• हिं

भारतीय व्यंजनों में महक व जायका लाने के लिए इलायची का अपना ही प्रमुख स्थान है। परन्तु क्या आपको यह ज्ञात है कि इलायची का स्वाद ही लाजवाब नहीं है अपितु इसके स्वास्थ्य के लिए लाभ भी कई हैं। लोहा और मैंगनीज के साथ इलायची पोटेशियम, कैल्शियम, सल्फर और मैग्नीशियम जैसे खनिजों का एक बहुत ही उत्तम स्रोत है।

इसके अलावा, यह कई महत्वपूर्ण विटामिनों में समृद्ध है, जिनमें राइबोफ़्लिविन, नियासिन और विटामिन सी शामिल हैं। इलायची के औषधीय लाभों का श्रेय इसमें सम्मलित श्रेष्ठ एंटी-सेप्टिक, एंटी-ऑक्सिडेंट, मूत्रवर्धक, भूख बढ़ानेवाला और टॉनिक गुणों को जाता है।

  1. इलायची के फायदे - Elaichi ke Fayde in Hindi
  2. इलायची के नुकसान - Elaichi ke Nuksan in Hindi

इलायची का उपयोग करे पाचन शक्ति को उत्तेजित - Cardamom Helps Digestion in Hindi

इलायची में उच्च गुणवत्ता वाले गैस को कम करने वाले गुण पाए जाते हैं जो पाचन प्रक्रिया को उत्तेजित में मदद करते हैं। यह पेट फूलना और सूजन को कम कर देती है और शूल और पेट-दर्द का इलाज करती है। इसके अलावा यह पित्त के प्रवाह को बढ़ाती है, जिससे वसा के पाचन और साथ ही अन्य पोषक तत्वों के पाचन में सुधार आता है। 

(और पढ़ें – पेट में गैस के घरेलू उपचार)

पाचन समस्याओं के लिए इलायची का उपयोग करने के लिए, आप इसके बीज का सेवन कर सकते हैं, अपने भोजन पर इलायची का पाउडर छिड़क सकते हैं या फिर इलायची की चाय का एक स्वादिष्ट कप का लुफ्त उठा सकते हैं। चूँकि इलायची का स्वाद बहुत ही अच्छा होता है आप इसका सेवन बच्चों को भी बिना किसी कठिनाई के करा सकते हैं। 

(और पढ़ें – पाचन क्रिया सुधारने के आयुर्वेदिक उपाय)

इलायची के फायदे हैं मुंह की दुर्गन्ध को दूर करने के लिए - Cardamom Tea for Bad Breath in Hindi

जीवाणुरोधी गुणों से पैक, इलायची आसानी से उन बीमारियों से लड़ सकती है जो खराब सांस का कारण बनती हैं। इसकी सुखद गंध मुंह से आने वाली दुर्गन्ध को आसानी से हरा सकती है। इसके अलावा इलायची के बीज से निकाले जाने वाले तेल में कुछ ऐसे यौगिक शामिल होते हैं जो गन्दी सांस के कारक बैक्टीरिया और अन्य संक्रमणों को मार देते हैं।

आप इलायची की चाय भी पी सकते हैं या फिर रोजाना गुनगुने इलायची की चाय से दो बार कुल्ला कर सकते हैं।

(और पढ़ें – मुंह की बदबू का इलाज)

इलायची के लाभ बढ़ाएँ भूख को - Ilaichi ke Fayde for Appetite in Hindi

इलायची एक उष्म पाचन टॉनिक के रूप में काम करता है जो अपच, उदर-स्फीति (पेट फूलना) और अम्लता से निपट सकती है और आपकी भूख को कम कर सकती हैं। इसके अलावा, यह पाचन रस के स्राव को उत्तेजित करती है, जिससे आपके भूख में सुधार आता है। 

(और पढ़ें - बदहजमी के घरेलू उपाय)

यदि आप अपनी भूख खो चुके हैं, तो अपने सूप में थोड़ा सा इलायची पाउडर मिलाएं या फिर अपनी भूख को पुन: सक्रिय करने के लिए इसके कुछ बीज चबाएं। 

(और पढ़ें – काली मिर्च के लाभ करें भूख को उत्तेजित)

इलायची के गुण करें शरीर को डेटोक्सीफाय करने में मदद - Cardamom for Detox in Hindi

एंटीऑक्सिडेंट्स में समृद्ध होने के कारण, इलायची शरीर से विषाक्त पदार्थों को निकालने में भी सहायता करती है। यह मैंगनीज का एक उत्कृष्ट स्रोत है, जो एंजाइमों को उजागर करने में सहायता कर फ्री-रेडिकल्स को हटाने और उन्हें नष्ट करने में मदद करती है।

इलायची की चाय का एक कप रोजाना पियें और अपने शरीर को स्वस्थ और साफ रखें। 

(और पढ़ें – पालक के फायदे करें डिटॉक्सिफिकैशन प्रक्रिया में सहायता)

इलायची के स्वास्थ्य लाभ लाएं किडनी में सुधार - Elaichi ke Fayde for Kidney in Hindi

इलायची गुर्दे के लिए अच्छी मानी जाती है क्योंकि यह पेशाब को बढ़ावा देती है और रक्तचाप को कम करती है और साथ ही गुर्दे में जमा कैल्शियम और यूरिया को हटा देती है।

इलायची का नियमित उपयोग गुर्दे की पथरी, नेफ्रैटिस, जलन या कष्टदायक पेशाब आदि गुर्दे, मूत्राशय और मूत्र संबंधी समस्याओं के विभिन्न प्रकार के उपचार में मदद कर सकती है। यह अक्सर मूत्र पथ के संक्रमण के उपचार में भी प्रयोग किया जाता है। पूरे या फिर पिसे हुए इलायची दोनों का ही उपयोग गुर्दों की कार्यप्रणाली में सुधार के लिए किया जा सकता है। 

(और पढ़ें – किडनी खराब करने वाली इन दस आदतों से करें परहेज़)

इलायची के उपाय करें हृदय गति को नियमित - Elaichi Chai Benefits for Heart Beat in Hindi

पोटेशियम, कैल्शियम और मैग्नीशियम जैसे खनिजों से भरपूर इलायची आपके हृदय के स्वास्थ्य के लिए सर्वोत्तम है। पोटेशियम आपके शरीर के रक्त, तरल पदार्थ और कोशिकाओं के मुख्य घटक में से एक है।

हृदय गति को नियमित करने और रक्तचाप को नियंत्रण में रखने के लिए पर्याप्त पोटेशियम की आवश्यकता अनिवार्य होती है। इसके अलावा इलायची, प्लेटलेट एकत्रीकरण और सूजन को रोक सकती है, जिससे ब्लड क्लॉट और स्ट्रोक के होने का खतरा बहुत हद तक कम हो जाता है। हृदय के स्वास्थ्य लाभों का आनंद लेने के लिए रोजाना दो कप इलायची का प्याला पियें।

(और पढ़ें – बेसन खाने के फायदे दिल के लिए)

इलायची पाउडर है अस्थमा रोगियों के लिए फायदेमंद - Cardamom Benefits for Asthma in Hindi

अस्थमा से ग्रस्त मरीज खाँसी, घरघराहट, सांस की तकलीफ और सीने में जकड़न जैसे अस्थमा के लक्षणों से राहत पाने के लिए, इलायची का इस्तेमाल कर सकते हैं।

इलायची फेफड़ों के भीतर रक्त परिसंचरण को बढ़ाकर, सूजन से लड़कर और श्लेष्म झिल्ली (mucous membrane) को शांत कर आसानी से सांस लेने में मदद करती है। इलायची की गर्म प्रकृति, कफ के निष्कासन को बढ़ावा देने में भी सहायक है और छाती में कंजेशन से राहत दिलाती है।
कम मात्रा में इलायची का नियमित उपयोग अस्थमा या ब्रोंकाइटिस से पीड़ित लोगों के लिए बहुत फायदेमंद है। आप इलायची की चाय का सेवन भी कर सकते हैं या फिर उसके पाउडर को अपने भोजन में डाल सकते हैं।

इलायची खाने के फायदे करें एनीमिया की कमज़ोरी दूर - Elaichi Powder for Anemia in Hindi

इलायची के पास शक्तिशाली एंटी-ऑक्सीडेंट गुण होते हैं जो इस स्थिति के दौरान खोए गए विटामिन की भरपाई करने में मदद करते हैं। इसमें तांबा, लोहा, मैंगनीज और रिबाफ़्लैविना, विटामिन सी और नियासिन जैसे आवश्यक विटामिन भी हैं, जो थकान और कमजोरी जैसे एनीमिया के लक्षणों से लड़ने के लिए उपयुक्त माने जाते हैं। ये सभी पोषक तत्व लाल रक्त कोशिकाओं और सेलुलर चयापचय के उत्पादन में मदद करते हैं। 

(और पढ़ें – थकावट दूर करने के उपाय)

जो एनीमिक हैं, उन्हें इलायची पाउडर और एक चम्मच हल्दी पाउडर को एक गिलास गर्म दूध में मिलाकर हर रात अवश्य पीना चाहिए। इससे कमजोरी और एनीमिया के अन्य लक्षणों को दूर करने में मदद मिलती है।

(और पढ़ें – जीरे के गुण दें एनीमिया को मात)

इलायची के औषधीय गुण बचाएं कैंसर से - Cardamom for Cancer Protection in Hindi

इलायची में आई.सी. 3 और डी.आई.एम, फाइटोकेमिकल्स शामिल हैं जो कैंसर से लड़ने के लिए बहुत ही प्रसिद्ध हैं। यह स्तन, डिम्बग्रंथि और प्रोस्टेट कैंसर के लिए जिम्मेदार हार्मोनों के विकास को रोक लगाता है। इलायची का नियमित रूप से उपभोग कैंसर के इन रूपों को रोकने में मदद कर सकता है। अध्ययनों से पता चला है कि इलायची में निहित शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट कोलोन कैंसर से पीड़ित लोगों के लिए बहुत फायदेमंद हैं।

कैंसर से निपटने और उसे दूर रखने के लिए प्रतिदिन इलायची के पाउडर के आधे चम्मच का सेवन करें। 

(और पढ़ें – कैंसर से लड़ने वाले दस बेहतरीन आहार)

इलायची का फायदा करे नपुंसकता का इलाज - Cardamom for Impotence in Hindi

इलायची एक प्रभावशाली टॉनिक और उत्तेजक है जो शरीर को नपुंसकता, समय से पहले स्खलन और बांझपन जैसे यौन समस्याओं से लड़ने का सामर्थ्य देता है। अपने शरीर को यौन विकारों से मुक्ति दिलाने के लिए रोजाना इलायची की बनी दो से तीन कप चाय का आनंद लें। 

(और पढ़ें – धूम्रपान छोड़ने के फायदे हैं प्रजनन क्षमता के लिए)

निस्संदेह, इलायची अनेक रोगों का एक सक्षम उपचार है परन्तु आपको इसके दुष्प्रभावों का भी ज्ञान होना चाहिए। बहुत ही कम लोग होंगे जिनको इस बात का ज्ञात होगा कि यदि इस चमत्कारी मसाले का सेवन अधिक मात्रा में किया जाए तो यह आपके शरीर पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकता है। 

इसको ज्यादा मात्रा में खाने के कुछ नुकसान निम्नलिखित है -

  • यदि इलायची की उच्च मात्रा का सेवन कई महीनों या सालों तक किया जाए तो उपभोक्ता में एलर्जी के लक्षण देखे जा सकते हैं।
  • इलायची की अत्यधिक खपत पित्तपथरी के गठन को प्रेरित कर सकती है।
  • एचआईवी, लिवर विकार, एंटी-कोआगुलंट्स, एस्पिरिन, एंटी-डिप्रेससेंट, गैलेस्टोन दवाइयां, एंटी-प्लेटलेट ड्रग्स और इर्रिटेबल बोवेल सिंड्रोम से सम्बंधित दवाइयों के साथ इलायची का सेवन नहीं करना चाहिए। इनके रिएक्शन से गंभीर स्वास्थ्य समस्याएं उत्पन्न हो सकती है।
  • इलायची के अत्यधिक सेवन से आपको मतली व उबकन महसूस हो सकती है।
  • लंबे समय तक इलायची का ज्यादा मात्रा में प्रयोग सांस सम्बंधित विकार को जन्म दे सकता है।

तो यह इलायची के अत्यधिक खपत के प्रतिकूल स्वास्थ्य परिणामों में से कुछ परिणाम हैं। इसके इन दुष्प्रभावों को ध्यान में रखें और इस अद्भुत हर्बल मसाले को अपने स्वाद को बढ़ने और स्वास्थ्य लाभों का आनंद लेने के लिए अपने आहार में उच्च मात्रा में शामिल करें।


उत्पाद या दवाइयाँ जिनमें इलायची है

संदर्भ

  1. United States Department of Agriculture Agricultural Research Service. Basic Report: 02006, Spices, cardamom. National Nutrient Database for Standard Reference Legacy Release [Internet]
  2. Verma SK, Jain V, Katewa SS. Blood pressure lowering, fibrinolysis enhancing and antioxidant activities of cardamom (Elettaria cardamomum). Indian J Biochem Biophys. 2009 Dec;46(6):503-6. PMID: 20361714
  3. Gilani AH, Jabeen Q, Khan AU, Shah AJ. Gut modulatory, blood pressure lowering, diuretic and sedative activities of cardamom. J Ethnopharmacol. 2008 Feb 12;115(3):463-72. Epub 2007 Oct 22. PMID: 18037596
  4. Qiblawi S et al. Chemopreventive effects of cardamom (Elettaria cardamomum L.) on chemically induced skin carcinogenesis in Swiss albino mice. J Med Food. 2012 Jun;15(6):576-80. PMID: 22404574
  5. Jou YJ et al. Quantitative phosphoproteomic analysis reveals γ-bisabolene inducing p53-mediated apoptosis of human oral squamous cell carcinoma via HDAC2 inhibition and ERK1/2 activation. Proteomics. 2015 Oct;15(19):3296-309. PMID: 26194454
  6. Majdalawieh AF, Carr RI. In vitro investigation of the potential immunomodulatory and anti-cancer activities of black pepper (Piper nigrum) and cardamom (Elettaria cardamomum). J Med Food. 2010 Apr;13(2):371-81. PMID: 20210607
  7. Coussens LM, Werb Z. Inflammation and cancer. Nature. 2002 Dec 19-26;420(6917):860-7. PMID: 12490959
  8. Kandikattu HK et al. Anti-inflammatory and anti-oxidant effects of Cardamom (Elettaria repens (Sonn.) Baill) and its phytochemical analysis by 4D GCXGC TOF-MS. Biomed Pharmacother. 2017 Jul;91:191-201. PMID: 28458157
  9. Tina Kaczor. The Anti-Inflammatory and Chemopreventative Effects of Chai Tea. Natural Medicine Journal, June 2010 Vol. 2 Issue 6
  10. Neha Vutakuri, Sita Somara. Natural and herbal medicine for breast cancer using Elettaria cardamomum (L.) Maton . International Journal of Herbal Medicine 2018; 6(2): 91-96
  11. Mutmainah. Gastroprotective effects of combination of hot water extracts of turmeric (Curcuma domestica L.), cardamom pods (Ammomum compactum S.) and sembung leaf (Blumea balsamifera DC.) against aspirin-induced gastric ulcer model in rats. Asian Pac J Trop Biomed. 2014 May;4(Suppl 1):S500-4. PMID: 25183139
  12. Ratika Sharma. Cardamom comfort . Dent Res J (Isfahan). 2012 Mar-Apr; 9(2): 237. PMID: 22623945
  13. Vijayalakshmi P et al. The Evaluation of the virulence factors of clinical Candida isolates and the anti-biofilm activity of Elettaria cardamomum against multi-drug resistant Candida albicans. Curr Med Mycol. 2016 Jun;2(2):8-15. PMID: 28681014
  14. Agnihotri S, Wakode S. Antimicrobial activity of essential oil and various extracts of fruits of greater cardamom. Indian J Pharm Sci. 2010 Sep;72(5):657-9. PMID: 21695005
  15. Nitasha Bhat et al. Comparison of the efficacy of cardamom (Elettaria cardamomum) with pioglitazone on dexamethasone-induced hepatic steatosis, dyslipidemia, and hyperglycemia in albino rats G. M. J Adv Pharm Technol Res. 2015 Jul-Sep; 6(3): 136–140. PMID: 26317079
  16. J. K. Trivedi, Pawan Kumar Gupta. An overview of Indian research in anxiety disorders . Indian J Psychiatry. 2010 Jan; 52(Suppl1): S210–S218. PMID: 21836680
  17. Masoumi-Ardakani Y et al. The effect of Elettaria cardamomum extract on anxiety-like behavior in a rat model of post-traumatic stress disorder. Biomed Pharmacother. 2017 Mar;87:489-495. PMID: 28073098
  18. Mobacken H, Fregert S. Allergic contact dermatitis from cardamom. Contact Dermatitis. 1975 Jun;1(3):175-6. PMID: 138507
ऐप पर पढ़ें
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ