myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

दुनियाभर में करोड़ों लोग हैं जो सुबह आंख खुलने के साथ ही अपने दिन की शुरुआत 1 कप कॉफी के साथ करते हैं। कुछ लोगों को तो सुबह-सुबह कॉफी पीने की ऐसी आदत होती है कि वे कॉफी पिए बिना अपने दिन की कल्पना भी नहीं कर सकते। लेकिन एक्सपर्ट्स की सलाह यही है कि आपको अपनी इस आदत को तुरंत बदल देना चाहिए और कैफीन का सेवन सुबह खाली पेट करने की बजाए ब्रेकफास्ट करने के बाद करना चाहिए। इस बात का आपको खासकर ख्याल तब रखना चाहिए जब आपको रातभर अच्छे से नींद न आयी हो। नई स्टडी की मानें तो रात में खराब नींद के बाद अगर सुबह उठते ही आप कॉफी का सेवन कर लें तो इससे आपका ब्लड शुगर कंट्रोल और मेटाबॉलिज्म दोनों बिगड़ जाता है। 

(और पढ़ें - खाली पेट क्या खाना पीना चाहिए और क्या नहीं, जानें)

ब्रेकफास्ट से पहले कॉफी पीने से टाइप 2 डायबिटीज का खतरा
एक्सपर्ट्स की मानें तो अगर कोई व्यक्ति नियमित रूप से रोजाना सुबह का नाश्ता करने से पहले खाली पेट ही कॉफी का सेवन करता है तो इस कारण बाद के सालों में उसे टाइप 2 डायबिटीज होने का खतरा बढ़ जाता है। अलग-अलग मेटाबॉलिक मार्कर्स पर रात की खराब नींद और सुबह की कॉफी का क्या प्रभाव होता है इसकी जांच करने के लिए यूके के यूनिवर्सिटी ऑफ बाथ के अनुसंधानकर्ताओं ने पाया कि, एक रात की खराब नींद का मेटाबॉलिज्म पर सीमित प्रभाव पड़ता है, लेकिन सुबह खाली पेट कॉफी पीने का ब्लड ग्लूकोज कंट्रोल पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है।

स्टडी में पूरी तरह से स्वस्थ 29 महिलाओं और पुरुषों को शामिल किया गया
डायबिटीज और हृदय रोग जैसी बीमारियों के जोखिम को कम करने और अपने ब्लड शुगर लेवल को सुरक्षित सीमा के भीतर रखने के महत्व को देखते हुए, शोधकर्ताओं का मानना ​​है कि स्टडी के इन परिणामों के "दूरगामी" स्वास्थ्य निहितार्थ परिणाम हो सकते हैं। ब्रिटिश जर्नल ऑफ न्यूट्रिशन में प्रकाशित इस स्टडी में पूरी तरह से स्वस्थ 29 महिलाओं औ पुरुषों को शामिल किया गया जिन्हें रैंडम ऑर्डर में 3 अलग-अलग रातभर के अनुभवों से गुजरना पड़ा।  

(और पढ़ें- ब्लैक कॉफी पीने के फायदे और नुकसान)

सामान्य नींद और बाधित नींद के बाद सुबह दी गई स्ट्रॉन्ग कॉफी
पहले दो परिदृश्यों में, प्रतिभागियों को सुबह जागने पर शक्करयुक्त पेय पदार्थ पीने के लिए दिया गया- पहले में रातभर की सामान्य नींद के बाद और अगले में रातभर की खराब नींद के बाद। इस दौरान रातभर उन्हें हर 1 घंटे में पांच मिनट के लिए जगाया जा रहा था। तीसरे में, उनकी नींद समान रूप से बाधित की गई लेकिन इस दौरान उन्हें शक्कर वाला पेय पदार्थ पिलाने से 30 मिनट पहले एक स्ट्रॉन्ग ब्लैक कॉफी पीने के लिए दी गई।

नाश्ते से पहले कॉफी पीने से ब्लड ग्लूकोज में 50 प्रतिशत की वृद्धि
हर एक एक्सपेरिमेंट के दौरान शक्कर वाली ग्लूकोज ड्रिंक में एक विशिष्ट या टिपिकल ब्रेकफास्ट जितनी ही कैलोरीज मौजूद थी और इस ड्रिंक को पीने के बाद प्रतिभागियों के खून के सैंपल लिए गए। परिणामों से पता चला कि एक सामान्य रात की नींद की तुलना में एक रात की बाधित नींद ने ब्रेकफास्ट के दौरान प्रतिभागियों के ब्लड ग्लूकोज रेस्पॉन्स को बहुत ज्यादा नहीं बिगाड़ा। हालांकि, सुबह के नाश्ते से पहले स्ट्रॉन्ग ब्लैक कॉफी पीने के कारण- यह एक ऐसा पैटर्न है जिसे बड़ी संख्या में कॉफी का सेवन करने वाले लोग अपनाते हैं- ब्लड ग्लूकोज की प्रतिक्रिया में लगभग 50 प्रतिशत की वृद्धि हुई।

(और पढ़ें- ग्रीन कॉफी के फायदे, बनाने की विधि)

यूनिवर्सिटी ऑफ बाथ में सेंटर फॉर न्यूट्रिशन, एक्सरसाइज एंड मेटाबॉलिज्म के सह-निदेशक प्रफेसर जेम्स बेट्स ने कहा, हम जानते हैं कि हम में से लगभग आधे लोग ऐसे हैं जो सुबह उठेंगे और कुछ भी करने से पहले, खाली पेट कॉफी पीते हैं- सहज रूप से हम जितना अधिक थका हुआ महसूस करते हैं, हमारी कॉफी उतनी ही स्ट्रॉन्ग होती है। यह अध्ययन महत्वपूर्ण है और इसका सेहत से जुड़ा संबंध दूरगामी है क्योंकि अब तक हमें इस बारे में सीमित ज्ञान था कि खाली पेट कॉफी पीना, हमारे शरीर के साथ क्या कर रहा है, विशेष रूप से हमारे मेटाबॉलिक और ब्लड शुगर कंट्रोल के साथ।"

(और पढ़ें- शरीर पर कैफीन का होता है कैसा असर जानें)

खाली पेट शरीर कॉफी के संपर्क में आता है तो ब्लड शुगर कंट्रोल बिगड़ जाता है
"सीधे शब्दों में कहें, तो यदि सुबह खाली पेट हमारा शरीर जिस पहली चीज के संपर्क में आता है अगर वह कॉफी है, खासकर रात में खराब नींद या बाधित नींद के बाद तो इससे हमारे शरीर का ब्लड शुगर कंट्रोल बिगड़ जाता है। हम चाहें तो अपनी इस आदत में सुधार कर सकते हैं और इसके लिए हमें पहले सुबह ब्रेकफास्ट करना होगा यानी पहले कुछ खाना होगा और उसके बाद कॉफी पीनी होगी, अगर आपको महसूस होता है कि आपको अब भी कॉफी की जरूरत है तो पहले कुछ खा लें और फिर कॉफी पिएं। यह जानना हम सभी के लिए महत्वपूर्ण है कि ऐसा करने से स्वास्थ्य लाभ हो सकता है। ”

(और पढ़ें- सुबह का नाश्ता न करने के क्या क्या नुकसान हो सकते हैं, जानें)

हमारे मेटाबॉलिज्म पर नींद का क्या प्रभाव पड़ता है इस बारे में हमें और भी बहुत कुछ सीखने की ज़रूरत है, जैसे- हमारे मेटाबॉलिज्म के खराब होने के लिए कितनी ज्यादा नींद की गड़बड़ी होनी चाहिए और इसके कुछ दीर्घकालिक प्रभाव क्या हो सकते हैं, साथ ही साथ क्या व्यायाम करने से इस समस्या को कुछ हद तक मुकाबला करने में मदद मिल सकती है?

और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें