कुपोषण - Malnutrition in Hindi

Dr. Anurag Shahi (AIIMS)MBBS,MD

April 29, 2017

March 30, 2021

कुपोषण

कुपोषण एक गंभीर स्थिति है। कुपोषण तब होता है जब किसी व्यक्ति के आहार में पोषक तत्वों की सही मात्रा नहीं होती है। भोजन आपको स्वस्थ रखने के लिए ऊर्जा और पोषक तत्व प्रदान करता है। यदि आपको प्रोटीनकार्बोहाइड्रेटवसाविटामिन और खनिजों सहित पर्याप्त पोषक तत्व नहीं मिलते हैं तो आप कुपोषण से पीड़ित हो सकते हैं।

आप कुपोषण को इस प्रकार उल्लेख कर सकते हैं :

  • अल्पपोषण (undernutrition) - अगर आपको पर्याप्त पोषक तत्व प्राप्त नहीं हो रहे है तो उम्र के हिसाब से आपकी ऊंचाई और वजन कम हो जाता है। इसके अलावा ऊंचाई के हिसाब से वजन कम होना अल्पपोषण के लक्षण हैं।
  • अतिपोषण (overnutrition) - अधिक पोषक तत्वों को प्राप्त करने से आपको मोटापा, अधिक वजन और आहार से संबंधित गैर-संचारी रोग (जैसे हृदय रोग, स्ट्रोकमधुमेह और कैंसर) हो जाते हैं।

कुपोषण हर देश में लोगों को प्रभावित करता है। दुनिया भर में करीब 190 करोड़ एडल्ट्स अधिक वजन वाले हैं, जबकि 46 करोड़ एडल्ट्स कम वजन वाले हैं। अनुमानित 5 वर्ष से कम उम्र के 41 लाख बच्चे से अधिक वजन या मोटापे से ग्रस्त हैं, जबकि करीब 1.6 करोड़ छोटे क़द वाले और 5 करोड़ कमज़ोर बच्चे हैं। लोहे की पूरकता की कमी के कारण दुनिया भर में 53 करोड़ या 29% महिलाएं एनीमिया से प्रभावित हैं।

कुपोषण के लक्षण - Malnutrition Symptoms in Hindi

कुपोषण के आम लक्षण और संकेत

लक्षण वह होते हैं जो मरीज़ महसूस करता है और उनके बारे में बताता है, संकेत वह होते हैं जिनका डॉक्टर पता लगाते हैं। उदहारण के तौर पर, दर्द लक्षण हो सकता है जबकि लाल चकत्ते संकेत हैं।

कुछ प्रकार की सफ़ेद रक्त कोशिकाओं की संख्या गिरने से प्रतिरक्षा प्रणाली कमज़ोर हो जाती है। जिसकी वजह से संक्रमण होने का जोखिम बढ़ जाता है।

अधिक गंभीर मामलों में

  1. त्वचा पतली, सूखी, स्थिर, पीली और ठंडा हो सकती है।
  2. चेहरे का वसा खोने से, गाल खोखले और आँखें धसी हुई लगती हैं।
  3. बाल शुष्क और विरल हो जाते हैं, और गिरने लगते हैं।
  4. कभी-कभी, गंभीर कुपोषण के कारण घबराहट हो सकती है।
  5. यदि कैलोरी की कमी लंबे समय तक जारी रहती है, तो हार्ट, लिवर और लंग फेलियर हो सकता है।

बच्चों में कुपोषण के लक्षण

बच्चे जो गंभीर रूप से कुपोषित हैं, वे आमतौर पर धीमी गति से व्यवहारिक और बौद्धिक विकास का अनुभव करते हैं, जिससे वे मानसिक विकलांग हो सकते हैं। हालांकि जो बच्चे ठीक हो जाते हैं, उनमें लम्बे समय तक कुपोषण के प्रभाव दिखते हैं। जैसे कि मानसिक कार्य और पाचन तंत्र में दिक्कत

जिन वयस्कों में गंभीर कुपोषण वयस्कता के दौरान शुरू होता है, वे अक्सर इलाज के दौरान पूरी तरह ठीक हो जातें हैं।

कुपोषण के कारण - Malnutrition Causes in Hindi

कुपोषण एक विश्वव्यापी समस्या है पर्यावरणीय, आर्थिक और चिकित्सा स्थितियों की वजह से हो सकती है।

कुपोषण के सामान्य कारणों में शामिल हैं -

  • खाद्य असुरक्षा या पर्याप्त और सस्ते भोजन की कमी - कई अध्ययन में विकासशील और विकसित दोनों देशों में खाद्य असुरक्षा और कुपोषण में संबंध पाया है।
  • पोषक तत्वों के अवशोषण के साथ पाचन संबंधी समस्याएं - ऐसी बीमारियां जो कुपोषण का कारण बनती हैं, जैसे कि क्रोहन रोग, सीलिएक रोग और आंतों में बैक्टीरियल अतिवृद्धि।
  • बहुत ज्यादा शराब पीना - शराब ज्यादा पीने से प्रोटीन, कैलोरी और सूक्ष्म पोषक तत्वों की अपर्याप्त खपत होती है।
  • मानसिक स्वास्थ्य विकार - अवसाद और अन्य मानसिक रोग कुपोषण के खतरे को बढ़ा सकती हैं। एक अध्ययन में पाया गया है कि स्वस्थ व्यक्तियों की तुलना में अवसाद से पीड़ित लोगों में कुपोषण की व्यापकता 4% अधिक थी।
  • खाद्य पदार्थों की उपलब्धता या पकाने में कमी - अध्ययन से पता चला है कि बहुत कमजोर होने, चल-फिर पाने में दिक्कत और मांसपेशियों में कमजोरी कुपोषण के जोखिम को बढ़ाते हैं। इन समस्याओं से भोजन पकने की क्षमता कम होती है।

कुपोषण से बचाव - Prevention of Malnutrition in Hindi

कुपोषण की रोकथाम के लिए स्वस्थ संतुलित आहार की सलाह दी जाती है। चार प्रमुख खाद्य समूह हैं जिनमें शामिल हैं -

  • ब्रेड, चावल, आलू और अन्य स्टार्चयुक्त खाद्य पदार्थ। यह आहार का सबसे बड़ा हिस्सा है। और ऊर्जा और कार्बोहाइड्रेट के लिए कैलोरी प्रदान करते हैं। जो कि शुगर में परिवर्तित होते हैं। जिससे ऊर्जा मिलती है।
  • दूध और डेयरी खाद्य पदार्थ ( वसा और वास्तविक शुगर के महत्वपूर्ण स्रोत होते हैं। जैसे कि - लैक्टोस और कैल्शियम जैसे खनिज)
  • फलों और सब्जियां ( विटामिन और खनिजों के महत्वपूर्ण स्रोतों के साथ ही बेहतर पाचन स्वास्थ्य के लिए फाइबर और स्थूलखाद्य)
  • मांस, मछली,अंडे, सेम और प्रोटीन के अन्य गैर-डेयरी स्रोत - शरीर को बनाने में इनका बहुत महत्वपूर्ण हिस्सा है। और यह कई शारीरिक और एंजाइम कार्यों में सहायता करते हैं।

इसके अलावा सभी अस्पताल में मरीजों, बच्चों, गर्भवती महिलाओं, बुजुर्गों को कुपोषण के लिए मूल्यांकन किया जाना चाहिए।बच्चों में कुपोषण की रोकथाम करने के लिए गर्भवती महिलाओं को पर्याप्त पोषण देना चाहिए।

कुपोषण का निदान - Diagnosis of Malnutrition in Hindi

कुपोषण का निदान कुछ कारकों पर आधारित होता है जैसे कि अवधि और उपजी कारक। कुपोषण के नैदानिक ​​इतिहास और लक्षण अक्सर कुपोषण के प्रमुख निर्धारक होते हैं। और कुपोषण के मूल्यांकन में नैदानिक ​​और इमेजिंग अध्ययनों की छोटी भूमिका होती है।

डायग्नोस्टिक और इमेजिंग टेस्ट की आवश्यकता हो सकती है जिससे गहरे कारण या बीमारियों को रूल आउट कर सकें जो कि कुपोषण के कारण हो सकते हैं।

कुपोषण के निदान में निम्न शामिल हैं -

  • बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) - इसमें वजन की गणना किलोग्राम में की जाती है, जो कि वर्ग मीटर में ऊंचाई से विभाजित होती है। वयस्कों के लिए स्वस्थ बीएमआई आमतौर पर 18.5 और 24.9 के बीच स्थित है। 17 से 18.5 के बीच बीएमआई वाले लोग हल्का कुपोषित हो सकते हैं, जिनका बीएमआई 16 से 18 के बीच होते हैं, वे मध्यम कुपोषित हो सकते हैं और 16 से कम बीएमआई वाले लोग गंभीर रूप से कुपोषित हो सकते हैं।
  • नियमित ब्लड टेस्ट - ब्लड टेस्ट एनीमिया और अन्य विटामिन और खनिज की कमी का आकलन करने के लिए किया जाता है। अगर टेस्ट में सफेद रक्त कोशिकाओं की गिनती बढ़ी मिले तो यह निर्जलीकरण, ब्लड शुगर कम होने और गंभीर संक्रमण का लक्षण हो सकता है।
  • बच्चों में कुपोषण का निदान - बच्चों के वजन और कद को मापा जाता है। और उन चार्टों से तुलना की जाती है, जो उस उम्र के बच्चे के लिए अपेक्षित औसत कद और वजन दिखाते हैं। कुछ बच्चे उम्र के मुकाबले छोटे लगते हैं। और आनुवंशिक रूप से ऐसा हो सकते हैं। धीमे विकास दिखाने वाले बच्चे भी कुपोषित हो सकते हैं।

कुपोषण के लिए अन्य परीक्षण -

कुपोषण का उपचार - Malnutrition Treatment in Hindi

कुपोषण का उपचार अंतर्निहित कारण और व्यक्ति कितना कुपोषित है, इस पर निर्भर करता है।

आपको घर पर रह कर स्वयं का ध्यान रखने के लिए उचित सलाह दी जा सकती है, या ज़रूरत होने पर आहार विशेषज्ञ (डाइटिशियन) के सपोर्ट की आवश्यकता हो सकती है। गंभीर मामलों में अस्पताल में उपचार की आवश्यकता हो सकती है।

आहार विशेषज्ञ आपको उन डाइट सम्बंधित परिवर्तनों के बारे में सलाह देंगे जिनसे आपको लाभ होगा। वे आपके लिए एक डाइट प्लान बना सकते हैं जिससे आपको पर्याप्त पोषक तत्व मिलें।

यदि ये उपाय पर्याप्त न हों, तो पूरक (सप्लीमेंट्स) के रूप में अतिरिक्त पोषक तत्व लेने की सलाह भी दी जा सकती है। इन्हें केवल एक मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह पर ही लिया जाना चाहिए।

बच्चों में कुपोषण का उपचार

किसी भी अन्य आयु वर्ग के मुकाबले कुपोषण से बच्चों में और अधिक समस्याएं पैदा होती हैं। क्योंकि वे विकास (दोनों शारीरिक और मानसिक) मंदता और फिर से होने वाले संक्रमणों की संवेदनशीलता का कारण बन सकते हैं।

लंबे समय तक बीमारियों वाले बच्चों को कुपोषण के लिए एक चिकित्सीय उपाय के रूप में उपचार की आवश्यकता होती है। इसमें अतिरिक्त पोषक तत्व, विटामिन और खनिज पूरक आदि शामिल हैं। अंतर्निहित बीमारी को कुपोषण को रोकने के लिए पर्याप्त रूप से इलाज की आवश्यकता होती है।

अस्पताल में गंभीर कुपोषण के  इलाज की आवश्यकता होती है। इसमें पैरेन्टेरल पोषण और पोषक तत्त्व को धीरे-धीरे मौखिक रूप से लेना शामिल है। जैसे ही स्थिति स्थिर हो जाती है। तो वे एक सामान्य आहार को अपनी जीवन शैली में शामिल कर सकतें हैं।



संदर्भ

  1. London School of Hygiene and Tropical Medicine [internet] Bloomsbury, London; Types of malnutrition
  2. National Health Service [Internet]. UK; Malnutrition
  3. World Health Organization [Internet]. Geneva (SUI): World Health Organization; What is malnutrition?
  4. MedlinePlus Medical Encyclopedia: US National Library of Medicine; Malnutrition
  5. British Association for Parenteral and Enteral Nutrition [internet] UK Introducing 'MUST'
  6. Nidirect [Internet]. Government of Northern Ireland; Treating malnutrition
  7. Nidirect [Internet]. Government of Northern Ireland; Increasing nutritional intake

कुपोषण के डॉक्टर

Dt. Akanksha Mishra Dt. Akanksha Mishra पोषणविद्‍
8 वर्षों का अनुभव
Surbhi Singh Surbhi Singh पोषणविद्‍
22 वर्षों का अनुभव
Dr. Avtar Singh Kochar Dr. Avtar Singh Kochar पोषणविद्‍
20 वर्षों का अनुभव
Dr. priyamwada Dr. priyamwada पोषणविद्‍
7 वर्षों का अनुभव
डॉक्टर से सलाह लें

कुपोषण की दवा - Medicines for Malnutrition in Hindi

कुपोषण के लिए बहुत दवाइयां उपलब्ध हैं। नीचे यह सारी दवाइयां दी गयी हैं। लेकिन ध्यान रहे कि डॉक्टर से सलाह किये बिना आप कृपया कोई भी दवाई न लें। बिना डॉक्टर की सलाह से दवाई लेने से आपकी सेहत को गंभीर नुक्सान हो सकता है।

कुपोषण की ओटीसी दवा - OTC Medicines for Malnutrition in Hindi

कुपोषण के लिए बहुत दवाइयां उपलब्ध हैं। नीचे यह सारी दवाइयां दी गयी हैं। लेकिन ध्यान रहे कि डॉक्टर से सलाह किये बिना आप कृपया कोई भी दवाई न लें। बिना डॉक्टर की सलाह से दवाई लेने से आपकी सेहत को गंभीर नुक्सान हो सकता है।

दवा का नाम

कीमत

₹1250.0

20% छूट + 5% कैशबैक


₹999.0

20% छूट + 5% कैशबैक


₹600.0

20% छूट + 5% कैशबैक


₹999.0

20% छूट + 5% कैशबैक


₹1000.0

20% छूट + 5% कैशबैक


₹148.0

20% छूट + 5% कैशबैक


₹300.0

20% छूट + 5% कैशबैक


₹319.2

20% छूट + 5% कैशबैक


₹580.0

20% छूट + 5% कैशबैक


₹250.0

20% छूट + 5% कैशबैक


Showing 1 to 10 of 15 entries

कुपोषण पर आम सवालों के जवाब

सवाल एक साल के ऊपर पहले

क्या कुपोषण की वजह से मस्तिष्क पर असर पड़ सकता है?

Aakash Shah MBBS, MBBS , सामान्य चिकित्सा

पशुओं पर किए गए अध्ययनों से पता चला है कि कुपोषण की वजह से ब्रेन वॉल्यूम (मस्तिष्क का संतुलित आकार), न्यूरॉन्स की मात्रा (विद्युत-रासायनिक संकेतों के माध्यम से मस्तिष्क में सूचनाओं का आदान-प्रदान), सिनेप्स (तंत्रिका और मांसपेशिओं के बीच संबंध बनाता है), डेन्ड्राइट (कोशिकाओं को एक्टिव करने के लिए संकेत प्राप्त करता है) और प्रतिक्रिया क्षेत्र में कमी आ सकती है। तेजी से हो रहे मस्तिष्क के विकास पर कुपोषण का बुरा प्रभाव पड़ता है। इस समय मस्तिष्क कमजोर हो जाता है।

सवाल एक साल के ऊपर पहले

मेरे दोस्त की उम्र 32 साल है। उसका वजन काफी बढ़ गया है और वह मोटा भी हो गया है। अगर कोई व्यक्ति मोटा है, तो क्या वह कुपोषण का शिकार हो सकता है?

Dr. Faisal Mukhtar MBBS, PG Dip, DNB , ऑपथैल्मोलॉजी

दुनिया के लगभग एक-तिहाई लोग ऐसे हैं जो मोटे हैं या उनका वजन अधिक है। कुपोषण का एक रूप अतिपोषण भी है। जब कोई व्यक्ति आहार में ऊर्जा, प्रोटीन और सूक्ष्म पोषक तत्व अधिक या असंतुलित मात्रा में लेता है, तो वह मोटा हो सकता है।

सवाल एक साल के ऊपर पहले

कुपोषण की वजह से व्यक्ति के स्वास्थ्य पर कई तरह के नकारात्मक प्रभाव पड़ते हैं। क्या कुपोषण की वजह से इंसान मर सकता है?

Dr. Prakash kumar MBBS , सामान्य चिकित्सा

अगर कोई इंसान गंभीर भुखमरी से ग्रस्त है, तो उसमें कुपोषण के लक्षण 35 से 40 दिनों के अंदर दिखने लगते हैं और लगभग 45 से 61 दिनों के बाद उसकी मृत्यु हो सकती है। अगर किसी व्यक्ति का स्वास्थ्य बहुत अच्छा है, तो पानी से कुपोषित रहने की वजह से वह सिर्फ सात दिनों के अंदर ही मर सकता है।

सवाल लगभग 1 साल पहले

कुछ सालों से मुझे बाल झड़ने की समस्या है। मेरे बाल बहुत गिरते हैं। क्या यह कुपोषण का एक लक्षण है? क्या कुपोषण की वजह से बाल झड़ सकते हैं?

Dr. K. M. Bhatt MBBS, PG Dip , सामान्य चिकित्सा

बालों के झड़ने की समस्या महिला और पुरुष दोनों में हो सकती है जो कि किसी भी उम्र से हो सकती है। यह समस्या ठीक तरह से डाइट न लेने, अस्वस्थ खाद्य पदार्थ और खराब पौष्टिक आहार लेने की वजह से हो सकती है। बालों का झड़ना और कुपोषण को अक्सर एक साथ नहीं देखा गया है, लेकिन बालों का झड़ना एक गंभीर मानसिक या शारीरिक स्वास्थ्य के लिए चिंता का संकेत देता है।

cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ