अग्नाशय कैंसर - Pancreatic Cancer in Hindi

Dr. Ayush PandeyMBBS,PG Diploma

June 28, 2017

April 02, 2021

अग्नाशय कैंसर
अग्नाशय कैंसर

अग्नाशय कैंसर क्या होता है?

अग्नाशय कैंसर या पैंक्रियाज कैंसर आपके अग्नाशय (पैंक्रियाज) के ऊतकों में शुरू होता है।

अग्न्याशय आपके पेट का हिस्सा होता है, जो आपके पेट के निचले हिस्से के पीछे स्थित होता है। आपके अग्न्याशय में ऐसे एंजाइम्स बनते हैं जो आपकी पाचन क्रिया को ठीक करते हैं और यहां ऐसे हार्मोन का निर्माण भी होता है, जो आपके शरीर की शर्करा के चयापचय को नियंत्रित करने में मदद करते हैं।

अग्नाशय कैंसर आमतौर पर तेजी से फैलता है और इसीलिए इसको प्रारंभिक अवस्था में पता लगाना मुश्किल होता है। लेकिन अग्नाशय कैंसर के शुरूआती दौर में पता लगने पर भी इसको रोकना मुश्किल होता है। कैंसर से होने वाली मृत्यु का यह एक प्रमुख कारण होता है। अक्सर अग्नाशय कैंसर के लक्षण और संकेत कैंसर काफी बढ़ जाने पर ही दिखाई देते हैं और तब तक इसको सर्जरी द्वारा हटा पाना संभव नहीं होता।

अग्नाशय कैंसर होने के बाद जीवित रहने के दर 

इसका इलाज ना होने पर बचना मुश्किल होता है। बीमारी के सभी चरणों की औसत देखी  जाए तो अग्नाशय कैंसर होने के पहले साल के अंत तक जीवित रहने का दर 19 प्रतिशत देखा गया है। और पांच सालों के बाद जीवित रहने का दर केवल 4 प्रतिशत ही रह जाता है। इसलिए इसका निदान जल्द से जल्द कराना अत्यंत ही आवश्यक है। 
 
भारत में अग्नाशय कैंसर 

भारत में अग्नाशय कैंसर के मामले बेहद कम (0.5-2.4 प्रति 100,000 पुरुष और 0.2-1.8 प्रति 100,000 महिलाएं) हैं। अग्नाशय कैंसर के मामले भारत के पश्चिमी और उत्तरी हिस्सों के शहरी पुरुषों की आबादी में अधिक पाए जाते हैं, लेकिन समय के साथ यह आंकड़ा तेजी से बढ़ रहा है।

अग्नाशय कैंसर के प्रकार - Types of Pancreatic Cancer in Hindi

अग्नाशय कैंसर के कितने प्रकार होते हैं?

अग्नाशय कैंसर के निम्नलिखित दो प्रकार होते हैं - 

  1. एक्सोक्राइन ट्यूमर
    एक्सोक्राइन ग्रंथि को प्रभावित करने वाले अधिकांश ट्यूमर को एडेनोकार्सिनोमा कहा जाता है। इस प्रकार का कैंसर अग्न्याशय नलिकाओं में होता है। इस ट्यूमर का उपचार उसके विकास के स्तर पर आधारित होता है।
     
  2.  एंडोक्राइन ट्यूमर
    ये ट्यूमर कम आम हैं और अधिकतर सौम्य होते हैं। एंडोक्राइन ट्यूमर दुर्लभ होते हैं लेकिन यह हार्मोन-उत्पादन वाली कोशिकाओं को प्रभावित करते हैं। इन ट्यूमर को "आइलेट सेल ट्यूमर" या "न्यूरोएंडोक्राइन ट्यूमर" भी कहा जाता है।

अग्नाशयी कैंसर के 95 प्रतिशत मामले एक्सोक्राइन कोशिकाओं में शुरू होते हैं।

पैंक्रियाज कैंसर के चरण - Stages of Pancreatic Cancer in Hindi

अग्नाशय कैंसर के कितने चरण होते हैं ?

कैंसर के प्रसार का वर्णन करने के लिए कैंसर के स्टेज का इस्तेमाल किया जाता है। अग्नाशय कैंसर के निम्नलिखित चरण होते हैं -

  • चरण 0
    इस चरण का अर्थ होता है कि कैंसर फैला नहीं है कोशिकाओं कि केवल एक परत तक ही सीमित है। अग्नाशयी कैंसर इमेजिंग परीक्षणों या नग्न आंखों से दिखाई नहीं दे रहा है।
     
  • चरण 1
    इस चरण का अर्थ है कि कैंसर का कुछ विकास हुआ है लेकिन वह अभी अग्न्याशय तक ही सीमित है।
     
  • चरण 2
    इस चरण का अर्थ है की कैंसर का थोड़ा और प्रसार हुआ है और वह अग्न्याशय के बाहर या पास के लिम्फ नोड्स में फैल गया है।
     
  • चरण 3
    इस चरण का अर्थ है की कैंसर का व्यापक प्रसार हुआ है और पास कि प्रमुख रक्त वाहिकाओं या तंत्रिकाओं में विस्तार हुआ है लेकिन उसके रूप में परिवर्तन नहीं हुआ है।
     
  • चरण 4
    इस चरण में कैंसर के प्रसार कि पुष्टि हो जाती है और यह चरण बताता है कि कैंसर दूर के अंगों में फैल गया है।

अग्नाशय कैंसर के लक्षण - Pancreatic Cancer Symptoms in Hindi

अग्नाशय कैंसर के क्या लक्षण हैं?

अग्नाशय कैंसर के शुरूआती चरण में आमतौर पर कोई लक्षण नहीं होते हैं लेकिन जैसे-जैसे ट्यूमर का साइज बढ़ता है, मरीज निम्नलिखित लक्षणों का अनुभव कर सकते हैं -

यह लक्षण बहुत सी अन्य परिस्थितियों के कारण भी हो सकते हैं। इन लक्षणों का मतलब यह नहीं है कि आपको अग्नाशय कैंसर है। हालांकि, ऐसे लक्षण होने पर आपको अपने चिकित्सक की सलाह लेनी चाहिए।

अग्नाशय कैंसर के कारण - Pancreatic Cancer Causes in Hindi

अग्नाशय कैंसर क्यों होता है?

अग्नाशय कैंसर तब होता है जब अग्न्याशय की कोशिकाओं का डीएनए क्षतिग्रस्त हो जाता है जिससे उसका व्यवहार असामान्य और गुणन होने लगता है। यह कैंसर कोशिका तेजी से बढ़ती व विभाजित होती है जिससे ट्यूमर बनता है। अंततः ट्यूमर कि कोशिकाएं रक्त या लसीका तंत्र के माध्यम से शरीर के अन्य भागों में फैलने लगती हैं।

इस बात का पता अभी तक नहीं लग पाया है कि डीएनए को क्षति कैसे होती है जिसकी वजह से पैंक्रियाज कैंसर होता है।

अग्नाशय कैंसर से बचाव - Prevention of Pancreatic Cancer in Hindi

अग्नाशय कैंसर होने से कैसे रोका जा सकता है?

हालांकि अग्नाशय के कैंसर को रोकने का कोई सिद्ध तरीका नहीं है लेकिन आप अपने जोखिम को कम करने के लिए निम्नलिखित उपाय कर सकते हैं -

  • सिगरेट न पिएं
    यदि आप धूम्रपान करते हैं, तो इसे बंद कर दें। धूम्रपान छोड़ने के तरीकों के लिए अपने डॉक्टर से बात करें और यदि आप धूम्रपान नहीं करते हैं, तो शुरू न करें। (और पढ़ें - धूम्रपान छोड़ने के घरेलू उपाय)
     
  • स्वस्थ वजन बनाए रखें
    यदि आपका वजन स्वस्थ है, तो इसे बनाए रखने का प्रयास करें और यदि आपको वजन कम करने की जरुरत है, तो धीमे-धीमे वजन घटाएं। सब्जियों, फल और साबुत अनाज में समृद्ध आहार और दैनिक व्यायाम करें जो आपका वज़न कम करने में सहायता करेगा।​ (और पढ़ें - वजन कम करने का तरीका)
     
  • स्वस्थ आहार लें
    फलों और सब्जियों और साबुत अनाज से समृद्ध आहार आपके कैंसर के खतरे को कम करने में मदद कर सकता है।

अग्नाशय कैंसर का परीक्षण - Diagnosis of Pancreatic Cancer in Hindi

अग्नाशय कैंसर का निदान कैसे होता है ?

अग्नाशय कैंसर का निदान आमतौर पर तब होता है जब कोई व्यक्ति लक्षणों को कई सप्ताह या महीनों तक अनुभव करने के बाद डॉक्टर के पास जाता है। इस कैंसर में अक्सर पेट में दर्द, वजन कम होना, खुजली या पीलिया होते हैं।

अग्नाशय कैंसर का निदान निम्नलिखित तरीकों से होता है -

  • चिकित्सा इतिहास
    आपके डॉक्टर बीमारी की शुरुआत, प्रकृति, दर्द का स्थान, धूम्रपान का इतिहास और अन्य चिकित्सा समस्याओं को जानकर बीमारी का निदान करने की कोशिश करते हैं।
     
  • शारीरिक परीक्षण
    शारीरिक परीक्षण के दौरान, डॉक्टर आपके पेट में गाँठ को महसूस कर सकते हैं और गर्दन के लिम्फ नोड्स में सूजन, पीली त्वचा या वज़न काम होने के बारे में पता चलता है।
     
  • सीटी स्कैन
    सीटी स्कैन में एक स्कैनर कई एक्स-रे लेता है और कंप्यूटर उन्हें पेट के अंदर की विस्तृत छवियों में पुनर्निमित करता है। सीटी स्कैन डॉक्टरों को अग्नाशय कैंसर का निदान करने में मदद करता है।
     
  • एमआरआई
    एमआरआई में चुंबकीय तरंगों का प्रयोग करते हुए, एक स्कैनर पेट की विस्तृत छवियां बनाता है। विशेष रूप से अग्न्याशय, लिवर और पित्ताशय की थैली के आसपास के क्षेत्र की छवियां।
     
  • अल्ट्रासाउंड
    अल्ट्रासाउंड में ध्वनि तरंगों से छवियां उत्पन्न होती हैं जो डॉक्टरों को अग्नाशय के कैंसर के निदान में मदद करती हैं।
     
  • पीईटी स्कैन
    पीईटी स्कैन में नसों में रेडियोधर्मी ग्लूकोज का इंजेक्शन दिया जाता है जो कैंसर कोशिकाओं द्वारा अवशोषित किया जाता है। पीईटी स्कैन, अग्नाशय कैंसर के प्रसार को बताने में मदद कर सकता है।
     
  • बायोप्सी
    बायोप्सी में ऊतक का एक नमूना लिया जाता और उसकी जाँच की जाती है। अगर अग्नाशय कैंसर का निदान पहले ही हो जाता है तो डॉक्टर बिना बायोप्सी के बिना सर्जरी की सलाह दे सकते हैं।

अग्नाशय कैंसर का इलाज - Pancreatic Cancer Treatment in Hindi

अग्नाशय कैंसर का इलाज कैसे होता है?

अग्नाशय के कैंसर का उपचार आपके कैंसर के प्रकार, स्थान और चरण पर निर्भर करता है। इस कैंसर के उपचार के तीन तरीके हैं - सर्जरी, कीमोथेरेपी और रेडिएशन थेरेपी। आपके डॉक्टर्स की टीम निर्णय लेगी कि आपके लिए कौन सा उपचार सही है।

1. सर्जरी
ऑपरेशन आमतौर पर एकमात्र ऐसा तरीका है जो अग्नाशय कैंसर को पूरी तरह से ठीक कर सकता है। हालांकि क्योंकि पैंक्रियाज कैंसर का निदान इसके काफी बढ़ जाने पर ही होता है, इसीलिए अग्नाशय कैंसर की सर्जरी केवल 15-20% लोगों के लिए ही उपयुक्त होती है।

हालांकि, यदि आपका ट्यूमर महत्वपूर्ण रक्त वाहिकाओं तक फ़ैल गया है या शरीर के अन्य क्षेत्रों में फैल गया है, तो सर्जरी से ट्यूमर को हटाकर आप स्वस्थ नहीं हो पाएंगे।

2. कीमोथेरपी
कीमोथेरपी में उन दवाओं का उपयोग किया जाता है जो या तो आपके शरीर में कैंसर कोशिकाओं को मारती हैं या उनका गुणन रोकती हैं। कीमोथेरपी को अक्सर सर्जरी और रेडियोथेरेपी के साथ प्रयोग किया जाता है यह सुनिश्चित करने के लिए कि जितना संभव हो उतना कैंसर का इलाज किया जा सके।

कीमोथेरेपी की जा सकती है -

  • सर्जरी से पहले - कैंसर को कम करने की कोशिश करने के लिए, ताकि चिकित्सक सारे कैंसर को हटा सके।
  • सर्जरी के बाद - कैंसर के फिर से होने के जोखिम को कम करने में मदद करने के लिए।
  • जब सर्जरी संभव न हो - कैंसर को कम करने का प्रयास करने के लिए, इसकी वृद्धि धीमी करने के लिए और लक्षणों को सुधारने के लिए।

कुछ कीमोथेरेपी दवाएं मौखिक रूप से ली जा सकती हैं, लेकिन कुछ दवाओं को सीधे नसों में दिया जाता है।

3. रेडियोथेरेपी (विकिरण चिकित्सा)
रेडियोथेरेपी में आपके ट्यूमर को कम करने और दर्द को दूर करने के लिए विकिरण की उच्च ऊर्जा वाली रौशनी का उपयोग किया जाता है।

कुछ प्रकार के अग्नाशय कैंसर के लिए केवल एक ही प्रकार के उपचार की आवश्यकता होती है जबकि अन्य प्रकार को दोनों या तीनों के संयोजन की आवश्यकता हो सकती है।

अग्नाशय कैंसर की जटिलताएं - Pancreatic Cancer Complications in Hindi

अग्नाशय कैंसर से क्या नुकसान हो सकते हैं?

जैसे-जैसे अग्नाशय कैंसर बढ़ता है, आपको निम्नलिखित जटिलताएं हो सकती हैं -

  • पीलिया
    अगर अग्नाशय कैंसर आपकी जिगर की पित्त की नलि को रोकता है तो वह पीलिया बन सकता है। इसके लक्षण हैं पिली रंग की त्वचा और आंखें, गहरे रंग के मूत्र और फीके रंग के मल।
     
  • दर्द
    बढ़ता ट्यूमर आपके पेट में नसों पर दबाव डाल सकता है, जिससे दर्द हो सकता है और जो गंभीर भी हो सकता है।
     
  • आंतों की रूकावट
    अग्नाशय कैंसर जो छोटी आंत में बढ़ता है या उसपर दबाव डालता है, आपके पेट से पचे भोजन का प्रवाह रोक सकता है। (और पढ़ें - आंतों में रूकावट)
     
  • वजन घटना
    अग्नाशयी कैंसर से ग्रस्त लोगों का कई कारणों से वजन कम हो सकता है।


संदर्भ

  1. American Cancer Society [Internet] Atlanta, Georgia, U.S; About Pancreatic Cancer.
  2. National Cancer Institute [Internet]. Bethesda (MD): U.S. Department of Health and Human Services; Pancreatic Cancer Treatment (PDQ®)–Patient Version.
  3. Reynolds RB, Folloder J. Clinical Management of Pancreatic Cancer. J Adv Pract Oncol. 2014 Sep-Oct;5(5):356-64. Epub 2014 Sep 1. PMID: 26114016
  4. PDQ Adult Treatment Editorial Board. Pancreatic Cancer Treatment. (PDQ®): Health Professional Version. 2019 Mar 28. In: PDQ Cancer Information Summaries [Internet]. Bethesda (MD): National Cancer Institute (US); 2002-.
  5. MedlinePlus Medical Encyclopedia: US National Library of Medicine; Pancreatic cancer.

अग्नाशय कैंसर के डॉक्टर

David K Simson David K Simson ऑन्कोलॉजी
11 वर्षों का अनुभव
Dr. Nilesh Ranjan Dr. Nilesh Ranjan ऑन्कोलॉजी
3 वर्षों का अनुभव
Dr. Ashok Vaid Dr. Ashok Vaid ऑन्कोलॉजी
31 वर्षों का अनुभव
Dr. Ashu Abhishek Dr. Ashu Abhishek ऑन्कोलॉजी
12 वर्षों का अनुभव
डॉक्टर से सलाह लें

अग्नाशय कैंसर की दवा - Medicines for Pancreatic Cancer in Hindi

अग्नाशय कैंसर के लिए बहुत दवाइयां उपलब्ध हैं। नीचे यह सारी दवाइयां दी गयी हैं। लेकिन ध्यान रहे कि डॉक्टर से सलाह किये बिना आप कृपया कोई भी दवाई न लें। बिना डॉक्टर की सलाह से दवाई लेने से आपकी सेहत को गंभीर नुक्सान हो सकता है।

cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ