myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

हेपेटाइटिस ए क्या है?

हेपेटाइटिस ए, वायरस की वजह से होने वाला लिवर का संक्रामक रोग है। यह वायरस हेपेटाइटिस वायरस के कई प्रकारों में से एक है, जो लीवर में सूजन पैदा करता है और आपके लीवर के काम करने की क्षमता को प्रभावित करता है।

संक्रमित भोजन, संक्रमित पानी एवं संक्रमित व्यक्ति के साथ निकट संपर्क से हेपेटाइटिस ए होने की संभावना होती है। हेपेटाइटिस ए के साधारण मामलों में किसी विशेष इलाज की आवश्यकता नहीं होती है और अधिकांश लोग बिना लीवर की कोई स्थायी क्षति के स्वस्थ हो जाते हैं।

हेपेटाइटिस ए से बचने का सबसे अच्छा तरीका है, साफ सफाई का ध्यान रखना और नियमित रूप से हाथ धोना। जिन लोगों को इस बीमारी का जोखिम बहुत अधिक है, उनके लिए इसका टीका उपलब्ध है।

(और पढ़ें - लिवर रोग के लक्षण) 

  1. हेपेटाइटिस ए के चरण - Stages of Hepatitis A in Hindi
  2. हेपेटाइटिस ए के लक्षण - Hepatitis A Symptoms in Hindi
  3. हेपेटाइटिस ए के कारण - Hepatitis A Causes in Hindi
  4. हेपेटाइटिस ए से बचाव - Prevention of Hepatitis A in Hindi
  5. हेपेटाइटिस ए का परीक्षण - Diagnosis of Hepatitis A in Hindi
  6. हेपेटाइटिस ए का इलाज - Hepatitis A Treatment in Hindi
  7. हेपेटाइटिस ए की जोखिम और जटिलताएं - Risks & Complications of Hepatitis A in Hindi
  8. हेपेटाइटिस ए का टीका
  9. हेपेटाइटिस ए की दवा - Medicines for Hepatitis A in Hindi
  10. हेपेटाइटिस ए के डॉक्टर

हेपेटाइटिस ए के चरण - Stages of Hepatitis A in Hindi

हेपेटाइटिस ए के चरण कितने होते है? 

तीव्र चरण:

इस बीमारी के संक्रमण के शुरूआती छह महीनों में तकलीफें बेहद तीव्र होती है। लक्षणों में थकान, भूख की कमी, चमड़ी और आंखों का पीला पड़ना (पीलिया) आदि शामिल है। ज्यादार मामलों में कुछ सप्ताहों में इसके लक्षण खत्म हो जाते हैं। हालांकि यदि आपका इम्यून सिस्टम अपने आप इस समस्या को ठीक नहीं कर पाता है तो आपकी दिक्क्त पुरानी और लगातार चलने वाली बीमारी का रूप ले लेती है। ध्यान देने वाली बात यह है कि लक्षण नजर न आने के चलते पुराना हेपेटाइटिस सी कई बार सालिन तक पहचानने में नहीं आता।

क्रोनिक चरण:

कई लोग जिन्हें इस बीमारी का इंफेक्शन हुआ है, उनके शरीर में बीमारी घर कर लेती है और इसके लक्षण नजर आने में सालों लग जाते हैं। इसकी शुरुआत यकृत (लीवर -जिगर) में सूजन से होती है और बाद में यकृत की कोशिकाएं तक मरने लगती है। इस बीमारी के 20 फीसद मामलों में पंद्रह से बीस साल बाद पीड़ित के लीवर के टिश्यू (ऊतकों) में रेशेदार मोटाई और सूजन आ जाती है। 

लिवर सिरोसिस:

जब स्वस्थ यकृत ऊतकों की जगह स्थाई रूप से घाववाले ऊतक ले लेते हैं तो यकृत को इतना नुकसान पहुंचता है कि यह अपने आप ठीक नहीं हो पाता। इसके चलते ग्रासनली की नसों में खून बहने लगता है। साथ ही जब ऊतक, अपने भीतर के विषैले पदार्थों को नहीं निकाल पाता तो वे खून में घुल जाते हैं और मस्तिष्क को क्षति पहुंचा सकते हैं।

(और पढ़ें - लीवर सिरोसिस का इलाज)

अंतिम चरण:

पुराने हेपेटाइटिस सी से लीवर का खराब होना, लीवर का कैंसर और मौत जैसी चीजें हो सकती है। ऐसा तब होता है जब इस बीमारी के चलते पूरा लीवर क्षतिग्रस्त हो चुका हो और ठीक से काम न कर सकें। इस बीमारी के अंतिम चरण के लक्षणों में शामिल है, थकान, पीलिया, भूख की कमी, पेट में सूजन और अजीब -गड़बड़ सोच (विचित्र विचार आना) आदि। साथ ही भोजननाल में रक्तस्त्राव और मस्तिष्क तथा तंत्रिका तंत्र का क्षतिग्रस्त होना। 

हेपेटाइटिस ए के लक्षण - Hepatitis A Symptoms in Hindi

हेपेटाइटिस ए के लक्षण क्या होते हैं?

हेपेटाइटिस ए के लक्षण आमतौर पर तब तक नहीं दिखते, जब तक इसका वायरस कुछ सप्ताह तक आपके शरीर में नहीं रहता है। 

इसके निम्नलखित लक्षण हो सकते हैं -

  1. थकान। (और पढ़ें - थकान दूर करने के घरेलू उपाय)
  2. गाढ़े रंग का मूत्र।
  3. मतली और उल्टी। (और पढ़ें - उल्टी रोकने के उपाय)
  4. भूख कम लगना। (और पढ़ें - बच्चों में भूख ना लगने के कारण)
  5. पेट दर्द या असुविधा, विशेष रूप से लीवर के क्षेत्र में। (और पढ़ें - पेट दर्द के घरेलू उपाय)
  6. हल्का बुखार। (और पढ़ें - बुखार कम करने के उपाय)
  7. जोड़ों में दर्द। (और पढ़ें - जोड़ों में दर्द के उपाय)
  8. त्वचा और आंखों का पीलापन (पीलिया)। 

(और पढ़ें - बिलीरुबिन टेस्ट क्या है)

यदि आपको हेपेटाइटिस ए है, तो आपको कुछ हफ्तों तक हल्की अस्वस्थता (बीमारी) महसूस हो सकती है या गंभीर बीमारी का भी अनुभव हो सकता है। हेपेटाइटिस ए से ग्रस्त हर व्यक्ति में इसके लक्षण विकसित नहीं होते हैं। 

(और पढ़ें - हेपेटाइटिस सी के लक्षण

हेपेटाइटिस ए के कारण - Hepatitis A Causes in Hindi

हेपेटाइटिस ए होने के क्या कारण होते हैं?

हेपेटाइटिस ए संक्रमण आमतौर पर तब फैलता है, जब कोई व्यक्ति दूषित पदार्थ के संपर्क में आता है या उसकी कुछ मात्रा निगल लेता है। हेपेटाइटिस ए का वायरस लीवर की कोशिकाओं को संक्रमित करता है और उनमें सूजन बढ़ता है। लीवर में होने वाली सूजन, लीवर की गतिविधियों को खराब कर सकती है और हेपेटाइटिस ए के अन्य लक्षण पैदा हो सकते हैं।

(और पढ़ें - फैटी लीवर के घरेलू उपाय

हेपेटाइटिस ए वायरस निम्नलिखित तरीकों से फैल सकता है  -

  1. दूषित पानी पीना।
  2. प्रदूषित तालाब/ नदी की मछली खाना। (और पढ़ें - मछली खाने के फायदे)
  3. वायरस से संक्रमित व्यक्ति के साथ यौन संबंध रखना।
  4. किसी संक्रमित व्यक्ति के निकट संपर्क में रहना, भले ही उस व्यक्ति में कोई लक्षण न हों।
  5. किसी ऐसे व्यक्ति के हाथों से भोजन खाना जो शौचालय का उपयोग करने के बाद अपने हाथों को अच्छी तरह नहीं धोता है।

हेपेटाइटिस ए होने का खतरा कब बढ़ जाता हैं?

आपको हेपेटाइटिस ए का अधिक खतरा है, यदि -

  • आपको खून के थक्के का विकार है, जैसे हीमोफिलिया।
  • आप इंजेक्शन या गैर-इंजेक्शन वाले अवैध ड्रग्स का उपयोग करते हैं।
  • आप एक ऐसे व्यक्ति के साथ रहते हैं, जिसे हेपेटाइटिस ए है।
  • आप हेपेटाइटिस ए के उच्च स्तर वाले क्षेत्रों में यात्रा या काम करते हैं।
  • आप एचआईवी पॉजिटिव हैं। (और पढ़ें - एचआईवी का इलाज)
  • आप एक ऐसे पुरुष हैं, जो अन्य पुरुषों के साथ यौन संबंध रखते हैं।
  • आप ऐसे व्यक्ति (स्त्री/पुरुष) के साथ यौन संबंध रखते हैं, जिसे पहले से हेपेटाइटिस ए है।

(और पढ़ें - सुरक्षित सेक्स के तरीके)

हेपेटाइटिस ए से बचाव - Prevention of Hepatitis A in Hindi

हेपेटाइटिस ए का बचाव कैसे होता है ?

हेपेटाइटिस ए से बचने का सबसे पहला तरीका है, हेपेटाइटिस ए की वैक्सीन लेना।

यह टीका दो इंजेक्शन की श्रृंखला में छह से 12 महीनों के अंतराल पर दिया जाता है। यदि आप किसी ऐसे देश में यात्रा कर रहे हैं, जहां स्वच्छता और स्वच्छ व्यवहार पर ज्यादा ध्यान नहीं दिया जाता, तो उस यात्रा से कम से कम दो सप्ताह पहले हेपेटाइटिस ए का टीका ले लें। आमतौर पर हेपेटाइटिस ए के टीके के बाद आपके शरीर को प्रतिरक्षा का निर्माण करने में दो सप्ताह लग सकते हैं। अगर आप एक साल बाद यात्रा करने वाले हैं तो दोनों ही टीके यात्रा से पहले ही ले लें। 

(और पढ़ें - बैक्टीरियल इंफेक्शन का इलाज)

हेपेटाइटिस ए से बचाव के लिए आपको निम्नलिखित उपाय भी करने चाहिए -

  • खाने या पीने से पहले और टॉयलेट का उपयोग करने के बाद साबुन और गर्म पानी से अपने हाथों को अच्छी तरह धोएं।
  • विकासशील देशों या उन देशों में जहां हेपेटाइटिस ए होने का खतरा अधिक है, स्थानीय खुले पानी के बजाय बोतलबंद पानी पीयें।
  • अस्वच्छता वाली जगहों में कच्चे और कटे हुए खुले फल और सब्जियां खाने से बचें।
  • सड़क विक्रेताओं के बजाए प्रतिष्ठित रेस्तरां में भोजन करें।

(और पढ़ें - स्वच्छता से संबंधित इन आदतों से रहें दूर)

हेपेटाइटिस ए का परीक्षण - Diagnosis of Hepatitis A in Hindi

हेपेटाइटिस ए का निदान कैसे होता है?

आपके लक्षणों के बारे में जानने के बाद आपके डॉक्टर, वायरल या जीवाणु संक्रमण की उपस्थिति की जांच के लिए आपका रक्त परीक्षण कर सकते हैं। रक्त परीक्षण ही आपके शरीर में हेपेटाइटिस ए के वायरस की मौजूदगी (या अनुपस्थिति) की जानकारी दे सकता है।

(और पढ़ें - लिवर फंक्शन टेस्ट क्या है)

कुछ लोगों में हेपेटाइटिस ए के केवल कुछ लक्षण होते हैं और पीलिया का कोई संकेत नहीं होता। लेकिन, पीलिया के स्पष्ट संकेत के बिना, शारीरिक परीक्षण के माध्यम से हेपेटाइटिस के किसी भी प्रकार का निदान करना मुश्किल होता है। जब आपके लक्षण कम होते हैं, तो हेपेटाइटिस ए का निदान नहीं हो पाता है। निदान न होने के कारण इससे होने वाली जटिलताएं बढ़ जाती हैं।

(और पढ़ें - हेपेटाइटिस बी टेस्ट कैसे होता है)​

हेपेटाइटिस ए का इलाज - Hepatitis A Treatment in Hindi

हेपेटाइटिस ए का उपचार कैसे होता है?

हेपेटाइटिस ए के लिए कोई विशेष इलाज नहीं होता है। आपका शरीर हेपेटाइटिस ए को अपने आप ठीक करता है। हेपेटाइटिस ए के अधिकांश मामलों में, लीवर छह महीनों में स्वतः ठीक हो जाता है।

(और पढ़ें - लिवर को स्वस्थ रखने के उपाय)

हेपेटाइटिस ए का उपचार आमतौर पर आराम करना और इसके लक्षणों को नियंत्रण में करने पर आधारित होता है। आपको निम्न की आवश्यकता भी हो सकती है -

आराम -
हेपेटाइटिस ए से संक्रमित लोग अक्सर थके हुए और बीमार महसूस करते हैं और उनमें ऊर्जा की कमी होती है। इन लक्षणों को नियंत्रण में रखने के लिए पर्याप्त आराम करें।

(और पढ़ें - लिवर ट्रांसप्लांट)

मतली का प्रबंधन करें -
मतली होने से खाने में मुश्किल हो सकती है। पूरा भोजन एक बार में खाने के बजाय पूरे दिन छोटी-छोटी मात्रा में स्नैक्स खाने का प्रयास करें। पर्याप्त कैलोरी प्राप्त करने के लिए, उच्च कैलोरी वाले खाद्य पदार्थों का सेवन करें। उदाहरण के लिए, पानी के बजाय फलों का रस या दूध पीएं। उल्टी होने पर निर्जलीकरण (डिहाइड्रेशन) रोकने के लिए अधिक तरल पदार्थों का सेवन महत्वपूर्ण है।

(और पढ़ें - गर्भावस्था में उल्टी रोकने के उपाय)

शराब से बचें और दवाओं का सावधानी से उपयोग करें-
आपके लीवर को दवाओं और शराब को पचाने में कठिनाई हो सकती है। यदि आप हेपेटाइटिस से ग्रस्त हैं, तो शराब न पीएं। इससे लीवर को और अधिक नुकसान हो सकता है। सभी दवाइयां (यहां तक की काउंटर से ली जाने वाली आम दवाएं) जो आप ले रहे हैं के बारे में अपने चिकित्सक से बात करें।

(और पढ़ें - शराब छुड़ाने के घरेलू उपाय)

जीवनशैली में परिवर्तन और घरेलू उपचार-
आप हेपेटाइटिस ए को दूसरों में फैलाने से रोकने के लिए निम्नलिखित उपाय कर सकते हैं -

  • यदि आपको हेपेटाइटिस ए है, तो सभी यौन गतिविधियों से बचें। यौन गतिविधियां आपके साथी में भी संक्रमण प्रसारित कर सकती हैं। ध्यान दें कि  कंडोम पर्याप्त सुरक्षा प्रदान नहीं करते हैं। (और पढ़ें - महिला कंडोम क्या है और sex kaise kare)
  • शौचालय जाने और डायपर बदलने के बाद अपने हाथों को अच्छी तरह से धोएं - कम से कम 20 सेकंड के लिए हाथों को रगड़ें और अच्छी तरह से पानी से धोएं एवं फिर साफ तौलिये से पोंछें। (और पढ़ें - लिवर बढ़ने के लक्षण)
  • संक्रमित होने पर दूसरों के लिए भोजन तैयार न करें क्योंकि ऐसा करने से आप आसानी से दूसरों में भी अपनी बीमारी का संक्रमण फैला सकते हैं।

(और पढ़ें - परजीवी संक्रमण के लक्षण)

हेपेटाइटिस ए की जोखिम और जटिलताएं - Risks & Complications of Hepatitis A in Hindi

हेपेटाइटिस ए होने से अन्य क्या नुकसान हो सकते हैं?

अन्य प्रकार के वायरल हैपेटाइटिस के विपरीत, हेपेटाइटिस ए दीर्घकालिक लीवर की क्षति का कारण नहीं बनता है। 

(और पढ़ें - फैटी लिवर के लक्षण)

कुछ दुर्लभ मामलों में, हेपेटाइटिस ए के कारण अचानक लीवर की गतिविधियों को नुकसान हो सकता है, विशेष रूप से वृद्ध लोगों में या पुराने लीवर रोग से ग्रस्त लोगों में।

(और पढ़ें - लिवर रोग का उपचार)

एक्यूट/ तीव्र यकृत विफलता (Acute liver failure) में अस्पताल में भर्ती होने और उपचार की आवश्यकता होती है। एक्यूट यकृत विफलता वाले कुछ लोगों को लीवर के प्रत्यारोपण की आवश्यकता भी हो सकती है।

(और पढ़ें - लिवर खराब होने के लक्षण)

Dr. Suraj Bhagat

Dr. Suraj Bhagat

गैस्ट्रोएंटरोलॉजी

Dr. Smruti Ranjan Mishra

Dr. Smruti Ranjan Mishra

गैस्ट्रोएंटरोलॉजी

Dr. Sankar Narayanan

Dr. Sankar Narayanan

गैस्ट्रोएंटरोलॉजी

हेपेटाइटिस ए की दवा - Medicines for Hepatitis A in Hindi

हेपेटाइटिस ए के लिए बहुत दवाइयां उपलब्ध हैं। नीचे यह सारी दवाइयां दी गयी हैं। लेकिन ध्यान रहे कि डॉक्टर से सलाह किये बिना आप कृपया कोई भी दवाई न लें। बिना डॉक्टर की सलाह से दवाई लेने से आपकी सेहत को गंभीर नुक्सान हो सकता है।

Medicine NamePack SizePrice (Rs.)
HavrixHavrix 1440 Iu Injection1439
AvaximAvaxim 160 Iu Injection1038
Biovac ABiovac A 0.5 Mg Injection1176
Havpur JuniorHavpur Junior Injection802
BharglobBHARGLOB 10% INJECTION 1ML0
Plasma RABPLASMA RAB INJECTION 2ML4656

क्या आप या आपके परिवार में किसी को यह बीमारी है? सर्वेक्षण करें और दूसरों की सहायता करें

References

  1. Sandeep Satsangia, Yogesh K. Chawlab. Viral hepatitis: Indian scenario. Med J Armed Forces India. 2016 Jul; 72(3): 204–210. PMID: 27546957
  2. Center for Disease Control and Prevention [internet], Atlanta (GA): US Department of Health and Human Services; Hepatitis A Questions and Answers for the Public
  3. National Institute of Diabetes and Digestive and Kidney Diseases [internet]: US Department of Health and Human Services; Hepatitis A
  4. World Health Organization, Department of Reproductive Health and Research. Hepatitis A. Fifth edition; World Health Organization; 2010
  5. Kristi L. Koenig et al. Hepatitis A Virus: Essential Knowledge and a Novel Identify-Isolate-Inform Tool for Frontline Healthcare Providers. West J Emerg Med. 2017 Oct; 18(6): 1000–1007. PMID: 29085529
और पढ़ें ...