• हिं

क्रोनिक फटीग सिंड्रोम - Chronic Fatigue Syndrome in Hindi

Dr. Nabi Darya Vali (AIIMS)MBBS

January 15, 2020

September 08, 2021

क्रोनिक फटीग सिंड्रोम
क्रोनिक फटीग सिंड्रोम

क्रोनिक फटीग सिंड्रोम क्या है? 

क्रोनिक फटीग सिंड्रोम (सीएफएस) एक जटिल विकार है, जिसमें बहुत ज्यादा थकान रहती है। इसमें शारीरिक या मानसिक गतिविधि करने पर थकान और ज्यादा बढ़ जाती है, लेकिन आराम करने पर भी स्थिति में सुधार नहीं आता है।

इस स्थिति को सिस्टेमिक एक्जर्शन इंटॉलरेंस डिजीज (एसईआईडी) या मायल्जिक इंसेफैलोमाईलिटिस (एमई) के नाम से भी जाना जाता है। कभी-कभी इसे सीएफएस/एमई टर्म से भी पढ़ा या लिखा जाता है। क्रोनिक फटीग सिंड्रोम के बारे में महत्वपूर्ण बातें:

  • इस बीमारी से कोई भी व्यक्ति किसी भी उम्र में ग्रसित हो सकता है, इसमें बच्चे और किशोर भी शामिल हैं
  • ज्यादातर यह 40 और 50 वर्ष की उम्र में महिलाओं में सामान्य है
  • पुरुषों की तुलना में यह महिलाओं को ज्यादा प्रभावित करता है
  • इसके ज्यादातर मामले मध्यम या कम गंभीर होते हैं
  • इस स्थिति से ग्रसित लगभग 4 में से 1 व्यक्ति में गंभीर लक्षण होते हैं

क्रोनिक फटीग सिंड्रोम के लक्षण

इस बीमारी के संकेत व लक्षण में शामिल हो सकते हैं:

क्रोनिक फटीग सिंड्रोम का कारण

वैसे तो इस बीमारी के कारण के बारे में अभी तक पता नहीं चल पाया है, लेकिन इसे लेकर कई सिद्धांत मौजूद हैं। कुछ विशेषज्ञों का मानना है कि कई कारकों के संयोजन (मेल) की वजह से ये सिंड्रोम ट्रिगर होता है।

वहीं दूसरी ओर, कुछ डॉक्टरों का मानना है कि ऐसा तनाव, वायरल संक्रमण या कई कारकों के संयोजन की वजह से हो सकता है। चूंकि इस बीमारी में किसी एक कारण की पहचान नहीं हो पाई है और कई अन्य स्थितियों में भी इसी के समान लक्षण दिखते हैं इसलिए सीएफएस का निदान करना मुश्किल हो सकता है।

शोधकर्ताओं का मानना है कि इसमें निम्न कारक शामिल हो सकते हैं:

यह भी संभव है कि कुछ लोगों में अनुवांशिक रूप से क्रोनिक फटीग सिंड्रोम विकसित हो। 

क्रोनिक फटीग सिंड्रोम का निदान

क्रोनिक फटीग सिंड्रोम के निदान की पुष्टि करने के लिए कोई एक टेस्ट मौजूद नहीं है। क्रोनिक फटीग सिंड्रोम जैसे ही लक्षण पैदा करने वाली स्वास्थ्य समस्यायों का पता लगाने के लिए कई तरह के मेडिकल टेस्ट करवाने की जरूरत हो सकती है। इस बीमारी के इलाज में लक्ष्णों को नियंत्रित करना शामिल है।

क्रोनिक फटीग सिंड्रोम का इलाज

इस बीमारी के लिए अब तक कोई इलाज नहीं मिल पाया है, फिर भी ओवर-द-काउंटर (डॉक्टर के पर्चे के बिना ली जाने वाली दवाएं) और डॉक्टर की सलाह से दवा लेकर लक्षणों को कम किया जा सकता है।

हर व्यक्ति में इस बीमारी के लक्षण अलग होते हैं, लेकिन थकान और मांसपेशियों में दर्द बहुत ज्यादा हो सकता है। वहीं कुछ लोगों के लिए इस बीमारी में सोकर उठने पर भी थकान महसूस होना और याददाश्त कमजोर होने की दिक्कत हो सकती है।

ऐसे में डॉक्टर को पहले सबसे कठिन लक्षणों से निपटने की कोशिश करनी चाहिए क्योंकि यह लक्षण दैनिक कार्यों को बाधित करते हैं।



संदर्भ

  1. National Health Service [Internet]. UK; Chronic fatigue syndrome (CFS/ME)
  2. National Health Portal [Internet] India; World Chronic Fatigue Syndrome Awareness Day
  3. Centers for Disease Control and Prevention [internet], Atlanta (GA): US Department of Health and Human Services; What is ME/CFS?
  4. Patel V et al. Chronic fatigue in developing countries: population based survey of women in India BMJ. 2005 May 21; 330(7501): 1190. PMID: 15870118
  5. Jason, LA et al. Myalgic Encephalomyelitis: Symptoms and Biomarkers Curr Neuropharmacol. 2015 Sep; 13(5): 701–734. PMID: 26411464.
  6. National Institutes of Health; [Internet]. U.S. National Library of Medicine. Blood test may detect myalgic encephalomyelitis/chronic fatigue syndrome

क्रोनिक फटीग सिंड्रोम के डॉक्टर

Dr. Gautam Arora Dr. Gautam Arora न्यूरोलॉजी
11 वर्षों का अनुभव
Dr. Hemanth Kumar Dr. Hemanth Kumar न्यूरोलॉजी
3 वर्षों का अनुभव
Dr. Deepak Chandra Prakash Dr. Deepak Chandra Prakash न्यूरोलॉजी
10 वर्षों का अनुभव
Dr Madan Mohan Gupta Dr Madan Mohan Gupta न्यूरोलॉजी
7 वर्षों का अनुभव
डॉक्टर से सलाह लें

क्रोनिक फटीग सिंड्रोम की दवा - Medicines for Chronic Fatigue Syndrome in Hindi

क्रोनिक फटीग सिंड्रोम के लिए बहुत दवाइयां उपलब्ध हैं। नीचे यह सारी दवाइयां दी गयी हैं। लेकिन ध्यान रहे कि डॉक्टर से सलाह किये बिना आप कृपया कोई भी दवाई न लें। बिना डॉक्टर की सलाह से दवाई लेने से आपकी सेहत को गंभीर नुक्सान हो सकता है।

क्रोनिक फटीग सिंड्रोम की ओटीसी दवा - OTC Medicines for Chronic Fatigue Syndrome in Hindi

क्रोनिक फटीग सिंड्रोम के लिए बहुत दवाइयां उपलब्ध हैं। नीचे यह सारी दवाइयां दी गयी हैं। लेकिन ध्यान रहे कि डॉक्टर से सलाह किये बिना आप कृपया कोई भी दवाई न लें। बिना डॉक्टर की सलाह से दवाई लेने से आपकी सेहत को गंभीर नुक्सान हो सकता है।

cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ