आजकल अधिकतर लोग आंखों की किसी न किसी समस्या से परेशान रहते हैं. ये समस्याएं सामान्य से लेकर गंभीर हो सकती हैं. सामान्य आंखों की परेशानी को आई ड्रॉप या आई केयर की मदद से ठीक किया जा सकता है, लेकिन कुछ स्थितियों में आंखों का ऑपरेशन करना जरूरी हो जाता है. 

मोतियाबिंद, ग्लूकोमा, डिटैचड रेटिनस, रेटिनल टियर, डायबिटिक रेटिनोपैथी की स्थिति में डॉक्टर आंखों की सर्जरी कराने की सलाह दे सकते हैं. इसके अलावा, अगर किसी व्यक्ति को पास या दूर तक देखने में दिक्कत हो रही है, तो इस दौरान भी ऑपरेशन किया जा सकता है. ऑपरेशन के बाद मरीज को सलाह दी जाती है कि वो आंखों में पानी न जाने दे और लगातार चश्मा लगाकर रखें.

आज इस लेख में हम यह जानने का प्रयास करेंगे कि आंखों का ऑपरेशन होने के बाद किस प्रकार की सावधानियां बरतनी चाहिए -

(और पढ़ें - मोतियाबिंद का ऑपरेशन)

  1. आंखों के ऑपरेशन के बाद इन बातों का रखें ध्यान
  2. आई मेकअप न करें
  3. सारांश
आंख के ऑपरेशन के बाद बरतें सावधानी के डॉक्टर

आंखों की सर्जरी के बाद व्यक्ति को धुंधली दृष्टि, तेज रोशनी के प्रति संवेदनशीलता या आंसू निकलने की समस्या का सामना करना पड़ सकता है. इन जटिलताओं से बचने के लिए हमेशा डॉक्टर के निर्देशों का पालन करना चाहिए. आंखों की सर्जरी कई तरह की होती हैं, लेकिन किसी भी तरह की सर्जरी हो, आंखों को चोट या संक्रमण से बचाने के लिए निम्न सावधानियां बरतने की जरूरत होती है -

आंखों में पानी न जाने दें

ऑपरेशन के बाद नहाने और बाल धोने से बचें. अगर नहाना है या बाल धोने हैं, तो आंखों को पानी से पूरी तरह से सुरक्षित रखें. सर्जरी के बाद आंखों में थोड़ा-सा भी पानी नहीं लगने देना चाहिए. इस दौरान आंखों पर कपड़ा बांधा जा सकता है या फिर नहाते समय किसी दूसरे व्यक्ति की मदद ली जा सकती है, ताकि आंखों में पानी जाने से बचाया जा सके.

कम से कम एक हफ्ते तक आंखों में पानी बिल्कुल न लगने दें. कुछ स्थितियों में डॉक्टर एक महीने तक आंखों में पानी न जाने देने की सलाह दे सकते हैं. बालों को कलर कराने से भी बचें.

(और पढ़ें - काला मोतियाबिंद का ऑपरेशन)

आंखों को साबुन या शैंपू से बचाएं

ऑपरेशन के बाद आंखों को खुशबूदार चीजों से भी बचाकर रखना चाहिए. इसके लिए नहाते समय या बालों को धोते समय आंखों को साबुन व शैंपू आदि से बचाकर रखें. इसके साथ ही हेयर स्प्रे, बॉडी लोशन या क्रीम को भी आंखों के संपर्क में न आने दें. इससे आंखों को नुकसान पहुंचा सकता है.

(और पढ़ें - भेंगेपन की सर्जरी)

आंखों को हाथ से न रगड़ें

आंखों की सर्जरी होने पर आंखों पर हाथ न लगाने की सलाह दी जाती है. खासकर इस दौरान करीब एक महीने तक आंखों को हाथ से रगड़ने से बचना चाहिए. ऑपरेशन के बाद आंखों पर हाथ लगाने से टांके हट सकते हैं. साथ ही इससे आंखों में संक्रमण भी हो सकता है. अगर आंखों में बार-बार जलन या खुजली होती है, तो इस स्थिति में डॉक्टर की सलाह पर किसी वेट टिश्यू या स्वैब का इस्तेमाल कर सकते हैं.

(और पढ़ें - लेंस प्रतिस्थापन सर्जरी)

शील्ड या चश्मा पहनें

ऑपरेशन के बाद आंखों को धूल व मिट्टी आदि से बचाकर रखना जरूरी होता है. इसके लिए आंखों पर शील्ड या चश्मा पहनने की सलाह दी जाती है. जिस दिन आंखों की सर्जरी होती है, उस दिन तो पूरे समय चश्मा पहनकर रखना चाहिए. रात को सोते समय डॉक्टर की सलाह पर आंखों पर शील्ड लगाया जा सकता है. 

आंखों को यूवी किरणों के संपर्क में आने से बचाने के लिए काला चश्मा या धूप का चश्मा पहन सकते हैं. सर्जरी के बाद कम से कम एक सप्ताह तक गहरे रंग का धूप का चश्मा पहनें, ताकि आंखें धूप के सीधे संपर्क में आने से बच सकें.

(और पढ़ें - ट्रैबेक्‍यूलेक्‍टोमी)

एक हफ्ता घर में रहें

आंखों के ऑपरेशन के बाद कम से कम एक हफ्ते तक घर से बाहर नहीं निकलना चाहिए, क्योंकि घर से बाहर निकलने पर आंखों में धूल व मिट्टी आदि जा सकती है, इससे आंखों में जलन और खुजली पैदा हो सकती है. 7 दिन तक दूषित व धूल भरे वातावरण से बचना चाहिए और घर में ही आराम करना चाहिए. ऑपरेशन के बाद आंखों को कम से कम 1 वर्ष तक तेज धूप से भी बचाना चाहिए.

(और पढ़ें - इंट्राकॉर्नियल रिंग सेगमेंट इम्प्लांटेशन)

एक्सरसाइज न करें

आंखों की सर्जरी के बाद रोगी को कम से कम 2 दिन तक किसी भी तरह की एक्सरसाइज न करने की सलाह दी जाती है. इसके अलावा, स्पोर्ट्स आदि खेलने से भी बचने को कहा जाता है. अगर कोई व्यक्ति ऑपरेशन के एक हफ्ते बाद घर से बाहर निकलना चाहता है, तो उसे गहरे रंग का चश्मा जरूर पहनना चाहिए, क्योंकि आंखें सूरज की रोशनी के प्रति संवेदनशील होती हैं. ऐसे में गहरे रंग के चश्मे मददगार साबित हो सकते हैं. इससे आंखें धूप से बचेंगी, साथ ही धूल-मिट्टी भी आंखों में नहीं जाएगी.

(और पढ़ें - डेक्रायोसिस्टोराइनोस्टमी)

आंखों के ऑपरेशन के बाद आई मेकअप करने से भी बचना चाहिए. कम से कम एक हफ्ते तक आंखों पर कोई भी प्रोडक्ट यूज नहीं करना चाहिए. अगर डॉक्टर ने एक महीने तक आई मेकअप न करने की सलाह दी है, तो उसका पालन करें. 

इसके अलावा, आंखों के संक्रमण से बचने के लिए एक महीने बाद नए आई केयर प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल किया जाना चाहिए. पुराने प्रोडक्ट्स को यूज करने से बचें, इससे आंखों में इंफेक्शन का खतरा बढ़ सकता है.

(और पढ़ें - रेडियल केराटोटॉमी)

आंखों का ऑपरेशन तभी किया जाता है, जब व्यक्ति को आंखों से जुड़ा कोई गंभीर रोग होता है. एक सफल ऑपरेशन के लिए सिर्फ सर्जरी जरूरी नहीं होती है, इसके बाद के निर्देशों का भी पूरी तरह से पालन करना जरूरी होता है. अगर ऑपरेशन के बाद आंखों में दर्द व रेडनेस महसूस होती है या फिर देखने में दिक्कत होती है, तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए. इसके अलावा, आंखों से पानी निकलने पर भी डॉक्टर की राय लेनी चाहिए. 

(और पढ़ें - कॉर्नियल ट्रांसप्लांट)

Dr. Meenakshi Pande

Dr. Meenakshi Pande

ऑपथैल्मोलॉजी
22 वर्षों का अनुभव

Dr. Upasna

Dr. Upasna

ऑपथैल्मोलॉजी
7 वर्षों का अनुभव

Dr. Akshay Bhatiwal

Dr. Akshay Bhatiwal

ऑपथैल्मोलॉजी
1 वर्षों का अनुभव

Dr. Surbhi Thakare

Dr. Surbhi Thakare

ऑपथैल्मोलॉजी
2 वर्षों का अनुभव

ऐप पर पढ़ें
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ