myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

खेती किए जाने वाले सबसे प्राचीन खाद्य होने के बावजूद चौलाई मानव स्वास्थ्य के लिए बेहद महत्वपूर्ण है। चौलाई की खेती सबसे पहले 8000 साल पहले एज़टेक (Aztecs) और अन्य स्वदेशी संस्कृतियों में की गई थी। इसके फूल बैंगनी और लाल रंग के होते हैं। चौलाई के बीजों को राजगिरा और रामदाना भी कहा जाता है। चौलाई को सबसे अधिक स्वास्थ्य खाद्य की दुकानों में बेचा जाता है, क्योंकि यह अभी भी व्यापक रूप से खेती के प्रकार का अनाज नहीं है, लेकिन इस पोषक तत्वों से भरे हुए अनाज की मांग बढ़ रही है। चौलाई सबसे अधिक संयुक्त राज्य में उगाई जाती है। चौलाई की कई प्रजातियां भारत में उगाई और उपयोग की जाती हैं। चौलाई के पत्ते भी मूल्यवान होते हैं, हालांकि अनाज की तुलना में बहुत कम लोकप्रिय हैं।

चौलाई को कच्चा नहीं खाया जाना चाहिए, क्योंकि इसमें ऑक्सालेट और नाइट्रेट्स जैसे कुछ विषाक्त या अवांछनीय घटक (component) होते हैं जिन्हें उबालकर और उचित तैयारी से समाप्त किया जा सकता है। हालांकि इसमें मूल्यवान एंटीऑक्सिडेंट और फेनालिक यौगिक (Compound) भी होते हैं। इसके पत्तों और बीजों में प्रोटीन, विटामिन ए और खनिज प्रचुर मात्रा में पाये जाते हैं। यह अनेक औषधीय गुणों से भरपूर होती है।

  1. चौलाई के नुकसान - Chaulai ke Nuksan in Hindi
  2. चौलाई के फायदे - Chaulai ke Fayde in Hindi

चौलाई अनाज को आहार संबंधी पूरक के रूप में कोई ज्ञात विषाक्तता या खतरे नहीं हैं, लेकिन इंसुलिन के स्तर को कम करने की क्षमता के कारण जो लोग हाइपोग्लाईसिमिक (Haipoglaisimic -  रक्त शर्करा के स्तर को कम हो जाने को हाइपोग्लाईसिमिक कहा जाता है) से पीड़ित हैं उनके लिए यह संभवतः खतरनाक हो सकती है, इसलिए इस मामले में देखभाल की जानी चाहिए।

  • कुछ लोग, खासकर बच्चे - लियासिनिक प्रोटीन को सहन नहीं कर पाते हैं जो दस्त और पेट दर्द का कारण बन सकता है। (और पढ़ें –  दस्त का घरेलू उपचार)
  • लाइसिन शरीर के कैल्शियम अवशोषण को बढ़ाता है और शरीर में मुक्त कैल्शियम की हानि-क्षति उत्पन्न करता है। एक ही समय में कैल्शियम और लाइसिन की बड़ी मात्रा को लेने से बचें।

चौलाई के फायदे बचाएँ सीलिएक से - Amaranth for Celiac in Hindi

ऐमरैन्थ लस मुक्त है, यह उन लोगों के लिए सुरक्षित है जो सीलिएक (रक्ताल्पता) बीमारी से ग्रस्त हैं, एक स्वत: प्रतिरक्षी पाचन रोग है जिसमें शरीर स्वयं छोटी आंत पर हमला करता है जिससे छोटी आंत के लिए पोषक तत्वों को पचाने में मुश्किल होती है। चौलाई पोषक तत्वों के विकार का कारण बनती है और अधिक स्वास्थ्य समस्याओं का कारण होती है।

सीलिएक रोग पेट में दर्द, दस्तगैसकब्ज, ईर्ष्या और मतली जैसे जठरांत्र संबंधी लक्षणों का कारण बन सकता है। यह थकान, हड्डी और जोड़ों के दर्द, बांझपनअवसाद और त्वचा पर चकत्ते जैसी समस्याओं को भी पैदा कर सकता है। संवेदनशीलता या लस के असहिष्णुता वाले लोग इस लाभकारी अनाज को खा सकते हैं और इन समस्याओं को रोक सकते हैं।

(और पढ़ें – पेट में गैस के घरेलू उपचार)

चौलाई के गुण करें कोलेस्ट्रॉल को कम - Amaranth Good for Cholesterol in Hindi

चौलाई कोलेस्ट्रॉल की समस्या से पीड़ित लोगों के लिए सबसे अच्छा भोजन मानी जाती है। इसके बीज और तेल फाइबर में परिपूर्ण होने के कारण, कोलेस्ट्रॉल कम करने के लिए जाने जाते हैं। कोलेस्ट्रॉल पाचन तंत्र में फाइबर को बांधता है और यह शरीर द्वारा उत्सर्जित होने के कारण होता है। इस प्रकार यह एथेरोस्क्लेरोसिस (धमनियाँ सख्त होना) के विकास की संभावना को कम करता है जो दिल के दौरे या स्ट्रोक का कारण बनती है। पोटैशियम में उच्च होने के कारण यह रक्त वाहिकाओं को आराम देकर हृदय स्वास्थ्य को बढ़ावा देता है। पोटेशियम एक वैसोडिलेटर है, जिसका अर्थ है कि यह धमनियों और रक्त वाहिकाओं में तनाव को कम करता है, उच्च रक्तचाप को कम करता है और कोरोनरी हृदय रोग की संभावना को कम करता है।

(और पढ़ें – कोलेस्ट्रॉल कम करने के लिए पियें ये जूस)

राजगिरा के फायदे हैं सूजन के लिए - Amaranth for Inflammation in Hindi

राजगिरा (चौलाई) में एंटीऑक्सिडेंट और एंटी-इन्फ्लैमेटरी गुण होते हैं जो कि स्वास्थ्य समस्याओं को रोकने में मदद कर सकते हैं।

इसकी एंटीऑक्सिडेंट संपत्ति मुक्त कणों की क्षति को रोकती है, जो उम्र बढ़ने में तेजी ला सकते हैं और कैंसर और अन्य स्वास्थ्य समस्याओं का कारण भी बन सकते हैं। चौलाई सेलुलर झिल्ली (Cellular membrane) को ऑक्सीडेटिव क्षति से बचाती है और प्रतिरक्षा को भी बढ़ाती है।

चौलाई की सूजन को कम करने वाली गतिविधियों ने गठिया, फाइब्रोमायलग्आ और  इर्रिटेबल बोवेल डिसीज (IBD) जैसी स्वास्थ्य स्थितियों के जोखिम को कम किया है।

रामदाना के फायदे करें पाचन तंत्र को उत्तेजित - Amaranth Grain for Digestion in Hindi

चौलाई (रामदाना) फाइबर सामग्री में उच्च है, जिसका अर्थ है कि यह पाचन तंत्र को उत्तेजित करती है और शारीरिक कचरे के उत्सर्जन को विनियमित करने में मदद करती है।

फाइबर पेट में मौजूद पाचन एंजाइमों द्वारा पाचन तंत्र के माध्यम से गुजरता है, जो शरीर से विषाक्त पदार्थों, अपशिष्ट, वसा और कोलेस्ट्रॉल के कणों को बाहर ले जाता है। दरअसल, इस उच्च अनाज का सेवन आहार के लिए एक आदर्श भोजन है। कब्ज में भी यह बहुत लाभकारी है।

फूड केमिस्ट्री में प्रकाशित एक 2015 के अध्ययन में बताया गया है कि चौलाई में 78 प्रतिशत अघुलनशील फाइबर और 22 प्रतिशत घुलनशील फाइबर होते हैं।

(और पढ़ें - सौंफ की चाय का सेवन दिलाए पाचन समस्या से छुटकारा)

चौलाई के लाभ हैं आँखों के लिए - Amaranth Benefits for Eyes Health in Hindi

विटामिन ए और सी की उच्च सामग्री के कारण चौलाई का नियमित सेवन आपकी दृष्टि को बेहतर बना सकता है।

विटामिन ए आँखों की सतह को स्वस्थ रखने में मदद करती है और आंख के संक्रमण को रोकती है। यह स्वस्थ और मजबूत दृष्टि बनाए रखने के लिए ओक्यूलर सिस्टम (नेत्र प्रणाली) में ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करती है। यह धब्बेदार अध: पतन (मैकुलर डीजेनेरेशन) और मोतियाबिंद के जोखिम को भी कम करती है।

विटामिन ए की कमी आँखों में कॉर्निया के शुष्क होने का कारण बनती है, जो धुंधली दृष्टि से शुरू होती है। 

(और पढ़ें – आंखों की सूजन कम करने का सरल और बेहतरीन उपाय)

चौलाई के औषधीय गुण रखें हड्डियों को मजबूत - Cholai ke Fayde for Bones in Hindi

हड्डियों के स्वास्थ्य के लिए कैल्शियम बहुत महत्वपूर्ण है। पर्याप्त कैल्शियम के बिना, हड्डियां कमजोर और अतिसंवेदनशील हो जाती है जिससे फ्रैक्चर और टूटने का डर लगा रहता है।

चूंकि चौलाई में कैल्शियम की मात्रा बहुत अच्छी होती है जिससे यह बोन्स की रिपेयर और उनको मजबूत बनाने के लिए मदद करता है। चौलाई खाने से आप ऑस्टियोपोरोसिस की शुरुआत को रोकने या धीमा करने में मदद कर सकते हैं। दूसरी ओर, कैल्शियम की कमी से फ्रैक्चर और ऑस्टियोपोरोसिस के विकास का खतरा बढ़ जाता है।

इंटरनेशनल जर्नल ऑफ फूड साइंसेज और न्यूट्रिशन रिपोर्ट में प्रकाशित एक 2013 के अध्ययन में कहा गया है कि चौलाई की खपत कैल्शियम, लौह और जस्ता के पौष्टिक महत्व को बढ़ाने का एक प्रभावी उपाय है।

1 कप कच्ची चौलाई 31 प्रतिशत कैल्शियम , 82 प्रतिशत लोहा और 14 प्रतिशत विटामिन सी प्रदान करती है।

(और पढ़ें - राजमा खाने के फायदे बनाएँ हड्डियों को मजबूत)

चौलाई के पत्ते हैं बालों के लिए फायदेमंद - Amaranth Benefits for Hair in Hindi

चौलाई में मौजूद लाइसिन एक दुर्लभ अमीनो एसिड होता है जो शरीर द्वारा उत्पादित नहीं किया जा सकता है। यह एमिनो एसिड कैल्शियम की दक्षता में सुधार करता है और बालों के रोम (फॉलिकल्स) को मजबूत करता है। यह बदले में बालों के झड़ने को रोकने में मदद करता है।

आप अपने बाल के प्राकृतिक रंग को बनाए रखने और समय से पहले बालों को सफेद होने से रोकने के लिए चौलाई के पत्ते का इस्तेमाल कर सकते हैं।

  • अपने बालों को शैम्पू करने के बाद, अपने बालों और स्कॅल्प पर चौलाई की पत्तियों से निकाले गए ताजे रस को लगाएँ। और 10 मिनट के बाद इसे सादे पानी से धो लें। इस उपाय को सप्ताह में 1 या 2 बार करो।
  • इसके अलावा, हफ्ते में एक या दो बार अपने सिर को मालिश करने के लिए कुछ चम्मच नारियल के तेल को चौलाई के तेल की कुछ बूंदों को मिलाकर उपयोग करें। इसे ढोने से पहले कम से कम 40 मिनट के लिए लगाकर छोड़ दें और अपने बालों को ढंके रखें।
  • प्रोटीन सामग्री के लिए चौलाई खाना समग्र बाल स्वास्थ्य के लिए भी अच्छा है। (और पढ़ें - पेपरमिंट टी के लाभ अनियंत्रित बालों के लिए)

चौलाई का सेवन करे वजन कम - Amaranth Leaves for Weight Loss in Hindi

चौलाई शरीर में इंसुलिन के स्तर को प्रभावी ढंग से कम कर सकता है और साथ ही शरीर में हार्मोन को रिहा करता है जो प्रभावी रूप से हमारे शरीर को बताता है कि हमारा पेट भरा हुआ है। चौलाई "भूख" हार्मोन के विपरीत है, जो अक्सर भोजन और नाश्ते के बीच लोगों के वजन बढ़ने का कारण होता है। इसलिए जो लोग अपना वजन कम करने की कोशिश कर रहे हैं उनको अपने आहार में चौलाई का सेवन शुरू कर देना चाहिए।

(और पढ़ें - मोटापा कम करने के लिए क्या खाएं)

चौलाई का उपयोग रखें मधुमेह को नियंत्रण में - Amaranth Good for Diabetics in Hindi

जैसा कि ऊपर उल्लेख किया गया है, चौलाई की मात्रा में इंसुलिन के स्तर को कम करने और भूख नियंत्रण के जरिये रक्त शर्करा का सेवन करने की क्षमता होती है। यह मधुमेह के खतरे में रहने वालों के लिए एक आदर्श स्थिति है, क्योंकि इंसुलिन का ऊंचा स्तर और मोटापा मधुमेह के दो कारण हैं। वर्तमान में मधुमेह की वैश्विक महामारी प्रकृति को देखते हुए और इंसुलिन के स्तर को कम करने में सक्षम होने के कारण इसे महत्वपूर्ण माना जाता है।

प्रोटीन का अच्छा स्रोत है चौलाई - Amaranth is a Good Source of Protein in Hindi

चौलाई ऐसे कुछ पौधे आधारित स्रोतों में से एक है जो एक पूर्ण प्रोटीन प्रदान करते हैं, जिसका अर्थ है कि इसमें सभी 9 आवश्यक अमीनो एसिड का पर्याप्त अनुपात होता है। वास्तव में, किसी अन्य अनाज की तुलना में इसमें अधिक प्रोटीन होता है। प्रोटीन नए ऊतकों और कोशिकाओं में, ऊर्जा और चयापचय के कार्यों के विकास के लिए महत्वपूर्ण है।

इसमें लाइसिन नामक एक अमीनो एसिड होता है, जो कई अनाज में ना के बराबर या होता ही नहीं है। यह विशेष अमीनो एसिड कैल्शियम अवशोषण में एक प्रमुख भूमिका निभाता है, स्नायु प्रोटीन का निर्माण करता है, सर्जरी या खेल चोटों से रिकवरी करता है और शरीर के हार्मोन, एंजाइमों और एंटीबॉडीज का उत्पादन करता है। न सिर्फ बीज, ऐमरैन्थ प्लांट की पत्तियों में भी फायदेमंद प्रोटीन होते हैं। वास्तव में, पत्तियों को ज्यादातर एशियाई और कैरेबियाई व्यंजनों में उपयोग किया जाता है।

चिकित्सा संस्थान के अनुसार, महिलाओं को कम से कम 46 ग्राम और पुरुषों को कम से कम 56 ग्राम प्रोटीन की आवश्यकता होती है। सिर्फ 1 कप ऐमरैन्थ खाने से आपको अपने दैनिक प्रोटीन की आवश्यकता के 26 ग्राम मिलेंगे।

और पढ़ें ...

References

  1. Department of Horticulture and Crop Science. Members of the Amaranthaceae Family . The Ohio State University
  2. United States Department of Agriculture. Full Report (All Nutrients): 20001, Amaranth grain, uncooked. National Nutrient Database for Standard Reference Legacy Release; Agricultural Research Service
  3. United States Department of Agriculture. Full Report (All Nutrients): 11004, Amaranth leaves, cooked, boiled, drained, without salt. National Nutrient Database for Standard Reference Legacy Release; Agricultural Research Service
  4. Lamothe LM, Srichuwong S, Reuhs BL, Hamaker BR. Quinoa (Chenopodium quinoa W.) and amaranth (Amaranthus caudatus L.) provide dietary fibres high in pectic substances and xyloglucans.. 2015 Jan 15;167:490-6. PMID: 25149016
  5. Devaraj VC, Krishna BG.Gastric antisecretory and cytoprotective effects of leaf extracts of Amaranthus tricolor Linn. in rats.. 2011 Sep;9(9):1031-8. PMID: 21906529
  6. Cherkas A, Zarkovic K, Cipak Gasparovic A, Jaganjac M, Milkovic L, Abrahamovych O, Yatskevych O, Waeg , Yelisyeyeva O, Zarkovic N. Amaranth oil reduces accumulation of 4-hydroxynonenal-histidine adducts in gastric mucosa and improves heart rate variability in duodenal peptic ulcer patients undergoing Helicobacter pylori eradication.. 2018 Feb;52(2):135-149. PMID: 29251014
  7. Kathryn Wanjiku Nderitu, Njagi Shadrack Mwenda, Ndegwa John Macharia, Stephen Super Barasa, and Mathew Piero Ngugi. Antiobesity Activities of Methanolic Extracts of Amaranthus dubius, Cucurbita pepo, and Vigna unguiculata in Progesterone-Induced Obese Mice. 2017; 2017: 4317321. PMID: 28947909
  8. Aguilar EG, Albarracín Gde J, Uñates MA, Piola HD, Camiña JM, Escudero NL. Evaluation of the nutritional quality of the grain protein of new amaranths varieties.. 2015 Mar;70(1):21-6. PMID: 25501792
  9. Negro M, Giardina S, Marzani B, Marzatico F. Branched-chain amino acid supplementation does not enhance athletic performance but affects muscle recovery and the immune system.. 2008 Sep;48(3):347-51. PMID: 18974721
  10. Ballabio C1, Uberti F, Di Lorenzo C, Brandolini A, Penas E, Restani P. Biochemical and immunochemical characterization of different varieties of amaranth (Amaranthus L. ssp.) as a safe ingredient for gluten-free products.. 2011 Dec 28;59(24):12969-74. PMID: 22073907
  11. Institute of Medicine (US) Committee on Military Nutrition Research. Military Strategies for Sustainment of Nutrition and Immune Function in the Field. Washington (DC): National Academies Press (US); 1999. 12, Vitamin A and Immune Function.
  12. Masanobu Hibi, Satoshi Hachimura, Shuichi Hashizume, Takahide Obata,1 and Shuichi Kaminogawa. Amaranth Grain Inhibits Antigen-Specific IgE Production Through Augmentation of the IFN-γ Response in vivo and in vitro. 2003 Nov; 43(1-3): 33–40. PMID: 19003205
  13. Berger A, Gremaud G, Baumgartner M, Rein D, Monnard I, Kratky E, Geiger W, Burri J, Dionisi F, Allan M, Lambelet P. Cholesterol-lowering properties of amaranth grain and oil in hamsters.. 2003 Feb;73(1):39-47. PMID: 12690910
  14. Caselato-Sousa VM, Ozaki MR, de Almeida EA, Amaya-Farfan J. Intake of heat-expanded amaranth grain reverses endothelial dysfunction in hypercholesterolemic rabbits.. 2014 Dec;5(12):3281-6. PMID: 25347416
  15. Ramírez-Torres G, Ontiveros N, Lopez-Teros V, Ibarra-Diarte JA, Reyes-Moreno C, Cuevas-Rodríguez EO, Cabrera-Chávez F. Amaranth Protein Hydrolysates Efficiently Reduce Systolic Blood Pressure in Spontaneously Hypertensive Rats. 2017 Nov 9;22(11):1905. PMID: 29120394
  16. Martirosyan DM, Miroshnichenko LA, Kulakova SN, Pogojeva AV, Zoloedov VI. Amaranth oil application for coronary heart disease and hypertension. 2007 Jan 5;6:1. PMID: 17207282
  17. Kim HK, Kim MJ, Cho HY, Kim EK, Shin DH. Antioxidative and anti-diabetic effects of amaranth (Amaranthus esculantus) in streptozotocin-induced diabetic rats.. 2006 May-Jun;24(3):195-9. PMID: 16634092
  18. Zambrana S, Lundqvist LCE, Veliz V, Catrina SB, Gonzales E, Östenson CG. Amaranthus caudatus Stimulates Insulin Secretion in Goto-Kakizaki Rats, a Model of Diabetes Mellitus Type 2. 2018 Jan 15;10(1):94. PMID: 29342984
  19. Arijit Mondal, Tanmoy Guria Tapan Kumar Maity and Anupam Bishayee. A Novel Tetraenoic Fatty Acid Isolated from Amaranthus spinosus Inhibits Proliferation and Induces Apoptosis of Human Liver Cancer Cells. 2016 Oct; 17(10): 1604. PMID: 27669220
  20. Sani HA, Rahmat A, Ismail M, Rosli R, Endrini S. Potential anticancer effect of red spinach (Amaranthus gangeticus) extract. 2004;13(4):396-400. PMID: 15563447
  21. Hernández-Ledesma B, de Lumen BO. Lunasin: A Novel Cancer Preventive Seed Peptide. PubMed PMID: 19787099