myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

हाइपराक्युसिस क्या है?

हाइपराक्युसिस एक मेडिकल शब्द है जिसका अर्थ है, सामान्य शोर सहन करने में असमर्थता। यह असमर्थता इस हद तक होती है कि इसके कारण रोगी के रोजमर्रा की जिंदगी में परेशानी और कठिनाइयां शुरू होने लगती हैं। शोर के प्रति संवेदनशीलता का स्तर एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में भिन्न हो सकता है और इसके कारण भी अलग हो सकते हैं।

(और पढ़ें - सुनने में परेशानी के घरेलू उपाय)

हाइपराक्युसिस के लक्षण क्या हैं?

हाइपराक्युसिस की स्थिति या तो अचानक शुरू होती है या धीरे-धीरे समय के साथ विकसित होती जाती है। जब ऐसी समस्या वाले व्यक्ति शोर सुनते हैं, तो वे असहज महसूस कर सकते हैं, अपने कान ढक सकते हैं या शोर से दूर जाने की कोशिश कर सकते हैं। इसके अलावा गुस्सा, तनाव या दर्द का भी अनुभव कर सकते हैं। कुछ लोगों के लिए हाइपराक्युसिस की समस्या बहुत दर्दनाक होती है।

(और पढ़ें - गुस्सा कम करने के उपाय)

हाइपराक्युसिस क्यों होती है?

आमतौर पर लोग हाइपराक्युसिस की परेशानी के साथ पैदा नहीं होते हैं, बल्कि यह कुछ बीमारियों या स्वास्थ्य समस्याओं के कारण विकसित होती है। सबसे आम कारण निम्नलिखित हैं:

(और पढ़ें - थकान दूर करने के घरेलू उपाय)

अधिक शोर वाली जगह के आसपास होने से भी हाइपराक्युसिस की परेशानी हो सकती है।

हाइपराक्युसिस का इलाज कैसे होता है?

चूंकि यह समस्या अक्सर किसी अन्य चिकित्सा स्थिति के परिणामस्वरूप दिखाई देती है, इसलिए यह जांचना उपचार का पहला कदम होता है। एक बार यह पता करने के बाद, टिनिटस के इलाज के समान ही इस समस्या के इलाज में भी साउंड थेरेपी हो सकती है। साउंड थेरेपी का उपयोग जिस शोर के प्रति आप संवेदनशील हैं, उस तरह के शोर से कम प्रभावित होने के लिए किया जाता है।

अगर आप चिंता या डिप्रेशन से पीड़ित हैं तो संज्ञानात्मक व्यवहार चिकित्सा (सीबीटी) से भी मदद ले सकते हैं। हाइपराक्युसिस इन समस्याओं को अधिक बड़ा सकती है। सीबीटी चिंता की भावनाओं को दूर करने में मदद करती है जो इसके साथ आती हैं।

(और पढ़ें - डिप्रेशन दूर करने के लिए योग)

क्या आप या आपके परिवार में किसी को यह बीमारी है? सर्वेक्षण करें और दूसरों की सहायता करें

और पढ़ें ...