• हिं

डीहाइड्रोएपिएंड्रोस्टेरॉन सलफेट (डीएचईएएस) टेस्ट क्या है?

डीएचईएएस एक एण्ड्रोजन (पुरुष सेक्स हार्मोन) है, जो कि महिलाओं और पुरुषों दोनों में एड्रिनल ग्रंथि द्वारा बनाया जाता है। यह कुछ मात्रा में महिलाओं के शरीर में अंडाशय द्वारा और पुरुषों के अंदर वृषण द्वारा बनाया जाता है। यह हार्मोन प्यूबर्टी के समय पुरुषों में अन्य यौन लक्षणों के विकास में मदद करता है जैसे आवाज गहरी होना और मांसपेशियां विकसित होना आदि। डीएचईएएस का एक भाग अन्य प्रजनन हार्मोन्स में बदल जाता है, जैसे टेस्टोस्टेरोन और एस्ट्रोजन हार्मोन।

चूंकि डीएचईएएस हार्मोन प्राथमिक तौर पर एड्रिनल ग्रंथि द्वारा बनाया जाता है, इसीलिए इसे एड्रिनल की कार्य प्रक्रिया की जांच के लिए एक मार्कर की तरह उपयोग किया जाता है। एड्रिनल ट्यूमर और एड्रिनल हाइपरप्लासिया का पता लगाने के लिए डीएचईएएस टेस्ट से रक्त में डीएचईएएस हार्मोन के स्तर का पता लगाने के लिए किया जाता है।

  1. डीएचईएएस टेस्ट क्यों किया जाता है - DHEAS Test Kyu Kiya Jata Hai
  2. डीएचईएएस टेस्ट से पहले - DHEAS Test Se Pahle
  3. डीएचईएएस टेस्ट के दौरान - DHEAS Test Ke Dauran
  4. डीएचईएएस टेस्ट के परिणाम और नॉर्मल रेंज - DHEAS Test Result and Normal Range

डीएचईएएस टेस्ट किसलिए किया जाता है?

डॉक्टर एण्ड्रोजन टेस्ट के साथ डीएचईएएस टेस्ट की सलाह निम्न के लिए दे सकते हैं:

  • गंजेपन के कारण का पता लगाने के लिए 
  • डीएचईएएस हार्मोन के अधिक स्राव का कारण जानने के लिए 
  • एड्रिनल ग्रंथि की कार्य-प्रक्रिया की जांच के लिए 
  • एड्रिनल ग्रंथि के बाहर के क्षेत्र में किसी ट्यूमर की मौजूदगी की जांच के लिए 
  • कंजेनिटल एड्रेनल हाइपरप्लासिया की जांच करने के लिए

इस टेस्ट की सलाह उन लड़कों को दी जाती है, जिनमें समय से पहले प्यूबर्टी के प्यूबर्टी के लक्षण दिखाई देने लगते हैं:

  • समय से पहले लिंग का आकार बढ़ना
  • मांसपेशियां विकसित होने लगना 
  • गहरी आवाज 
  • प्यूबिक हेयर (गुप्त अंगों में बाल)

महिलाओं में इस टेस्ट की सलाह निम्न स्थितियों और लक्षणों की जांच करने के लिए की जाती है:

  • बाल झड़ना 
  • मुहांसे 
  • स्तनों का आकार कम होना 
  • पॉलीसिस्टिक ओवेरियन सिंड्रोम (पीसीओएस)
  • बांझपन 
  • एमेनोरिया (मासिक धर्म न होना)
  • मुंह और शरीर पर अधिक बाल उगना 
  • विरिलाइजेशन (लड़कियों में पुरुषों जैसे गुण होना जैसे मांसपेशियों का बड़ा होना या एडम्स एप्पल का बड़ा होना) 

कभी-कभी डीएचईएएस टेस्ट की सलाह जवान लड़कियों (प्यूबर्टी से कम उम्र वाली) को भी दी जाती है, जिन्हें एम्बिगुयस जेनिटेलिया (बाहरी जननांग जो महिला और पुरुष में एक जैसे दिखते हैं) होता है।

डीएचईएएस टेस्ट की तैयारी कैसे करें?

इस टेस्ट के लिए किसी विशेष तैयारी की जरूरत नहीं होती। हालांकि, यदि आप महिला हैं तो डॉक्टर आपके खून का सैंपल पीरियड्स से कुछ दिन पहले लेंगे।

डीएचईएएस टेस्ट कैसे किया जाता है?

यह टेस्ट करने के लिए रक्त की थोड़ी सी मात्रा की जरूरत होती है। डॉक्टर आपकी बांह की नस में सुई लगाकर पर्याप्त मात्रा में रक्त ले लेंगे। त्वचा में सुई लगने से आपको हल्की सी चुभन या दर्द हो सकता है। कभी-कभी एक से ज्यादा सुईयों की भी जरूरत हो सकती है।

ब्लड सैंपल लेने में कुछ जोखिम होते हैं:

डीएचईएएस टेस्ट के परिणाम और नॉर्मल रेंज

सामान्य परिणाम :
इस टेस्ट के सामान्य परिणाम उम्र, लिंग और व्यक्ति के पिछले स्वास्थ्य के अनुसार अलग आ सकते हैं। रक्त में डीएचईएएस के सामान्य स्तर का मतलब है कि एड्रिनल ग्रंथि ठीक प्रकार से कार्य कर रही है। 

महिलाओं में डीएचईएएस के नॉर्मल रेंज निम्न हैं :

  • 18-19 साल : 145-395 µg/dL (माइक्रोग्राम प्रति डेसीलिटर) 
  • 20-29 साल : 65-380 µg/dL 
  • 30-39 साल : 45-270 µg/dL 
  • 40-49 साल : 32-240 µg/dL
  • 50-59 साल : 26 से 200 µg/dL
  • 60-69: 13 से 130 µg/dL
  • 69 साल या अधिक: 17 से 90 µg/dL

पुरुषों में डीएचईएएस की सामान्य रेंज निम्न हैं :

  • 18-19 साल : 108-441 µg/dL 
  • 20-29 साल : 280-640 µg/dL 
  • 30-39 साल : 120-520 µg/dL 
  • 40-49 साल : 95-530 µg/dL
  • 50-59 साल : 70 से 310 µg/dL
  • 60-69 साल : 42 से 290 µg/dL
  • 69 साल या अधिक: 28 से 175 µg/dL 

असामान्य परिणाम :
डीएचईएएस के असामान्य परिणाम इस बात का संकेत करते हैं कि स्तर या तो सामान्य से अधिक हैं या कम। डीएचईएएस के परिणाम सामान्य से कम निम्न कारणों से हो सकते हैं:

  • एड्रिनल ग्रंथि की क्षति 
  • पिट्यूटरी ग्रंथि की क्षति 
  • कुछ विशेष दवाएं 

रक्त में डीएचईएएस के परिणाम सामान्य से अधिक निम्न कारणों से हो सकते हैं:

  • एड्रिनल ट्यूमर 
  • एड्रेनल हाइपरप्लासिया 

संदर्भ

  1. Pagana, K. D. & Pagana, T. J. Mosby’s Diagnostic and Laboratory Test Reference. 10th Edition: Mosby, Inc., Saint Louis, MO. Pp 63-64.
  2. Rao LV, Pechet L, Jenkins A, et al.(2011) Laboratory Tests: Dehydroepiandrosterone Sulphate, Serum (DHEA-Sulfate). In: Wallach’s interpretation of diagnostic tests. Williamson MA, Snyder LM, eds. Lippincott Williams & Wilkins: Philadelphia.
  3. Jameson JL, De Groot LJ, de Kretser DM, et al, eds. Endocrinology: Adult and Pediatric. 7th ed. Philadelphia, PA: Elsevier Saunders; 2016: chap 121.
  4. MedlinePlus Medical Encyclopedia: US National Library of Medicine; DHEA-sulfate test
ऐप पर पढ़ें