myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

मोतियाबिंद को कैटरैक्‍ट भी कहा जाता है। इसमें आंखों के लेंस में धुंधलापन होता है जिससे देखने की क्षमता में कमी आती है। मोतियाबिन्द तब होता है जब आंखों में प्रोटीन के गुच्छे जमा हो जाते हैं जो लेंस को रेटिना को स्पष्ट चित्र भेजने से रोकते हैं।

जनसंख्या आधारित अध्ययन के मुताबिक, भारत में 60 वर्ष और उससे अधिक लोगों में से करीब 74% लोगों को मोतियाबिंद है या उनकी मोतियाबिंद सर्जरी हो चुकी है। इनमें महिलाओं की संख्या अधिक है और न्यूक्लिअर मोतियाबिंद इसका सबसे सामान्य प्रकार है।

  1. मोतियाबिंद का ऑपरेशन क्या है - Cataract surgery kya hai?
  2. मोतियाबिंद का ऑपरेशन कब करवाना चाहिए - Motiyabind ka operation kab kia jata hai?
  3. कैटरेक्ट सर्जरी से पहले की तैयारी - Cataract operation se pehle ki taiyari
  4. मोतियाबिंद का ऑपरेशन कैसे करते हैं - Motiyabind ka operation kaise hota hai
  5. मोतियाबिंद ऑपरेशन के बाद की सावधानियां - Motiyabind operation ke baad savdhaniya
  6. मोतियाबिंद ऑपरेशन के बाद जटिलताएं - Cataract surgery ke baad jatiltaye

मोतियाबिंद के ऑपरेशन में आंख के लेंस को हटाया जाता है। अधिकतर मामलों में इसे आर्टिफिशियल लेंस से बदल दिया जाता है। सामान्‍य तौर पर आंखों का लेंस एक दम साफ होता है लेकिन मोतियाबिंद यानी कैटरेक्‍ट की वजह से इस लेंस में धुंधलापन आने लगता है जिसका असर आंखों की रोशनी पर भी पड़ता है।

कैटरेक्‍ट सर्जरी के लिए अस्‍पताल में रूकने की जरूरत नहीं पड़ती है। ये सर्जरी बहुत सामान्‍य है और आमतौर पर एक सुरक्षित प्रक्रिया है। नेत्र विशेषज्ञ द्वारा मोतियाबिंद का ऑपरेशन किया जाता है।

ऐसा जरूरी नहीं है कि मोतियाबिंद होने पर सर्जरी ही करवानी पड़ती है। हो सकता है कि इस बीमारी से ग्रस्‍त होने पर आपको नजर में कोई बदलाव भी महसूस न हो। इसके कुछ मरीजों को नेत्र विशेषज्ञ द्वारा बताया गया चश्‍मा लगाने, मैग्‍नीफाइंग लैंस के इस्‍तेमाल या पर्याप्‍त रोशनी से ही साफ दिखने लगता है।

अगर मोतियाबिंद बढ़ने लगे तो इसकी वजह से ज्‍यादा लक्षण दिखाई देने लग सकते हैं। आंखों में धुंधलापन आ सकता है या डबल विजन (मोतियाबिंद आंख से एक ही चीज दो दिखाई देना) की समस्या हो सकती है। इन समस्‍याओं की वजह से पढ़ने, कंप्‍यूटर पर काम करने या ऐसा कोई भी काम करने में दिक्‍कत आती है जिसके लिए आंखों का तेज होना जरूरी है।

जब अन्‍य किसी नेत्र से संब‍ंधित समस्‍या के इलाज में मोतियाबिंद रुकावट पैदा करने लगे तो इस स्थिति में मोतियाबिंद ऑपरेशन की सलाह दी जा सकती है। उदाहरण के तौर पर, अगर किसी अन्‍य आंखों से संबंधित समस्‍या के इलाज या जांच के लिए नेत्र विशेषज्ञ को मोतियाबिंद की वजह से आंखों के पीछे के हिस्‍से को देखने में दिक्‍कत आ रही हो तो सर्जरी करनी पड़ सकती है। ऐसा उम्र से संबंधित मैक्युलर डीजेनेरेशन (मैक्युला के क्षतिग्रस्त होने के कारण होने वाली एक सामान्य आंख की बीमारी) या डायबिटिक रेटिनोपैथी (डायबिटीज के कारण होने वाला एक आंख संबंधी रोग) में हो सकता है।

अधिकतर मामलों में मोतियाबिंद सर्जरी करने से पहले इसके अन्‍य विकल्‍पों पर विचार किया जाता है। अगर अभी भी आपकी आंखों की रोशनी ठीक है तो आपको कई सालों तक कैटरेक्‍ट सर्जरी की जरूरत नहीं पड़ेगी।

जिन लोगों को मोतियाबिंद की वजह से अपना काम करने, गाड़ी चलाने, पढ़ने, टीवी देखने, खाना पकाने, सीढ़ी चढ़ने, दवा लेने में दिक्‍कत हो रही हो, उन्‍हें कैटरेक्‍ट ऑपरेशन करवाने की जरूरत पड़ सकती है। अगर आप अपने कामों के लिए दूसरों पर निर्भर हो गए हैं तो भी आपको ऑपरेशन करवाना चाहिए।

(और पढ़ें - बच्चों में मोतियाबिंद के लक्षण)

कैटरेक्‍ट ऑपरेशन से पहले नेत्र विशेषज्ञ आंखों की जांच करते हैं। इस दौरान आंखों और नेत्र दृष्टि की अलग-अलग तरह से जांच की जाती है। इस जांच के दौरान ऑपरेशन से जुड़ी कुछ बातों का पता चलता है, जैसे कि:

  • आपको दूर या पास का धुंधला दिखाई दे रहा है
  • आपके लिए सर्जरी के नुकसान और लाभ क्‍या हैं
  • सर्जरी के बाद आपको चश्‍मे की जरूरत पड़ेगी या नहीं
  • पूरी तरह से ठीक होने में आपको कितना समय लगेगा

अगर आप मोनोविजन (दूरी के लिए एक आंख और पढ़ने के लिए दूसरी आंख का इस्‍तेमाल करना) से ग्रस्‍त हैं तो सर्जरी के बाद भी आपको इसी तरह से देखने के लिए कहा जा सकता है। इसका मतलब है कि आपको पास की चीजें देखने के लिए एक आंख में लैंस लगाया जाएगा और दूर की चीजों को देखने के लिए दूसरी आंख में अलग लैंस लगेगा।

ऑपरेशन से एक या दो हफ्ते पहले डॉक्‍टर आंख का साइज और शेप जानने के लिए कुछ टेस्‍ट करेंगें। इस तरह वो आपके लिए सही आर्टिफिशियल लैंस चुन पाएंगें।

सर्जरी से 12 घंटे पहले कुछ भी खाने या पीने के लिए मना किया जाता है। अगर कोई ऐसी दवा ले रहे हैं जिससे सर्जरी के दौरान ब्‍लीडिंग होने का खतरा बढ़ सकता है तो डॉक्‍टर कुछ समय के लिए उन्‍हें लेने से मना कर सकते हैं। प्रोस्‍टेट संबंधी समस्‍या के लिए कोई दवा ले रहे हें तो डॉक्‍टर को जरूरत बताएं क्‍योंकि ये दवाएं कैटरेक्‍ट सर्जरी में परेशानी पैदा कर सकती हैं।

(और पढ़ें - मोतियाबिंद के घरेलू उपाय)

मोतियाबिंद के ऑपरेशन से पहले एक या दो दिन के लिए एंटीबायोटिक आई ड्रॉप्‍स डालने के लिए कहा जा सकता है।

मोतियाबिंद की सर्जरी के लिए डॉक्‍टर आंख को दवा से सुन्‍न कर देते हैं ताकि आपको ऑपरेशन के दौरान दर्द महसूस न हो। इस सर्जरी में आमतौर पर एक घंटे का समय लगता है। सर्जन आंख के सामने एक छोटा-सा कट लगाएंगें, कभी-कभी ये कट लेजर की मदद से भी लगता है। इस कट के जरिए एक छोटा उपकरण डालकर मोतियाबिंद को खींचकर निकाला जाता है।

अब एक प्‍लास्टिक, सिलिकोन या एक्रिलिक से बना नया लैंस डालकर कट को बंद कर देते हैं।

अगर किसी की दोनों आंखों में मोतियाबिंद है तो आपको दोनों आंखों के लिए अलग-अलग सर्जरी करवानी पड़ेगी। दोनों सर्जरी में कुछ हफ्ते का अंतराल होगा।

सर्जरी के बाद मरीज को कुछ बातों का ध्यान रखना पड़ता है, जैसे कि:

  • मोतियाबिंद सर्जरी के कुछ घंटे बाद ही मरीज को घर भेज दिया जाता है।
  • अस्‍पताल से निकलने से पहले आपकी आंखों के ऊपर पैड और प्‍लास्टिक शील्‍ड लगाया जा सकता है। इसे आमतौर पर सर्जरी के एक दिन बाद हटाया जा सकता है।
  • ऑपरेशन के बाद आंखों से ठीक तरह से देखने में कुछ दिन लग सकते हैं।
  • कैटरेक्‍ट के ऑपरेशन के बाद आंखों से पानी आने, आंखों में कुछ चले जाने जैसा महसूस होने, धुंधला दिखने, दोहरी दृष्टि दोष (डबल विजन), आंख लाल होने की परेशानी हो सकती है।
  • आमतौर पर ये साइड इफेक्‍ट कुछ दिनों में ही चले जाते हैं लेकिन पूरी तरह से रिकवर होने में 4 से 6 हफ्ते का समय लग सकता है।
  • सर्जरी के 6 हफ्ते बाद ही आप आंखों पर चश्‍मा लगा सकते हैं, तब तक आंखें पूरी तरह से ठीक हो चुकी होती हैं।
  • डॉक्‍टर के बताए अनुसार आई ड्रॉप्‍स का इस्‍तेमाल करें। एक सप्‍ताह तक रात में आई शील्‍ड का प्रयोग जरूर करें।
  • जरूरत पड़ने पर दर्द निवारक दवा लें।
  • बाल धोते समय, पढ़ते, टीवी देखने और कंप्‍यूटर पर काम करते समय आई शील्‍ड पहनें और चश्‍मा या आई शील्‍ड पहन कर ही घर से बाहर निकलें।
  • ऑपरेशन के बाद 4 से 6 सप्‍ताह तक स्‍विमिंग न करें।
  • आंखों को रगड़ें नहीं और किसी साबुन या शैंपू का इस्‍तेमाल भी आंखों पर न करें।
  • जब तक पूरा साफ दिखने नहीं लग जाता, तब तक गाड़ी चलाना शुरू न करें।
  • कोई कठिन व्‍यायाम या काम करने से बचें। चार सप्‍ताह तक आंखों पर मेकअप भी न करें।
  • अस्‍पताल से छुट्टी मिलने से पहले आपको कुछ आई ड्रॉप्‍स दी जाएंगीं जिससे कि आंखों के इंफेक्‍शन से बचा जा सके। डॉक्‍टर आपको बताएंगें कि आपको कब और कैसे इनका इस्‍तेमाल करना है।
  • सर्जरी के बाद पहले दो हफते तक आपको दिन में दो बार आंखों को साफ करना होगा क्‍योंकि आई ड्रॉप्‍स और हीलिंग प्रोसेस (रिकवर होने की प्रक्रिया) के कारण आंखों के आसपास चिपचिपापन हो सकता है।
  • आंखों को साफ करने के लिए पानी गर्म करें और फिर उसे ठंडा होने दें। अब हाथों को धोकर एक सूती कपड़ा उसमें डालकर भिगो लें। इस कपड़े से आंखों के आसपास के हिस्‍से को अच्‍छी तरह से साफ करें। ध्‍यान रहे कपड़ा या पानी आंखों के अंदर नहीं जाना चाहिए। आंखों को दबाएं नहीं।

(और पढ़ें - मोतियाबिंद का होम्योपैथिक इलाज)

मोतियाबिंद के ऑपरेशन के बाद जटिलताएं कम ही आती हैं और अधिकतर का सफलतापूर्व‍क इलाज किया जा सकता है। कैटरेक्‍ट सर्जरी के जोखिम इस प्रकार हैं:

अगर आपको कोई अन्‍य नेत्र रोग या गंभीर स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍या है तो आपमें कैटरेक्‍ट सर्जरी के बाद जटिलताओं का खतरा बढ़ जाता है। कभी-कभी कैटरेक्‍ट ऑपरेशन आंखों की रोशनी में सुधार लाने में विफल हो जाता है क्‍योंकि ग्‍लूकोमा या मैक्युलर डीजेनेरेशन जैसी अन्‍य स्थितियों की वजह से आंखों को पहले ही नुकसान पहुंच चुका होता है। बेहतर होगा कि मोतियाबिंद के ऑपरेशन से पहले आंखों से संबंधित अन्‍य किसी समस्‍या की जांच और इलाज करवा लिया जाए।

मोतियाबिंद सर्जरी के बाद कोई गंभीर जटिलता आने का खतरा बहुत कम रहता है। इसमें आने वाली सबसे सामान्‍य जटिलताओं को दवा या आगे होने वाली सर्जरी से ठीक किया जा सकता है। एक हजार लोगों में से सिर्फ एक व्‍यक्‍ति में ही इस ऑपरेशन के बाद आंख की रोशनी जाने का खतरा रहता है।

और पढ़ें ...

References

  1. Harvard Health Publishing. Harvard Medical School [internet]: Harvard University; Considering cataract surgery? What you should know
  2. American Academy of Ophthalmology [internet]. California (U.S.A). Cataract Surgery
  3. Davis G. The evolution of cataract surgery. Mo Med. 2016 Jan-Feb;113(1):58–62. PMID: 27039493.
  4. American Optometric Association [Internet]. Missouri. US; Cataract
  5. Allen D, Vasavada A. Cataract and surgery for cataract. BMJ. 2006 Jul 15;333(7559):128–132. PMID: 16840470.
  6. Better health channel. Department of Health and Human Services [internet]. State government of Victoria; Cataracts
  7. Oxford University Hospitals [internet]: NHS Foundation Trust. National Health Service. U.K.; Cataract surgery
  8. National Health Service [internet]. UK; Cataract surgery
ऐप पर पढ़ें