myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

योनि में जलन और खुजली होना आम बात है, लेकिन लगातार खुजली और जलन होना किसी गंभीर स्थिति का संकेत भी हो सकता है। योनि में जलन कई कारणों से हो सकती है, जैसे कि योनि में यीस्ट इन्फेक्शन, सूजन, लालिमा, पेशाब या संभोग के समय दर्द और सफेद रंग का गाढ़ा द्रव आना आदि। इन सभी स्तिथियों को अगर जल्द ही ठीक न किया जाए तो यह किसी गंभीर बीमारी का रूप ले सकती हैं। योनि में जलन का इलाज कई घरेलू उपायों द्वारा किया जा सकता है, यह सभी घरेलू उपाय कारगर होने के साथ-साथ बेहद सुरक्षित होते हैं और आपकी सेहत को कोई नुक्सान नहीं पहुंचाते।

  1. सेब का सिरका है योनि में जलन का देसी इलाज - Apple cider vinegar hai Vagina me jalan ka desi ilaaj
  2. दही है योनि में जलन की देसी दवा - Dahi hai yoni me jalan ki desi dawa
  3. योनि में जलन से छुटकारा दिलाता है लहसुन - Lahsun dilaye yoni ki jalan se chhutkara
  4. ठंडी सिकाई से करें योनि में जलन का इलाज - Cold compress se kare yoni ki jalan ka illaj
  5. नारियल तेल है योनि में जलन का घरेलू नुस्खा - Coconut Oil hai yoni ki jalan ka gharelu nuskha

सेब का सिरका एक प्राकृतिक एंटीबायोटिक है। इसके नाम की तरह यह एसिडिक होता है जो कि पीएच बैलेंस को संतुलित करने में मदद करता है। लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि इसे योनि में लगाया जाए। इसको लगाने के लिए नहीं बल्कि खाने के रूप में इस्तेमाल करना है, जिसकी विधि के बारे में नीचे बताया गया है।

 आवश्यक सामग्री

इस्तेमाल का तरीका

  • सेब के सिरके को अपने सलाद में इस्तेमाल करें 
  • इसके अलावा आप चाहें तो सेब के सिरके को पानी के साथ भी पी सकते हैं 
  • 1 कप गुनगुने पानी में सेब का सिरका मिलाएं 
  • अब इसमें शहद मिलाकर पी लें 
  • साथ ही इसे रोजाना के आहार में शामिल करने से योनि की जलन में फर्क महसूस होगा

कब इस्तेमाल करें
इस उपाय को दिन में 2 बार इस्तेमाल करने की सलाह दी जाती है।

दही में लैक्टोबेसिलस (दही में मौजूद अच्छे जीवाणु) मौजूद होते हैं, यह अच्छे बैक्टीरिया, योनि में मौजूद खराब बैक्टीरिया से लड़ने में मदद करते हैं और योनि के पीएच बैलेंस को संतुलित रखते हैं। दही योनि में पीएच के स्तर को 7 से अधिक होने से रोककर कई संक्रमण और अन्य बीमारियों से बचाती है। 

कब और कैसे खाएं
दही का सीधा सेवन सबसे फायदेमंद माना जाता है, अपने रोजाना के आहार में 2 कटोरी दही शामिल करें।

लहसुन एक और ऐसी प्राकृतिक औषधि है, जिसमें एंटीफंगल गुण पाए जाते हैं। यह यीस्ट को नष्ट करने के लिए जानी जाती है, कुछ शोधों की मानें तो लहसुन में ऐसे यौगिक मौजूद होते हैं जो जलन, सूजन, मोच, खुजली और लालिमा को कम करने में मदद करते हैं।

इस्तेमाल का तरीका
लहसुन का पेस्ट योनि में भी लगाया जा सकता है, लेकिन कई विशेषज्ञ ऐसा न करने की सलाह देते हैं। इससे बेहतर अपने आहार में लहसुन के सेवन को बढ़ाना ज्यादा फायदेमंद रहेगा और उससे किसी प्रकार की समस्या भी नहीं होगी। लहसुन को पीसकर या घिस का सीधा सेवन करें या इसे अपने खाने में भी मिलाकर खाया जा सकता है।

कब इस्तेमाल करे
योनि में जलन से छुटकारा पाने के लिए, दिन के समय लहसुन की दो कलियों का सेवन करें।

ठंडी सिकाई बेहद आसान प्रक्रिया होने के साथ-साथ यह योनि में जलन को कम करने का कारगर घरेलू उपचार है। यह कुछ निश्चित समय के लिए खुजली और जलन को कम करके आपको आराम पहुंचाएगी, जिससे आपको तुरंत राहत मिलेगी।

आवश्यक सामग्री

  • 3-4 बर्फ के छोटे टुकड़े
  • एक छोटा सुती का कपड़ा

इस्तेमाल का तरीका

  • ठंडी सिकाई करने के लिए सबसे पहले बर्फ के टुकड़ों को एक कपड़े में बांध लें
  • अब इस आइस पैक को अपनी योनि के बाहरी हिस्से पर 2 मिनट के लिए लगाएं
  • 30 सेकंड का गैप लेकर फिर से कुछ मिनट के लिए इसी प्रक्रिया को दोहराएं
  • इसके साथ ही अपने प्रभावित हिस्से को ठंडे पानी से धोते रहें

कब इस्तेमाल करें
इस उपाय को दिन में कितनी भी बार आजमाया जा सकता है, लेकिन एक बात का ध्यान रखें कि बर्फ को योनि या उसके आसपास की त्वचा पर सीधे न लगाएं क्योंकि इससे जलन बढ़ सकती है व अन्य परेशानियां भी पैदा हो सकती हैं।

नारियल तेल में एंटीबैक्टीरियल, एंटीवायरल और एंटीफंगल गुण होते हैं। 2007 में किए गए एक अध्ययन में यह पाया गया कि यीस्ट के कारण पैदा हुए संक्रमण को नारियल तेल से नष्ट किया जा सकता है। नारियल तेल की ठंडी तासीर योनि में जलन और खुजली को कम करने में मदद करती है।

आवश्यक सामग्री

  • 2-3 चम्मच ठंडा नारियल तेल

इस्तेमाल का तरीका

  • नारियल तेल को अपनी योनि की प्रभावित जगह पर लगाएं और कुछ समय के लिए छोड़ दें
  • इसके बाद इसे गुनगुने पानी से धों लें

कब इस्तेमाल करें
इस उपाय को दिन में 1 से 2 बार इस्तेमाल करने की सलाह दी जाती है।

और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें