एक्यूपंक्चर प्राचीन चीनी चिकित्सा है. इसका उपयोग कई बीमारियों का इलाज करने के लिए किया जाता है. इसे इस्तेमाल करने से अनिद्रा, ब्लड प्रेशर और सिरदर्द जैसी समस्याओं को कम किया जा सकता है. इसके अलावा, कई शोधों से पता चला है कि एक्यूपंक्चर थेरेपी तनाव के लक्षणों में भी सुधार कर सकती है. इसमें शरीर के कुछ खास बिंदुओं पर एक्यूपंक्चर किया जाता है, जिससे तनाव कम हो सकता है. अगर तनाव कम करने के लिए आप दवा नहीं लेना चाहते हैं, तो एक्यूपंक्चर थेरेपी लेना फायदेमंद हो सकता है, लेकिन एक्यूपंक्चर थेरेपी को हमेशा किसी एक्सपर्ट से ही लेना चाहिए.

आज इस लेख में आप तनाव के लिए एक्यूपंक्चर थेरेपी के बारे में विस्तार से जानेंगे -

(और पढ़ें - तनाव दूर करने के घरेलू उपाय)

  1. एक्यूपंक्चर थेरेपी क्या है?
  2. क्या एक्यूपंक्चर थेरेपी से तनाव कम हो सकता है?
  3. तनाव कम करने के लिए एक्यूपंक्चर पॉइंट्स
  4. तनाव कम करने के लिए कितनी बार एक्यूपंक्चर करवाना चाहिए?
  5. एक्यूपंक्चर के नुकसान
  6. इन लोगों को नहीं लेना चाहिए एक्यूपंक्चर
  7. सारांश
तनाव के लिए एक्यूपंक्चर थेरेपी के डॉक्टर

एक्यूपंक्चर एक तरह की थेरेपी है. यह एक प्राचीन चीनी चिकित्सा है. इसमें शरीर के कुछ बिंदुओं में सूइयों को चुभाया जाता है. इस थेरेपी को एक्सपर्ट द्वारा किया जाता है. इसमें 10 से 30 मिनट का समय लग सकता है. इसमें त्वचा और मांसपेशियां उत्तेजित होती हैं, जिससे समस्याओं का इलाज करने में मदद मिलती है. एक्यूपंक्चर थेरेपी शारीरिक दर्द को कम करने में मदद कर सकती है. इसके अलावा, एक्यूपंक्चर तनाव को भी दूर करने में असरदार साबित हो सकती है. इसलिए, अगर किसी को लंबे समय से तनाव है, तो एक्यूपंक्चर थेरेपी लेने से सुधार हो सकता है.

(और पढ़ें - तनाव के लिए आयुर्वेदिक दवाएं)

एक्यूपंक्चर थेरेपी से तनाव कम हो सकता है या नहीं, इस बारे में अभी भी कई रिसर्च की जरूरत पड़ सकती है. क्योंकि अधिकतर रिसर्च बताते हैं कि एक्यूपंक्चर थेरेपी से तनाव कम हो सकता है. तो वहीं, कुछ रिसर्च की मानें तो एक्यूपंक्चचर थेरेपी तनाव को पूरी तरह से ठीक नहीं कर सकता है. लेकिन फिर भी तनाव को कम करने के लिए एक्यूपंक्चर को एक प्रभावी उपचार माना जाता है. इसलिए, आप भी तनाव को दूर करने के लिए एक्यूपंक्चर उपचार का विकल्प चुन सकते हैं.

2015 के एक अध्ययन में पाया गया कि एक्यूपंक्चर थेरेपी चिंता या तनाव के लक्षणों में सुधार कर सकता है. अध्ययन के अनुसार 12 सप्ताह तक रोजाना 30 मिनट की एक्यूपंक्चर थेरेपी लेने से तनाव में राहत मिल सकती है. इस रिसर्च में एक्यूपंक्चर को तनाव कम करने के लिए प्रभावी बताया गया है। 

एक्यूपंक्चर थेरेपी लेने से शरीर में एंडोर्फिन नामक हार्मोन रिलीज होता है. दरअसल, जब एक्यूप्वाइंट पर पंक्चर किया जाता है, तो इससे मसल्स उत्तेजित होती हैं. इससे एंडोर्फिन और अन्य हैप्पी हार्मोन रिलीज होते हैं. इससे शरीर को आराम मिलता है और तनाव कम हो सकता है.

एक्यूपंक्चर थेरेपी लेने से मन और शरीर को भी आराम मिलता है. अगर आप शारीरिक थकान या कमजोरी की वजह से तनाव में है, तो भी एक्यूपंक्चर थेरेपी फायदेमंद हो सकती है. इससे शरीर को आराम मिलता है और तनाव को कम करने में मदद मिल सकती है.

(और पढ़ें - काम के तनाव से कैसे बचें)

जिस तरह एक्यूप्रेशर में किसी खास बिंदु को दबाकर समस्या का इलाज किया जाता है. उसी तरह एक्यूपंक्चर में भी किसी खास बिंदु में सूई को चुभोकर समस्या को ठीक करने का काम किया जाता है. हर बीमारी का एक्यूप्वाइंट अलग-अलग हो सकता है. तनाव कम करने के लिए एक्यू पॉइंट्स इस प्रकार हैं -

  • PC6 (पेरिकार्डियम 6) यानी कलाई के बीच में
  • HT7 (एचटी7) यानी कलाई के बीच में
  • यिन तांग यानी आईब्रो के बीच में
  • कान के बिंदु
  • रेन-17 यानी छाती के बीच में

अगर आप तनाव में रहते हैं, तो एक्सपर्ट्स आपको इन बिंदुओं पर एक्यूपंक्चर करने की सलाह दे सकते हैं. इस स्थिति में मन शांत होता है और बेचैनी व चिंता दूर होती है. साथ ही अनिद्रा की समस्या का भी इलाज हो सकता है.

(और पढ़ें - क्रोनिक स्ट्रेस का इलाज)

तनाव को कम करने के लिए एक्यूपंक्चर कितनी बार करवाना चाहिए, यह हेल्थ एक्सपर्ट तय करते हैं. तनाव के स्तर के आधार पर ही एक्यूपंक्चर थेरेपी के सेशन निर्भर करते हैं. अगर कोई व्यक्ति पहली बार एक्यूपंक्चर करवा रहा है, तो उसे सप्ताह में एक से अधिक बार एक्यूपंक्चर करवाने से बचना चाहिए. शुरुआत में सप्ताह में सिर्फ 1 बार ही एक्यूपंक्चर करवाना चाहिए. वहीं, अगर कोई पहले भी एक्यूपंक्चर थेरेपी ले चुका है, तो एक्सपर्ट सप्ताह में एक्यूपंक्चर के 2 सेशन लेने की सलाह दे सकते हैं.

(और पढ़ें - तनाव दूर करने के लिए क्या खाएं)

एक्यूपंक्चर तनाव और चिंता को कम करने में मदद कर सकता है, लेकिन इस थेरेपी को लेने के बाद कुछ सामान्य दुष्प्रभाव हो सकते हैं -

  • एक्यूपंक्चर थेरेपी का सेशन लेने के बाद आपको दर्द हो सकता है. यह दर्द कुछ घंटों तक रह सकता है. यह दर्द अपने आप ही ठीक हो जाता है.
  • एक्यूपंक्चर थेरेपी लेने के बाद शरीर पर कुछ चोट के निशान भी दिख सकते हैं. थेरेपी के दौरान आपको चुभन भी महसूस हो सकती है.

(और पढ़ें - तनाव के लिए योग)

कुछ स्थितियों में एक्यूपंक्चर थेरेपी लेने बचना जरूरी होता है.

  • अगर किसी व्यक्ति को पेसमेकर लगा है, तो उसे एक्यूपंक्चर थेरेपी लेने से बचना चाहिए.
  • रक्तस्राव होने पर भी एक्यूपंक्चर थेरेपी नहीं लेनी चाहिए.
  • अगर कोई पहले से ही तनाव की दवा ले रहा है, तो डॉक्टर की सलाह पर ही एक्यूपंक्चर लेना चाहिए.

(और पढ़ें - चिंता का आयुर्वेदिक इलाज)

अध्ययनों की मानें तो एक्यूपंक्चर तनाव से जुड़े लक्षणों को कम करने में मदद कर सकता है. दरअसल, एक्यूपंक्चर थेरेपी लेने से शरीर व मन शांत होता है. साथ ही नींद अच्छी आती है और हैप्पी हार्मोंस भी रिलीज होते हैं. ऐसे में एक्यूपंक्चर थेरेपी लेना फायदेमंद हो सकता है, लेकिन एक्यूपंक्चर के सेशन कितनी बार लेने चाहिए, यह प्रत्येक व्यक्ति के तनाव के स्तर पर निर्भर करता है. आप भी तनाव को कम करने के लिए एक्यूपंक्चर थेरेपी ले सकते हैं, लेकिन इसे लेने से पहले डॉक्टर की राय जरूर लें.

(और पढ़ें - चिंता दूर करने के घरेलू उपाय)

Dr. Sameer Arora

Dr. Sameer Arora

न्यूरोलॉजी
10 वर्षों का अनुभव

Dr. Khursheed Kazmi

Dr. Khursheed Kazmi

न्यूरोलॉजी
10 वर्षों का अनुभव

Dr. Muthukani S

Dr. Muthukani S

न्यूरोलॉजी
4 वर्षों का अनुभव

Dr. Abhishek Juneja

Dr. Abhishek Juneja

न्यूरोलॉजी
12 वर्षों का अनुभव

ऐप पर पढ़ें
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ