myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

फिटनेस गुरु के अनुसार उनसे सबसे अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्नों में से एक है कि वजन को जल्दी से घटाने के लिए क्या करें और वह सभी महिलाओं को एक ही जवाब देते हैं कि चाहे उनकी उम्र कितनी भी हो, खुद को फिट और स्वस्थ रखने से आपका वजन खुद ही कम हो जाएगा। स्वस्थ और फिट जीवन की तरफ कदम बढ़ने के लिए पढ़ें उनके द्वारा दिए गए कुछ दिशानिर्देश -

  1. फिटनेस टिप्स फॉर वीमेन इन 20s - Exercises for women for staying fit in their 20s in hindi
  2. तीस से चालीस की उम्र वाली महिलाओं के लिए वर्कआउट टिप्स - Exercise for females to stay healthy in their 30s and 40s in hindi
  3. पचास से ज्यादा उम्र की महिलाओं के स्वस्थ रहने के लिए एक्सरसाइज टिप्स - Exercise for females over 50 to stay healthy and fit in hindi

महिलाएं जो अपने 20s में हैं, उन्हें उम्र के प्रभाव को टालने के लिए अभी से अपने स्वास्थ्य और फिटनस पर ध्यान देना शुरू करना होगा। उन्हें अपनी मांसपेशियों और हड्डियों को बनाए रखने और शरीर को सुडौल बनाने के लिए अभी से कदम उठाने चाहिए। कार्डियो व्यायाम जैसे एरोबिक्स, किकबॉक्सिंग, बूट शिविर, नृत्य और लचीलेपन वाले व्यायाम जैसे पावर योग, पिलेट्स करने चाहिए। इसके अलावा, हल्के वजन और टेरा बैंड का प्रयोग कर प्रतिरोधी प्रशिक्षण (resistance training) भी करना चाहिए। भारी डंबल्स, पिलेट्स और बारबल्स जैसे भारी वजन के उपयोग से बचें क्योंकि इससे आप कम फेमिनिन और आकर्षक लग सकती हैं।

(और पढ़ें - कार्डियो या वेट ट्रेनिंग – क्या है वजन कम करने का बेहतर तरीका?)

तीस या उससे अधिक उम्र की महिलाओं को अतिरिक्त देखभाल की जरूरत है क्योंकि वे अपने व्यक्तिगत जीवन में बहुत अधिक बदलाव की कगार पर हैं। विवाह, गर्भावस्था, मातृत्व और करियर आपके शरीर और स्वास्थ्य पर काफी असर कर सकता है। तीस और चालीस साल की उम्र के बीच, मांसपेशियों की ताकत, हड्डियों के घनत्व और चयापचय दर में सुधार पर ज़ोर होना चाहिए। यह समय जीवनशैली से सम्बंधित बीमारियों का भी होता है जैसे हाई बीपी, मधुमेह, हृदय रोग, मोटापा, वजन का धीमा घटना, चयापचय का काम होना और शरीर में वसा प्रतिशत का बढ़ना। इन वर्षों में शायद फिटनेस और अच्छे खाने की आदतों को जीवन का एक भाग बनाना सबसे सही है। इस उम्र में फिट होने के लिए थोड़ा ज़्यादा काम करना पड़ता है। अपने कोर की शक्ति और लचीलेपन के लिए योग और पिलेट्स जैसे व्यायाम पर ध्यान दें। साइकल चलाना या चलने जैसे हल्के ह्रदय व्यायाम और हलके वजन के साथ ताकत प्रशिक्षण करें।

(और पढ़ें - मोटापा कम करने के घरेलू नुस्खे और गर्भावस्था के दौरान पेट दर्द)

पचास वर्ष की आयु के बाद से, एक महिला का जीवन हार्मोनल परिवर्तन, धीमी चयापचय, कम दुबली मांसपेशियों, वजन के बढ़ने और शरीर की संरचना में परिवर्तन से चिह्नित होता है। ये सभी कमर और कूल्हे पर अस्वस्थ वसा के जमाव का कारण हो सकते हैं। प्रीमेनियोपॉज़ल लक्षण, हाइपरटेंशन, मधुमेह, ऑस्टियोपोरोसिस इस आयु में होने वाले कुछ सामान्य विकार हैं। इस उम्र से उच्च तीव्रता और प्रभाव वाली एक्सरसाइज जैसे जॉगिंग, एरोबिक्स, भारी वजन प्रशिक्षण, बूट कैंप आदि से बचें ताकि चोटों और मोचों से छुटकारा पा सकें। इस उम्र में करने के लिए आदर्श व्यायाम हैं साइकिल चलना, तैराकी, तेज चलना, योग, पावर योग, पिलेट्स, कैलस्थेनिक्स और शक्ति प्रशिक्षण के लिए हल्के वजन।

(और पढ़ें - मोटापा कम करने के लिए योगासन)

फिटनेस गुरु का कहना है कि महिलाओं को जल्दी वजन घटाने के फार्मूलों से ग्रस्त नहीं होना चाहिए। उन्हें उपलब्ध विभिन्न प्रकार के अभ्यासों के बारे में जानकर अपने शरीर को समझना चाहिए और सक्षम मार्गदर्शन के तहत व्यायाम को करना चाहिए। उन्हें यह भी ध्यान रखना चाहिए कि भोजन उनकी मनोदशा, सकारात्मकता और स्वास्थ्य को प्रभावित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इसलिए पौष्टिक खाद्य पदार्थ जैसे बाजरा, साबुत अनाज, जई, सेम, स्प्राउट्स, मौसमी सब्जियों और फलों को उन्हें अपने आहार में शामिल करना चाहिए।

(और पढ़ें - वजन कम करने के लिए एक्सरसाइज)

और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें