myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

अगर आप 40 साल की उम्र पार कर चुके हैं, तो ध्यान रखें कि आपका वजन आसानी से बढ़ सकता है और इस उम्र में वजन घटना एक बड़ी चुनौती होती है। दरअसल आपका कार्य स्तर, खानपान की आदतें, हार्मोन में बदलाव और इसके साथ ही आपका शरीर वसा को किस तरह संरक्षित करता है, ये सब बातें आपके बढ़ते वजन के लिए जिम्मेदार हैं। अगर आप अपने वजन को नियंत्रित करना चाहते हैं, तो यहां बताई गई बातों पर अमल करें।

(और पढ़ें - मोटापा क्यों बढ़ता है)

नाश्ता कभी न छोड़ें
विशेषज्ञ सलाह देते हैं कि सुबह हेल्दी नाश्ता जैसे दलिया, फल, व्होल व्हीट ब्रेड जरूर खाएं। सुबह हेल्दी नाश्ता करने की वजह से मिड-माॅर्निंग में भूख नहीं लगती। जबकि ज्यादातर लोगों में देखा गया है कि सुबह नाश्ता नहीं करते और मिड-माॅर्निंग में कुछ अस्वस्थ आहार खा लेते हैं या फिर लंच में ओवरईटिंग कर लेते हैं। इससे उनका वजन बढ़ने लगता है। इसलिए हमेशा कोशिश करें कि कुछ-कुछ देर के अंतराल में हल्का-फुल्का खाते रहें। इससे सारा दिन आपको पेट भरे रहने के अहसास होता है। इससे आपको भूख भी कम लगती है, जिससे ओवरईटिंग की आशंका कम हो जाती है।

(और पढ़ें - नाश्ता न करने के नुकसान)

कार्डियोवास्कुलर एक्सरसाइज काफी नहीं है
40 पार कर चुके लोग वजन घटाने के लिए कार्डियो एक्सरसाइज (दौड़, ऐरोबिक ट्रेनिंग आदि) करते हैं। हालांकि स्वस्थ जीवनशैली बनाए रखने के लिए कार्डियोवास्कुलर जरूरी है, लेकिन इससे न सिर्फ फैट कम होता है बल्कि मांसपेशियों को नुकसान पहुंचता है और मेटाबाॅलिज्म स्तर भी प्रभावित होता है। इसलिए वजन कम करने के लिए स्ट्रेंथ ट्रेनिंग और वेट लिफ्टिंग एक्सरसाइज करनी चाहिए। इससे मांसपेशियों को नुकसान भी नहीं होता। स्ट्रेंथ ट्रेनिंग के कई अन्य फायदे  भी हैं जैसे हड्डियों को मजबूत बनाना, बीपी को कम करना, याद्दाश्त बढ़ाना, हृदय रोगों की आशंका कम करना। इसी तरह यह कैंसर और टाइप 2 डायबिटीज के लिए भी बेहतर है।

(और पढ़ें - वजन कम करने के लिए एक्सरसाइज)

नींद की कमी की वजह से होती है ओवरईटिंग
हमारे शरीर की हर प्रक्रिया पर्याप्त नींद पर निर्भर करती है। जब हम सोते हैं तो हमारी मांसपेशियों ठीक होती हैं, भूख और हार्मोन संतुलन भी होता है। नींद की वजह से पूरे दिन के तनाव से हमें राहत मिलती है मस्तिष्क के कुछ हिस्से जो याद्दाश्त बेहतर करने के लिए जिम्मेदार हैं, उसे भी रिकवर करती है। इस तरह देखा जाए तो नींद हमारे शरीर के लिए उपयोगी है। लेकिन 40 साल की उम्र ऐसी उम्र है जब लोग ज्यादातर कामकाजी जीवन में सक्रिय रहते हैं। इस वजह से नींद कम लेते हैं। नींद कम लेने की वजह से अगले दिन तनाव और भूख लगने वाले हार्मोन का स्तर बढ़ जाता है, जो ओवरईटिंग के लिए प्रेरित करता है। खासकर मीठे और वसायुक्त आहार। इतना ही नहीं हमारे मस्तिष्क का वो हिस्सा जो इस तरह के आहार के लिए ‘न’ कहता है, उसे भी प्रभावित करता है। नतीजतन हमारे मस्तिष्क के लिए अस्वस्थ आहार के लिए न कहना मुश्किल हो जाता है। इस तरह ओवरईटिंग करने की वजह से वजन बढ़ने लगता है। इसलिए सुनिश्चित करें कि रोज रात को 7 से 9 घंटे की नींद जरूर लें। साथ ही अपने वजन को कम करने के लिए अन्य उपायों को भी आजाएं।

(और पढ़ें - वजन कम करने के लिए डाइट चार्ट)

इन उपायों को आजमाकर आप 40 पार के बावजूद बढ़ते वजन को कम कर सकते हैं।

(और पढ़ें - वजन कम करने के उपाय)

और पढ़ें ...