myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

मोतियाबिंद एक ऐसा रोग है जो बुढ़ापे के दौरान बहुत लोगों में पाया जाता है। इसमें आमतौर पर आँखों के लेंस पर धुंधलापन आ जाता है जो कि देखने में एक अवरोध उतपन्न करता है। मोतियाबिंद बुढ़ापे में होता है। उम्रभर आपकी आँखें सीधे सूरज और अल्ट्रवॉयलेंट किरणों के सामने रहती हैं। लेकिन आँखों में रेडिकल्स बनने से बुढ़ापे में ये मोतियाबिंद का शिकार हो जाती हैं। ये आम समस्या धूम्रपान करने वालों और शुगर के मरीजों में ज़्यादा देखी जाती है।

हालाँकि मोतियाबिंद (सफेद मोतिया) सर्जरी के द्वारा हटाया जाता है लेकिन इसके साथ ही कुछ घरेलू उपाय भी हैं जो आपकी इस समस्या में बराबर मदद करेंगे।

तो चलिए आपको बताते हैं मोतियाबिंद के कुछ घरेलू उपाय –

  1. मोतियाबिंद का घरेलू उपाय है गाजर का जूस - Motiyabind ka upay hai gajar ka juice
  2. मोतियाबिंद का उपाय है नींबू - Motiyabind ka desi upay hai lemon
  3. मोतियाबिंद से बचने का उपाय है सौंफ - Motiyabind se bachne ka upay hai fennel
  4. सफेद मोतिया का घरेलू नुस्खा है लहसुन का करें इस्तेमाल - Motiyabind thik karne ke upay hai garlic
  5. मोतियाबिंद को ठीक करने के लिए करें कद्दू का उपयोग - Motiyabind thik karne ke upay hai cataract
  6. सफेद मोतिया का घरेलू उपाय है शहद - Motiyabind thik karne ka tarika hai honey
  7. मोतियाबिंद का उपाय है बादाम - Motiyabind ka upay hai almonds
  8. सफेद मोतिया को रोकने के लिए धनिया का करें प्रयोग - Motiyabind ka gharelu nuskha hai coriander
  9. कैटरेक्ट की समस्या में पालक खाएं - Motiyabind se bachne se bachne ke liye khaye palak
  10. कैटरेक्ट के लिए स्वस्थ आहार खाएं - cataract me khaye swasth ahar
  11. मोतियाबिंद से संबंधित ज़रूरी टिप्स - Motiyabind ke liye tips

गाजर नज़र को सुधारने में मदद करता है और ये गुण सभी जानते हैं कि गाजर आँखों के लिए बेहद फायदेमंद होता है। गाजर विटामिन ए से समृद्ध होती है और ये आँखों में विटामिन ए की कमी को पूरा करता है। ये आँखों को मोतियाबिंद से लम्बे समय तक बचाता है।

गाजर का इस्तेमाल कैसे करें -

  1. सबसे पहले गाजर को छील लें।
  2. अब इसका जूस निकाल लें।
  3. जूस निकालने के बाद इसे पी जाएँ।
  4. इस जूस को पूरे दिन में एक या दो बार ज़रूर पियें।

(और पढ़ें - गाजर के फायदे

नींबू में विटामिन सी और कई एंटीऑक्सीडेंट पाए जाते हैं जो स्वास्थ्य लाभ के लिए तो बेहद फायदेमंद हैं ही साथ ही आँखों के लिए भी लाभदायक हैं।

नींबू का इस्तेमाल कैसे करें -

  1. सबसे पहले छोटी बोतल लें और फिर उसे गुलाब जल से भर लें और अब उसमे बराबर मात्रा में नींबू का जूस मिलाएं।
  2. अब इस मिश्रण को अच्छे से मिला दें।
  3. अब आई ड्रॉपर लें और इस फिर इस मिश्रण को उसमे डाल दें।
  4. अब इस मिश्रण को अपनी दोनों आँखों में डालें।
  5. आपको थोड़ी जलन महसूस होगी जिससे आँखों से आपके पानी आ सकता है लेकिन ये इलाज मोतियाबिंद के लिए बेहद फायदेमंद है।

(और पढ़ें - नींबू के फायदे

रोज़ाना सौफ का सेवन करने से मोतियाबिंद का जल्द से जल्द इलाज करने में मदद मिलती है।

सौफ का इस्तेमाल कैसे करें -

  1. रोज़ाना 6 ग्राम सौफ का सेवन ज़रूर करें।
  2. पूरे दिन में दो बार इसे ज़रूर दोहराएं।
  3. आपको इस समस्या का इलाज बहुत जल्द दिख जाएगा।  

(और पढ़ें - सौंफ के फायदे

इसके क्लींजिंग एजेंट आँखों के क्रिस्टलाइन लेंस को साफ़ रखने में मदद करते हैं।

लहसुन का इस्तेमाल कैसे करें -

  1. सबसे पहले दो या तीन लहसुन को छील लें।
  2. अब इन कच्चे लहसुन को चबा लें।
  3. पूरे दिन में दो बार इस प्रक्रिया को ज़रूर दोहराएं।

(और पढ़ें - लहसुन के फायदे

गाजर के जूस की तरह कद्दू का जूस भी मोतियाबिंद के लिए बेहद प्रभावी इलाज है और ये इस समस्या से आपको बचाकर भी रखता है। बल्कि ये कद्दू का फूल है जिसमे से जूस को निकाल जाता है।

कद्दू का इस्तेमाल कैसे करें -

  1. आप कद्दू का जूस बनाकर पी सकते हैं।
  2. लेकिन अगर आपको कद्दू का जूस पसंद नहीं है तो इसके जूस को अपनी आँखों के ऊपर डालकर 15 के लिए ऐसे ही लगा हुआ छोड़ सकते हैं।
  3. इस प्रक्रिया को रोज़ाना करें।

(और पढ़ें - कद्दू के फायदे)

शहद के इस्तेमाल से आप मोतियाबिंद का इलाज कर सकते हैं। शहद में प्राकृतिक एंटीऑक्सीडेंट होते हैं। ये अपने प्रभाव से बिमारी और संक्रमण को कम करने में मदद करता है।

शहद का इस्तेमाल कैसे करें -

  1. शहद को आप आई ड्राप की तरह इस्तेमाल कर सकते हैं।
  2. आप दोनों आँखों में एक या दो बूँद डालें।
  3. इस प्रक्रिया को रोज़ दोहराएं।
  4. ये मोतियाबिंद का इलाज करने में बेहद प्रभावी है।

(और पढ़ें - शहद के फायदे

मोतियाबिंद की वजह से कभी कभी आखें लाल दिखने लगती हैं और इनको दूर करने के लिए बादाम आपकी इस समस्या को जल्दी दूर करता है। बादाम को आप पानी या दूध दोनों में रातभर के लिए डुबोकर रख सकते हैं।

बादाम का कैसे करें इस्तेमाल -

  1. सबसे पहले बादाम को पानी भी रातभर के लिए भिगोकर रख दें।
  2. फिर सुबह बादाम को छीलकर खा लें।
  3. इसके बाद एक ग्लास दूध का सेवन भी ज़रूर करें।
  4. ये न ही मोतियाबिंद का इलाज करता है बल्कि आपकी नज़र को भी ठीक रखता है।

(और पढ़ें - बादाम के फायदे

ये तो हम सभी जानते हैं सौफ आँखों के इलाज के लिए कितना फायदेमंद है। लेकिन जब ये धनिये पाउडर के साथ मिलाया जाता है तो इसका महत्व और बढ़ जाता है।

धनिये का इस्तेमाल कैसे करें -

  1. सबसे पहले धनिये पाउडर में सौफ को मिलाएं।
  2. फिर इसमें ब्राउन शुगर भी मिला लें।
  3. अब इस पूरे मिश्रण को मिक्सर में मिक्स कर लें।
  4. मिक्स करने के बाद इस मिश्रण को रोज़ाना लें।
  5. इससे मोतियाबिंद का इलाज प्राकृतिक तरीके से होगा।

(और पढ़ें - धनिये के फायदे

पालक हमारे शरीर के लिए बेहद फायदेमंद होता है। इसके साथ ही पालक हमारी आँखों के लिए बेहद प्रभावी होता है। क्योंकि इसमें कैरोटेनॉयड्स होता है जो हमारी आँखों की रेटिना के लिए बेहद फायदेमंद है।

पालक का इस्तेमाल कैसे करें -

  1. पालक को आप जूस की तरह भी पी सकते हैं।
  2. इसके साथ ही रोज़ के आहार में पालक को ज़रूर शामिल करें।

(और पढ़ें - पालक के फायदे

मोतियाबिंद का इलाज करने के लिए रोज़ाना कच्ची सब्ज़ियां ज़्यादा से ज़्यादा खाएं। इससे आपकी नज़र और मोटियाबिंग का इलाज अच्छे से होगा।

सब्ज़ियां जैसे -  

  1. टमाटर, खीरा, मूली, सलाद में हरी सब्ज़ियां शामिल करें।
  2. सब्ज़ियों को उबालने से उनमे विटामिन की मात्रा कम हो जाती है इसलिए जितना हो सके कच्ची सब्ज़ियां खाएं।
  3. इसके साथ ही विटामिन सी और विटामिन ई से समृद्ध आहार खाएं।
  1. मोतियाबिंद से पीड़ित लोगों को हल्की रौशनी का इस्तेमाल करना चाहिए।
  2. ज़्यादा तेज़ रौशनी वाली टीवी और कंप्यूटर को न देखें।
  3. अपने चश्मे या कोंटेक्ट लेंस को समय समय पर डॉक्टर से दिखवाते रहे।
  4. अगर आपको देखने में काफी दिक्कत है तो किसी सहारे से चले या चलने के लिए किसी का सहारा लें।
  5. आप कुछ भी देखने के लिए बड़ी स्क्रीन का इस्तेमाल कर सकते हैं या बोलने वाले सॉफ्टवेयर से अपना कार्य आसान बना सकते हैं।
  6. इसके साथ ही अपनी जीवनशैली में बदलाव लाएं जैसे धूम्रपान न करें और अपनी आँखों को सीधा सूरज के सामने ना लेकर जाएँ। इससे मोतियाबिंद में जल्दी रिकवरी होगी।
  7. आँखों को जितना हो सके उतना आराम दें।
और पढ़ें ...