myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

सूरज की रोशनी में लंबे समय तक रहना सनबर्न, स्किन एजिंग और यहां तक कि त्वचा के कैंसर का कारण बन सकता है। इसलिए बहुत से लोग घर के अंदर रहकर सूर्य के प्रकाश से बचना पसंद कर सकते हैं। लेकिन सूर्य के प्रकाश से पूरी तरह से दूरी ना रखें। सीमित समय के लिए सूर्य के प्रकाश में रहने से कई स्वास्थ्य लाभ मिलते हैं।

सूरज की रोशनी विटामिन डी पाने का सबसे आसान और सबसे तेज़ तरीका है जो ऑक्सीजन की तरह जीवन के लिए महत्वपूर्ण है। लेकिन आपको विटामिन डी प्राप्त करने के लिए अपनी स्किन को बर्न करने की ज़रूरत नहीं है। विटामिन डी शरीर में विटामिन से ज़्यादा एक हार्मोन की तरह काम करता है। यह इलेक्ट्रोलाइट चयापचय, प्रोटीन संश्लेषण (protein synthesis), प्रतिरक्षा, तंत्रिका और मांसपेशियों के कामकाज में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

  1. सूरज की रोशनी के फायदे हैं प्रतिरक्षा प्रणाली के लिए - Sunlight Boosts Immune System in Hindi
  2. सूर्य के प्रकाश के लाभ रखें हड्डियों को मजबूत - Sunlight for Healthy Bones in Hindi
  3. धूप के फायदे रखें आँखों को स्वस्थ - Sunlight Good for Eyes in Hindi
  4. सूर्य के प्रकाश का प्रभाव करें चयापचय को तेज - Sunlight Increases Metabolism in Hindi
  5. सूर्य का प्रकाश है नींद के लिए अच्छा - Sunlight Helps in Sleep in Hindi
  6. सन लाइट करे तनाव को कम - Sunlight Exposure for Depression in Hindi
  7. सूरज का प्रकाश है ऊंचाई बढ़ाने में सहायक - Sunlight Increases Height in Hindi
  8. सूर्य की रोशनी करे कैंसर का खतरा कम - Sunlight Helps Prevent Cancer in Hindi
  9. सन लाइट के फायदे रोकें मल्टीपल स्कलेटोसिस - Suraj ki Roshni ke Fayde for Multiple Sclerosis in Hindi
  10. सूरज की किरणें बचाएँ हृदय रोग के जोखिम से - Sun Exposure for Heart Disease in Hindi

सूरज की रोशनी प्रतिरक्षा प्रणाली बनाती है। सूर्य के प्रकाश के संपर्क में होने पर शरीर विटामिन डी से टी कोशिकाओं (T cells) के उचित कामकाज का समर्थन करता है जो प्रतिरक्षा सुरक्षा में योगदान करती है। एक मजबूत प्रतिरक्षा प्रणाली बाहरी जीवों के हमले के खिलाफ शरीर की रक्षा करती है।

विटामिन डी को जन्मजात और अनुकूली प्रतिरक्षा प्रतिक्रियाओं को व्यवस्थित करने में सहायता करने के लिए पाया गया है। इसके अलावा, विटामिन डी की कमी संक्रमण की बढ़ती संवेदनशीलता और बहुत से ऑटोइम्यून बीमारियों से जुड़ी हुई है। 

(और पढ़ें – प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाले खाद्य पदार्थ)

स्वस्थ और मजबूत हड्डियों के लिए सूरज की रोशनी आवश्यक है। यह शरीर को विटामिन डी का उत्पादन करने में मदद करती है जो कैल्शियम की हड्डियों को मजबूत करने के अवशोषण को उत्तेजित करता है। इससे हड्डी की बीमारियों, फ्रैक्चर और ऑस्टियोपोरोसिस का जोखिम कम हो जाता है।

जर्नल अमेरिकन सोसायटी फॉर क्लिनिकल न्यूट्रिशन में प्रकाशित एक 2004 के अध्ययन के मुताबिक, विटामिन डी की कमी बच्चों के बीच सूखा रोग यानि रिकेट्स (rickets) का कारण बनती है, वयस्कों में ऑस्टियोपोरोसिस को बढ़ाती है और दर्दनाक अस्थि रोग ओस्टीयोमलेशिया (osteomalacia) का कारण बनता है। 

(और पढ़ें – राजमा खाने के फायदे बनाएँ हड्डियों को मजबूत)

जर्नल न्युरोबायोलॉजी ऑफ़ एजिंग में प्रकाशित 2012 के एक अध्ययन के मुताबिक, विटामिन डी3 ऐज-रिलेटेड मैकुलर डिजनरेशन (age related macular degeneration) को रोकने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है, जो बुजुर्गों में अंधेपन का सबसे आम कारण है। यह सूजन को कम करने और विजुअल फ़ंक्शन को सुधारकर आंखों की उम्र बढ़ने में मदद करता है।

नेत्र स्वास्थ्य के लिए, आप सीधे रूप से सूर्य को नहीं देख सकते हैं इसलिए इन स्टेप्स का पालन करें। (और पढ़ें – चौलाई के लाभ हैं आँखों के लिए)

  • सुबह में एक सनी जगह पर खड़े हो जाओ। और उस समय लेंस या चश्मा ना पहनें।
  • अपनी आँखें बंद करें और पलकें पर धूप को आँखों पर आने दें।
  • अपनी आंखों पर सूर्योदय की गर्मी महसूस करें और धीरे-धीरे अपनी आँखों को ऊपर और नीचे, दाएं से बाएं करें।
  • इसे 5 मिनट के लिए करें, फिर 5 मिनट के लिए एक और बार पामिंग (हतलियों को आँखों पर रखना) करें।
  • दिन में एक बार ज़रूर करें

नोट: उज्ज्वल धूप के दीर्घकालिक जोखिम से बचें क्योंकि इससे मोतियाबिंद के विकास में योगदान हो सकता है।

सूरज की रोशनी आपको आपकी चयापचय दर को तेज करके स्वस्थ वजन बनाए रखने में सहायता कर सकती है। जर्नल डायबिटीज में प्रकाशित एक 2014 का अध्ययन पाया गया कि पराबैंगनी (यूवी) किरण विटामिन डी के कारण मोटापे और चयापचय सिंड्रोम के लक्षणों को दबा देती है।

आगे के शोध से पता चला है कि नाइट्रिक ऑक्साइड (एक कंपाउंड है जो सूर्य के एक्सपोजर के बाद त्वचा को रिलीज करता है) मोटापे और मधुमेह के समान धीमे प्रभाव थे। शोधकर्ताओं का मानना है कि जिस तरह से शरीर चयापचय को नियंत्रित करता है, उस पर नाइट्रिक ऑक्साइड के लाभकारी प्रभाव पड़ सकते हैं। जबकि दूसरी ओर विटामिन डी की कमी वसा संचय में योगदान कर सकती है

(और पढ़ें - लहसुन खाने का फायदा)

दिन के प्राकृतिक उजाले का एक्सपोजर आपकी सोने और उठने के चक्र को बनाए रखने में सहायता करता है। उज्ज्वल सूरज की रोशनी के संपर्क में, ऑप्टिक तंत्रिका मस्तिष्क में ग्रंथि को एक संदेश भेजती है जो कि मेलाटोनिन पैदा करता है (मेलाटोनिन नींद की शुरुआत से जुड़ा एक हार्मोन है)।

ग्रंथि का स्राव दिन के दौरान कम मेलाटोनिन पैदा करता है। जैसे ही अंधेरा होता है, यह उत्पादन में वृद्धि करना शुरू कर देता है। मेलाटोनिन उत्पादन का निम्न स्तर खराब नींद की गुणवत्ता से जुड़ा हुआ है।

इसके अलावा, सूर्य की रोशनी रात की बेहतर नींद के लिए सर्कैडियन लय (circadian rhythms) को नियमित करने में मदद करती है। सर्कैडियन लय 24 घंटे का एक चक्र है जो कि जैव रासायनिक, शारीरिक और व्यवहारिक प्रक्रियाओं को नियंत्रित करके आपके नींद के चक्र को नियंत्रित करता है। 

(और पढ़ें – नींद ना आने के आयुर्वेदिक उपाय)

नियमित रूप से सूरज की रोशनी को प्राप्त करना तनाव कम करने और हल्के अवसाद से लड़ने में मदद के लिए स्वाभाविक रूप से आपके शरीर में सेरोटोनिन के स्तर में वृद्धि हो सकती है।

सेरोटोनिन न्यूरोट्रांसमीटर है जो भूख, नींद, स्मृति और मनोदशा को नियंत्रित करता है। इसके अलावा सेरोटोनिन अवसाद और आत्महत्या की संवेदनशीलता में भूमिका निभाता है।

सूर्य के प्रकाश का अभाव अक्सर अवसाद और मौसमी उत्तेजित विकार (seasonal affective disorder (SAD)) से जुड़ा होता है, जो अवसाद का एक रूप है जो सर्दियों के महीनों के दौरान अक्सर होता है। इसलिए, सूर्य के प्रकाश के संपर्क में इन स्थितियों को बेहतर बनाने में मदद मिल सकती है।

इसके अलावा, जर्नल लैन्सेट में प्रकाशित एक 2002 के अध्ययन से यह भी पता चलता है कि सूर्य का प्रकाश और सीजन का मस्तिष्क में सेरोटोनिन टर्नओवर पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है

सूर्य की रोशनी भी आपकी ऊंचाई बढ़ाने में मदद करती है। 2009 में, ब्रिटेन में ब्रिस्टल विश्वविद्यालय में शोधकर्ताओं द्वारा 18 साल के एक अध्ययन में पाया कि गर्मियों के दौरान गर्भवती हुई महिलाओं के लम्बे, मजबूत-अस्थि (stronger-boned) वाले बच्चे होते हैं।

सूर्य के प्रकाश का एक्सपोजर शरीर को विटामिन डी बनाने के लिए ट्रिगर करता है, जिसका बच्चों के विकास पर विशेष रूप से प्रभाव पड़ता है। सूरज एक्सपोज़र हड्डियों के द्रव्यमान को प्रभावित करता है, मुख्यत हड्डियों की चौड़ाई में वृद्धि।

यूनाइटेड किंगडम के नेशनल इंस्टीट्यूट फॉर हेल्थ एंड क्लिनिकल एक्सिलेंस के अनुसार, गर्भावस्था के दौरान पर्याप्त विटामिन डी प्राप्त करना और शिशु के संपूर्ण स्वस्थ विकास के लिए स्तनपान करना महत्वपूर्ण है।

(और पढ़ें - लंबाई बढ़ाने के आसान उपाय)

शरीर में विटामिन डी की पर्याप्त मात्रा से कोलन, किडनी और स्तन कैंसर का खतरा कम हो सकता है। सूर्य के जोखिम का अभाव विटामिन डी की कमी के लिए योगदान देता है जिससे कई कैंसर का खतरा बढ़ जाता है।

अमेरिकन सोसायटी फॉर क्लिनिकल न्यूट्रिशन में प्रकाशित 2007 के एक अध्ययन के मुताबिक, कैल्शियम और विटामिन डी पोषण संबंधी स्थिति में सुधार के कारण पोस्टमेनोपॉज़ल (रजोनिवृत्ति के बाद) महिलाओं में सभी प्रकार के कैंसर के खतरे को काफी हद तक कम करता है।

इसके अलावा, विटामिन डी अन्य कैंसर के उपचार के साथ मिलकर रोगी के रोग का निदान करने में मदद करता है। 

लैनसेट न्यूरोलॉजी जर्नल पत्रिका में प्रकाशित 2010 के एक अध्ययन के मुताबिक, शरीर में पर्याप्त विटामिन डी पोषण, मल्टीपल स्कलेटोसिस को रोकने में योगदान कर सकता है, जो एक ऑटोइम्यून बीमारी है जो केंद्रीय तंत्रिका तंत्र (जो आपके माइंड, रीढ़ और आइज़ की ऑप्टिक न्यूरॉन्स को प्रभावित करती है) को प्रभावित करता है।

इसके अलावा, गर्भावस्था के दौरान कम विटामिन डी आपके बच्चे के जीवन में मल्टीपल स्कलेटोसिस का जोखिम बढ़ा सकती है। इसके अलावा, 20 वर्ष से कम उम्र के बच्चों में सूर्य के प्रकाश का एक्सपोजर होने से मल्टीपल स्कलेटोसिस होने का खतरा कम होता है।

(और पढ़ें - गर्भावस्था में पेट दर्द और गर्भ में लड़का कैसे हो से जुड़े मिथक)

सूर्य के प्रकाश से संपर्क हृदय रोग वाले और हृदय रोग के उच्च जोखिम वाले लोगों के लिए बेहद फायदेमंद है। सूरज की गर्मी प्रवाह परिसंचरण में सुधार करती है और विटामिन डी के स्तर को बढ़ाती है, जिससे बदले में हृदय स्वास्थ्य में सुधार होता है।

लंदन में यूरोपीय सोसायटी ऑफ हाईपरटेन्शन मीटिंग में पेश किया गया 2012 का अध्ययन दिखाता है कि सर्दियों में विटामिन डी सप्लीमेंट उच्च रक्तचाप को कम करने में मदद कर सकता है।

यूवी किरणों के संपर्क में होने पर, शरीर नाइट्रिक ऑक्साइड को रिलीज करता जो उच्च रक्तचाप को कम करता है। हाई ब्लड प्रेशर हार्ट अटैक, दिल की विफलता, स्ट्रोक और अन्य स्वास्थ्य समस्याओं के लिए एक महत्वपूर्ण जोखिम कारक है। इसके अलावा सूर्य के प्रकाश से भी कोलेस्ट्रॉल और स्ट्रोक का जोखिम कम करता है। 

(और पढ़ें - चेरी का प्रयोग रखे हृदय को स्वस्थ)

सूर्य के प्रकाश से कई स्वास्थ्य लाभ हैं, लेकिन इसका कम मात्रा में आनंद लें।

  • 10 से 15 मिनट (सनस्क्रीन के बिना) के लिए सुबह की धूप का एक्सपोजर करना एक अच्छा विकल्प है।
  • सुबह 10 बजे और 4 बजे के बीच के घंटों के दौरान डायरेक्ट सूर्य के प्रकाश से बचें।
     
और पढ़ें ...