हैं। मशरूम में काइटिन, लाइसिन और प्रोटीन की उपस्थिति मानव शरीर में ट्यूमर बनाने से रोकती है। साथ ही इसमें लगभग 22-35% प्रोटीन पाया जाता है। जो पौधे से प्राप्त प्रोटीन से कही अधिक होता है। 

(और पढ़ें – काली मिर्च के औषधीय गुण करें कैंसर से बचाव)

मशरूम खाने के फायदे बचाएँ मोटापे से - Mushroom Helps in Weight Loss in Hindi

मशरूम में लीन प्रोटीन होता है जो वजन घटाने के लिए मददगार हो सकता है। मोटापा कम करने वाले को प्रोटीन आहार लेने की सलाह दी जाती है, जिसके लिए मशरूम खाना बेहतर विकल्पों में से एक माना जाता है।

(और पढ़ें – डिलीवरी के बाद वजन कम कैसे करें)

कुकुरमुत्ता है मधुमेह में फयेमंद - Mushroom for Diabetics in Hindi

मधुमेह रोगियों के लिए मशरूम सर्वश्रेष्ठ आहार माना जाता है क्योंकि इसमें विटामिन, खनिज और फाइबर होते हैं। साथ ही साथ इसमें वसा, कार्बोहाइड्रेट और शक्कर भी नहीं होती है। यह शरीर में इंसुलिन के निर्माण में भी मदद करता है। इसमें वो सबकुछ पाया जाता है जो एक मधुमेह रोगी को चाहिए होता है।

मशरूम बेनिफिट्स बनाएँ बेहतर मेटाबोलिज्म - Mushroom ke Fayde Metabolism in Hindi

मशरूम में विटामिन बी होता है जो कि भोजन को ग्लूकोज में बदलकर ऊर्जा पैदा करता है। विटामिन बी 2 और बी 3 भी मेटाबोलिज्म को ठीक करता है। इसलिए मशरूम खाने से मेटाबोलिज्म बेहतर बना रहता है। 

(और पढ़े - मेटाबोलिज्म बढाने के लिए क्या खाएं)

मशरूम का उपयोग करे पेट विकारों के लिए - Mushroom Good for Stomach in Hindi

ताज़े मशरूम में पर्याप्त मात्रा में रेशे (fiber) और कार्बोहाइड्रेट होते हैं, इसका सेवन करने से कब्जअपच सहित पेट की विभिन्न विकारो में लाभ होता है। साथ ही इसके सेवन से शरीर में कोलेस्ट्रॉल और ग्लूकोज का अवशोषण भी कम होता है। 

(और पढ़े - इस तरह पाँच मिनट केवल एक जगह चलने से कर सकते हैं आप अपनी पेट की चर्बी को खत्म)

मशरूम खाने के लाभ बढ़ाएँ हीमोग्लोबिन लेवल - Mushroom for Hemoglobin in Hindi

मशरूम का सेवन रक्त में हीमोग्लोबिन के लेवल को बनाए रखता है। इसके अलावा इसमें बहुमूल्य फॉलिक एसिड प्रचुर मात्रा में होता है जो केवल माँसाहारी खाद्य पदार्थ में होता है। अतः लोहा तत्व और फॉलिक एसिड के कारण रक्त की कमी की शिकार महिलाएँ और बच्चों के लिए सबसे अच्छा आहार है।

मशरूम के औषधीय गुण बचाएँ कुपोषण से - Mushroom Khane ke Fayde for Malnutrition in Hindi

मशरूम गर्भावस्था, बाल्यावस्था, युवावस्था तथा वृद्धावस्था तक सभी चरणों में उपयोगी माना जाता है। इसमें मौजूद प्रोटीन, विटामिन, खनिज, वसा तथा कारबोहाइड्रेट बाल्यावस्था से युवावस्था तक कुपोषण से बचाते हैं। इसलिए डॉक्टर भी इसे खाने की सलाह देते हैं।

(और पढ़ें - गर्भावस्था में पेट दर्द और लड़का पैदा करने के उपाय)

यह कवक ज्यादातर केवल लाभ ही देता है लेकिन कुछ मामलों में इसका सेवन सावधानी से किया जाना चाहिए: उन्हें भी बोझ है, तो आप अपने पेट, आंतों को नुकसान होगा:

मशरूम अधिक उपयोग ना करें। क्योंकि इस उत्पाद के अधिक सेवन से कुछ लोगों को एलर्जी होने की संभावना होती है।

ऐसे मामलों को दुर्लभ है, लेकिन गर्भवती हैं और नर्सिंग महिलाओं को इसका सेवक़्न नहीं करना चाहिए।

छोटे बच्चों को इसके सेवन से बचना चाहिए।

कच्ची मशरुम का सेवन नहीं करना चाहिए क्योंकि मशरूम की कुछ प्रजातियां जहरीली होती हैं और कच्ची मशरूम खाने पर एलर्जी समेत अस्थिमा जैसी कई बीमारियों को उत्पन्न हो सकती है।

और पढ़ें ...