myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

हेपेटाइटिस ए टेस्ट क्या है?

हेपेटाइटिस ए टेस्ट की मदद से हेपेटाइटिस ए वायरस की उपस्थिति का पता लगाया जाता है। इस टेस्ट में वायरस से लड़ने वाले प्रोटीन की जांच की जाती है। ये प्रोटीन प्रतिरक्षा प्रणाली द्वारा बनाए जाते हैं। हेपेटाइटिस ए एक लिवर रोग है जो कि एचएवी के संक्रमण के कारण होता है। यह बीमारी किसी स्वस्थ व्यक्ति को तब होती है जब वह किसी संक्रमित व्यक्ति के मल से दूषित भोजन या जल ग्रहण कर लेता है। इस बीमारी से लीवर में सूजन तीव्र रूप में होती है पर यह सूजन अपने आप ही दो महीनों में बिना किसी समस्याओं के ठीक हो जाती है। व्यक्ति जब इस रोग से ठीक हो जाता है तो उस के मल में वायरस नहीं निकलते और यह बीमारी कभी भी दीर्घकालीक बीमारी का रूप नहीं लेती। हेपेटाइटिस ए आमतौर पर बच्चों को प्रभावित करती है। जो बच्चे छह साल की उम्र से कम होते हैं उनमें किसी प्रकार के कोई लक्षण नहीं दिखते। 

  1. हेपेटाइटिस ए टेस्ट क्यों किया जाता है - Hepatitis A Test Kyu Kiya Jata Hai
  2. हेपेटाइटिस ए टेस्ट से पहले - Hepatitis A Test Se Pahle
  3. हेपेटाइटिस ए टेस्ट के दौरान - Hepatitis A Test Ke Dauran
  4. हेपेटाइटिस ए टेस्ट के परिणाम का क्या मतलब है - Hepatitis A Test Ke Parinaam Ka Kya Matlab Hai

हेपेटाइटिस ए टेस्ट किसलिए किया किया जाता है?

हेपेटाइटिस ए टेस्ट की सलाह मरीज़ों को तब दी जाती है जब उनमें निम्न लक्षण देखे जाते हैं:

आमतौर पर लक्षण वायरस के शरीर में जाने के 14 से 28 दिन बाद दिखाई देने शुरू होते हैं।

हेपेटाइटिस ए टेस्ट की तैयारी कैसे करें?

हेपेटाइटिस ए टेस्ट के लिए किसी विशेष तैयारी की आवश्यकता नहीं होती। टेस्ट से पहले भूखे रहना जरूरी नहीं है। हेपेटाइटिस ए टेस्ट करवाने से एक हफ्ते पहले तक ऐसा कोई भी टेस्ट न करवाएं जिसमें रेडियोएक्टिव पदार्थ का प्रयोग हो। रेडियोएक्टिव पदार्थ का प्रयोग इस टेस्ट के रिजल्ट को प्रभावित कर सकता है। जिससे टेस्ट के रिजल्ट गलत आ सकते हैं।

(और पढ़ें - हेपेटाइटिस ए का टीका क्या है)

हेपेटाइटिस ए टेस्ट कैसे किया जाता है?

इस टेस्ट के लिए आपकी बांह से लगभग 7 मिलीलीटर खून का सैंपल लिया जाता है। एक लैब टेक्नीशियन खून निकाले जाने वाली जगह को एल्कोहॉल युक्त दवा से साफ करेंगे। इस के बाद हाथ की नस में सुई लगा कर ब्लड सैंपल ले लिया जाता है।

आमतौर पर हेपेटाइटिस ए टेस्ट से कोई खतरा नहीं होता। हालांकि कुछ लोगों को निम्न लक्षण महसूस हो सकते हैं:

  • सिर दर्द या चक्कर आना 
  • त्वचा के अंदर खून का जमना (हीमेटोमा)
  • जिस जगह से खून निकाला गया है वहां से अतिरिक्त रक्त बहना 
  • कभी-कभार कुछ मामलों में संक्रमण भी हो जाता है

हेपेटाइटिस ए टेस्ट के परिणाम क्या बताते हैं?

हमारे शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली एचएवी के एंटीजन से प्रतिक्रिया करके आईजीएम और आईजीजी एंटीबॉडी बनाती हैं। इस टेस्ट में शरीर द्वारा बनाए गए एंटीबॉडीज की जांच की जाती है ताकि हेपेटाइटिस ए के संक्रमण का पता लगाया जा सके। रिवर्स ट्रांस्क्रिप्टस पॉलीमिरेज़ चैन रिएक्शन (Reverse transcriptase polymerase chain reaction) जिसे आरटी पीसीआर भी कहा जाता है। एक विशेष टेस्ट है जो कि स्टूल या ब्लड सैंपल में एचएवी के अनुवांशिक पदार्थ (आरएनए) का पता लगाने के लिए किया जाता है।

सामान्य परिणाम:

हेपेटाइटिस ए के सामान्य परिणाम आईजीजी और आईजीएम को नेगेटीव दिखाते हैं, जिससे पता चलता है कि व्यक्ति को एचएवी संक्रमण नहीं हुआ है।

असामान्य परिणाम: 

हेपेटाइटिस ए के असामान्य परिणाम निम्न हैं:

  • पॉजिटिव या सक्रिय आईजीएम और एंटी-एचएवी आईजीएम इस बात का संकेत देते हैं कि शरीर में हेपेटाइटिस ए का संक्रमण है।
    रक्त में आईजीएम एंटीबॉडी संक्रमण के बाद के दूसरे से चौथे हफ्ते में सक्रिय हो जाते हैं और आंठवे हफ्ते तक इनका पता चल जाता है।
     
  • पॉजिटिव आईजीजी या एंटी-एचएवी आईजीएम यह बताते हैं कि व्यक्ति को या तो गंभीर संक्रमण है या व्यक्ति पहले इस वायरस से संक्रमित रह चुका है।
    आईजीजी एंटीबॉडी एचएवी के प्रति सुरक्षा (जीवन भर के लिए)  प्रदान करता है।
     
  • आरटी-पीसीआर टेस्ट में यदि एचएवी आरएनए पाया जाता है तो इससे इस बात की पुष्टि हो जाती है कि व्यक्ति में एचएवी का संक्रमण है।
     
  • लिवर फंक्शन टेस्ट (एलएफटी) की सलाह कभी कभी सीरोलॉजी टेस्ट के साथ भी दी जाती है ताकि लिवर द्वारा बनाए जा रहे एंजाइम की जांच की जा सके। यह तब किया जाता है जब वायरल संक्रमण के कारण लिवर में सूजन हो जाती है।
     
  • एस्पर्टेट अमीनोट्रांसफरस (aspartate aminotransferase) और अलानीन अमीनोट्रांसफरस (alanine transaminase) की रक्त में बढ़ी हुई मात्रा, लिवर में सूजन को दिखाती है।
     
  • एलएफटी विभिन्न प्रकार के वायरल संक्रमणों (हेपेटाइटिस ए, बी, सी, डी, ई) में अंतर नहीं करता है। सीरोलॉजी टेस्ट अलग-अलग प्रकार के संक्रमण में अंतर बताता है। यह अंतर अलग-अलग एंटीजन के प्रतिरोध में शरीर द्वारा बनाए गए एंटीबॉडी की जांच के आधार पर किया जाता है।
और पढ़ें ...

References

  1. World Health Organization [Internet]. Geneva (SUI): World Health Organization; Hepatitis A
  2. American Academy of Family Physicians [Internet]. Leawood (KS); Hepatitis A
  3. Denise. D. Wilson. McGraw-Hill Manual of Laboratory and Diagnostic Tests. 1st Edition; ISBN10: 0071481524
  4. University of California San Francisco [Internet]. San Francisco, CA: Department of medicine; Hepatitis Virus Test or Panel
  5. William Marshall, Marta Lapsley, Andrew Day, Ruth Ayling. Clinical Biochemistry:Metabolic and Clinical Aspects. 3rd Edition: ISBN: 9780702054785.
  6. Center for Disease Control and Prevention [internet], Atlanta (GA): US Department of Health and Human Services; Positive Test Results for Acute Hepatitis A Virus Infection Among Persons With No Recent History of Acute Hepatitis