myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

मूली हमारे सलाद का आम हिस्सा है और यह बहुत सारे रस के साथ, स्वाद में तीखी या मीठी होती है। मूली विभिन्न आकार में सफेद, लाल, बैंगनी या काले रंग की होती है। यह लंबी और बेलनाकार या गोल हो सकती है। यह कच्ची या पका कर खाई जाती है। मूली के बीज से प्राप्त तेल का उपयोग कई उत्पादों और स्वास्थ्य प्रयोग के लिए भी किया जाता है। मूली में पत्तियां, फूल, फली और बीज होते हैं। मूली का वैज्ञानिक नाम रफ़ानस सैटाईवस (Raphanus Sativus) है। मूल रूप से एशियाई बाजारों के कुछ हिस्सों में मूली को डिकॉन (daikon) के रूप में भी जाना जाता है। आइये जानें कितनी लाभदायक है मूली -

  1. मूली के फायदे - Muli ke Fayde in Hindi
  2. मूली के नुकसान - Muli ke Nuksan in Hindi
  3. मूली के बीज के फायदे और नुकसान
  1. मूली के पत्ते के फायदे हैं पीलिया रोग में - Radish Leaves for Jaundice in Hindi
  2. मूली के फायदे करें बवासीर को ठीक - Radish for Piles Treatment in Hindi
  3. मूली के बीज का उपयोग वजन कम करने के लिए - Mooli ke Beej for Weight Loss in Hindi
  4. मूली खाने के लाभ बचाएँ हृदय रोग से - Radish Good for Heart in Hindi
  5. मूली के औषधीय गुण हैं कैंसर में लाभकारी - Radish for Cancer in Hindi
  6. मूली का उपयोग दिलाए सफेद दागो से छुटकारा - Muli ke Fayde for Leucoderma in Hindi
  7. मूली के लाभ करें कब्ज को दूर - Radish Benefits for Constipation in Hindi
  8. मूली खाने के फायदे हैं श्वसन तंत्र के लिए - Radish for Chest Congestion in Hindi
  9. मूली का जूस करें उच्च रक्तचाप को कम - Radish for High Blood Pressure in Hindi
  10. मूली लाभ है मधुमेह में उपयोगी - Radish Benefits for Diabetics in Hindi
  11. मूली के गुण हैं त्वचा के लिए लाभकारी - Eating Radish Good for Skin in Hindi
  12. मूली के जूस के फायदे करें बुखार को कम - Mooli ke Juice ke Fayde for Fever in Hindi
  13. मूली के बीज के फायदे हैं गुर्दे के लिए उपयोगी - Radish for Kidney in Hindi
  14. हाइड्रेटेड रहने का शानदार तरीका है मूली - Mooli ke Benefits for Dehydration in Hindi
  15. प्रतिरक्षा प्रणाली में सुधार के लिए खाएँ मूली - Radish for Immune System in Hindi
  16. मूली है लिवर के लिए उपयोगी - Radish for Liver Health in Hindi

मूली के पत्ते के फायदे हैं पीलिया रोग में - Radish Leaves for Jaundice in Hindi

मूली लिवर और पेट के लिए बहुत अच्छी होती है और यह श्रीर से विषैले पदार्थो को निकालने का भी कार्य करती है। इसका मतलब है कि यह रक्त को शुद्ध करती है और जहरीले पदार्थ और कचरे को नष्ट करती है। पीलिया के इलाज में यह बेहद उपयोगी होती है क्योंकि यह बिलीरुबिन को निकालती है और इसके उत्पादन के स्तर को सामान्य भी रखती है। यह लाल रक्त कोशिकाओं को भी नष्ट होने से रोकती है। रोजाना सुबहएक कच्ची मूली सोकर उठने के बाद ही खाते रहने से कुछ ही दिनों में ही पीलिया रोग ठीक हो जाता है। 60 मिलीलीटर मूली के पत्ते का रस व 15 ग्राम खांड मिलाकर पीने से पीलिया रोग में आराम आता है।

मूली के फायदे करें बवासीर को ठीक - Radish for Piles Treatment in Hindi

मूली अपचनीय कार्बोहाइड्रेट से बनी हुई है। यह पाचन, वॉटर रिटेन्शन में मदद करती है और कब्ज को ठीक करती है, जो बवासीर के प्रमुख कारणों में से एक है। एक अच्छे डीटाक्सफाइर के रूप में, यह बहुत जल्दी बवासीर के लक्षणों को ठीक करने में मदद करती है। इसका रस भी पाचन और बवासीर के लक्षणों से राहत दिलाता है। 

(और पढ़ें - कब्ज के लक्षण)

मूली के बीज का उपयोग वजन कम करने के लिए - Mooli ke Beej for Weight Loss in Hindi

मूली के सेवन से आपकी भूख शांत रहती है। इसमें पचने योग्य कार्बोहाइड्रेट्स भी कम होते हैं और इसमें बहुत अधिक पानी होता है, जिससे यह वजन कम करने वाले लोगों के लिए बहुत अच्छा आहार विकल्प बन जाता है। इसके अलावा, यह फाइबर में उच्च और ग्लाइकेमिक इंडेक्स में कम होती है, जिसका अर्थ है कि वे नियमित आँतो के कार्यों में वृद्धि करते हैं, जिससे वजन घटाने में मदद मिलती है और सभी शारीरिक प्रक्रियाओं के लिए चयापचय की कार्य क्षमता को बढ़ाता है। 

(और पढ़ें - मोटापा घटाने के लिए व्यायाम और वजन घटाने के लिए योग)

मूली खाने के लाभ बचाएँ हृदय रोग से - Radish Good for Heart in Hindi

मूली ऐंथोसाइनिन का एक अच्छा स्रोत है, जो एक प्रकार का फ्लेवोनोइड्स है, जो न केवल मूली को रंग देते हैं, बल्कि कई स्वास्थ्य लाभ भी प्रदान करते हैं। ऐंथोसाइनिन कई चिकित्सा अध्ययनों का विषय रहा है और सकारात्मक तरीके से हृदय रोग की घटना को कम करने के साथ जुड़ा हुआ है इसलिए मूली के सेवन से हृदय विकारों का ख़तरा कम हो जाता है। 

(और पढ़े – हृदय को स्वस्थ रखने के लिए क्या खाएं)

मूली के औषधीय गुण हैं कैंसर में लाभकारी - Radish for Cancer in Hindi

चूंकि मूली एक डीटाक्सफाइर है और विटामिन सी, फोलिक और ऐंथोसाइनिन में समृद्ध होती है इसलिए यह कई प्रकार के कैंसर विशेष रूप से कोलन, किडनी, आंतों, पेट और मौखिक कैंसर के उपचार में लाभकारी है। इसके अलावा, मूत्राशय में पाए जाने वाले आइसोथियोसाइनेट (isothiocyanates ) का कैंसर कोशिकाओं के आनुवंशिक मार्गों पर एक बड़ा प्रभाव पड़ता है।

(और पढ़े - कैंसर की रोकथाम के लिए तरबूज का रस)

मूली का उपयोग दिलाए सफेद दागो से छुटकारा - Muli ke Fayde for Leucoderma in Hindi

सफेद दाग को मेडिकल भाषा में विटिलिगो (vitiligo) या ल्यूकोडर्मा (leucoderma) कहा जाता है। मूली अपने डिटॉक्सिफ़िकेशन और एंटी-कॉर्सनोजिनिक गुणों के कारण ल्यूकोडर्मा के उपचार में उपयोगी होती है। मूली के बीज इसके उपचार में उपयोग किए जाते हैं। बीजों का पाउडर बनाए और सिरके, अदरक के रस या गायों के मूत्र में भिगोए और फिर सफेद पैच पर लगाएँ। आप मूली को खाकर भी ल्यूकोडर्मा के उपचार में सहायता कर सकते हैं।

मूली के लाभ करें कब्ज को दूर - Radish Benefits for Constipation in Hindi

मूली फाइबर में उच्च हैं और यह कब्ज के लक्षणों को दूर करता है। वे ढीले आंतों को मजबूती करने और ढीली मल या दस्त से छुटकारा पाने में भी मदद कर सकती है। इसके अलावा, मूली पित्त के उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए जानी जाती है। पित्त पाचन के सबसे महत्वपूर्ण भागों में से एक है और लिवर और पित्ताशय की थैली दोनों को बचाने में भी मदद करता है।

(और पढ़ें –  डायरिया के लक्षण)

मूली खाने के फायदे हैं श्वसन तंत्र के लिए - Radish for Chest Congestion in Hindi

मूली एक विरोधी-कंजेस्टिव है जिसका मतलब है कि यह श्वसन तंत्र की रुकावट को कम कर देता है जिसमें नाक, गले, वायु-पाइप और फेफड़ों में जलन होती है जो सर्दी, संक्रमण, एलर्जी और अन्य कारणों से हो सकती है। यह निस्संक्रामक और विटामिन में समृद्ध है जो संक्रमण से श्वसन प्रणाली की रक्षा करती है। मूली में मौजूद इसका तीखापन एक मजबूत, प्राकृतिक मसाला होता है जो बीमारी को रोकने के लिए बहुत अच्छा है और यह गले में अतिरिक्त बलगम को भी समाप्त कर देता है। इसके अलावा मूली गले में आराम और साइनस को दूर करने के लिए जानी जाती है।

मूली का जूस करें उच्च रक्तचाप को कम - Radish for High Blood Pressure in Hindi

मूली पोटेशियम का एक बहुत अच्छा स्रोत है। पोटेशियम को उच्च रक्तचाप को कम करने के लिए सकारात्मक रूप से जुड़ा हुआ है, क्योंकि जब यह संवहनी बेड की धमनी आपूर्ति से संपर्क करता है, तो यह रक्त वाहिकाओं को आराम दे सकता है और इसलिए रक्त के प्रवाह को बढ़ाता है। यह रक्त के प्रवाह को चौड़ा करके रक्तचाप को कम करता है। इसके अलावा मुली में एक खास तरह का एंटी-हायपरटेन्सिव नामक तत्व पाया जाता है, जो कि हमारे उच्च रक्तचाप के स्तर को कंट्रोल करता है। इसलिए रक्तचाप रोगियों को अपने आहार में मूली को शामिल करना चाहिए।

मूली लाभ है मधुमेह में उपयोगी - Radish Benefits for Diabetics in Hindi

मूली लंबे समय से कम ग्लाइसेमिक इंडेक्स के लिए जानी जाती है, जिसका अर्थ है कि इसके सेवन से रक्त शर्करा के स्तर पर असर नहीं होता है। यह खून की मात्रा में शर्करा के अवशोषण को नियंत्रित करने में भी मदद करती है। इसलिए मधुमेह रोगियों के लिए मूली का सेवन लाभदायक होता है।

मूली के गुण हैं त्वचा के लिए लाभकारी - Eating Radish Good for Skin in Hindi

मूली में मौजूद विटामिन-सी, फास्फोरस, जिंक और विटामिन-बी कॉम्प्लेक्स त्वचा के लिए अच्छी होती है। मूली में मौजूद पानी भी त्वचा में स्वस्थ नमी के स्तर को बनाए रखने में मदद करता है। कच्ची मूली को कस कर आप अच्छी तरह से अपने चेहरे को साफ कर सकते हैं और यह एक बहुत ही अच्छे फेस पैक के रूप में कार्य करती है। इसकी निस्संक्रामक गुणों के कारण, मूली शुष्क त्वचा, मुहाँसे, चकत्ते और दरारें जैसे त्वचा विकारों को साफ करने में सहायता करती है।

मूली के जूस के फायदे करें बुखार को कम - Mooli ke Juice ke Fayde for Fever in Hindi

मूली बुखार के कारण शरीर के तापमान और सूजन को कम करने में राहत देती है। इसके लिए मूली के रस को काले नमक के साथ मिश्रित करके पिएं। और मूली एक बहुत ही अच्छे कीटाणुनाशक के रूप में कार्य करती है इसलिए मूली संक्रमण से भी लड़ती है जो बुखार पैदा कर सकते हैं। 

(और पढ़ें – बुखार का घरेलू इलाज)

मूली के बीज के फायदे हैं गुर्दे के लिए उपयोगी - Radish for Kidney in Hindi

मूत्रवर्धक, शुद्धिकारक और निस्संक्रामक के रूप में मूली लिवर संबंधी विकारों के उपचार में सहायता करती है और अच्छी तरह से किसी भी संक्रमण से गुर्दे की रक्षा करती है। मूली रस भी पेशाब के दौरान सूजन और जलन का इलाज करता है। यह गुर्दों को साफ भी करता है और गुर्दे और मूत्र प्रणाली में संक्रमण को रोकता है, इस प्रकार यह विभिन्न मूत्र संबंधी विकारो के उपचार में मदद करता है। 

(और पढ़ें – किडनी खराब करने वाली इन दस आदतों से करें परहेज़)

हाइड्रेटेड रहने का शानदार तरीका है मूली - Mooli ke Benefits for Dehydration in Hindi

मूली पानी से युक्त होती है इसलिए यह आपके शरीर को हाइड्रेटेड रखने का एक शानदार तरीका है, जो स्वास्थ्य के कई अलग-अलग हिस्सों के लिए फायदेमंद है। हाइड्रेटेड रहने का सबसे महत्वपूर्ण प्रभाव  हमारे पाचन तंत्र पर पड़ता है। हाइड्रेटेड रहने से कब्ज से राहत मिलती है, पाचन की दक्षता में सुधार होता है।

(और पढ़ें – शरीर में पानी की कमी के 10 महत्वपूर्ण संकेत)

प्रतिरक्षा प्रणाली में सुधार के लिए खाएँ मूली - Radish for Immune System in Hindi

आपके आहार में मूली को जोड़ने के कई अनगिनत कारण हैं, लेकिन आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली में सुधार सबसे महत्वपूर्ण है। सलाद में प्रति दिन आधा कप मूली खाने से आप लगभग 15% विटामिन-सी को प्राप्त कर सकते हैं। विटामिन सी आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को ही नही बढ़ावा देता है बल्कि यह शरीर पर अन्य सभी उच्च प्रभावों के कारण भी सुपर विटामिन माना जाता है। यह आपके चयापचय को विनियमित करने में मदद करता है। 

(और पढ़े – रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के उपाय)

मूली है लिवर के लिए उपयोगी - Radish for Liver Health in Hindi

मूली लिवर और पित्ताशय की थैली के कार्यों के लिए विशेष रूप से फायदेमंद हैं। यह पित्त और बिलीरूबिन, एसिड और एंजाइम के उत्पादन और प्रवाह को विनियमित करती है। इसके अलावा यह रक्त से अधिक बिलीरुबिन को भी हटा देती है। मूली की नियमित खपत संक्रमण और अल्सर से आपके जिगर और पित्ताशय की थैली की सुरक्षा रखती है। मूत्रवर्धक, शुद्धिकारक और निस्संक्रामक के रूप में मूली लिवर संबंधी विकारों के उपचार में सहायता करती है। इसके मूत्रवर्धक गुण लिवर में जमा हुए विषाक्त पदार्थों को दूर करने में मदद करते हैं और रक्त में विषाक्त पदार्थों के संचय को कम करते हैं, जिससे लिवर में उनकी एकाग्रता कम हो जाती है।

मूली के साथ मछली का सेवन नहीं करना चाहिए।

मूली खाने के तुरंत बाद दूध का सेवन नहीं करना चाहिए।

गलत खाद्य संयोजन के नियमों के मुताबिक काले चनों के साथ मूली को खाने से मना किया गया है।

इसके अधिक सेवन से भूख में कमी, मुँह और गले में दर्द और सूजन आदि हो सकता है।

और पढ़ें ...

References

  1. United States Department of Agriculture Agricultural Research Service. Basic Report: 11429, Radishes, raw. National Nutrient Database for Standard Reference Legacy Release [Internet]
  2. Saleem Ali Banihani. Radish (Raphanus sativus) and Diabetes. Nutrients. 2017 Sep; 9(9): 1014. PMID: 28906451
  3. Lee SW et al. Effects of White Radish (Raphanus sativus) Enzyme Extract on Hepatotoxicity. Toxicol Res. 2012 Sep;28(3):165-72. PMID: 24278606
  4. Chandra AK, Mukhopadhyay S, Ghosh D, Tripathy S. Effect of radish (Raphanus sativus Linn.) on thyroid status under conditions of varying iodine intake in rats. Indian J Exp Biol. 2006 Aug;44(8):653-61. PMID: 16924836
  5. Tung-Ting Sham et al. A Review of the Phytochemistry and Pharmacological Activities of Raphani Semen . Evid Based Complement Alternat Med. 2013; 2013: 636194. PMID: 23935670
  6. Kumar A. Influence of radish consumption on urinary calcium oxalate excretion. Nepal Med Coll J. 2004 Jun;6(1):41-4. PMID: 15449653
  7. T.G. GOHIL, BRIJESH SHAH AND ALPESH THAKUR. Study of the status of ethnomedicine to cure jaundice through home remedies in Valsad district, Gujarat. International Journal of Plant Sciences, (January to June, 2010) Vol. 5 Issue 1 : 340-343
  8. Fatemeh Nejatbakhsh et al. Recommended foods for male infertility in Iranian traditional medicine . Iran J Reprod Med. 2012 Nov; 10(6): 511–516. PMID: 25246919
  9. Chandra AK, Mukhopadhyay S, Ghosh D, Tripathy S. Effect of radish (Raphanus sativus Linn.) on thyroid status under conditions of varying iodine intake in rats. Indian J Exp Biol. 2006 Aug;44(8):653-61. PMID: 16924836