स्ट्रेबिस्मस एक सर्जरी प्रोसीजर है, जिसकी मदद से स्ट्रेबिस्मस (तिर्यकदृष्टि) का इलाज किया जाता है। तिर्यकदृष्टि आंख संबंधी ऐसी समस्या है, जिसमें व्यक्ति दोनों आंखों को एक जगह पर केंद्रित नहीं कर पाता है। ऐसा आमतौर पर आंख की मांसपेशियों के क्षतिग्रस्त होने या मस्तिष्क का वह हिस्सा क्षतिग्रस्त होने के कारण होता है, जो आंखों की गतिविधियों को नियंत्रित करता है। स्ट्रेबिस्मस रोग बच्चों से लेकर वृद्ध व्यक्तियों तक सबको हो सकता है। हालांकि, जिन लोगों को धमनीविस्फार या प्लाक से संबंधित कोई समस्या है, उनकी स्ट्रेबिस्मस सर्जरी नहीं की जाती है। स्ट्रेबिस्मस सर्जरी को एनेस्थीसिया का इंजेक्शन लगाकर किया जाता है, जिससे आप सर्जरी के दौरान गहरी नींद में सोते रहते हैं।

सर्जरी के दौरान सर्जन आपकी प्रभावित आंख की मांसपेशियों की पोजीशन में उचित बदलाव कर देते हैं, जिसकी मदद से आपकी आंख को आप अपने अनुसार हिला-ढुला पाते हैं। स्ट्रेबिस्मस सर्जरी में आमतौर पर 30 मिनट का समय लगता है। सर्जरी के बाद यदि आपका स्वास्थ्य ठीक है, तो उसी दिन आपको अस्पताल से छुट्टी दी जा सकती है। तिर्यकदृष्टि का इलाज करने के अलावा स्ट्रेबिस्मस सर्जरी गहराई का अंदाजा लगाने, परिधीय दृष्टि में सुधार करने और रूपरेखा में सुधार करने आदि में मदद करती है।

(और पढ़ें - आंखों की बीमारी के लक्षण)

  1. भेंगेपन (स्ट्रेबिस्मस) की सर्जरी क्या है - What is Strabismus surgery in Hindi
  2. भेंगेपन (स्ट्रेबिस्मस) की सर्जरी किसलिए की जाती है - Why is Strabismus surgery is done in Hindi
  3. भेंगेपन (स्ट्रेबिस्मस) की सर्जरी से पहले - Before Strabismus surgery in Hindi
  4. भेंगेपन (स्ट्रेबिस्मस) की सर्जरी के दौरान - During Strabismus surgery in Hindi
  5. भेंगेपन (स्ट्रेबिस्मस) की सर्जरी के बाद - After Strabismus surgery in Hindi
  6. भेंगेपन (स्ट्रेबिस्मस) की सर्जरी की जटिलताएं - Complications of Strabismus surgery in Hindi
  7. भेंगेपन की सर्जरी के डॉक्टर

भेंगेपन (स्ट्रेबिस्मस) की सर्जरी किसे कहते हैं?

स्ट्रेबिस्मस सर्जरी आंख में किया जाने वाला एक प्रोसीजर है, जिसकी मदद से तिर्यकदृष्टि (स्ट्रेबिस्मस) नामक रोग का इलाज किया जाता है। तिर्यकदृष्टि में किसी व्यक्ति की एक या दोनों आंखें समान रेखा में नहीं होती हैं और परिणामस्वरूप दोनों आंखों की नजर एक वस्तु पर केंद्रित न होकर अलग-अलग जगह पर होती है। स्ट्रेबिस्मस को अंग्रेजी भाषा में क्रॉस्ड आईज और हिन्दी में भेंगापन (बहंगापन) के नाम से भी जाना जाता है।

मानव आंख की गति को नियंत्रित करने के लिए छह मांसपेशियां होती हैं। मस्तिष्क इन मांसपेशियों को संकेत भेजता है, जिसकी मदद से दोनों आंखें एक ही वस्तु पर केंद्रित होती हैं। गहराई और दूर व पास की वस्तुओं का अंदाजा लगाने के लिए दोनों आंखों का संरेखण (एक सीध में) होना आवश्यक है। इतना ही नहीं, यदि दोनों की पोजिशन एक समान जगह पर न हो तो दोहरी दृष्टि की समस्या भी हो सकती है।

हालांकि, स्ट्रेबिस्मस से ग्रस्त लोग अपनी दोनों आंखों को समान रूप से नियंत्रित नहीं कर पाते हैं। इस रोग में आंखों की गतिविधियों को नियंत्रित न कर पाने के पीछे कई अलग-अलग कारण हो सकते हैं, जिनमें निम्न शामिल हैं -

  • आंखों की मांसपेशियों और नसों के बीच संकेतों के आदान-प्रदान करने की प्रक्रिया प्रभावित होना
  • मस्तिष्क का वह हिस्सा क्षतिग्रस्त होना, जो आंखों की मांसपेशियों को नियंत्रित करता है।

उपरोक्त स्थितियां आंखों के सामान्य संरेखण व स्थिति को प्रभावित करती हैं और परिणामस्वरूप एक या दोनों आंखें ऊपर, नीचे या एक तरफ हो जाती हैं। संरेखण खराब होने पर दोनों आंखें अलग-अलग तस्वीरें मस्तिष्क को भेजती हैं, जिससे उलझन व दोहरी दृष्टि रोग हो जाता है। स्ट्रेबिस्मस किसी भी उम्र में हो सकता है और यदि इसे बिना इलाज किए छोड़ दिया जाए तो स्थिति गंभीर हो सकती है।

तिर्यकदृष्टि का इलाज करने के लिए कई अलग-अलग प्रकार के उपचार विकल्प मौजूद हैं जैसे विजन थेरेपी, प्रिज्म, आंखों के चश्मे का इस्तेमाल करना और आंख की मांसपेशियों की सर्जरी। स्ट्रेबिस्मस सर्जरी एक सामान्य व सुरक्षित सर्जिकल प्रक्रिया है, जिसमें आंखों की मांसपेशियों को आवश्यकतानुसार कसा व ढीला किया जाता है। मांसपेशियों में बदलाव लाने के बाद आप अपनी दोनों आंखों को एक जगह पर केंद्रित कर पाने में सक्षम हो जाते हैं। कुछ लोगों में आंखों के संरेखण को सामान्य करने के लिए एक से अधिक बार सर्जरी करनी पड़ सकती है।

(और पढ़ें - आंखों से चश्मा कैसे हटाए)

भेंगेपन (स्ट्रेबिस्मस) की सर्जरी क्यों की जाती है?

यदि आपको तिर्यकदृष्टि की समस्या है और दवाओं व अन्य सभी उपचार विकल्पों से इस स्थिति को ठीक नहीं किया जा रहा है, तो सर्जन स्ट्रेबिस्मस सर्जरी करने पर विचार कर सकते हैं। तिर्यकदृष्टि से ग्रस्त लोगों में देखे जाने वाले लक्षणों में निम्न को शामिल किया जा सकता है -

  • आंखों का संरेखण ठीक न होना
  • दोहरी दृष्टि
  • पढ़ने में दिक्कत होना
  • स्पष्ट देखने के लिए आंखें सिकोड़ना
  • सूक्ष्म या दूर की चीजों के देखने के लिए सिर को एक तरफ झुकाना

स्ट्रेबिस्मस की समस्या का पता लगने के बाद जब अन्य उपचारों से इलाज न हो पाए, तो तुरंत ही स्ट्रेबिस्मस सर्जरी करने का फैसला ले लिया जाता है। यह सर्जरी आमतौर पर बचपन में ही की जाती है, क्योंकि उम्र बढ़ने के साथ-साथ सामान्य दृष्टि प्राप्त करने की संभावना कम हो जाती है।

भेंगेपन (स्ट्रेबिस्मस) की सर्जरी किसे नहीं करवानी चाहिए?

स्ट्रेबिस्मस सर्जरी से आमतौर पर कोई प्रमुख समस्या नहीं होती है। हालांकि, जिन लोगों को रक्त वाहिकाओं संबंधी विकार हैं, जैसे धमनीविस्फार आदि तो उनको सर्जरी के बाद कुछ समस्याएं हो सकती हैं। ऐसी स्थितियों में सर्जन स्ट्रेबिस्मस सर्जरी न करवाने की सलाह देते हैं और यदि किसी कारण से यह सर्जरी करवाना जरूरी है, तो बहुत ही सावधानी बरतते हुए इसे किया जाता है।

(और पढ़ें - मस्तिष्क धमनीविस्फार के लक्षण)

भेंगेपन (स्ट्रेबिस्मस) की सर्जरी से पहले क्या तैयारी की जाती है?

डॉक्टर आपको सर्जरी से कुछ दिन पहले अस्पताल आने को कहेंगे, जहां पर कुछ परीक्षण किए जाते हैं। इन परीक्षणों के जरिए यह पता लगाया जाता है कि आप स्ट्रेबिस्मस सर्जरी के लिए आपका स्वास्थ्य कितना फिट है। आंखों की आकृति, आकार व अन्य संरचनात्मक जानकारी लेने के लिए आंख के कुछ टेस्ट किए जा सकते हैं, जिनसे सर्जरी में मदद मिलती है। सर्जरी से पहले डॉक्टर आपसे निम्न के बारे में बात करते हैं -

  • आपको अपने स्वास्थ्य संबंधी पिछली सभी जानकारी देने को कहा जाएगा, जैसे कोई दीर्घकालिक रोग या हाल ही में कोई बीमारी हुई होना।
  • यदि आप गर्भवती हैं या आपको किसी चीज से एलर्जी है, तो डॉक्टर को इस बारे में बता दें।
  • यदि आप किसी भी प्रकार की दवा, हर्बल उत्पाद, विटामिन, मिनरल या कोई सप्लीमेंट ले रहे हैं, तो डॉक्टर को इस बारे में बता दें। यदि आपके द्वारा ली जा रही दवाओं में कोई रक्त पतला करने वाली दवा है, तो डॉक्टर सर्जरी से कुछ दिन पहले और बाद तक इन्हें न लेने की सलाह दे सकते हैं। रक्त पतला करने वाली दवाओं में आमतौर पर एस्पिरिन, आइबुप्रोफेन और कुछ प्रकार के विटामिन शामिल हैं।
  • यदि आप सिगरेट या शराब का सेवन करते हैं, तो सर्जरी से कुछ दिन पहले और बाद तक इनका सेवन न करने की सलाह दी जाती है। ऐसा इसलिए क्योंकि सिगरेट व शराब आदि का सेवन करने से सर्जरी के बाद विभिन्न जटिलताएं होने का खतरा बढ़ जाता है।
  • डॉक्टर आपको सर्जरी से पहले कम से कम छह घंटों तक कुछ भी न खाने या पीने की सलाह देते हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि सर्जरी के दौरान आपको एनेस्थीसिया का इंजेक्शन लगाया जाता है और इसके साइड-इफेक्ट के रूप में आपको सर्जरी के दौरान उल्टी व मतली की शिकायत हो सकती है।
  • ऑपरेशन वाले दिन अपने साथ किसी करीबी रिश्तेदार या मित्र को लाने की सलाह दी जाती है, जिससे सर्जरी से पहले के कार्यों में और बाद में घर जाने में मदद मिलती है।
  • यदि आपने कोई आभूषण या गैजेट (जैसे घड़ी, ब्लूटूथ आदि) पहना है, तो ऑपरेशन के लिए अस्पताल जाने से पहले ही इन्हें उतार दें।
  • अस्पताल जाते समय ढीले-ढाले व आरामदायक कपड़े पहनें।

(और पढ़ें - उल्टी रोकने के उपाय)

भेंगेपन (स्ट्रेबिस्मस) की सर्जरी कैसे की जाती है?

ऑपरेशन वाले दिन जब आप अस्पताल पहुंच जाते हैं, तो मेडिकल स्टाफ आपको एक विशेष ड्रेस पहनने को देते हैं जिसे हॉस्पिटल गाउन कहा जाता है। सर्जन आपको सर्जरी संबंधी कुछ जानकारियां देंगे और आपको सहमति पत्र दिया जाएगा। यदि सर्जरी किसी बच्चे के लिए की जानी है, तो माता-पिता को भी ऑपरेशन थिएटर में आने दिया जा सकता है। स्ट्रेबिस्मस सर्जरी की प्रोसीजर में निम्न को शामिल किया जाता है -

  • सबसे पहले आपको जनरल एनेस्थीसिया का इंजेक्शन लगाया जाता है, जिससे आप सर्जरी के दौरान गहरी नींद में सो जाते हैं और आपको कुछ महसूस नहीं होता है। एनेस्थीसिया को कई बार इंजेक्शन की जगह गैस मास्क के रूप में भी दिया जा सकता है।
  • जब आप गहरी नींद में सो जाते हैं, तो सर्जन आपकी आंख को खोल कर रखने के लिए “लिड स्पेक्युलम” नामक उपकरण का इस्तेमाल करते हैं। आवश्यकतानुसार सर्जरी को एक या दोनों आंखों में करना पड़ सकता है।
  • सर्जन आंख के सफेद हिस्से पर मौजूद पारदर्शी परत में एक छोटा सा चीरा लगाते हैं, जिसकी मदद से आंख की अंदरूनी मांसपेशियों तक पहुंचा जाता है।
  • इसके बाद आंख की प्रभावित मांसपेशी की पोजीशन को बदल कर उसमें टांके लगा दिए जाते हैं, ताकि आंख को आप स्वतंत्र रूप से हिला सकें। इसमें टांके आमतौर पर आंख के पीछे लगाए जाते हैं, जो दिखाई नहीं देते हैं और इन्हें खोलने की आवश्यकता भी नहीं पड़ती क्योंकि वे त्वचा में अवशोषित हो जाते हैं।
  • मांसपेशी की पोजीशन को बदलने के बाद सर्जन चीरे को बंद करके टांके लगा देते हैं और आंख पर एक पैच लगा दिया जाता है।

भेंगेपन की सर्जरी को करने में आमतौर पर आधे से एक घंटा लगता है। कई बार आपके नींद से उठने के बाद सर्जन को आंख की मांसपेशी को फिर से एडजस्ट करना पड़ सकता है। इस सर्जरी में जनरल एनेस्थीसिया के साथ-साथ लोकल एनेस्थीसिया का इंजेक्शन भी लगाया जा सकता है, जिसकी मदद से सर्जरी वाला हिस्सा पूरी तरह से सुन्न हो जाता है। स्ट्रेबिस्मस सर्जरी में अधिकतर लोगों को ऑपरेशन वाले दिन ही अस्पताल से छुट्टी मिल जाती है। हालांकि, यदि आपका स्वास्थ्य ठीक नहीं लग रहा है, तो आपको ठीक होने तक रिकवरी रूम में शिफ्ट कर दिया जाता है। आंख पर लगाए गए पैड को अस्पताल से छुट्टी मिलते समय या अगले दिन हटा दिया जाता है।

(और पढ़ें - इंजेक्शन लगाने का तरीका)

भेंगेपन (स्ट्रेबिस्मस) की सर्जरी के बाद देखभाल कैसे करें?

सर्जरी के बाद आपको कुछ साइड-इफेक्ट्स महसूस हो सकते हैं। ये सभी साइड-इफेक्ट्स कुछ दिनों से महीनों तक महसूस हो सकते हैं, जिनके बारे में नीचे विस्तार से बताया है -

  • आंखों में लालिमा (जो दो महीनों तक रह सकती है)
  • आंसू के साथ रक्त आना (जो एक से दो दिनों तक रहता है) (और पढ़ें- आंखों से खून बहना)
  • आंखों में दर्द रहना (जो कुछ दिनों तक रहता है)
  • दोहरी दृष्टि (जो एक हफ्ते या उससे अधिक समय तक रह सकता है)
  • आंखों में खुजली होना (जो एक हफ्ते तक रह सकती है।)

सर्जरी के बाद जब आपको अस्पताल से छुट्टी मिल रही होती है, तो उस दौरान सर्जन आपको कुछ देखभाल करने की सलाह दे सकते हैं, जिनमें निम्न को भी शामिल किया जा सकता है -

  • आपको कुछ आई ड्रॉप्स, मलहम व अन्य कई दवाएं दी जा सकती हैं, जिन्हें डॉक्टर की सलाह के अनुसार इस्तेमाल करना चाहिए।
  • सर्जरी के बाद कम से कम चार हफ्तों तक कबड्डी व फुटबॉल जैसे खेल न खेलें और न ही तैराकी करें। हालांकि, सर्जरी के एक हफ्ते बाद आप सामान्य शारीरिक गतिविधियां कर सकते हैं।
  • मुंह धोते या नहाते समय आंखों को साबुन व शैंपू आदि से दूर रखें। नहाने के बाद चेहरे पर मेकअप करते समय भी आंख को बचाकर रखें।
  • सर्जरी के बाद जब आपको अच्छा महसूस होने लगता है, तो डॉक्टर आपको टेलीविजन या अन्य स्क्रीन देखने और पढ़ने आदि की अनुमति दे सकते हैं।
  • स्ट्रेबिस्मस सर्जरी होने के एक हफ्ते बाद आप अपने आप ऑफिस या स्कूल जाना शुरू कर सकते हैं।
  • सर्जरी के बाद दो हफ्तों तक ऐसी जगह काम न करें जहां धूल उड़ती हो। यदि बच्चे की सर्जरी हुई है, तो उसे भी दो हफ्तों तक धूल वाले स्थानों पर खेलने से मना करें।
  • सर्जरी के बाद जब तक आपको साइड-इफेक्ट महसूस हो रहे हैं, तो गाड़ी आदि न चलाएं। ड्राइविंग शुरू करने से पहले एक बार डॉक्टर से अनुमति ले लें।

स्ट्रेबिस्मस सर्जरी की मदद से दोनों आंखें एक ही बिंदु पर फोकस करने में सक्षम हो जाती हैं। इसके अलावा स्ट्रेबिस्मस सर्जरी से परिधीय दृष्टि में सुधार आता है, गहराई व दूरी का अंदाजा लगाने की क्षमता में सुधार होता है और साथ ही चेहरे की सुंदरता भी बढ़ती है।

डॉक्टर को कब दिखाएं?

यदि आपको स्ट्रेबिस्मस सर्जरी के बाद निम्न में से कुछ भी महसूस हो रहा है, तो आपको डॉक्टर से संपर्क कर लेना चाहिए -

(और पढ़ें - आंखों में दर्द का घरेलू उपचार)

भेंगेपन (स्ट्रेबिस्मस) की सर्जरी से क्या जोखिम हो सकते हैं?

स्ट्रेबिस्मस सर्जरी से निम्न जोखिम व जटिलताएं हो सकती हैं -

  • स्ट्रेबिस्मस में पूरी तरह से सुधार न हो पाने के कारण अन्य सर्जरी करवाना
  • संक्रमण
  • स्थायी रूप से दोहरी दृष्टि की समस्या हो जाना
  • अंधापन

(और पढ़ें - आँखों के संक्रमण का इलाज)

इसके अलावा सर्जरी के दौरान लगाए गए एनेस्थीसिया के इंजेक्शन से भी कुछ जटिलताएं हो सकती हैं, जैसे -

(और पढ़ें - हृदय रोगों का इलाज)

Dr. Meenakshi Pande

Dr. Meenakshi Pande

ऑपथैल्मोलॉजी
22 वर्षों का अनुभव

Dr. Upasna

Dr. Upasna

ऑपथैल्मोलॉजी
7 वर्षों का अनुभव

Dr. Akshay Bhatiwal

Dr. Akshay Bhatiwal

ऑपथैल्मोलॉजी
1 वर्षों का अनुभव

Dr. Surbhi Thakare

Dr. Surbhi Thakare

ऑपथैल्मोलॉजी
2 वर्षों का अनुभव

और पढ़ें ...

संदर्भ

  1. American Optometric Association [Internet]. Missouri. US; Strabismus (crossed eyes)
  2. UAB medicine [Internet]. Alabama. US; Strabismus Surgery
  3. American Association for Pediatric Ophthalmology and Strabismus [Internet]. California. US; Strabismus Surgery
  4. UCLA health [Internet]. University of California. Oakland. California. US; Strabismus Surgery
  5. Nemours Children’s Health System [Internet]. Jacksonville (FL): The Nemours Foundation; c2017; What Is Strabismus?
  6. National Health Service [Internet]. UK; Squint
  7. U Health: Moran Eye Center [Internet]. University of Utah. US; Preparing for eye surgery
  8. UPMC: Children's hospital of Pittsburg [Internet]. University of Pittsburgh Medical Center. Pennsylvania. US; Eye Muscle Surgery
  9. The Royal Children's Hospital Melbourne [Internet]. Australia; About Squint Surgery
ऐप पर पढ़ें
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ