myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

महिलाओं में वसा जांघ के आसपास इकट्ठा होना एक आम बात है। आप चाहे जीन्स पहन लें या शॉट ड्रेस पहन लें जब तक जांघ सही आकार की न हो तब तक कुछ भी पहनने में मज़ा नहीं आता लेकिन आपको चिंता करने की ज़रूरत नहीं है, क्योंकि आज हम आपके लिए कुछ ऐसे बेहतरीन योग आसन लेकर आये हैं। जिनको करके न सिर्फ आपकी जांघ पतली होंगी बल्कि उस क्षेत्र की मांसपेशियां भी टोन होंगी।

(और पढ़ें - जांघो को कम करने के उपाय)

तो आइये आपको बताते हैं जांघ की चर्बी कम करने के लिए योग आसन –

  1. जांघ की चर्बी कम करने के लिए बालासन करें - Ananda balasana yoga for slim thighs in Hindi
  2. थाई कम करने के लिए वीरभद्रासन 1 करें - Virabhadrasana I benefits helps to give you thighs in shape in Hindi
  3. थाई कम करने का तरीका है वीरभद्रासन 2 योग - Virabhadrasana II step reduces thigh fat in Hindi
  4. जांघ कम करने के लिए बद्ध कोणासन की लें मदद - Cobbler pose exercise reduces thigh fat in Hindi
  5. जांघ कम करने के लिए अधोमुख श्वान आसन करें - Adho mukha svanasana yoga for slim thighs in Hindi
  6. जांघ की चर्बी कम करने के लिए योगासन - Thighs kam karne ke liye yoga

कैसे करें -

  1. सबसे पहले कमर के बल लेट जाएँ और एक गहरी सांस लें।
  2. सांस छोड़ें, घुटनों को मोड़ें और पेट पर दबाव बनाएं।
  3. अब सांस लें, और हाथों से पैरों को पकड़ें। जो लोग इस प्रकार नहीं कर सकते वो योग बेल्ट की मदद ले सकते हैं। पैरों को धड़ से अधिक खोलें और हाथों की तरफ पैरों को खीचें।
  4. इस अवस्था को 30 से 60 सेकेंड के लिए बनाये रखें।
  5. फिर धीरे-धीरे पैरों को सीधा कर लें।
  6. सांस छोड़ें और पैरों को स्ट्रेच करें।

सावधानी - गर्भवती महिलायें, जिन लोगों के गर्दन वो अपनी गर्दन के नीचे कुछ लगा लें। जिससे गर्दन पर दबाव न बने।

अन्य लाभ - ये थकान और तनाव के लिए बहुत ही बेहतरीन है। साथ ही जांघ की चर्बी को बहुत जल्द कम करता है।

(और पढ़ें - बालासन करने का तरीका और फायदे)

कैसे करें -

  1. सबसे पहले ताड़ासन में खड़े हो जाएँ।
  2. जब सांस छोड़ें, तो हल्के से अपने पैरों पर कूदें। कूदने के बाद अपने एक पेरो को आगे की तरफ रखें और एक पैर को पीछे की तरफ लेकर जाएँ। आपके पैरों के बीच की दूरी 3.5 या 4 फ़ीट से अधिक नहीं होनी चाहिए।
  3. अपने हाथों को एकदम बराबर और सीधा रखें।
  4. अब अपने दाएं पैर को एकदम सामने की तरफ रखें और टखनों को भी सीधा रखें।
  5. बाएं पैर को पीछे की तरफ रखें और पंजों को मोड़ लें जैसा कि चित्र में दर्शाया गया है।
  6. अब छाती को बाहर निकालें और कंधों को आराम दें। धड़ और रीढ़ की हड्डी में स्ट्रेच को महसूस करें।
  7. अगर आप और स्ट्रेच महसूस करना चाहते हैं तो अपने हाथों को जोड़ते हुए ऊपर लेकर जाएँ। फिर जितना हो सके पीछे की तरफ लेकर जाएँ।
  8. इस अवस्था को 30 से 60 सेकेंड के लिए बनाये रखें।
  9. अब पुरानी अवस्था में वापस आ जाएँ।
  10. यही प्रक्रिया बाएं पैर से भी करें। 

सावधानी - जिन लोगों को हाई ब्लड प्रेशर और ह्रदय की समस्या है वो ये आसन न करें। जो कंधों की समस्या से पीड़ित हैं वो हाथों को जोड़ते हुए इस आसन को न करें।

अन्य लाभ - यह कमर, कंधों और हाथों की मांसपेशियों को मजबूत करता है। साथ ही जाँघों कि चर्बी भी कम करने में मदद करता है।

(और पढ़ें - वीरभद्रासन 1 करने का तरीका और फायदे)

कैसे करें -

  1. सबसे पहले ताड़ासन में खड़े हो जाएँ।
  2. सांस छोड़ें, अब थोड़ा कूदें और अपने पैरों के बीच में 3.5 से 4 फ़ीट की दूरी बनाएं।
  3. अब हाथों को खोलें और जितना कंधों को खोल सकते हैं उतना खोलें। अपनी हथेलियों को ज़मीन के सामने रखें।
  4. अपने बाएं पैर को बाएं ओर रखें और दाएं पैर को 90 डिग्री पर रखें। जैसा कि चित्र में दर्शाया गया है।
  5. अब सांस छोड़ें, फिर दाएं पैर की एड़ी पर दबाव बनायें और इसी तरह फिर बाएं पैर की एड़ी पर भी दबाव बनाएं।
  6. दबाव बनाते समय धड़ को मोड़ें नहीं। अपने शरीर को एकदम सीधा रखें और कंधों को स्ट्रेच करें।
  7. अपने सिर को दाएं तरफ रखें और नज़रों को उँगलियों की तरफ।
  8. इस अवस्था को 30 सेकेंड से एक मिनट तक बनाये रखें।
  9. सांस लें और फिर अपनी अवस्था में वापस आ जाएँ।
  10. यही प्रक्रिया दूसरे पैर से भी करें।

सावधानी - जिन लोगों को गर्दन की समस्या है वो एकदम सामने ही देखें।

अन्य फायदे - गर्भावस्था की तीसरी तिमाही में होने वाले कमर के दर्द को ये आसन कम करता है और प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है। साथ ही जांघ को भी पतला करने में मदद करता है। (और पढ़ें - गर्भावस्था में व्यायाम)

(और पढ़ें - वीरभद्रासन 2 करने का तरीका और फायदे)

कैसे करें -

  1. सबसे पहले एक चटाई पर बैठ जाएँ। फिर पैरों को अपने सामने फैला लें।
  2. अगर कुल्हें आपको चटाई पर बैठने से टाइट लग रहे हैं तो पेल्विस को उठाने के लिए कम्बल का इस्तेमाल करें।
  3. अब सांस छोड़ें, घुटनों को मोड़ें और एड़ियों को पेट के सामने रखें।
  4. अब घुटनों को ज़मीन पर रख लें।
  5. अब पैरों के तलवों को एक साथ मिला लें।
  6. फिर एड़ियों को जितना हो सके पेट के पास लेकर आएं।
  7. छाती को बाहर निकालें और धड़ को सीधा रखें।
  8. इस अवस्था को एक से पांच मिनट तक बनाये रखें।
  9. सांस छोड़ें और धीरे-धीरे पैरों को सीधा कर लें।

सावधानी - जिन लोगों के घुटनों में चोट लगी है वो थाई के बाहरी तरफ कम्बल को रख लें।

अन्य फायदे - ये पेट के अंगों को स्वस्थ रखता है और प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है। साथ ही थाई को भी पतला करता है।

(और पढ़ें - बद्ध कोणासन करने का तरीका और फायदे)

कैसे करें -

  1. सबसे पहले अपने घुटनों और हाथों को ज़मीन पर रखें। जैसा कि चित्र में दिखाया गया है।
  2. अब सांस छोड़ें और घुटनों को ज़मीन से ऊपर उठायें।
  3. घुटनों को मोड़ें और एड़ियों को ज़मीन से उठायें।
  4. सांस छोड़ें, अब अपनी जांघ के ऊपरी क्षेत्र को पीछे की तरफ लेकर जाएँ और एड़ियों को अब ज़मीन पर रख लें।
  5. अब घुटनों को सीधा कर लें।
  6. हाथों को भी कन्धों से आगे रखें और सिर को भी हाथों के बीच रखें।
  7. इस अवस्था को एक से तीन मिनट तक बनाये रखें।
  8. अब सांस छोड़ें और घुटनों को मोड़ लें।
  9. फिर पुरानी अवस्था में वापस आ जाएँ।

सावधानी - गर्भवती महिलायें जो तिमाही में चल रही हैं इस आसन को न करें। जिन लोगों को हाई ब्लड प्रेशर या सिर दर्द की समस्या रहती है या फिर जो लोग डायरिया से परेशान रहते हैं वो सिर को बोल्स्टर (bolster) से सहारा दें।

अन्य फायदे - ये डिप्रेशन और तनाव से आराम देता है और पाचन क्रिया को सुधरता है। ये रजोनिवृत्ति के भी लक्षणों को भी कम करता है। साथ ही इस आसन से जांघ की चर्बी कम होती है और आपकी जांघ को एक नया आकार मिलता है।

(और पढ़ें - अधो मुख श्वानासन करने का तरीका और फायदे)

उत्तान पादासन से खत्म करें अपनी जाँघ पर से वसा - Uttana Padasana for Slim Thighs in Hindi

पहला आसान है उत्तान पादासन। उत्तान पादासन करने का तरीका और फायदे आप यहाँ पढ़ सकते हैं। हमने विस्तार से सरल तरीके से इस आसान के बारे में समझाया है। तो आप भी करें यह आसान और ख़तम करें अपनी जाँघ पर से वसा। 

 

जांघ से चर्बी हटाने के लिए करें वीरभद्रासन - Virbhadrasana to reduce thigh fat in Hindi

अगला आसन है वीरभद्रासन। यह आपकी टाँगों और जांघों के बहुत ही बढ़िया आसन है, और साथ ही यह आपके पाचन में सुधार लाएगा और पीठ में लचीलापन बढ़ाएगा। वीरभद्रासन करने का तरीका और फायदे आप यहाँ पढ़ सकते हैं। 

जांघ की चर्बी कम करने के लिए करें नावासन - Navasana for thigh fat reduction in Hindi

अगला आसन है नावासन। यह आपकी जांघों के बहुत ही लाभदायक आसन है, और साथ ही यह आपके एबेस को मज़बूत बनाएगा और आपका पेट भी फ्लेट करेगा। नावासन करने का तरीका और फायदे आप यहाँ पढ़ सकते हैं। 

जांघ की चर्बी खत्म करने के लिए करें नटराजासन - Natrajasana to reduce thighs in Hindi

अगला आसन है नटराजासन। यह आपकी जांघों के बहुत ही अच्छा आसन है, और साथ ही यह आपकी छाती व हिप्स को लचीला और मज़बूत बनाएगा। 

(और पढ़ें: मोटापा कम करने के लिए योग)

और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें