क्रोनिक फटीग सिंड्रोम - Chronic Fatigue Syndrome in Hindi

Dr. Nabi Darya Vali (AIIMS)MBBS

January 15, 2020

September 20, 2022

क्रोनिक फटीग सिंड्रोम
क्रोनिक फटीग सिंड्रोम

कई बार लोग लगातार रहने वाली सुस्ती और थकान को अनदेखा करते हैं, जो सही नहीं है. ये लक्षण क्रोनिक फटीग सिंड्रोम के हो सकते हैं. संभव है कि कई लोगों ने यह नाम पहली बार सुना होगा, लेकिन इस समस्या के गंभीर परिणाम देखने को मिल सकते हैं. यह समस्या इम्यून सिस्टम के कमजोर होने या किसी वायरस के कारण हो सकती है. वहीं, इलाज के तौर पर दवाइयां या थेरेपी ली जा सकती है.

आज इस लेख में आपको क्रोनिक फटीग सिंड्रोम से जुड़ी हर तरह की जानकारी पढ़ने को मिलेगी -

(और पढ़ें - थकान दूर करने के घरेलू उपाय)

क्रोनिक फटीग सिंड्रोम क्या है? - What is Chronic Fatigue Syndrome/Myalgic Encephalomyelitis in Hindi

क्रोनिक फटीग सिंड्रोम को मायालजिक एन्सेफेलोमाइलाइटिस भी कहा जाता है. यह लंबे वक्त तक चलने वाली स्वास्थ्य समस्या है, जो शरीर के सिस्टम को प्रभावित करती है. इससे अक्सर व्यक्ति को अपनी रोज की सामान्य गतिविधियों को करने में परेशानी हो सकती है. कभी-कभी इस समस्या से ग्रस्त व्यक्ति को बेड से उठने में भी परेशानी हो सकती है. यह समस्या 40 से 60 वर्ष तक के लोगों में सबसे आम है. साथ ही पुरुषों की तुलना में महिलाएं इसकी ज्यादा शिकार होती हैं.

Ashwagandha Tablet
₹359  ₹399  10% छूट
खरीदें

क्रोनिक फटीग सिंड्रोम के लक्षण - Chronic Fatigue Syndrome/Myalgic Encephalomyelitis Symptoms in Hindi

क्रोनिक फटीग सिंड्रोम के लक्षण कुछ इस प्रकार हो सकते हैं -

(और पढ़ें - थकान दूर करने के लिए क्या खाएं)

क्रोनिक फटीग सिंड्रोम के कारण - Chronic Fatigue Syndrome/Myalgic Encephalomyelitis Causes in Hindi

क्रोनिक फटीग सिंड्रोम के स्पष्ट कारण अभी तक पता नहीं चल पाए हैं. फिर भी कुछ जोखिम कारक होते हैं, जो इस समस्या का कारण बन सकते हैं -

(और पढ़ें - मानसिक थकान का इलाज)

Shilajit Resin
₹845  ₹1299  34% छूट
खरीदें

क्रोनिक फटीग सिंड्रोम का निदान - Diagnosis of Chronic Fatigue Syndrome/Myalgic Encephalomyelitis in Hindi

सीएफएस का निदान करना थोड़ा मुश्किल हो सकता है. सीएफएस के लिए कोई खास तरह का टेस्ट नहीं है. वहीं, इसके लक्षण अन्य बीमारियों के लक्षणों से मिलते-जुलते हो सकते हैं. ऐसे में डॉक्टर नीचे बताए गए तरीकों से क्रोनिक फटीग सिंड्रोम का पता लगा सकते हैं. ये कुछ इस प्रकार हैं -

  • डॉक्टर मरीज और उसके परिवार वालों से मरीज की मेडिकल हिस्ट्री के बारे में पूछ सकते हैं.
  • मरीज से उसकी हाल की बीमारी या उसके लक्षणों से जुड़ी जानकारी ले सकते हैं.
  • सोने की आदतों से जुड़ी जानकारी ले सकते हैं.
  • शारीरिक व मानसिक स्थिति के बारे में पूछ सकते हैं.
  • खून या पेशाब की जांच या इसके अलावा कुछ अन्य जांच भी करा सकते हैं.

(और पढ़ें - शारीरिक कमजोरी में क्या खाएं)

क्रोनिक फटीग सिंड्रोम का इलाज - Chronic Fatigue Syndrome/Myalgic Encephalomyelitis Treatment in Hindi

फिलहाल, क्रोनिक फटीग सिंड्रोम का कोई निश्चित इलाज नहीं है. बस इसके लक्षणों से राहत दिलाने के लिए डॉक्टर कुछ उपाय कर सकते हैं, जो निम्न प्रकार से हैं -

दवाइयां

क्रोनिक फटीग सिंड्रोम की वजह को जानकर डॉक्टर उस स्वास्थ्य स्थिति से जुड़ी दवाइयों के द्वारा परेशानी को कम करने की कोशिश कर सकते हैं.अगर समस्या तनाव व अवसाद के कारण है या किसी अन्य स्वास्थ्य के कारण है, तो इससे जुड़ी दवाइयां दी जा सकती हैं. वहीं, अगर हाथ-पैर या मांसपेशियों में दर्द की शिकायत है, तो उस दर्द को कम करने के लिए भी डॉक्टर दवाइयां दे सकते हैं. इसके अलावा, सोने में कठिनाई हो रही हो, तो उसके लिए भी डॉक्टर दवा दे सकते हैं.

(और पढ़ें - कमजोरी दूर करने के घरेलू उपाय)

थकान जैसी समस्या के लिए आप Sprowt Vitamin-B12 का सेवन कर सकते हैं -

थेरेपी

कुछ मामलों में डॉक्टर काउंसलिंग या थेरेपी का सुझाव दे सकते हैं. इस दौरान डॉक्टर अवसाद या तनाव से जुड़ी समस्याओं के लिए थेरेपी सेशन दे सकते हैं. बेहतर नींद के लिए कुछ सुझाव दे सकते हैं, जैसे - कमरे को साफ रखना, सोने से पहले चाय-कॉफी का सेवन न करना, सोने से पहले मोबाइल न देखना आदि.

(और पढ़ें - अधिक थकान का इलाज)

जीवनशैली में बदलाव

डॉक्टर जीवनशैली में बदलाव करने को कह सकते हैं, जैसे - स्वस्थ डाइट, सही वक्त पर सोना व उठना. ध्यान यानी मेडिटेशन करनाव्यायाम करना, दोस्तों से मिलना, जंक या फास्ट फूड के सेवन से बचना आदि.

(और पढ़ें - टांगों में कमजोरी के लिए घरेलू उपाय)

Shilajeet Capsule
₹719  ₹799  10% छूट
खरीदें

सारांश – Summary

अगर आप अपने किसी दोस्त या परिवार वाले को जरूरत से ज्यादा सुस्त या थका हुआ देखें, तो उसे अनदेखा न करें. हो सकता है वो व्यक्ति क्रोनिक फटीग सिंड्रोम से पीड़ित हो. इसलिए, किसी भी स्वास्थ्य समस्या को छोटा समझकर अनदेखा न करें. बेहतर है कि वक्त रहते स्वास्थ्य समस्याओं पर ध्यान दें. सबसे पहले तो जीवनशैली में बदलाव करने की जरूरत होती है. अगर उससे भी आराम न मिले, तो बिना देरी किए डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए.

(और पढ़ें - छोटे बच्चों में थकान को ऐसे पहचानें)



संदर्भ

  1. National Health Service [Internet]. UK; Chronic fatigue syndrome (CFS/ME)
  2. National Health Portal [Internet] India; World Chronic Fatigue Syndrome Awareness Day
  3. Centers for Disease Control and Prevention [internet], Atlanta (GA): US Department of Health and Human Services; What is ME/CFS?
  4. Patel V et al. Chronic fatigue in developing countries: population based survey of women in India BMJ. 2005 May 21; 330(7501): 1190. PMID: 15870118
  5. Jason, LA et al. Myalgic Encephalomyelitis: Symptoms and Biomarkers Curr Neuropharmacol. 2015 Sep; 13(5): 701–734. PMID: 26411464.
  6. National Institutes of Health; [Internet]. U.S. National Library of Medicine. Blood test may detect myalgic encephalomyelitis/chronic fatigue syndrome

क्रोनिक फटीग सिंड्रोम की ओटीसी दवा - OTC Medicines for Chronic Fatigue Syndrome in Hindi

क्रोनिक फटीग सिंड्रोम के लिए बहुत दवाइयां उपलब्ध हैं। नीचे यह सारी दवाइयां दी गयी हैं। लेकिन ध्यान रहे कि डॉक्टर से सलाह किये बिना आप कृपया कोई भी दवाई न लें। बिना डॉक्टर की सलाह से दवाई लेने से आपकी सेहत को गंभीर नुक्सान हो सकता है।

सम्बंधित लेख