myUpchar सुरक्षा+ के साथ पुरे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

सिबेशियस सिस्ट​ क्या है? 

त्वचा पर होने वाले सख्त गांठ या तरल युक्त दाने को सिबेशियस सिस्ट (एपिडर्मल) कहा जाता है। यह गांठ मटर के दाने के आकार की होती है, जो एक सेंटीमीटर से पांच सेंटीमीटर तक हो सकती हैं। यह आपके शरीर के किसी भी हिस्से में हो सकती है, लेकिन गर्दन, चेहरे और शरीर के ऊपरी हिस्से में इसका होना एक आम बात है। यह कैंसर का कारण नहीं होती है, मगर इसकी वजह से आपको असहजता महसूस हो सकती है। 

(और पढ़ें - गले की गांठ का इलाज)

सिबेशियस सिस्ट के लक्षण क्या हैं?

सिबेशियस सिस्ट में छोटी गांठ होने पर व्यक्ति को दर्द महसूस नहीं होता, लेकिन यदि इस गांठ का आकार बड़ा हुुआ है तो इसकी वजह से व्यक्ति को दर्द महसूस हो सकता है। चेहरे और गर्दन पर होने वाली बड़ी गांठ इन हिस्सों पर दबाव का कारण भी होती है। इस तरह के सिस्ट (गांठ) के अंदर त्वचा और नाखून को बनाने वाले महत्वपूर्ण तत्व केराटिन की सफेद पपड़ी बन जाती है। अधिकतर सिस्ट छूने में मुलायम होते हैं। 

सामान्यतः शरीर के निम्न हिस्सों में ये सिस्ट हो जाते हैं - 

  • सिर की त्वचा 
  • चेहरा
  • गर्दन 
  • पीठ, आदि 

(और पढ़ें - अंडाशय के सिस्ट का सर्जरी​)

सिबेशियस सिस्ट (एपिडर्मल) क्यों होता है? 

सिबेसियस सिस्ट व्यक्ति की सिबेसियस ग्रंथि से संबंधित होते हैं। सिबेसियस ग्रंथि आपकी त्वचा और बालों में सिबम नाम का तेल बनाती हैं। जब यह ग्रंथि या इसकी नलियां बंद या क्षतिग्रस्त हो जाती हैं तो सिबेसियस सिस्ट बनने लगते हैं। आमतौर पर किसी प्रकार से चोट लगने के कारण ऐसा होता है, जिसमें खंरोच, ऑपरेशन के बाद घाव या त्वचा संबंधी समस्या जैसे मुंहासों को शामिल किया जाता है। सिबेसियस सिस्ट धीरे-धीरे बढ़ते हैं, तो चोट लगने के कुछ सप्ताह बाद या महीने भर बाद आपको ये समस्या हो सकती है। 

(और पढ़ें - मुंहासे हटाने के घरेलू उपाय)

सिबेशियस सिस्ट (एपिडर्मल) का इलाज कैसे होता है?

गर्म पानी में भीगे हुए कपड़े से आप सिबेसियस सिस्ट के अंदर के तरल को बाहर निकाल सकते हैं, लेकिन कई बार इस तरीके के बाद भी सिस्ट दोबारा हो जाते हैं। सामान्यतः सिबेसियस सिस्ट अपने आप ही ठीक हो जाते हैं। 

निम्न तरह के तरीकों को अपनाकर डॉक्टर सिस्ट को ठीक करते हैं। 

  • सिस्ट के अंदर के तरल को बाहर निकाला:
    इसके लिए डॉक्टर सिस्ट पर हल्का कट लगाकर उसके अंदर मौजूद तरल या पस को बाहर निकाल देते हैं।
  • इंजेक्शन:
    अगर सिस्ट लगातार बढ़ रहा हो, उसमें सूजन हो और उसको छूने में दर्द महसूस हो रहा हो, तो ऐसे में डॉक्टर सिस्ट में दवा का इंजेक्शन लगा सकता है। (और पढ़ें - सूजन से छुटकारा पाने का तरीका)
  • सर्जरी :
    छोटे से ऑपरेशन से सिस्ट की पूरी परत को बाहर निकाल दिया जाता है। 
  • लेजर से सिस्ट का हटाना। 

(और पढ़ें - ओवेरियन सिस्ट का इलाज)

क्या आप या आपके परिवार में किसी को यह बीमारी है? सर्वेक्षण करें और दूसरों की सहायता करें

और पढ़ें ...