myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

खर्राटे लेना एक बहुत ही आम समस्या है। इसकी वजह से पूरी दुनिया में बहुत से लोग प्रभावित हैं। यह कष्टकारी ध्वनि आपकी नींद को तो बाधित करती ही है साथ ही आपके साथी को भी परेशान करके रख देती है। खर्राटे तब शुरू होते हैं जब गले का ढांचा कंपन करने लगता है जिस वजह से गले से तेज़ ध्वनि निकलना शुरू हो जाती है। इसे अक्सर नींद विकार माना जाता है और ज़्यादा खर्राटे की परेशानी की वजह चिकित्सा और सामाजिक कारणों से जुडी होती है। इसलिए अगर आपको खर्राटों की आदत है तो इस समस्या का समाधान ज़रूर करें।

खर्राटों के इलाज के लिए कई उत्पाद उपलब्ध हैं लेकिन उनमें से ज्यादातर प्रभावी साबित नहीं हुए हैं। खर्राटों के लिए कोई चमत्कार इलाज भी नहीं है लेकिन आप अपने जीवन शैली में परिवर्तन करके और आसान घरेलू उपायों से अपने खर्राटों को नियंत्रित कर सकते हैं। (और पढ़ें - खर्राटों से छुटकारा पाने के लिए ज़रूर पिएं ये जूस)

तो आज हम आपको खर्राटों से छुटकारा पाने के लिए कुछ घरेलू उपायों के बारे में बताएंगे जिनके इस्तेमाल से आप तो चैन से सो ही पाएंगे साथ ही अपने पार्टनर को भी सुकून की नींद सोने देंगे।

  1. खर्राटे रोकने के उपाय के लिए करें पुदीने के तेल का इस्तेमाल - Kharate se bachne ka upay hai peppermint oil
  2. खर्राटों से छुटकारा दिलाता है जैतून का तेल - Kharate rokne ka tarika hai olive oil
  3. खर्राटे से छुटकारा पाए भाप से - Kharate band kare steam inhalation se
  4. खर्राटे रोकने का उपाय है घी - Kharate band karne ke nuskhe ke liye kare ghee ka upyog
  5. खर्राटे रोकने के घरेलू उपाय के लिए करें इलायची का इस्तेमाल - Kharate se bache cardamom se
  6. खर्राटे रोकने का तरीका है हल्दी - Kharate dur karne ka upay hai turmeric
  7. खर्राटों से बचने के उपाय हैं बिछुआ के पत्ते - Kharate rokne ka gharelu upay hai nettle leaves
  8. खर्राटों से मुक्ति देता है लहसुन - Kharaton se nijat dilata hai garlic
  9. खर्राटे को दूर करने का नुस्खा है शहद - Kharate band hone ka tarika hai honey
  10. खर्राटे बंद करने का उपाय है कैमोमाइल - Kharate band karne ka gharelu nuskha hai chamomile
  11. खर्राटे बंद करने के रामबाण उपाय के लिए कुछ टिप्स - Snoring tips in hindi

पुदीने में मौजूद सूजनरोधी गुण झिल्ली की सूजन को कम करने में मदद करते हैं। इसकी मदद से आपको सोते समय सांस लेने में किसी भी तरह की परेशानी नहीं होती। पुदीने का उपाय एलर्जी, ठंड या शुष्क हवा के कारण होने वाले अस्थायी खर्राटों के लिए भी अच्छी तरह काम करते है। (और पढ़ें - बाबा रामदेव से जानिए खर्राटे का उपचार)

पुदीने के तेल का इस्तेमाल कैसे करें –

  1. एक गिलास पानी में एक या दो बूँद पुदीने की तेल की डालें। अब इस मिश्रण से रात को सोने से पहले गरारे करें। ध्यान रहे इस मिश्रण को निगलना नहीं है। इस प्रक्रिया को रोज़ करें तब तक जब तक कि एक अच्छा परिणाम आपको नहीं मिल जाता।
  2. अगर शुष्क हवा और गले में जमाव आपके खर्राटों का कारण बन रहे हैं तो पुदीने की तेल की कुछ बूँदें ह्यूमिडिफायर (एक प्रकार का डिवाइस है जो कमरे में नमी बनाये रखने में मदद करता है) में आधा घंटा सोने से पहले डालें। ह्यूमिडिफायर को पूरा रातभर चलाएं। इस उपाय से आपको खर्राटों को दूर करने में मदद मिलेगी।
  3. इसके अलावा सोने से पहले अपने नाक के निचले हिस्से में थोड़ा पुदीने का तेल भी लगा सकते हैं। (और पढ़ें - पुदीने के फायदे और नुकसान)

जैतून के तेल में सूजनरोधी गुण पाए जाते हैं। जैतून का तेल सूजन को दूर करता है जिससे हवा को आने और जाने में किसी भी प्रकार की दिक्कत नहीं होती। यह दर्द को भी कम करता है। इस उपाय का इस्तेमाल रोज़ाना करें इससे गले में कंपन और खर्राटों को रोकने में मदद मिलेगी।

जैतून के तेल का इस्तेमाल कैसे करें –

  1. रोज़ाना रात को सोने से पहले एक या दो घूंट जैतून के तेल की लें।
  2. एक या आधा चम्मच जैतून के तेल और शहद को मिलाएं। अब इस मिश्रण को रोज़ाना रात को सोने से पहले पियें। (और पढ़ें - जैतून के तेल के फायदे और नुकसान)

खर्राटों के पीछे का मुख्य कारण है नाक में जमाव। जमाव को कम करने के लिए भाप लेना सबसे अच्छा समाधान है।

भाप का इस्तेमाल कैसे करें –

  1. एक बड़े कटोरे में पानी को गर्म कर लें।
  2. अब इसमें तीन या चार चम्मच नीलगिरी का तेल या टी ट्री तेल मिलाएं।
  3. अब अपने सिर को तौलिये से ढक लें और 10 मिनट तक गहरी सांस लेने की कोशिश करें।
  4. नाक में जमाव को दूर करने के लिए इस उपाय को रोज़ रात को सोने से पहले ज़रूर अपनाएँ।

(और पढ़ें - स्टीम लेने के फायदे)

क्लैरिफाइड घी को घी भी कहा जाता है। इसमें कुछ औषधीय गुण मौजूद होते हैं जो नाक के जमाव को कम करने में मदद करते हैं। इसके इस्तेमाल से आपको घबराहट को कम करने और बेहतर नींद लेने में मदद मिलती है।

घी का इस्तेमाल कैसे करें –

  1. माइक्रोवेव में घी को हल्का गर्म कर लें। अगर आपके पास माइक्रोवेव नहीं है तो तवे पर या किसी बर्तन में भी घी को हल्का गर्म कर सकते हैं।
  2. अब घी को गुनगुना होने के बाद एक एक बूँद अपनी नाक के दोनों छिद्रों में डालें।
  3. रोज़ाना रात को सोने से पहले और सुबह उठने के तुरंत बाद ये प्रक्रिया ज़रूर करें।

(और पढ़ें - घी के फायदे और नुकसान)

इलायची को सर्दी खांसी की दवा माना जाता है। जिसके सेवन से बंद नाक को खोलने में मदद मिलती है। नाक खुलने के बाद हवा को आने जाने में किसी भी तरह की दिक्कत नहीं होती और आपके खर्राटों में भी कमी आती है।

इलायची का इस्तेमाल कैसे करें –

  1. एक ग्लास पानी में एक या आधा चम्मच इलायची पाउडर को मिलाएं।
  2. इस मिश्रण को सोने से आधा घंटा पहले पीलें।
  3. धीरे-धीरे अपने खर्राटों को कम करने के लिए इस मिश्रण का प्रयोग रोज़ाना करें। (और पढ़ें - इलायची के फायदे और नुकसान)

हल्दी में एक शक्तिशाली एंटीसेप्टिक और एंटीबायोटिक गुण होते हैं। हल्दी सूजन को दूर करती है साथ ही खर्राटों को भी कम करने में मदद करती है। ये उपाय का इस्तेमाल करने से आप सुकून की नींद सो पाएंगे और प्रतिरोधक क्षमता को भी बढ़ाने में मदद मिलेगी।

हल्दी का इस्तेमाल कैसे करें –

  1. गर्म दूध के गिलास में हल्दी पाउडर के दो चम्मच मिलाएं।
  2. सोने से पहले इसे आधा घंटा पहले पियें।
  3. इस उपाय को रोज़ाना इस्तेमाल करें। (और पढ़ें - हल्दी के फायदे और नुकसान)

अगर आपको वर्ष में खर्राटे कभी कभी आते हैं तो यह शायद मौसम की एलर्जी के कारण होता है जिस वजह से आपकी नाक बंद हो जाती है और सांस लेने में दिक्कत होती है। इस तरह के अस्थायी खर्राटों का इलाज बिछुआ के पत्तों के साथ किया जा सकता है क्योंकि इसमें सूजनरोधी और हिस्टमीन रोधी के गुण पाए जाते हैं।

बिछुआ के पत्ते का इस्तेमाल कैसे करें –

  1. एक कप गर्म पानी में एक चम्मच सूखे बिछुआ के पत्ते डालें।
  2. इसे पांच मिनट के लिए उबलने को रख दें।
  3. फिर इस मिश्रण को छान लें।
  4. सोने से पहले इस गर्म गर्म मिश्रण को पी लें।
  5. एलर्जी के मौसम के दौरान इस मिश्रण को रोज़ाना दो से तीन कप ज़रूर पियें।

लहसुन नाक में जमा बलगम और श्वसन प्रणाली में हो रही सूजन को कम करने में मदद करता है। तो अगर आपको खर्राटे साइनस की वजह से आते हैं तो लहसुन आपको इस समस्या से राहत दे सकता है।

लहसुन का इस्तेमाल कैसे करें –

  1. सबसे पहले एक या दो फाके कच्चे लहसुन की खा लें और फिर एक ग्लास पानी पियें।
  2. इस प्रक्रिया को रोज़ाना रात को सोने से पहले करें।
  3. खाना बनाने के समय भी लहसुन का इस्तेमाल करें और उस आहार को गर्म गर्म खाएं।

(और पढ़ें - लहसुन के फायदे और नुकसान)

खर्राटों को दूर करने का अगला उपाय है शहद। इसके सूजनरोधी गुण गले की सूजन को कम करते हैं। इसके अलावा शहद गले की परत को चिकना बनाता है जिससे सांस लेने में किसी भी प्रकार की परेशानी और कंपन नहीं होती।

शहद का इस्तेमाल कैसे करें –

  1. गर्म पानी के एक गिलास में शहद की एक चम्मच मिलाएं। और इस मिश्रण को सोने से पहले पीलें।
  2. इस मिश्रण को रोज़ाना पियें।
  3. इसके अलावा आप हर्बल टी बनाने के लिए शहद का इस्तेमाल कर सकते हैं।
  4. शहद मिलाने से इस मिश्रण को आप खाना के बाद अच्छे से पी पाएंगे। (और पढ़ें - शहद के फायदे और नुकसान)

कैमोमाइल में सूजनरोधी गुण पाए जाते हैं जिसके सेवन से आप खर्राटों को रोक पाते हैं। यह गले की तंत्रिका और मांसपेशियों को भी आराम देता है जिससे आपको सोने में किसी भी तरह की परेशानी नहीं होती।

कैमोमाइल का इस्तेमाल कैसे करें –

  1. एक कप पानी में कैमोमाइल फूलों (या एक कैमोमाइल चाय बैग) का एक चम्मच डालें।
  2. इसे लगभग 15 मिनट के लिए उबाल लें।
  3. अब इस मिश्रण को छान लें और फिर उसमे एक चम्मच शहद को मिलाएं।
  4. रात को सोने से पहले इस मिश्रण को रोज़ाना ज़रूर पियें। (और पढ़ें - कैमोमाइल चाय के फायदे और नुकसान)

कुछ ज़रूरी टिप्स इस प्रकार हैं -

  1. यदि आपका वजन अधिक है तो अपना वजन कम कर लें। क्योंकि जो लोग अधिक वजन वाले होते हैं उनके गले में अतिरिक्त ऊतक होते हैं जो खर्राटों की समस्या को बढ़ाते हैं। (और पढ़ें - वजन कम करने के तरीके)
  2. अपनी पीठ के सोने की बजाए करवट लेकर सोएं। अगर आप पीठ के बल सोते हैं तो आपकी जीभ तलवे को छूने लगेगी जिसकी वजह से हवा को आने या जाने में रुकावट पैदा हो सकती है जिस कारण से खर्राटे शुरू हो सकते हैं।
  3. लेटने से पहले अपने सिर को चार इंच ऊपर उठाकर सोएं या सिर के नीचे एक से अधिक तकिया लगाकर रखें जिससे कि आपके गले के उत्तकों का बचाव हो सके।
  4. आसानी से सांस लेने के लिए आप नासिका संबंधी स्ट्रिप्स का उपयोग कर सकते हैं।
  5. सोने से दो घंटे पहले शराब का सेवन न करें। शराब आपकी केंद्रीय तंत्रिका तंत्र को दबा सकती है जिससे खर्राटे की समस्या उत्पन्न हो सकती है।
  6. सोने से पहले गाने का प्रयास करें। गाने से आपके नरम तालू और ऊपरी गले की मांसपेशियों को नियंत्रित करने में मदद मिलेगी।
  7. धूम्रपान को कम कर दें या बिलकुल छोड़ दें। क्योंकि यह आपके नाक और गले की कैविटी को परेशान कर सकता है। इससे आपके गले में सूजन पैदा हो सकती है जिस वजह आपके खर्राटे और गंभीर हो सकते हैं। (और पढ़ें - धूम्रपान छोड़ने के लिए घरेलू उपाय)

खर्राटों को भगाने के लिए उपरोक्त किसी भी उपायों को आप शामिल कर सकते हैं। इन उपायों के इस्तेमाल से आप सुकून की नींद ले पाएंगे और किसी भी तरह की परेशानी का सामना आपको नहीं करना पड़ेगा।

और पढ़ें ...

References

  1. Elmasry A et al. The role of habitual snoring and obesity in the development of diabetes: a 10-year follow-up study in a male population. J Intern Med. 2000 Jul;248(1):13-20. PMID: 10947876
  2. Elmasry A et al. The role of habitual snoring and obesity in the development of diabetes: a 10-year follow-up study in a male population. J Intern Med. 2000 Jul;248(1):13-20. PMID: 10947876
  3. Amitabh Das Shukla, Swati Jain, Rishabh Mishra, A. K. Singh. Does ‘weight reduction’ help all adult snorers? Lung India. 2013 Jan-Mar; 30(1): 16–19. PMID: 23661911
  4. Catherine L. Davis et al. Aerobic Exercise and Snoring in Overweight Children: A Randomized Controlled Trial . Obesity (Silver Spring). 2006 Nov; 14(11): 1985–1991. PMID: 17135615
  5. Wen-Chyuan Chen et al. Treatment of snoring with positional therapy in patients with positional obstructive sleep apnea syndrome . Sci Rep. 2015; 5: 18188. PMID: 26657174
  6. M. J. L. Ravesloot et al. The undervalued potential of positional therapy in position-dependent snoring and obstructive sleep apnea—a review of the literature . Sleep Breath. 2013 Mar; 17(1): 39–49. PMID: 22441662
  7. Soon-Yeob Park et al. The Effects of Alcohol on Quality of Sleep Korean J Fam Med. 2015 Nov; 36(6): 294–299. PMID: 26634095
  8. Issa FG, Sullivan CE. Alcohol, snoring and sleep apnea. J Neurol Neurosurg Psychiatry. 1982 Apr;45(4):353-9. PMID: 7077345
  9. Dawson A et al. Effect of bedtime alcohol on inspiratory resistance and respiratory drive in snoring and nonsnoring men. Alcohol Clin Exp Res. 1997 Apr;21(2):183-90.
  10. Riemann R et al. The influence of nocturnal alcohol ingestion on snoring. Eur Arch Otorhinolaryngol. 2010 Jul;267(7):1147-56. PMID: 19949955
  11. Kyung Soo Kim et al. Smoking Induces Oropharyngeal Narrowing and Increases the Severity of Obstructive Sleep Apnea Syndrome . J Clin Sleep Med. 2012 Aug 15; 8(4): 367–374. PMID: 22893766
  12. Franklin KA et al. The influence of active and passive smoking on habitual snoring. Am J Respir Crit Care Med. 2004 Oct 1;170(7):799-803. Epub 2004 Jul 8. PMID: 15242843
  13. Ophir D, Elad Y. Effects of steam inhalation on nasal patency and nasal symptoms in patients with the common cold. Am J Otolaryngol. 1987 May-Jun;8(3):149-53. PMID: 3303983
  14. National Health Service [Internet]. UK; Singing exercises may help control snoring.
  15. Nicola Principi, Susanna Esposito2. Nasal Irrigation: An Imprecisely Defined Medical Procedure . Int J Environ Res Public Health. 2017 May; 14(5): 516. PMID: 28492494
  16. Am Fam Physician. 2009 Nov 15; 80(10): 1117–1119. PMID: 19904896
  17. Johns Hopkins Medicine [Internet]. The Johns Hopkins University, The Johns Hopkins Hospital, and Johns Hopkins Health System; Why Do People Snore? Answers for Better Health